सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

फर्रुखाबाद जिले के पर्यटन स्थल - Farrukhabad Tourist Places

फर्रुखाबाद जिले के दर्शनीय स्थल - Places to visit in Farrukhabad district / फर्रुखाबाद जिले के आसपास घूमने वाली प्रमुख जगह



फर्रुखाबाद जिला उत्तर प्रदेश का एक प्रमुख जिला है। फर्रुखाबाद जिला उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से करीब 190 किलोमीटर दूर है। फर्रुखाबाद जिले की स्थापना नवाब मोहम्मद खां बंगश ने की थी, जिसने इसे 1714 में शासक सम्राट फरुखशियर के नाम पर रखा था। फर्रुखाबाद जिला गंगा नदी के किनारे बसा हुआ है। फर्रुखाबाद जिले में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। चलिए जानते हैं - फर्रुखाबाद में कौन-कौन सी जगह घूमने लायक है। 


फर्रुखाबाद जिले में घूमने वाली जगह - Farrukhabad mein ghumne ki jagah


श्री पांडवेश्वर नाथ मंदिर फर्रुखाबाद - Shree Pandaveshwar Nath Temple Farrukhabad

श्री पांडेश्वर नाथ मंदिर फर्रुखाबाद का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। श्री पांडेश्वर नाथ मंदिर फर्रुखाबाद का प्राचीन मंदिर है। इस मंदिर की स्थापना पांडवों के द्वारा की गई थी। इस मंदिर के बारे में कहा जाता है, जब पांडव अज्ञातवास के दौरान इधर-उधर भटक रहे थे। तब पांडवों ने यहां पर भी शरण ली थी और यहां पर उन्होंने शिव मंदिर का निर्माण किया था और शिव भगवान की स्थापना की थी। इस मंदिर में पांडव लोग पूजा पाठ करते थे। यहां पर पांडवों के समय में बनाई गई प्राचीन सुरंग भी है। लोगों का मानना है कि यह सुरंग इस मंदिर से काम्पिल्य तक जाती है। 

वर्तमान समय में मंदिर बहुत ही सुंदर बन गया है। मंदिर को  ही सुव्यवस्थित तरीके से बनाया गया है। मंदिर का प्रवेश द्वार बहुत ही सुंदर है। प्रवेश द्वार के ऊपर गणेश जी की प्रतिमा और शंकर जी की प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के गर्भ गृह में शंकर जी का शिवलिंग विराजमान है। मंदिर पर 12 ज्योतिर्लिंगों के भी दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह ज्योतिर्लिंग बहुत ही अच्छी तरह से रखे गए हैं और इनके नीचे नाम लिखे गए हैं। यहां पर बालाजी का मंदिर भी बना हुआ है।  उत्सव के समय पर शंकर जी को श्रृंगार कराया जाता है, जिससे शिवलिंग और भी ज्यादा सुंदर लगता है। यहां पर शंकर जी के अलावा अन्य मंदिर भी देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां शंकर जी के अलावा अन्य देवी देवताओं के भी दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर राधा कृष्ण जी, हनुमान जी, साईं बाबा जी, शंकर जी और पार्वती जी की मूर्ति देखने के लिए मिलती है। यहां पर आकर बहुत शांति मिलती है। 


श्री शक्ति पीठ माता गुड़गांव देवी फर्रुखाबाद - Shree Shakti Peeth Gurgaon Devi Farrukhabad

गुडगांव देवी मंदिर फर्रुखाबाद का एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर प्राचीन है। यह मंदिर मंगला गौरी को समर्पित है। मंदिर में मंगला गौरी की प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। इस मंदिर के बारे में एक कहानी प्रसिद्ध है, कि इस मंदिर में विराजमान देवी की प्रतिमा गुरु द्रोणाचार्य ने अपने हाथों से बनाए थे और उन्होंने देवी की पूजा करी थी, जिससे मंगला गौरी देवी जी प्रसन्न हुई थी। यहां पर आप आकर, जो भी मनोकामना मांगते हैं। वह जरूर पूरी होती है। मंगला गौरी जी भगवान शिव की पत्नी है। 

गुडगांव देवी मंदिर बहुत ही सुंदर बना हुआ है। गर्भ ग्रह में मंगला देवी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंगला देवी वस्त्र और गहनों से सुसज्जित है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है और शांति मिलती है। गुडगांव देवी मंदिर फर्रुखाबाद शहर के बाहरी क्षेत्र में फर्रुखाबाद अलीगढ़ सड़क पर स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। आपको बहुत अच्छा लगेगा। 


