सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सम्भल जिले के पर्यटन स्थल - Sambhal tourist places

सम्भल जिले के दर्शनीय स्थल - Places to visit in Sambhal district / सम्भल जिले के आसपास घूमने वाली प्रमुख जगह


सम्भल उत्तर प्रदेश का एक प्रमुख जिला है। सम्भल उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से करीब 380 किलोमीटर दूर है। सम्भल उत्तर प्रदेश के अन्य जिलों से रोड माध्यम से जुड़ा हुआ है। आप यहां सड़क माध्यम से पहुंच सकते हैं। सम्भल जिले बाबा हरि की कर्मभूमि है। यहां पर उन्होंने लोगों के कल्याण के लिए बहुत सारे काम किया है। संभल शहर में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। चलिए जानते हैं - संभल शहर में कौन-कौन सी जगह घूमने लायक है। 


संभल में घूमने की जगह - Sambhal mein ghumne ki jagah


सूर्य कुंड मंदिर संभल - Surya Kund Temple Sambhal

सूर्य कुंड मंदिर संभल जिले का एक मुख्य मंदिर है। यहां पर आपको भगवान शिव का मंदिर देखने के लिए मिलता है। यहां पर पास में ही एक कुंड बना हुआ है, जो आकर्षण का केंद्र है। यहां पर चोकौर आकार का कुंड बना हुआ है। इस कुंड के चारों तरफ सीढ़ियां बनी हुई है। इस कुंड के बीच में गोल आकार का एक और कुंड बना हुआ है। आप इस कुंड को देख सकते हैं। इस कुंड में जाने के लिए पुल बनाया गया है। यह बहुत सुंदर लगता है। यहां पर शंकर जी का मंदिर है, जिसे कृष्णेश्वर नाथ महादेव मंदिर के नाम से जाना जाता है। यह मंदिर बहुत प्रसिद्ध है। मंदिर के अंदर शिव भगवान जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां आकर बहुत अच्छा लगता है। यह मंदिर मुख्य संभल शहर में स्थित है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। 


चामुंडा मंदिर संभल - Chamunda Temple Sambhal

चामुंडा मंदिर संभल जिले का एक प्रमुख मंदिर है। यह मंदिर संभल शहर में हयातनगर में स्थित है। इस मंदिर में आपको बहुत सारे देवी देवताओं के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको शंकर जी, पार्वती जी, गणेश जी, नंदी महाराज जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको शंकर जी की एक विशाल प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। 

यहां पर काली जी की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। हनुमान जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। ब्रह्मा जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। श्री कृष्ण जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। गौतम बुद्ध जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। दुर्गा जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। बहुत सारे लोग यहां पर घूमने के लिए आते हैं। यह संभल का प्रसिद्ध मंदिर है। आप भी यहां पर आकर घूम सकते हैं। कहा जाता है, कि इस मंदिर में आकर मनोकामना पूरी होती है। नवरात्रि में यहां पर मेला लगता है। 


श्री कल्कि विष्णु मंदिर संभल - Shri Kalki Vishnu Temple Sambhal

श्री कल्कि विष्णु मंदिर संभल शहर का एक मुख्य धार्मिक स्थल है। इस मंदिर में विष्णु भगवान जी के कल्कि अवतार के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह विष्णु भगवान जी का कलयुग में अवतरित होने वाला अवतार है। इस पृथ्वी में भगवान विष्णु ने अलग-अलग अवतारों में जन्म लिया है और हम विष्णु भगवान के सभी अवतारों के दर्शन करते हैं और उनकी पूजा करते हैं। 

मगर कल्कि अवतार विष्णु भगवान जी का कलयुग में आने वाला अवतार है। जब पृथ्वी पर ज्यादा पाप बड़ेगा। तब विष्णु भगवान जी कल्कि अवतार में अवतरित होएंगे। आप यहां पर आकर विष्णु भगवान जी के कल्कि अवतार के दर्शन कर सकते हैं। इसके अलावा मंदिर में और भी बहुत सारे देवी देवताओं के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर शंकर जी, माता पार्वती जी, राधे कृष्ण जी, हनुमान जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह मंदिर मुख्य संभल शहर में स्थित है। 


