सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

फतेहपुर जिले के पर्यटन स्थल - Fatehpur Tourist Places

फतेहपुर जिले के दर्शनीय स्थल - Places to visit in Fatehpur district / फतेहपुर जिले के आसपास घूमने वाली प्रमुख जगह


फतेहपुर उत्तर प्रदेश का एक प्रमुख जिला है। फतेहपुर उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से करीब 150 किलोमीटर दूर है। यह कानपुर से करीब 80 किलोमीटर दूर है। फतेहपुर में गंगा किनारे बहुत सुंदर सुंदर घाट बने हुए हैं, जहां पर आप जा सकते हैं। फतेहपुर शहर बहुत ही सुंदर है। यहां पर प्राचीन, ऐतिहासिक स्थल देखने के लिए मिल जाते हैं। फतेहपुर गंगा और यमुना नदी के बीच में बसा हुआ है। फतेहपुर जिले में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। चलिए जानते हैं - फतेहपुर में कौन-कौन सी जगह घूमने लायक है। 


फतेहपुर जिले में घूमने वाली जगह - Fatehpur mein ghumne ki jagah


श्री सिद्ध पीठ तांबेश्वर मंदिर फतेहपुर - Shri Siddha Peeth Tambeeshwar Temple Fatehpur

श्री सिद्ध पीठ तांबेश्वर मंदिर फतेहपुर शहर का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर फतेहपुर का धार्मिक स्थल है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। मंदिर में शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के गर्भ गृह में विराजमान शिवलिंग तांबे के बने हुए हैं। यहां पर शिवलिंग के ऊपर तांबा धातु का आवरण चढ़ा हुआ है और पूरी जलहरी तांबे की बनी हुई है और यहां पर नाग देवता की प्रतिमा भी तांबे की बनी हुई है। इसलिए इस मंदिर को तांबेश्वर मंदिर के नाम से जाना जाता है। यह शिवलिंग बहुत ही सुंदर लगता है। 

तांबेश्वर मंदिर पर सोमवार के दिन बहुत ज्यादा भीड़ रहती है। बहुत सारे भक्त शिव भगवान जी के दर्शन करने के लिए आते हैं। यह मंदिर बहुत ही सुंदर तरीके से बना हुआ है। मंदिर मे और भी बहुत सारे देवी देवता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर श्री कृष्ण जी और राधा जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। शिव भगवान जी की अर्धनारीश्वर प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। मंदिर में माता पार्वती जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। अन्नपूर्णा देवी और मां सरस्वती जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर विष्णु जी और माता लक्ष्मी जी के भी दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर में आकर बहुत सुकून मिलता है। तांबेश्वर मंदिर महाशिवरात्रि और सावन सोमवार के समय बहुत ज्यादा भीड़ रहती है। आप फतेहपुर घूमने के लिए आते हैं, तो आपको इस मंदिर में जरूर घूमने आना चाहिए। 


गांधी पार्क फतेहपुर - Gandhi Park Fatehpur

गांधी पार्क फतेहपुर का एक सुंदर पार्क है। यह पार्क पेड़ पौधों से घिरा हुआ है। यहां पर फूलों के भी बहुत सारे पौधे लगे हुए हैं। यह पार्क फतेहपुर में मजिस्ट्रेट आवासीय परिसर के पास में स्थित है। इस पार्क में आप सुबह के समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर बहुत सारे झूले हैं, जिसमें बच्चे लोग काफी इंजॉय कर सकते हैं। यहां पर लोग योगा करते हैं और बहुत सारी एक्टिविटी यहां पर की जाती है। यहां आकर आपको अच्छा लगेगा। 


आदमपुर घाट फतेहपुर - Adampur Ghat Fatehpur

आदमपुर घाट फतेहपुर का एक सुंदर स्थल है। यह घाट आदमपुर में स्थित है। यह घाट गंगा नदी के किनारे बना हुआ है। इस घाट से गंगा नदी का बहुत सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यह घाट पूरी तरह पक्का बना हुआ है। यहां पर मंदिर भी बना हुआ है, जहां पर आप घूम सकते हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। 


ओम घाट फतेहपुर - Om Ghat Fatehpur

ओम घाट फतेहपुर का एक सुंदर घाट है। यह घाट गंगा नदी के किनारे बना हुआ है। यह घाट बहुत ही अच्छी तरह से बनाया गया है। यहां पर आप गंगा नदी में स्नान कर सकते हैं। यहां पर आपको शिव मंदिर भी देखने के लिए मिलेगा, जहां पर शिवलिंग विराजमान है। यह जगह बहुत ही सुंदर है। यह शिवलिंग के दर्शन करके बहुत अच्छा लगता है। यहां पर बहुत बड़ा शिवलिंग विराजमान है। यह जगह प्राकृतिक सुंदरता से भरी हुई है। यहां पर शाम के समय गंगा नदी के पास आकर सूर्यास्त का दृश्य देखना बहुत ही अच्छा लगता है। आप यहां पर आकर बहुत इंजॉय कर सकते हैं। 


बावन इमली शहीद स्मारक स्थल फतेहपुर - Bavan Tamarind Martyr Memorial Site Fatehpur

