सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

a

साहिबगंज जिला के पर्यटन स्थल - Sahibganj Tourist Places

साहिबगंज जिला का दर्शनीय स्थल - Places to visit in Sahibganj / साहिबगंज जिले के आसपास घूमने वाली प्रमुख जगह 


साहिबगंज झारखंड का एक मुख्य जिला है। साहिबगंज झारखंड की राजधानी रांची से करीब 423 किलोमीटर दूर है। साहिबगंज झारखंड राज्य में, बिहार और बंगाल की सीमा के पास स्थित है। साहिबगंज जिला गंगा नदी के किनारे बसा हुआ है। इसका मुख्यालय साहिबगंज है। प्राचीन समय में साहिबगंज जिले का मुख्य नगर राजमहल हुआ करता था, जो अब साहिबगंज जिले का मुख्य ब्लॉक है। 

साहिबगंज जिले में आप रोड के माध्यम से और रेल माध्यम से पहुंच सकते हैं। साहिबगंज जिले के किनारे से गंगा नदी बहती है। गंगा नदी यहां की मुख्य नदी है। यहां पर आपको गंगा नदी का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है और गंगा नदी पर बहुत सारे घाट दिखने के लिए मिलते हैं। साहिबगंज में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। चलिए जानते हैं - साहिबगंज में घूमने लायक कौन कौन सी जगह है। 


साहिबगंज में घूमने की जगह - Sahibganj me ghumne ki jagah


उधवा झील पक्षी अभयारण्य साहिबगंज - Udhwa Lake Bird Sanctuary Sahibganj

उधवा झील पक्षी अभयारण्य साहिबगंज का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यहां पर आपको पक्षियों की विभिन्न प्रजातियां देखने के लिए मिलती है। यहां पर एक बहुत बड़ी झील है। यह झील बहुत बड़े एरिया में फैली हुई है और इस झील में बहुत सारी मछलियां हैं। ठंड के समय यहां पर आपको पक्षियों की बहुत सारी प्रजातियां देखने के लिए मिलती है। 

उधवा झील पक्षी अभ्यारण को झारखंड सरकार द्वारा अच्छे से बनाया गया है, जहां पर आप आकर अच्छा समय बिता सकते हैं और ठंड में पक्षियों की प्रजातियां देख सकते हैं। यह पक्षी अभ्यारण साहिबगंज जिले के उधवा में स्थित है। आप यहां पर सड़क माध्यम से पहुंच सकते हैं और इस जगह में घूम सकते हैं। यह साहिबगंज में घूमने लायक जगह है। 


अकबरी मस्जिद साहिबगंज - Akbari Masjid Sahibganj

अकबरी मंदिर साहिबगंज जिले के राजमहल प्रखंड में स्थित है। यह मस्जिद गंगा नदी के किनारे बनी हुई है। इस मस्जिद के बारे में कहा जाता है, कि इस मस्जिद का निर्माण अकबर के द्वारा करवाया गया था और मस्जिद में पहली नवाज भी अकबर के द्वारा यहां पर की गई थी। यह मस्जिद बहुत सुंदर है। 


सिंघी दलान साहिबगंज - Singhi Dalan Sahibganj

सिंघी दलान साहिबगंज का टूरिस्ट प्लेस है। यह साहिबगंज में राजमहल प्रखंड में स्थित है। यह एक ऐतिहासिक स्मारक है। यहां पर आपको एक बड़ा सा मंडप देखने के लिए मिलता है, जो बहुत सुंदर है। यह गंगा नदी के किनारे बना हुआ है। यह मंडप अकबर के समय में राजा मानसिंह तोमर के द्वारा बनाया गया था। यहां पर छोटा सा गार्डन भी बना हुआ है, जिसे स्वर्ण जयंती गार्डन के नाम से जानते हैं। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। यहां पर आपको गंगा नदी का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलेगा। यह जगह बहुत सुंदर है। 


राजमहल फेरी घाट साहिबगंज - Rajmahal Ferry Ghat Sahibganj

राजमहल फेरी घाट साहिबगंज में राजमहल प्रखंड में स्थित है और आप यहां पर आकर अपनी वाहन, कार, बाइक या कोई भी बड़े वाहन को गंगा नदी के एक तरफ से दूसरी तरफ ले जा सकते हैं। यहां पर आप झारखंड से गंगा नदी को पार करके, बड़ी बड़ी फेरी में वेस्ट बंगाल जा सकते हैं। यहां पर बहुत बड़ा घाट है और यहां पर बड़ी-बड़ी फेरी खड़ी रहती है, जिसमें आप अपनी गाड़ी आराम से ले जा सकते हैं। इन फेरी राइड का चार्ज लिया जाता है, जो आपकी गाड़ी पर डिपेंड करता है। 


