सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

भुज के पर्यटन स्थल - Bhuj tourist places

भुज के दर्शनीय स्थल - Places to visit in Bhuj / भुज के आसपास घूमने वाली प्रमुख जगह



भुज कच्छ जिले का एक मुख्य नगर है। भुज कच्छ जिले के बीच में स्थित है। भुज में बहुत सारी ऐतिहासिक स्थल हैं, जो देखने लायक हैं। यहां पर 2001 के भूकंप के समय बहुत ज्यादा जन और धन हानि हुई थी। यहां पर बहुत सारी प्राचीन इमारतें इस भूकंप से गिर गई थी। भुज नगर का माधापुर क्षेत्र भी बहुत प्रसिद्ध है। यहां पर भारत और पाकिस्तान युद्ध के समय लोकल लोगों के द्वारा भारतीय सेना की मदद की गई थी। यहां पर लोगों के सम्मान में, एक स्मारक भी बनाया गया है। भुज में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। आप अगर भुज घूमने के लिए आएंगे, तो इस जगह के संस्कृति को जान पाएंगे। चलिए जानते हैं - भुज में कौन-कौन सी जगह घूमने लायक है। 


भुज में घूमने की जगह - Bhuj mein ghumne ki jagah


राजेंद्र पार्क और हमीरसर झील भुज - Rajendra Park and Hamirsar Lake Bhuj

राजेंद्र पार्क और हामीसार झील भुज शहर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह झील शहर के बीचो-बीच बनी हुई है। यह झील बहुत बड़े एरिया में फैली हुई है। इस झील के बीच में राजेंद्र पार्क या बाग बना हुआ है। यह पार्क बहुत सुंदर है। यहां पर बहुत सारे पेड़ पौधे लगे हुए हैं। यहां का दृश्य बहुत ही अद्भुत रहता है। यहां पर सुबह और शाम के समय बहुत सारे लोग घूमने के लिए आते हैं। 

इस पार्क तक जाने के लिए पुल बनाया गया है। झील का दृश्य बहुत ही सुंदर रहता है। यहां पर आपको बहुत सारे पक्षी भी देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको तोता, कोयल, कबूतर और भी बहुत सारे पक्षी देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। अगर आप भुज घूमने के लिए जाते हैं, तो आप यहां पर भी आ सकते हैं। यह भुज की सबसे अच्छी जगह में से एक है। 


कच्छ संग्रहालय भुज - Kutch Museum Bhuj

कच्छ संग्रहालय भुज शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह संग्रहालय भुज शहर में हमीरसर झील के पास में स्थित है। यह संग्रहालय सुबह 10 बजे से 1 बजे तक और दोपहर 2:30 बजे से 5 बजे तक खुला रहता है। आप यहां पर इस वक्त घूमने के लिए जा सकते हैं। यह संग्रहालय गुरुवार को बंद रहता है। संग्रहालय में प्रवेश के लिए शुल्क लिया जाता है। यहां पर मात्र 5 रुपए लिए जाते हैं। यहां पर एक व्यक्ति का सिर्फ 5 रुपए लिया जाता है और पूरा संग्रहालय घुमा जा सकता है। 

विदेशी पर्यटक का 20 रुपए लिया जाता है। इस संग्रहालय में आपको बहुत सारी वस्तुओं का संग्रह देखने के लिए मिल जाता है। यहां पर आपको मुख्य तौर गुजरात के कच्छ से संबंधित वस्तुओं का संग्रह देखने के लिए मिलता है। यहां पर आपको अस्त्र-शस्त्र का संग्रह देखने के लिए मिलता है, जिसमें पुरानी बंदूके, तलवार देखने के लिए मिलती है। पुराने सिक्कों का संग्रह देखने के लिए मिलता है। कपड़े और कच्छ हैंड वर्क भी आप यहां पर देख सकते हैं। यहां पर आपको तोप देखने के लिए मिलती है,  जो प्राचीन है। म्यूजियम के बाहर आपको गार्डन देखने के लिए मिलता है, जहां पर मूर्तियों का सुंदर कलेक्शन आप देख सकते हैं। यह संग्रहालय दो मंजिला है और संग्रहालय की बिल्डिंग भी बहुत सुंदर है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। अगर आप इतिहास में रुचि रखते हैं, तो आप जरूर यहां पर आए। 


स्वामीनारायण मंदिर भुज - Swaminarayan Mandir Bhuj

स्वामीनारायण मंदिर भुज का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर भुज जिले में, मुख्य शहर में स्थित है। यह मंदिर भुज रेलवे स्टेशन से करीब 2 किलोमीटर दूर है। यह मंदिर बहुत सुंदर है। पूरा मंदिर सफेद संगमरमर से बना हुआ है और पूरे मंदिर में नक्काशी की गई है। यहां पर आपको मंदिर के छत में भी बहुत सुंदर नक्काशी देखने के लिए मिलती है। नक्काशी में मानव मूर्तियां, हाथी, गोमुख, फूल पत्ती बहुत सारी नक्काशी और भी देखने के लिए मिलती है। मंदिर के प्रवेश द्वार पर, आपको तोरण द्वार देखने के लिए मिलते हैं, जो बहुत ही सुंदर एक ही पत्थर से बनाए गए हैं। बाकी पूरे मंदिर में नक्काशी की गई है। मंदिर की दीवारों में मोर और फूलों की पेंटिंग लगाई गई है, जो बहुत ही सुंदर लगती है। 