नवाब बंगश का मकबरा फर्रुखाबाद - Nawab Bangash's Tomb Farrukhabad

नवाब बंगश का मकबरा फर्रुखाबाद का एक ऐतिहासिक स्थल है। यहां पर आपको एक मकबरा देखने के लिए मिलता है। यहां पर नवाब बंगश की कब्र भी बनी हुई है। यह मकबरा फर्रुखाबाद शहर के बाहरी क्षेत्र में बना हुआ है। यह मकबरा गुड़गांव देवी मंदिर के पास ही में स्थित है। मकबरे के चारों तरफ गांव का इलाका और खेत है। यहां पर आप घूमने के लिए आ सकते हैं। मकबरे का कुछ भाग क्षतिग्रस्त हो गया है। मकबरे में आपको गलियारे पर एक बड़ा सा गुंबद देखने के लिए मिलता है। गुंबद के नीचे ही कब्र बनी हुई है। नवाब बंगश फर्रुखाबाद के नवाब थे। सरकार की तरफ से इस मकबरे को देखरेख नहीं की जा रही है।  आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


बरगदिया घाट फर्रुखाबाद - Bargadia Ghat Farrukhabad

बरगदिया घाट फर्रुखाबाद का एक प्रमुख स्थल है। यहां पर गंगा नदी के किनारे सुंदर घाट बना हुआ है। आप गंगा नदी के किनारे आकर नहा सकते हैं। यहां पर आप नाव के सवारी का मजा ले सकते हैं। यहां पर शाम के समय सूर्यास्त का दृश्य बहुत ही शानदार रहता है। रेत का किनारा आपको देखने के लिए मिलता है। आप यहां पर आकर अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। 


पांचाल घाट फर्रुखाबाद - Panchal Ghat Farrukhabad

पांचाल घाट फर्रुखाबाद का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह घाट गंगा नदी के किनारे बना हुआ है। यह घाट पूरे प्रदेश में बहुत प्रसिद्ध है। इस घाट में माघ महीने में राम नगरिया मेला लगता है, जिसमें बहुत दूर-दूर से लोग आते हैं। इस मेला में साधु सन्यासी लोग भी आते हैं। यह मेला बहुत प्रसिद्ध है। इस मेले में तरह-तरह की दुकान लगती है और झूले वगैरह भी लगते हैं। यहां पर माघ महीने में बहुत सारे लोग मां गंगा जी में स्नान करने के लिए आते हैं। माघ महीने में मां गंगा जी में स्नान करने से पापों से मुक्ति मिलती है। इस जगह में मेले के समय बहुत ज्यादा भीड़ लगती है। यहां पर गंगा मेला, माघ मेला और भी अन्य मेले लगते हैं। उस टाइम यहां पर बहुत ज्यादा भीड़ रहती है। 

पांचाल घाट को घटिया घाट के नाम से भी जाना जाता है। इस नाम को लेकर भी रोचक कहानी है। आप यहां पर आकर यह कहानी जान सकते हैं। यहां पर आप नाव की सवारी का मजा ले सकते हैं। यहां शाम के समय आकर सूर्यास्त का दृश्य देखना बहुत ही अच्छा लगता है। यह घाट बहुत सुंदर है और आप यहां पर अपना बहुत अच्छा समय व्यतीत कर सकते हैं।   


दुर्वासा ऋषि आश्रम फर्रुखाबाद - Durvasa Rishi Ashram Farrukhabad

दुर्वासा ऋषि आश्रम फर्रुखाबाद का एक धार्मिक स्थल है।  दुर्वासा ऋषि एक महान ऋषि थे। वह ब्रह्माजी के मानस पुत्र थे। यहां पर दुर्वासा जी का आश्रम पांचाल घाट के पास में स्थित है। आप आश्रम में जाकर घूम सकते हैं। यहां पर बहुत सारे देवी देवताओं के दर्शन करने के लिए मिलते हैं और यहां से गंगा नदी का सुंदर दृश्य भी देखने के लिए मिलता है। आप यहां पर अपना अच्छा समय व्यतीत कर सकते हैं। 


बाबा भैरवनाथ मंदिर फर्रुखाबाद - Baba Bhairavnath Temple Farrukhabad

बाबा भैरव नाथ मंदिर फर्रुखाबाद का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर पांचाल घाट के पास ही में स्थित है। इस मंदिर में बाबा भैरव नाथ जी और महाकाली जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। बाबा भैरवनाथ का यह मंदिर एक सिद्ध पीठ धाम है। बाबा भैरव नाथ जी शिव शंकर जी के ही अवतार है और महाकाली जी पार्वती जी के अवतार हैं। यहां पर आप महाकाली जी और बाबा भैरव नाथ जी के दर्शन कर सकते हैं और उन्हें प्रसाद चढ़ा सकते हैं। यहां गौरक्षनाथ जी की धूनी के भी दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर आकर अच्छा लगता है और यह जगह बहुत अच्छी है और यहां पर शांति का अनुभव मिलता है। 


