सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मुंगेर जिले के पर्यटन स्थल - Munger Tourist Places

मुंगेर जिले के दर्शनीय स्थल - Major places to visit in Munger District / मुंगेर जिले के आसपास घूमने वाली प्रमुख जगह


मुंगेर बिहार राज्य का एक प्रमुख जिला है। मुंगेर बिहार की राजधानी पटना से करीब 180 किलोमीटर दूर है। मुंगेर के जमालपुर में लोकोमोटिव कार्यशाला है। मुंगेर जिले की मुख्य नदी गंगा नदी है। मुंगेर जिला गंगा नदी के किनारे बसा हुआ है। मुंगेर जिले को 18वीं शताब्दी में मीर कासिम जी ने अपनी राजधानी बनाया था। मुंगेर प्राचीन समय में अंग देश का हिस्सा हुआ करता था। यहां पर प्राचीन समय में बहुत सारे शासकों ने राज्य किया है। मुंगेर जिले में प्राकृतिक, ऐतिहासिक और धार्मिक जगह देखने के लिए मिल जाती है। मुंगेर जिला में गंगेटिक डॉल्फिन देखने के लिए मिलती है। यह विशेष तौर पर यही पाई जाती है। मुंगेर जिला बहुत सुंदर है। मुंगेर जिले में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। चलिए जानते हैं - मुंगेर जिले में घूमने लायक कौन-कौन सी जगह है। 


मुंगेर में घूमने की जगह - Munger Mein ghumne ki jagah


मुंगेर का किला मुंगेर - Munger Fort Munger

मुंगेर का किला मुंगेर जिले का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह किला मुंगेर जिले में गंगा नदी के किनारे बना हुआ है। इस किले  का प्रवेश द्वार बहुत सुंदर है। प्रवेश द्वार के ऊपर आपको घड़ी देखने के लिए मिलती है। प्रवेश द्वार के ऊपर घूमने के लिए जा सकते हैं। इस किले में आप को बड़ी बड़ी दीवार है और बुर्ज देखने के लिए मिल जाते हैं। किले के अंदर बहुत सारे स्थल है, जहां पर आप घूम सकते हैं। यहां पर आकर अच्छा लगता है। 

मीर कासिम ने मुंगेर को अपनी राजधानी बनाया था। मीर कासिम ने अंग्रेजों के शोषण से बचने के लिए मुंगेर किले में मरम्मत कराकर, इसे दुर्ग का रूप दिया था तथा इसे बंगाल, बिहार, उड़ीसा, असम की राजधानी बनाया था। मीर कासिम ने मुंगेर जिले को अपने ढंग से बनाया था। यहां पर अस्त्र-शस्त्र का कारखाना बनाया था। मुर्शिदाबाद के प्रमुख उद्योगपति के सहयोग से बाहर के विभिन्न भागों को अपने मन अनुरूप रूप दिया था। आज भी बहुत सारी जगह को मीर कासिम के द्वारा दिए गए नामों से ही जाना जाता है - जैसे मुंगेर के किले के बाहर तोपखाना बाजार, सैनिकों के बसे स्थानों को मुगल बाजार, सराय वाले स्थानों को पूरब सराय, बेलन बाजार, मिलिट्री बाजार, केलाबाड़ी आदि नामों से जाना जाता है। 


कंपनी गार्डन मुंगेर - Company Garden Munger

कंपनी गार्डन मुंगेर जिले का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह गार्डन मुंगेर जिले में गंगा नदी के किनारे बना हुआ है। इस गार्डन में बहुत सारे फूलों वाले पौधे लगे हुए हैं। यहां पर आकर आप अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। यह गार्डन बहुत सुंदर है। इस गार्डन में आपको रबड़ और यूकेलिप्टस के बहुत सारे पौधे देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको एक ट्रीहाउस भी देखने के लिए मिलता है, जो बहुत सुंदर है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है और मन को शांति मिलती है। यहां पर बहुत सारे झूले भी लगे हुए हैं। 