यह मंदिर स्वामीनारायण भगवान जी को समर्पित है। यहां पर आपको स्वामीनारायण भगवान जी की बहुत सुंदर प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यहां पर कुछ स्थानों पर महिलाओं का जाना माना है। मंदिर परिसर में मंदिर के सामने बहुत बड़ा गार्डन बना हुआ है, जो बहुत ही अच्छी तरह से मैनेज किया जाता है। यहां पर आपको खाने के लिए कैंटीन मिल जाती है, जहां पर बहुत कम कीमत पर में खाना मिलता है और खाना बहुत ही स्वादिष्ट रहता है। यहां पर ठहरने की सुविधा भी उपलब्ध है। आप यहां पर आ कर स्वामीनारायण भगवान जी के दर्शन कर सकते हैं। 


भारतीय संस्कृति दर्शन संग्रहालय भुज - Bhartiya sanskriti lok kala sangrahalaya Bhuj

भारतीय संस्कृति दर्शन संग्रहालय भुज शहर का एक प्रमुख स्थल है। यह संग्रहालय मुख्य भुज शहर में स्थित है। इस संग्रहालय में आपको मुख्य रूप से कच्छ में रहने वाले लोग की जीवन शैली दिखाई गई है। कच्छ के लोग किस तरह से रहते थे, किस तरह से खाना पकाते थे, उनके रीति रिवाज, यह सभी चीजें यहां पर दिखाई गए हैं। यहां पर आपको उनके द्वारा उपयोग किए जाने वाले बर्तन, मिट्टी के खिलौने, कपड़े देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर किताबों का भी बहुत बड़ा संग्रह किया गया है।

भारतीय संस्कृति दर्शन म्यूजियम में, आप 10:30 बजे से 1:15  बजे तक और 3 से 6 तक आ सकते हैं। इस समय आप म्यूजियम में घूम सकते हैं। रविवार को यह संग्रहालय बंद रहता है। इस म्यूजियम में प्रवेश के लिए शुल्क लिया जाता है। यहां पर एक व्यक्ति का 20 रुपए लिया जाता है। यहां पर आकर आपको बहुत सारी जानकारी मिल जाती है। यह भुज में घूमने लायक जगह है। 


छातेदी भुज - Chhatedi Bhuj

छातेदी भुज का एक मुख्य जगह है। यह एक ऐतिहासिक जगह है। छातेदी गुजराती का एक शब्द है, जिसका अर्थ होता है - छतरी। यहां पर आपको प्राचीन स्मारक देखने के लिए मिलती है। इन स्मारकों का आकार छतरी के समान है। इसलिए इन्हें छातेदी कहा जाता है। यह स्मारक भुज की शाही परिवार की समाधि स्थल है। यहां पर आपको बहुत सारी समाधि स्थल देखने के लिए मिलते हैं। मगर 2001 में आए भूकंप के कारण यहां पर बहुत सारे स्मारक टूट गए हैं। कुछ स्मारक ही शेष बचे हुए हैं। 

यह छतरियां भुज में 18वीं शताब्दी में बनाई थी। यह छतरियां जडेजा शासकों के द्वारा बनाई गई थी। यह छतरियां लाल बलुआ पत्थर से बनी हुई है। छतरी में बहुत ही बारीक नक्काशी देखने के लिए मिलती है। सबसे बड़ी और सुंदर छतरी राव लखपत जी की है। इस छतरी को डिजाइन रामसिंह मलूम ने किया था। आप यहां पर आकर सभी छतरियों को देख सकते हैं। यह स्मारक भुज में हमीरसर लेक के पास स्थित है। आप यहां पर आसानी से पहुंच सकते हैं। यह बहुत बड़े एरिया में फैला हुआ है। यहां पर आपको गार्डन भी देखने के लिए मिलता है। इन स्मारकों में आपको सुंदर नक्काशी देखने के लिए मिलती है, जो बहुत ही आकर्षक लगती है। इसके अलावा यहां पर कुछ छतरी के ऊपरी सिरे में आपको रंग बिरंगी कलर देखने के लिए मिलते हैं, जो बहुत ही आकर्षक लगते हैं। यहां पर आपको सूर्यास्त और सूर्योदय का भी बहुत अच्छा दृश्य देखने के लिए मिल जाएगा। यह छत्रिय मुगल और राजपूताना वास्तु शैली में बनी हुई है। यह भुज में घूमने लायक एक मुख्य जगह है। 