धाई घाट फर्रुखाबाद - Dhai Ghat Farrukhabad

धाई घाट फर्रुखाबाद का एक प्रमुख घाट है। यह घाट गंगा नदी के किनारे बना हुआ है। इस घाट में धाई घाट का मेला लगता है, जो प्रसिद्ध है। यहां पर माघ महीने में बहुत बड़ा मेला लगता है। बहुत सारे लोग माघ महीने में गंगा नदी में स्नान करने के लिए आते हैं। यहां पर मेले में बहुत सारी दुकानें और झूले वगैरह लगते हैं। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यह जगह शमशाबाद जाने वाली सड़क में स्थित है। यहां पर गंगा नदी पर पुल बना हुआ है। आप यहां पर आकर अपना अच्छा समय बिता सकते हैं। 


लाला जी महाराज समाधि स्थल फर्रुखाबाद - Lala Ji Maharaj Samadhi Sthal Farrukhabad

लाला जी महाराज समाधि स्थल फर्रुखाबाद का एक धार्मिक स्थल है। यहां पर आपको लाला जी महाराज अर्थात ब्रह्मलीन परम संत महात्मा श्री रामचंद्र जी महाराज की समाधि देखने के लिए मिलती है। उन्होंने यहां पर समाधि ली थी। यहां पर बहुत शांत वातावरण है। यहां पर और भी बहुत सारे संतों की समाधिया देखने के लिए मिलती है। यहां पर आप आकर मेडिटेशन कर सकते हैं। यह जगह बहुत अच्छी है। चारों तरफ पेड़ पौधे हैं और सुंदर समाधि स्थल बना हुआ है। यह समाधि स्थल फर्रुखाबाद में फतेहगढ़ में स्थित है। यह समाधि स्थल मुख्य सड़क में स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


रामेश्वर नाथ मंदिर कम्पिल फर्रुखाबाद - Rameshwar Nath Temple Kampil Farrukhabad

रामेश्वर नाथ मंदिर फर्रुखाबाद का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर बहुत ही सुंदर है। यह मंदिर बहुमंजिला है। इसकी सबसे ऊपरी मंजिल में भगवान विष्णु का मंदिर देखने के लिए मिलता है। इस मंदिर में शंकर भगवान जी का मंदिर भी बना हुआ है। इस मंदिर के सबसे ऊपरी मंजिल से चारों तरफ का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है, जो बहुत ही सुंदर रहता है। मंदिर के पास में ही और भी बहुत सारे मंदिर बने हुए हैं, जो बहुत सुंदर बने हुए हैं। इस मंदिर के पास में द्रौपदी कुंड मंदिर देखने के लिए मिलता है। बड़ा मंदिर देखने के लिए मिलता है। कालेश्वर नाथ मंदिर देखने के लिए मिलता है। मुगल घाट देखने के लिए मिलता है। इन सभी मंदिरों में बहुत सुंदर नक्काशी की गई है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। यह मंदिर फर्रुखाबाद के कम्पिल विकासखंड में स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। आप यहां पर पूरा अपना एक दिन आराम से बिता सकते हैं। 


कम्पिलपुरी तीर्थ फर्रुखाबाद - Kampilpuri Teerth Farrukhabad

कम्पिलपुरी तीर्थ स्थल फर्रुखाबाद का एक प्रसिद्ध तीर्थ स्थल है। यह जैन तीर्थ स्थल है। यह श्वेतांबर जैन मंदिर है। यहां पर बहुत ही सुंदर सफेद संगमरमर से तराशा हुआ मंदिर देखने के लिए मिलता है। इस मंदिर की नक्काशी बहुत सुंदर है। आप यहां पर आ सकते हैं और इस मंदिर का डिजाइन देख सकते हैं, जो बहुत ही अच्छा लगता है। यहां पर जैन धर्म के भगवान विमलनाथ की बहुत ही सुंदर प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह प्रतिमा बहुत ही पुरानी है। यहां पर सभी प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध है। यह फर्रुखाबाद के कंपिल विकासखंड में स्थित है। 


उन्नाव जिले में घूमने वाली जगह

फतेहपुर जिले में घूमने वाली जगह

हमीरपुर जिले में घूमने वाली जगह

जालौन जिले में घूमने वाली जगह

पीलीभीत जिले में घूमने वाली जगह

बरेली जिले में घूमने वाली जगह


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।