मुंगेर संग्रहालय, मुंगेर - Munger Museum, Munger

मुंगेर संग्रहालय मुंगेर जिले में स्थित एक मुख्य पर्यटन स्थल है। इस संग्रहालय में बहुत सारी प्राचीन वस्तुओं का संग्रह देखने के लिए मिल जाता है। यह संग्रहालय बहुत ही सुंदर है। यह संग्रहालय मुंगेर किले के अंदर बना हुआ है। इस संग्रहालय में आपको प्राचीन मूर्तियां देखने के लिए मिलती हैं। संग्रहालय में आपको मुंगेर जिले के ऐतिहासिक एवं सांस्कृतिक धरोहर के बारे में भी जानकारी मिलती है। इस संग्रहालय में प्रवेश के लिए शुल्क लिया जाता है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। आपको अच्छा लगेगा। 


मछली तालाब मुंगेर - Machhali talab munger

मछली तालाब मुंगेर जिले में स्थित एक प्रसिद्ध जगह है। यह जगह धार्मिक भी है। यहां पर आपको शिव मंदिर देखने के लिए मिलता है। यहां पर शिव मंदिर एक बड़े से तालाब के बीच में बना हुआ है। यह तालाब चौकोर आकार में है। इस तालाब के बीच में बने शिव मंदिर में जाने के लिए पुल बना हुआ है। मंदिर बहुत सुंदर है। मंदिर में शिवलिंग विराजमान है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। यहां पर एक छोटा सा गार्डन में बना हुआ है। तालाब में बहुत सारी मछलियां देखने के लिए मिलती है, जो बहुत सुंदर लगती है। इसलिए इस जगह को मछली तालाब के नाम से जाना जाता है। यहां आकर आप बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। यह मुंगेर में घूमने लायक जगह है। 


बिहार योगा भारती मुंगेर - Bihar Yoga Bharti Munger

बिहार योगा भारती मुंगेर जिले का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। इसे बिहार स्कूल ऑफ योगा के नाम से भी जाना जाता है। यह विश्व का पहला योग विश्व विद्यालय है, जहां पर देश और विदेश के हजारों योग जिज्ञासु, साधु संत एवं आमजन यहां पर आकर योग कर सकते हैं और इसका लाभ उठा सकते हैं। इस आश्रम की प्रसिद्धि विश्व के कोने कोने में फैली है। 

यहां पर आपको आकर गंगा नदी का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है और योग करने के लिए मिलता है। इस योग आश्रम की स्थापना स्वामी सत्यानंद के द्वारा की गई थी। यह जगह मुंगेर में गंगा नदी के पास ही में स्थित है। आप यहां पर आकर योग कर सकते हैं। 


कष्टहरणी घाट मुंगेर - Kashharni Ghat Munger

कष्टहरणी घाट मुंगेर जिले का एक प्रसिद्ध घाट है। यह घाट गंगा नदी के किनारे बना हुआ है। यह घाट बहुत सुंदर है। इस घाट से गंगा नदी का दृश्य बहुत ही आकर्षक लगता है। यहां पर आप आकर स्नान कर सकते हैं और यहां पर बहुत सारे मंदिर है, जहां पर आप घूमने के लिए जा सकते हैं। 

लोगों के अनुसार इस घाट के बारे में कहा जाता है, कि यहां गंगा स्नान कर मंदिर में आराधना करने से कुष्ठ रोग दूर हो जाता है और यहां पर अंग देश के राजा करण घाट पर स्नान कर अपनी दैनिक पूजा प्रारंभ करते थे। भगवान राम ने भी यहां स्नान कर विश्राम किया था। यह जगह बहुत पवित्र है और आपको यहां पर आकर अच्छा लगेगा और बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलेंगे। 