बावन इमली फतेहपुर शहर का एक मुख्य स्थल है। यह एक शहीद स्मारक स्थल है। यहां पर ब्रिटिश गवर्नमेंट ने 52 भारतीय क्रांतिकारियों को फांसी की सजा सुनाई थी और उन्हें एक इमली के पेड़ मे फांसी दिया था। इसलिए इस जगह को बावन इमली के नाम से जाना जाता है। यहां पर आपको उन क्रांतिकारियों की कब्र देखने के लिए मिल जाएगी। उनकी जानकारी यहां पर मिल जाती है। जनता को आतंकित करने के लिए 52 क्रांतिकारियों के शव को कई दिनों तक इमली के पेड़ में लटके रहने दिया। अमर शहीद जोधा सिंह के साथी महाराज सिंह को इस बात का पता चला और उन्होंने 600 क्रांतिकारियों के साथ 4 जून 1858 की रात्रि को उनके शव को पेड़ से निकाला और शिवराज घाट पर अंतिम दाह संस्कार किया। बावन इमली फतेहपुर जिले में बिंदकी तहसील के खजुहा गांव के पास स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


बादशाह औरंगजेब की बारादरी और बाग बादशाही फतेहपुर - Badshah Aurangzeb ki Baradari aur baag Badshah Fatehpur

बादशाह औरंगजेब की बरादरी और बाग बादशाही फतेहपुर जिले का एक ऐतिहासिक स्थल है। यह जगह बिंदकी तहसील में खजुआ गांव में स्थित है। आप यहां पर कार और बाइक से घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर आपको प्राचीन स्मारक देखने के लिए मिलेगा। यह स्मारक बहुत सुंदर है। इस स्मारक के चारों तरफ गांव का दृश्य देखने के लिए मिलता है। 

प्राचीन मुगल मार्ग पर स्थित खजुहा ग्राम बादशाह शाहजहां के दो पुत्रों औरंगजेब और शाहशुजा के मध्य 5 जनवरी 1659 ईस्वी को उत्तराधिकारी बनने के लिए, यहां पर एक निर्णायक युद्ध हुआ था। इसलिए मध्यकालीन इतिहास में यह जगह विशेष महत्व रखती है। इस विजय के पश्चात औरंगजेब लगभग 1 सप्ताह तक खजुहा में रुका था। उसने अपनी विजय की स्मृति में इस का नाम औरंगाबाद रख दिया तथा बरादरी युक्त चारबाग, मस्जिद, कारवां सराय का निर्माण करवाया था। ब्रिटिश काल में यह स्थल नील के संवर्धन के लिए उपयोग किया जाता था। 

चहारदीवारी संयुक्त यह बाग मुगल चारबाग शैली का सुंदर नमूना है। चहारदीवारी के कोनों पर सुंदर छतरियों से सुसज्जित बुर्ज है, जबकि पश्चिमी दीवार के मध्य स्थित चौपहल भव्य दो मंजिला दरवाजा खुजहा कस्बे की ओर खुलता है। उत्तरी दीवार से लगी हुई तीन बावलिया बनाई गई है, जिनका उपयोग चारबाग में जलापूर्ति के लिए होता था। बाग के मध्य में एक बावड़ी एवं हौज है, जिससे जल चारों ओर नहर के माध्यम से बाग में पहुंचाया जाता है। नहरों के अवशेष अब यहां विद्यमान नहीं है। यह जगह बहुत सुंदर है और आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। आपको यहां पर बहुत अच्छा लगेगा। 


रानी सागर एवं शिव मंदिर फतेहपुर - Rani Sagar and Shiv Mandir Fatehpur

रानीसागर एवं शिव मंदिर फतेहपुर शहर का एक ऐतिहासिक स्थल है। यहां पर एक सुंदर तालाब देखने के लिए मिलता है और तालाब के पास में ही एक मंदिर बना हुआ है। इस मंदिर में शिवलिंग विराजमान है। यह मंदिर बहुत ही रंगबिरंगा है और बहुत सुंदर लगता है। यह मंदिर फतेहपुर के खजुहा गांव में स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


ढोड़ी घाट - Dhodi Ghat

ढोड़ी घाट फतेहपुर के पास स्थित एक सुंदर घाट है। यह घाट कानपुर जिले के अंतर्गत आता है। यह घाट गंगा नदी के किनारे पर स्थित है। यह घाट फतेहपुर जिले के पास स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर आपको सुंदर घाट देखने के लिए मिलता है। यहां पर बहुत सारे मंदिर भी देखने के लिए मिलते हैं, जो बहुत ही सुंदर है। यहां पर हनुमान जी का मंदिर बना हुआ है। आप यहां पर अपना अच्छा समय व्यतीत कर सकते हैं। 


भगवान श्री राधा कृष्ण मंदिर फतेहपुर - Lord Shri Radha Krishna Temple Fatehpur

भगवान श्री राधा कृष्ण मंदिर फतेहपुर का एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है। यह मंदिर श्री राधा कृष्ण जी को समर्पित है। यह मंदिर बहुत ही सुंदर है। मंदिर पूरा महल में बना हुआ है और बहुत ही अच्छा दिखता है। मंदिर मे ऊपर बड़ा सा शिखर देखने के लिए मिलता है। यहां पर आकर आप राधा कृष्ण जी के दर्शन कर सकते हैं। यह मंदिर 3 मंजिला है। यह मंदिर फतेहपुर में शिवराजपुर में स्थित है। 


हमीरपुर पर्यटन स्थल

जालौन पर्यटन स्थल

बरेली पर्यटन स्थल

पीलीभीत पर्यटन स्थल

बांदा पर्यटन स्थल

इटावा पर्यटन स्थल


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।