मोती झरना साहिबगंज - Moti Jharna Sahibganj

मोती झरना साहिबगंज में स्थित एक प्राकृतिक पर्यटन स्थल है। यह झरना बहुत सुंदर है और यहां पर एक के ऊपर, एक दो झरने देखने के लिए मिलते हैं, जो बहुत ही सुंदर है। यह झरना ऊंची चट्टानों से नीचे गिरता है और यहां पर नीचे खड़े होकर बहुत सारे लोग नहाने का मजा भी लेते हैं। नीचे कुंड भी बना हुआ है। यहां पर शिव भगवान जी का मंदिर बना हुआ है, जो बहुत सुंदर है और यहां पर बहुत सारे लोग भगवान शिव के दर्शन करने के लिए आते हैं। यह जगह प्राकृतिक सुंदरता से भरी हुई है। यहां आकर बहुत अच्छा लगता है। 

यहां बरसात के समय आप घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर आपको बहुत सारे बंदर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर पार्किंग की व्यवस्था है। आप यहां पर कार और बाइक से पहुंच सकते हैं। यह झरना साहिबगंज में महाराजपुर में स्थित है। यहां पर बड़े बड़े पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं, जिनके ऊपर से यह झरना बहता है। आप यहां पर रेलवे से पहुंच सकते हैं। यहां पर किसी प्रकार का एंट्री चार्ज नहीं लिया जाता है। यह साहिबगंज में घूमने की सबसे अच्छी जगह है। 


कन्हैया स्थान साहिबगंज - Kanhaiya Sthan Sahibganj

कन्हैया स्थान साहिबगंज का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह मंदिर कन्हैया भगवान जी को समर्पित है। इस मंदिर में श्री कृष्ण जी की बहुत ही सुंदर काले पत्थर की प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर आप घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां आकर अच्छा लगता है। यहां पर आपको हनुमान जी और चैतन्य महाप्रभु जी के मूर्ति के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। 

कहा जाता है, कि प्राचीन समय में चैतन्य महाप्रभु जी यहां पर अपनी यात्रा के दौरान ठहरे थे। उनके चरण चिन्ह, यहां पर रखे है , जिनके दर्शन किए जा सकते हैं। यह मंदिर गंगा नदी के किनारे बना हुआ है। यहां पर गंगा घाट में आप स्नान कर सकते हैं और मंदिर घूमने के लिए जा सकते हैं। यह मंदिर साहिबगंज में मंगलहाट के पास में स्थित है। यहां आकर अच्छा अनुभव होता है। 


इस्कॉन मंदिर साहिबगंज - ISKCON temple Sahibganj

इस्कॉन मंदिर साहिबगंज में कन्हैया स्थान मंदिर के पास में बना है। यह मंदिर नवनिर्मित है। यह मंदिर श्री कृष्ण भगवान जी को समर्पित है और बहुत सुंदर है। आप यहां पर आ कर भगवान श्री कृष्ण का भजन कर सकते हैं। यहां पर आपको बहुत ही सुंदर सुंदर मूर्तियां देखने के लिए मिलती हैं। 


बारादरी साहिबगंज - Baradari Sahibganj

बारादरी साहिबगंज में स्थित एक मुख्य ऐतिहासिक स्मारक है। यह स्मारक साहिबगंज से 35 किलोमीटर दूर है। इस स्मारक का नजदीकी रेलवे स्टेशन तालझारी रेलवे स्टेशन है। यह स्मारक मंगलहाट में स्थित है। यह स्मारक बहुत सुंदर है और यह एक ऊंचे चबूतरे के ऊपर बनी हुई है। इस स्मारक पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। इसे बरादरी इसलिए कहा जाता है, क्योंकि इसमें 12 द्वार हैं। 

इस बारादरी के निर्माता के नाम को लेकर विवाद है, क्योंकि कुछ लोगों का मानना है, कि इस बरादरी का निर्माण राजा मानसिंह के प्रतिद्वंदी फतेह खान को इस भवन का निर्माता मानते हैं। जबकि अन्य इसके निर्माण का श्रेय बंगाल के नवाब मीर कासिम अली खान को देते हैं। इस बरादरी को नागेश्वर के नाम से भी जाना जाता है। यह बरादरी बहुत सुंदर है और ईटों की बनी हुई है। इस बारादरी के पास में एक तालाब ही बना हुआ है। यह बारादरी बहुत सुंदर है और आप इसको देख सकते हैं। 


जामी मस्जिद साहिबगंज - Jama Masjid Sahibganj

जामी मस्जिद साहिबगंज का एक मुख्य ऐतिहासिक स्थल है। यह मस्जिद प्राचीन है। इस मस्जिद का निर्माण सम्राट अकबर के समय में करवाया गया था। इस मस्जिद का निर्माण ईटों के द्वारा करवाया गया है। इस स्मारक में आप घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर किसी भी तरह का एंट्री शुल्क नहीं लिया जाता है। इस स्मारक के खुलने का समय 9 बजे से 5:30 बजे तक है। यहां पर आपको एक बड़ा सा गार्डन देखने के लिए मिलता है और जामी मस्जिद देखने के लिए मिलती है। 