श्री कृष्ण वाटिका मुंगेर - Shri Krishna Vatika Munger

श्री कृष्ण वाटिका मुंगेर जिले का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। श्री कृष्ण वाटिका मुंगेर जिले में कष्टहरणी घाट के पास ही में स्थित है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। यहां पर आपको एक सुंदर बगीचा देखने के लिए मिलता है। बगीचे में आपको प्राचीन अवशेष देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको एक ऐतिहासिक सुरंग का द्वार देखने के लिए मिलता है, जिसके बारे में कहा जाता है कि इसका निकास तत्कालीन राजा मीर कासिम के सेनापति जॉन फैडरिक उर्फ गुरुदीन खान के निवास स्थान पीर पहाड़ से सीधा जुड़ा हुआ है। 

यह भी सुना जाता है, कि इस सुरंग के कई रहस्यमई रास्ते हैं, जिसमें कई रहस्य छुपे हुए हैं। इस बार वाटिका में मीर कासिम के दोनों पुत्रों की कब्र देखने के लिए मिलती है, जिन्हें अंग्रेज अधिकारियों द्वारा मार दिया गया था। आप यहां पर आ कर अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं।  यह मुंगेर में घूमने वाली मुख्य जगह है। 


बाबुआ घाट मुंगेर - Babua Ghat Munger

बाबुआ घाट मुंगेर जिले में घूमने वाली मुख्य जगह है। यह घाट गंगा नदी के किनारे बना हुआ है। यह घाट बहुत ही सुव्यवस्थित ढंग से बना हुआ है। मुंगेर में बहुत सारे घाट बने हैं। मगर सबसे सुंदर घाट बाबुआ घाट है। आप यहां पर आकर अपना अच्छा समय बिता सकते हैं। यहां पर आपको गंगा नदी का बहुत सुंदर दृश्य देखने के लिए मिल जाता है। आप यहां पर नौकायान का मजा ले सकते हैं। यहां पर आपको सूर्यास्त का बहुत सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर पास ही में आपको दक्षिणेश्वर काली जी का मंदिर देखने के लिए मिलता है, जो बहुत सुंदर है। 


शाह पीर नाफा मजार मुंगेर - Shah Peer Nafa Mazar Munger

शाह पीर नाफा मजार मुंगेर शहर का एक धार्मिक स्थल है। यह मुस्लिम धार्मिक स्थल है। मगर यहां पर हिंदू और मुस्लिम दोनों ही आते हैं और प्रार्थना करते हैं। इस दरगाह के बारे में कहा जाता है, कि यहां पर सच्चे दिल से जो भी इंसान अपनी मुराद मांगता है। उसकी मुराद जरूर पूरी होती है। 

यह मजार शाह पीर नाफा साहब रहमतुल्ला अलैय की दरगाह है, जो अजमेर के हजरत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती के एक शागिर्द थे। इन्होंने लोगो को बहुत सारा ज्ञान बांटा। यह सन 1176 में मुंगेर पहुंचे थे। इनकी मृत्यु 1176 में ही हुई थी। यह दरगाह मुंगेर किला के दक्षिणी द्वार के पास स्थित है। इस दरगाह का निर्माण सन 1414 में नवाब दनियाल के द्वारा किया गया था। इस जगह को लेकर एक प्रचलित कहानी भी है, जो आप यहां पर आकर जान सकते हैं। यहां पर आप घूमने के लिए आ सकते हैं और प्रार्थना कर सकते हैं। आपको यहां पर आकर अच्छा लगेगा। 


