सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

a

अकोला के प्रमुख पर्यटन स्थल - Akola tourist places

अकोला का प्रमुख दर्शनीय स्थल - Places to visit in Akola / अकोला जिला के आसपास घूमने वाली प्रमुख जगह 


अकोला महाराष्ट्र राज्य का एक प्रमुख जिला है। अकोला महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई से करीब 580 किलोमीटर दूर है और नागपुर से 250 किलोमीटर दूर है। अकोला मोरना नदी के तट पर स्थित है। मोरना नदी अकोला सिटी की मुख्य नदी है, जो शहर के बीचो-बीच से बहती है। यहां पर और भी महत्वपूर्ण नदियां बहती हैं। अकोला जिले में मान, पूर्णा, और भी नदी बहती है। अकोला में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है, जहां पर जाकर आप अपना अच्छा समय बिता सकते हैं। चलिए जानते हैं - अकोला में घूमने लायक कौन कौन सी जगह है। 


अकोला में घूमने की जगह - Akola me ghumne ki jagah



अकोला का किला अकोला - Akola Fort Akola

अकोला का किला, अकोला जिला का एक प्रमुख आकर्षण स्थल है। अकोला का किला, अकोला शहर में मुख्य शहर के बीचो बीच बना हुआ है। यह किला मोरना नदी के पास बना हुआ है। यह किला अच्छी हालत में है और आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। इस किले में आपको ऊंचे ऊंचे दीवारें, बुर्ज, राजा का कमरा देखने के लिए मिलता है। किले का अधिकांश भाग खंडहर में बदल गए हैं। इस किले का निर्माण अकोल सिंह के द्वारा करवाया गया था। इसलिए इस किले को अकोला का किला कहा जाता है। इसे असदगढ़ का किला भी कहते हैं। 

अकोला का किला 16वीं शताब्दी में बनाया गया था। इस किले में, आप जाकर अकोला सिटी का दृश्य देख सकते हैं। यह किला थोड़ा ऊंचाई पर बना हुआ है, जिससे आपको पूरी सिटी का दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर सनसेट और सनराइज का भी दृश्य देखने के लिए करता है। 


श्री राज राजेश्वर मंदिर अकोला - Shree Raj Rajeshwar Temple Akola

श्री राज राजेश्वर मंदिर अकोला शहर का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। मंदिर के अंदर गर्भगृह में महादेव के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर महादेव का शिवलिंग विराजमान है और यह शिवलिंग स्वयंभू है। यह मंदिर अकोला शहर के मध्य में बना हुआ है और यहां पर बहुत सारे लोग भगवान शिव के दर्शन करने के लिए आते हैं। सोमवार के दिन यहां पर बहुत ज्यादा भीड़ रहती है। 

सावन सोमवार और महा शिवरात्रि में, यहां पर भक्त भगवान शिव के दर्शन और जल अभिषेक करने के लिए आते हैं। यहां पर आकर अच्छा लगता है और शांति मिलती है। आप अगर अकोला जाते हैं, तो इस मंदिर में जरूर जाए। यह मंदिर बहुत अच्छी तरह से बना हुआ है। मंदिर परिसर में आपको और भी बहुत सारे देवी देवताओं के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको गणेश जी, माता पार्वती जी, हनुमान जी, राम जी और भी बहुत सारे देवी देवता दर्शन करने के लिए मिलते हैं। इस मंदिर को लेकर एक प्राचीन कहानी भी प्रचलित है, जो आप यहां पर आकर जान सकते हैं। रात के समय मंदिर रंगीन लाइटों से सजाया जाता है, जिससे इसकी खूबसूरती और भी ज्यादा बढ़ जाती है। 


सुंदराबाई खंडेलवाल टावर अकोला - Sundarabai Khandelwal Tower Akola

सुंदराबाई खंडेलवाल टावर अकोला जिला का एक मुख्य लैंड मार्क है। यह टावर बहुत सुंदर है और प्राचीन है। यह टावर मुख्य शहर में स्थित है। यह टावर शास्त्री स्टेडियम के पास में बना हुआ है। यह टावर बहुत ऊंचा है और आपको काफी दूर से ही यह टावर देखने के लिए मिल जाता है। टावर के सबसे ऊपरी सिरे में घड़ी लगी हुई है। यह टावर 5 मंजिला है। टावर में ऊपर जाने के लिए सीढ़ियां है, मगर ऊपर जाने की मनाही है। 