जामी मस्जिद का निर्माण सोलवीं सदी में राजा मानसिंह के द्वारा करवाया गया था, जो सम्राट अकबर के राज्यपाल थे। यह मस्जिद एक ऊंचे स्थान पर बनी हुई है। इस मस्जिद जिसे स्थानीय तौर पर जामा मस्जिद भी कहते हैं। यहां एक विशाल प्रार्थना कक्ष है, जो पश्चिम की ओर स्थित है। यह मस्जिद बाहर से देखने में दो मंजिला प्रतीत होती है। ऐसा इसलिए क्योंकि, उसमें बनी विशाल खिड़कियां और नीचे आहते इस बात का आभास देते हैं, कि यह 2 मंजिला इमारत है। यह मस्जिद राजमहल प्रखंड के अंतर्गत आती है और मुख्य सड़क में स्थित है। इसलिए आप यहां पर आसानी से पहुंच सकते हैं। यह साहिबगंज में घूमने वाली मुख्य जगह है। 


शिवगादी साहिबगंज - Shivgadi Sahibganj

शिवगादी साहिबगंज जिले का एक मुख्य धार्मिक स्थल है। यह  मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है और बहुत प्रसिद्ध है। इस  मंदिर को मिनी बाबा धाम के नाम से भी जाना जाता है। जैसे झारखंड में बाबा बैद्यनाथ धाम है। उसी प्रकार यह झारखंड का मिनी बाबा धाम के नाम से प्रसिद्ध है। यह मंदिर प्रकृति के बीच में बना हुआ है और बहुत सुंदर है। इस मंदिर में महाशिवरात्रि में और सावन सोमवार में बहुत सारे श्रद्धालु आते हैं और शिव भगवान जी के दर्शन करते हैं। 

शिवगादी मंदिर एक ऊंची पहाड़ी के ऊपर बनाया गया है। मंदिर तक पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनाई हुई है। यह मंदिर साहिबगंज जिले के बरहेट प्रखंड से 6 किलोमीटर दूर प्रकृति के बीच में स्थित है। यहां आकर बहुत अच्छा लगता है। यह साहिबगंज का एक टूरिस्ट प्लेस है। यहां पर आपको एक विशाल वटवृक्ष भी देखने के लिए मिलता है। यहां पर लोग मनोकामना मांगते हैं और लोगों की मनोकामनाएं यहां पर पूरी होती है। 

यहां पर मानसून के समय पर झरना बहता है, जो बहुत सुंदर लगता है। यहां पर एक पवित्र गुफा है, जिसमें शिवलिंग विराजमान है। गर्भगृह में महादेव का पीला रंग का शिवलिंग विराजमान है। शिवलिंग के ऊपर 12 महीने और 24 घंटे जल अभिषेक होता रहता है। यहां पर पहाड़ी से जल शिवलिंग के ऊपर टपकता रहता है। शिवलिंग के ठीक सामने मां पार्वती प्रतिमा विराजमान है। यहां पर गणेश और भगवान कार्तिकेय की प्रतिमा विराजमान है। यहां पर शिवलिंग के पास में एक और गुफा है, जिसकी चट्टान के बाहरी हिस्से में नंदी महाराज के निशान है। यह साहिबगंज के पास घूमने वाली मुख्य जगह है।  


सिद्धू कान्हू मुर्मू पार्क साहिबगंज - Sidhu Kanhu Murmu Park Sahibganj

सिद्धू कान्हू मुर्मू पार्क साहिबगंज का एक प्रमुख स्थान है। यह पार्क सिद्धू कान्हू जी को समर्पित है। यहां पर आपको सिद्धू कान्हू जी की मूर्तियां देखने के लिए मिलेगी। यह संथाल आदिवासी के दो प्रसिद्ध युवा योद्धा थे, जो अपनी मातृभूमि के लिए लड़े थे। यह पार्क इन 2 योद्धाओं को समर्पित है और बहुत सुंदर है और आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यह पार्क बरहेट प्रखंड के भोगनाडीह में स्थित है। 


बोंगा गोचा झरना साहिबगंज - Bonga Gocha Waterfall Sahibganj

बोंगा गोचा झरना साहिबगंज का एक प्रमुख झरना है और यह झरना बरहेट प्रखंड के पास स्थित है। यह झरना बहुत सुंदर है। यह झरना घने जंगल के अंदर पहाड़ों के बीच में स्थित है। यहां पर ऊंचे पहाड़ से पानी नीचे गिरता है और नीचे पानी कुंड में गिरता है। यहां पर बहुत सारे लोग झरने के नीचे नहाने का लुफ्त भी उठाते हैं। यहां पर पहाड़े में खड़े होकर नहा सकते हैं। यह झरना बहुत सुंदर है और आप यहां बरसात के समय आ कर इंजॉय कर सकते हैं। यहां पर शिव मंदिर भी बना हुआ है, जहां शिवलिंग विराजमान है। झरने तक पहुंचने के लिए आपको थोड़ी सी ट्रेकिंग करनी पड़ेगी, जिसमें आपको मजा आएगा। यहां चारों तरफ हरियाली है। यह साहिबगंज का पिकनिक स्पॉट है। 



पाकुड़ पर्यटन स्थल
लातेहार पर्यटन स्थल
जामताड़ा पर्यटन स्थल
पलामू पर्यटन स्थल
जमशेदपुर पर्यटन स्थल


टिप्पणियाँ

a

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।