डॉल्फिन पार्क मुंगेर - Dolphin Park Munger

डॉल्फिन पार्क मुंगेर जिले में स्थित एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। डॉल्फिन पार्क मुंगेर जिले में गंगा नदी के किनारे बना हुआ है। यह पार्क बहुत बड़ा और बहुत सुंदर है। यहां पर आपको बहुत सारी पेंटिंग देखने के लिए मिलती है, जिसमें पर्यावरण को बचाने के लिए बहुत सारे स्लोगन लिखे हुए हैं। यहां पर बहुत सारी स्टेचू देखने के लिए मिलते हैं और बहुत सारे फूल वाले पौधे देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर छोटा सा वॉच टावर बना हुआ है, जहां पर चढ़कर आप गंगा नदी के दूर तक का दृश्य देख सकते हैं। 

यहां पर सूर्यास्त का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। इस पार्क में आपको डॉल्फिन की सुंदर पेंटिंग देखने के लिए मिलती है। अगर आप लकी होते हैं, तो आपको यहां पर गंगा नदी पर डॉल्फिन भी देखने के लिए मिल जाती है। यहां पर विशेष तौर पर गंगा नदी पर पाई जाने वाली डॉल्फिन देखने के लिए मिलती है। आप यहां पर आकर अच्छा समय बिता सकते हैं। यहां पर आपको गंगा नदी का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। 


श्री चंडिका स्थान मुंगेर - Shree Chandika Sthan Munger

श्री चंडिका स्थान मुंगेर शहर का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह 1 शक्तिपीठ है। पौराणिक मान्यता के अनुसार यहां पर देवी सती जी की आंख गिरी थी। यहां पर आपको मुख्य मंदिर में देवी मां के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर माता की आंख के आप को दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर देवी के चरण चिह्न बनाए गए हैं। यह मंदिर मुंगेर में बासुदेवपुर क्षेत्र में स्थित है। यहां पर नवरात्रि में बहुत ज्यादा भीड़ लगती है। बहुत सारे भक्त यहां पर माता के दर्शन करने के लिए आते हैं। 

यह जगह महाभारत काल में राजा कर्ण की तपोस्थली के रूप में प्रसिद्ध रही। चंडी स्थान एक तांत्रिक सिद्ध पीठ है और यहां पर बहुत सारे लोग तांत्रिक क्रियाएं करते हैं। यहां पर अमावस्या के दिन बहुत ज्यादा भीड़ रहती है। मंदिर परिसर में आपको बहुत सारे देवी देवताओं के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर काल भैरव जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। काल भैरव जी की प्रतिमा बहुत ही आकर्षक लगती है। यहां पर हनुमान जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं।  मां दुर्गा जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मां दुर्गा जी के साथ गणेश जी, सरस्वती माता के दर्शन करने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर महाकाली जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। 


पीर पहाड़ मुंगेर - Pir mountain munger

पीर पहाड़ मुंगेर जिले का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। पीर पहाड़ मुंगेर जिला में शंकरपुर में स्थित है। पीर पहाड़ बहुत सुंदर स्थल है। यहां से आपको पूरे मुंगेर जिले का दृश्य देखने के लिए मिलता है। यह गंगा नदी से सटा हुआ है और एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। यहां पर मीर कासिम के सेनापति का आवास स्थान हुआ करता था। यहां पर एक विशाल सुरंग है, जिसके माध्यम से सेनापति मुंगेर किला क्षेत्र में अपने राजा से मिलने के लिए आया करते थे। 

यह जगह बहुत ही सुंदर है और आप यहां पर आ कर अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। यहां पर आपको प्राचीन किला देखने के लिए मिलता है, जो बहुत अच्छी हालत में हैं। यहां पर आपको कब्र भी देखने के लिए मिलती है। यह दोस्तों के साथ पिकनिक मनाने के लिए एक अच्छी जगह है। यह मुंगेर का पिकनिक स्पॉट है। आप यहां पर आकर अच्छा समय बिता सकते हैं। 