शाही जामा मस्जिद संभल - Shahi Jama Masjid Sambhal

शाही जामा मस्जिद संभल शहर का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह मुस्लिम कम्युनिटी का प्रमुख धार्मिक स्थल है। इस मस्जिद को बाबरी मस्जिद भी कहा जाता है। इस मस्जिद का निर्माण जाहिर उद्दीन मोहम्मद ने करवाया था। यह मस्जिद करीब 500 साल पुरानी है। इस मस्जिद में आकर मुस्लिम लोग नमाज अदा करते हैं। यह मस्जिद संभल जिले के मोहल्ला कोट में स्थित है। यह मस्जिद बहुत सुंदर है। आप यहां पर आकर मस्जिद को देख सकते हैं। 


श्री पातालेश्वर महादेव मंदिर संभल - Shri Pataleshwar Mahadev Temple Sambhal

श्री पातालेश्वर महादेव मंदिर संभल शहर का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। यह मंदिर प्राचीन है। यह एक सिद्ध पीठ मंदिर है। इस मंदिर के बारे में कहा जाता है, कि यह मंदिर में विराजमान शिवलिंग पताल से निकला है। इसलिए इस मंदिर को पातालेश्वर मंदिर के नाम से जाना जाता है। यह मंदिर संभल जिले में सरायतरीन हयात नगर में स्थित है। यहां पर सोमवार के दिन बहुत ज्यादा लोग भगवान शिव के दर्शन करने के लिए आते हैं। 

पातालेश्वर मंदिर में आपको शिव भगवान जी की एक बहुत ही सुंदर प्रतिमा देखने के लिए मिलती है, जिस में नंदी भगवान जी भी विराजमान है। यहां पर आपको और भी बहुत सारे देवी देवताओं के दर्शन करने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर साईं बाबा, दुर्गा जी और भी बहुत सारे देवी देवताओं के यहां दर्शन करने के लिए मिल जाते हैं। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


मां कैला देवी मंदिर संभल - Maa Kaila Devi Temple Sambhal

मां कैलादेवी मंदिर संभल जिले का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह मंदिर मां कैला देवी को समर्पित है। मंदिर में मां कैला देवी की बहुत ही सुंदर प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर शिव भगवान जी के भी दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह  मंदिर संभल जिले में पवासा ब्लॉक के अंतर्गत आता है। यह मंदिर निरयापुर गांव में है। आप यहां पर मंदिर में घूमने के लिए आ सकते हैं। मंदिर में गौशाला भी है, जहां पर गायों की देखभाल की जाती है। 

कैला देवी मंदिर प्राचीन है। इस मंदिर में बहुत सारे बंदर भी देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर आप बंदरों से खाने पीने का सामान बचा कर रख सकते हैं। यहां नवरात्रि में बहुत ज्यादा भीड़ लगती है। बहुत सारे भक्त माता के दर्शन करने के लिए आते हैं। मंदिर के चारों तरफ का वातावरण बहुत अच्छा है। यह मंदिर संभल जिले का प्रसिद्ध मंदिर है। यहां आकर बहुत अच्छा लगता है। 


श्री हरि बाबा बांध धाम संभल - Shri Hari Baba Dam Dham Sambhal

श्री हरि बाबा बांध धाम संभल जिले का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर संभल जिले में गवाना में स्थित है। यह मंदिर हरि बाबा को समर्पित है। हरि बाबा एक महान संत थे, जिन्होंने लोगों की भलाई के लिए अपना जीवन समर्पित किया। 