बालापुर का किला अकोला - Balapur Fort Akola

बालापुर का किला अकोला का एक प्राचीन किला है। यह किला अकोला का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह किला अकोला जिला में बालापुर नगर में स्थित है। यह किला मान नदी के किनारे बना है। यहां पर मान और भईंस नदी का संगम होता है। इस संगम स्थल पर एक टापू बना हुआ है, जिसमें यह किला बना हुआ है। यह किला बहुत सुंदर है। इस किले की वास्तुकला इंडो इस्लामिक है। यह किला 300 साल पुराना है। इस किले का निर्माण आजम शाह के द्वारा किया गया था, जो औरंगजेब के बेटे थे। 

बालापुर का किला का निर्माण 45 वर्षों में पूरा हुआ था। यह किला 1712 में बनना शुरू हुआ था और 1757 में बनकर पूरा हुआ था। यह किला अकोला की सुरक्षा के लिए बनाया गया था। यहां से आपको मान नदी का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। इस किले के प्रवेश द्वार और दीवारें देखने लायक है। इस किले के पास में एक मंदिर भी बना हुआ है, तो देखा जा सकता है। यह किला ईटों से बना हुआ है। 


प्राचीन छतरी अकोला - Ancient Chhatri Akola

प्राचीन छतरी अकोला जिले का एक मुख्य आकर्षण स्थल है। यह स्थान अकोला जिले में बालापुर में स्थित है। बालापुर नगर अकोला जिले से करीब 30 किलोमीटर दूर है। यह छतरी मान नदी के किनारे बनी हुई है। यह छतरी काले पत्थर की बनी हुई है और बहुत सुंदर है। छतरी का निर्माण मिर्जा राजा जयसिंह के द्वारा किया गया था। छतरी में सुंदर कार्विंग देखने के लिए मिलती है। यह छतरी एक ऊंचे चबूतरे पर बनी हुई है। छतरी के पास से ही आपको बालापुर डैम का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिल जाता है। 


बालापुर डैम अकोला - Balapur Dam Akola

बालापुर डैम अकोला जिला का एक मुख्य दर्शनीय स्थल है। यह बांध मान नदी पर बना है। यह डैम बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। इस डैम का दृश्य बरसात के समय बहुत सुंदर रहता है। जब डैम के गेट खुलते हैं और इससे पानी बहता है। आप यहां पर आकर इस डैम को भी देख सकते हैं और यहां पर स्थित प्राचीन छतरी को भी देख सकते हैं। यहां पर चारों तरफ का दृश्य प्राकृतिक है। यहां पर अच्छा लगता है। 


श्री संत गजानन महाराज मंदिर अकोला - Shri Sant Gajanan Maharaj Mandir Akola

श्री संत गजानन महाराज मंदिर अकोला जिला का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर अकोला जिला में शेगाव में स्थित है। यह मंदिर पूरे महाराष्ट्र में प्रसिद्ध है। यहां पर आपको गजानन महाराज के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर गजानन महाराज की समाधि भी है। गजानन महाराज को भगवान दत्तात्रेय का अवतार माना जाता है। 

यह मंदिर बहुत ही अच्छी तरह बनाई गई है। यहां पर खाने पीने की व्यवस्था भी है। यहां पर शुद्ध शाकाहारी खाना मिलता है और खाना बहुत स्वादिष्ट रहता है। इसके अलावा यहां पर ठहरने की व्यवस्था भी की गई है। मंदिर बहुत सुंदर है। मंदिर की दीवारों में खूबसूरत नक्काशी की गई है और देवी-देवताओं की प्रतिमाएं बनाई गई है। यहां आकर बहुत अच्छा लगता है। मंदिर में आपको सभी प्रकार की सुविधा मिल जाती है। यहां पर दूर-दूर से लोग मंदिर में श्री संत गजानन महाराज जी के दर्शन करने के लिए आते हैं। 


अकोला जिले के अन्य प्रसिद्ध पर्यटन स्थान -  Famous Tourist Places in Akola District


श्री बाला साहब ठाकरे उद्यान अकोला
शाहनूर का किला अकोला
नेहरू पार्क अकोला
अशोक वाटिका अकोला
महान डैम या काटेपूर्ण डैम अकोला
पातुर डैम अकोला
बुद्धा लेनी पातुर गुफा अकोला
नानासाहेब मंदिर पातुर अकोला
रेणुका देवी मंदिर पातूर अकोला 
निर्गुणा डैम अकोला 
विश्वामित्र डैम अकोला
वारी डैम अकोला 
वारी भैरवगढ़ का किला अकोला
सुलाई वॉटरफॉल अकोला
आसरा माता मंदिर दोनद अकोला
चंडिका माता मंदिर कुरानखेड 
आनंदेश्वर मंदिर लासूर अकोला



जमशेदपुर पर्यटन स्थल
बोकारो के पर्यटन स्थल
रांची पर्यटन स्थल
नागपुर पर्यटन स्थल


टिप्पणियाँ

a

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।