सीताकुंड मुंगेर - Sitakund Munger

सीताकुंड मुंगेर का एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है। सीताकुंड मुंगेर जिले में गंगा नदी के पास ही में स्थित है। इस जगह का प्राचीन महत्व है। यह एक अनोखा स्थान है। यहां पर आपको राम, लक्ष्मण, भरत, शत्रुघ्न एवं सीता कुंड के नाम से 5 कुंड देखने के लिए मिलते हैं, जिनमें से 4 कुंडों में पानी ठंडा रहता है, परंतु मध्य में स्थित सीता कुंड का पानी खौलता रहता है। इस जगह को लेकर माना जाता है, कि यहां पर सीता माता ने अग्नि परीक्षा दी थी। इसलिए इस कुंड का पानी खौलता रहता है। 

इस कुंड के पानी का उपयोग आप कर सकते हैं। आप इसे पी सकते हैं। इसमें बहुत सारे पोषक तत्व रहते हैं। यह जगह बहुत सुंदर है। आपको यहां पर राम, लक्ष्मण, भरत, शत्रुघ्न और माता सीता जी की प्रतिमा देखने के लिए चलती है। यहां पर आपको बहुत सारी पेंटिंग के माध्यम से, इस जगह के पौराणिक महत्व को दिखाया जाता है। यह जगह बहुत सुंदर है और यहां पर आपको घूमने के लिए जरूर आना चाहिए। यह मुंगेर में घूमने लायक एक मुख्य जगह है। 


राधा कृष्ण मंदिर मुंगेर - Radha Krishna Temple Munger

राधा कृष्ण मंदिर मुंगेर में जमालपुर ब्लॉक में स्थित है। यह मंदिर जमालपुर में काली पहाड़ी पर बना हुआ है। यह मंदिर सबसे ऊंची चोटी पर बना हुआ है। मंदिर में जाने के लिए आपको ट्रैकिंग करके जाना पड़ता है। यहां पर आपको और भी धार्मिक स्थल देखने के लिए मिल जाते हैं, जिनका धार्मिक महत्व है। यहां पर आपको शिव कुंड देखने के लिए मिलता है, जो एक पवित्र कुंड है और यह पहाड़ पर बना हुआ है। यहां पर शिव पार्वती मंदिर बना हुआ है, जिसमें शिव और पार्वती जी की बहुत ही सुंदर प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यहां पर राम मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। यहां पर काली मंदिर देखने के लिए मिल जाता है। 

राधा कृष्ण जी का मंदिर अभी नया बना हुआ है और यह मंदिर बहुत सुंदर है। मंदिर के गर्भ गृह में राधा कृष्ण जी की मूर्ति देखने के लिए मिलती है। यहां पर आपको जमालपुर झील भी देखने के लिए मिलती है। इस झील में छठ पूजा के समय बहुत भीड़ रहती है, क्योंकि यहां पर बहुत सारे लोग आकर पूजा करते हैं। यहां का प्राकृतिक वातावरण बहुत सुंदर रहता है। काली पहाड़ी से आपको जमालपुर और मुंगेर जिले का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिल जाता है। यहां बरसात के समय चारों तरफ हरियाली रहती है। आप यहां पर आकर बहुत इंजॉय कर सकते हैं। यह मुंगेर जिले की सबसे अच्छी जगह है। 


ऋषि कुंड मुंगेर - Rishi Kund Munger

ऋषि कुंड मुंगेर का एक और प्राकृतिक जगह है। यहां पर आपको गरम पानी कुंड देखने के लिए मिलता है। यह जगह बहुत सुंदर है और घने जंगल के अंदर स्थित है। यह जगह मुंगेर जिले में जमालपुर में स्थित है। यह जगह काली पहाड़ियों में स्थित है। यहां पर आपको खूबसूरत जंगल देखने के लिए मिलता है। जंगल हरियाली से भरा है। यहां पर गरम पानी कुंड है, जहां पर आप नहाने का मजा ले सकते हैं। यह जगह ऋषि कुंड के नाम से प्रसिद्ध है। 