हरि बाबा जी का जन्म होशियारपुर पंजाब में हुआ था। उनके पिता का नाम श्री सरदार प्रताप सिंह था। महाराज श्री का विद्यार्थी जीवन गुरुदेव श्री सच्चिदानंद जी के चरणों में समर्पण हो चुका था। यहां पर आप लाहौर मेडिकल कॉलेज की एमबीबीएस की अंतिम वर्ष की पढ़ाई छोड़ कर पारिव्रजक अवस्था में विचार करते हुए, श्री भागीरथी किनारे क्षेत्र में आए। यह क्षेत्र आपको अति मनोरम लगा। यहां की बाढ़ पीड़ित जनता की दयनीय स्थिति देखकर आप द्रवित हो गया और श्री महाराज जी ने अपने उदार संकल्प से केवल 6 माह में 38 किलोमीटर लंबा विशाल बांध जन सहयोग से सन 1921 में निर्माण कराया। श्री बांध भगवान की कृपा से यह क्षेत्र हमेशा के लिए सुरक्षित हो गया। महाराज श्री का संपूर्ण जीवन वृत्त पवित्र विशाल ग्रंथ के रूप में आश्रम में उपलब्ध है। 

आपको यहां पर श्री हरि बाबा जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सुंदर मंदिर बना हुआ है। यह पूरा मंदिर मार्बल से बना हुआ है। यहां पर बगीचा भी बना हुआ है। आप यहां पर आकर अपना बहुत अच्छा समय व्यतीत कर सकते हैं। यहां से थोड़ी ही दूरी पर आपको गंगा नदी का सुंदर दृश्य भी देखने के लिए मिल जाता है। 


बाबा क्षेम नाथ जी की समाधि संभल - Samadhi of Baba Kshemnath Ji

बाबा क्षेमनाथ जी की समाधि संभल शहर का एक सुंदर स्थल है। यह एक धार्मिक स्थल है। यहां पर आपको बाबा क्षेम नाथ जी की समाधि देखने के लिए मिलती है। यहां पर आपको हनुमान जी की एक विशाल प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यहां पर भगवान भोलेनाथ जी का मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। यह स्थल बहुत अच्छा है और आपको यहां पर आकर अच्छा लगेगा और शांति मिलेगी। यहां पर गौशाला भी है, जहां पर गायों की देखभाल की जाती है। यह जगह नीमसार तीर्थ के नाम से जानी जाती है और आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यह संभल में शहजादी सराय में स्थित है। 


दरगाह जेनटा शरीफ संभल - Dargah Zenta Sharif Sambhal

दरगाह जेनटा शरीफ संभल शहर का एक मुख्य धार्मिक स्थल है। यह दरगाह हजरत मखदूम मुअजजम शाह मियां जी को समर्पित है। यह दरगाह बहुत ही सुंदर है। दरगाह का गुंबद बहुत ही आकर्षक लगता है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर विशेष उत्सव के समय दरगाह को बहुत ही सुंदर तरीके से सजाया जाता है। यह दरगाह संभल जिले में चंदौसी में स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


रामबाग मंदिर संभल - Rambagh Temple Sambhal

रामबाग मंदिर संभल शहर का एक सुंदर स्थल है। यह मंदिर रामबाग जिले में चंदौसी में स्थित है। यहां पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको सिद्धिदात्री मां नव दुर्गा का मंदिर देखने के लिए मिलता है। यहां पर मां दुर्गा की बहुत सुंदर प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं और यहां पर नौ देवियों के दर्शन करने के लिए भी मिलते हैं। यहां पर राम दरबार बना हुआ है, जहां पर श्री राम जी, माता सीता जी और लक्ष्मण जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर हनुमान जी के भी दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर गंगा मंदिर बना हुआ है। यहां पर एक सुंदर बगीचा भी बना हुआ है, जहां पर आप अपना बहुत अच्छा समय व्यतीत कर सकते हैं। यहां पर बच्चों के लिए पढ़ने के लिए स्कूल बना हुआ है। आप इस मंदिर में आकर घूम सकते हैं। आपको अच्छा लगेगा। 



बनारस में घूमने की जगह
गाजीपुर में घूमने की जगह
जौनपुर में घूमने की जगह
कन्नौज में घूमने की जगह


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।