यह जगह श्रृंगी ऋषि की तपोस्थली है, जहां पर आपको श्रृंगी ऋषि की मूर्ति के दर्शन करने के लिए भी मिल जाते हैं। यहां पर आपको शंकर भगवान जी के शिवलिंग, हनुमान जी की प्रतिमा भी देखने के लिए मिलती है। आप यहां पर आकर बहुत इंजॉय कर सकते हैं और कुंड में स्नान कर सकते हैं। यहां पर आने के लिए सड़क माध्यम उपलब्ध है। आप अपनी पर्सनल गाड़ी से यहां पर पहुंच सकते हैं। 


खड़कपुर झील मुंगेर - Kharagpur Lake Munger

खड़गपुर झील मुंगेर में स्थित एक प्राकृतिक पर्यटन स्थल है। खड़गपुर झील मुंगेर जिले में हवेली खड़गपुर के पास स्थित है। यह झील बहुत सुंदर है। यहां झील चारों तरफ से पहाड़ियों से घिरी हुई है। झील का नजारा बहुत ही आकर्षक लगता है। आप यहां बरसात के समय घूमने के लिए आएंगे, तो आपको और भी मजा आएगा, क्योंकि आपको यहां चारों तरफ हरियाली देखने के लिए मिलेगी। यहां पर आकर सूर्यास्त का सुंदर नजारा देखा जा सकता है। यह मुंगेर में घूमने के लिए एक अच्छी जगह है। आप यहां पर आ कर अपना समय बिता सकते हैं। 


भीमबांध मुंगेर - Bhimabandh Munger

भीमबांध मुंगेर जिले का एक प्रमुख प्राकृतिक स्थल है। यह मुंगेर जिले के पास घूमने वाला एक जगह है। यह जगह प्राकृतिक है। यहां पर चारों तरफ आपको जंगल का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिल जाता है। यहां पर आपको गर्म पानी का स्त्रोत देखने के लिए मिलता है। यहां पर आप नहाने का मजा ले सकते हैं। यह जगह इको पर्यटन स्थल की तरह विकसित की गई है। यहां पर आपको बहुत सारी सुविधाएं मिल जाती है, जिनका आप लाभ उठा सकते हैं। यह जगह खड़गपुर वन परिक्षेत्र के अंतर्गत आती है। यहां पर गर्म पानी की नदी बहती है, जो पूरे विश्व में एक अनोखी जगह है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


सीता चरण मुंगेर - Sita Charan Munger

सीता चरण मुंगेर जिले का एक धार्मिक स्थल है। यहां पर आपको सीता जी के चरण चिन्ह के दर्शन करने के लिए मिल जाते हैं। इस जगह के बारे में कहा जाता है, कि सीता जी ने राम जी की दीर्घायु के लिए सूर्य जी की उपासना की थी। यहां पर सीता माता का मंदिर बना हुआ है। आप यहां पर आ कर सीता माता के दर्शन कर सकते हैं। यह मंदिर गंगा नदी के किनारे बना हुआ है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है और गंगा नदी का भी सुंदर दृश्य देखने के लिए मिल जाता है। 


मुंगेर जिले के अन्य प्रसिद्ध पर्यटन स्थल - Famous Tourist Places in Munger District

शिव गुरु धाम दरियापुर मुंगेर 
काली मंदिर मुंगेर
सोझी घाट मुंगेर
श्री कृष्ण मंदिर शंकरपुर मुंगेर 
दुर्गा स्थान मंदिर शंकरपुर मुंगेर 
भीम बांध वन्यजीव अभयारण्य
गंगा घाट 
नंदलाल बोस का जन्म स्थान, हवेली खड़गपुर 
सेंट मैरी चर्च जमालपुर 
पादुका दर्शन आश्रम मुंगेर



मुजफ्फरपुर में घूमने की जगह
समस्तीपुर में घूमने की जगह
सीतामढ़ी में घूमने की जगह
सिवान में घूमने की जगह


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।