शारदा बाग पैलेस भुज - Sharda Bagh Palace Bhuj

शारदा बाग पैलेस भुज का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह एक प्राचीन महल है। यह महल बहुत सुंदर है। 2001 में आए भूकंप के कारण महल का ऊपरी हिस्सा टूट गया है। महल के ऊपरी हिस्से में जाने की मनाही है। बाकी आप महल के नीचे के हिस्से में घूम सकते हैं। यह महल म्यूजियम में बदल दिया गया है। यह महल कच्छ के महाराज का निवास स्थान था। यहां पर महाराजा मदन सिंह की मृत्यु हुई थी। यहां पर आपको अभी वर्तमान में म्यूजियम और सुंदर गार्डन देखने के लिए मिल जाता है। 

म्यूजियम में आपको बहुत सारी वस्तुएं देखने के लिए मिलती है। यहां पर आपको जानवरों की खाले देखने के लिए मिलती हैं। यहां पर आपको शेर और चीता इन सभी के खाले देखने के लिए मिल जाती हैं, जिनमें भूसा भरकर यहां पर रखा गया है। इसके अलावा बगीचा बहुत सुंदर है। इसमें तरह तरह के फूल लगाए गए हैं और आप यहां पर घूम सकते हैं, जो बहुत ही सुंदर लगता है। संग्रहालय में प्रवेश का शुल्क लिया जाता है, जो बहुत ही कम रखता है। अगर आप फोटो क्लिक करते हैं, तो उसका भी अलग से शुल्क लिया जाता है। शारदा बाग पैलेस में आप 9 बजे से 12 बजे तक और 3 बजे से 6 बजे तक घूमने के लिए जा सकते हैं। यह म्यूजियम शुक्रवार को बंद रहता है। आप यहां पर आकर अपना बहुत अच्छा वक्त बिता सकते हैं। यहां पर होमस्टे की फैसिलिटी भी अवेलेबल है। यह पैलेस हमीरसर झील से थोड़ी ही दूरी पर स्थित है। आप यहां पर आराम से पहुंच सकते हैं। 


त्रि मंदिर भुज - Tri Mandir Bhuj

त्रिमंदिर भुज शहर का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर मुख्य भुज शहर से करीब 5 किलोमीटर दूर एयरपोर्ट रोड पर स्थित है। यह मंदिर बहुत सुंदर है और बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। यहां पर आपको शैव, जैन और वैष्णव धर्म का मिश्रण देखने के लिए मिलता है। यहां पर इन तीनों धर्म के देवी देवताओं की प्रतिमा विराजमान है। यहां पर आपको बहुत सारे देवी देवताओं के दर्शन करने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर आपको सीमंधर स्वामी, शिव भगवान जी, कृष्ण भगवान जी, साईं बाबा जी, अंबे माता जी, श्री बालाजी, श्री कृष्णा जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। 

त्रिमंदिर की वास्तुकला बहुत सुंदर है। मंदिर बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। यहां पर आपको मंदिर के सामने बहुत बड़ा गार्डन देखने के लिए मिलता है, जहां पर आप बैठ सकते हैं और भगवान का भजन कर सकते हैं। इसके अलावा मंदिर के अंदर सत्संग हॉल भी बना हुआ है, जहां पर भजन-कीर्तन होते रहते हैं। यहां पर ठहरने की सुविधा भी उपलब्ध है और यहां पर भोजन की सुविधा भी उपलब्ध है। यहां पर गुरु पूर्णिमा, रक्षाबंधन, जन्माष्टमी और दीपावली के समय उत्सव मनाए जाते हैं। आप यहां घूमने के लिए आ सकते हैं। आपको अच्छा लगेगा। यह भुज की सबसे अच्छी जगह है। 


हिल गार्डन भुज - Hill Garden Bhuj

हिल गार्डन भुज का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह भुज में घूमने वाली मुख्य जगह है। यह गार्डन भुज में एयरपोर्ट रोड पर स्थित है। यह गार्डन बहुत बड़ी एरिया में फैला हुआ है। इस गार्डन में प्रवेश के लिए शुल्क लिया जाता है। इस गार्डन में बहुत सारे झूले और वॉटर स्लाइड है, जिनमें आप बहुत इंजॉय कर सकते हैं। यहां पर बहुत सारे पेड झूले भी है, जहां पर बहुत मजा आता है। इसके अलावा यहां पर एक फिश म्यूजियम है, जहां पर व्हेल मछली का बहुत बड़ा स्केलेटन रखा हुआ है। इसके अलावा यहां पर और भी बहुत सारी मछलियां देखने के लिए मिल जाती है। 

यहां पर बच्चों के लिए टॉय ट्रेन, बेबी ट्रेन, नैनो कार, जंपिंग फ्रॉग, मिनी बोट, मिनी कार जैसी सुविधाएं उपलब्ध है। यहां पर वाटर स्लाइड भी बनी हुई है, जहां पर आप मजा ले सकते हैं। इस पार्क में आपको एलीफेंट फाउंटेन भी देखने के लिए मिलेगा, जो बहुत सुंदर रहता है। इस पार्क में प्रवेश के लिए शुल्क लिया जाता है। यहां पर आप आकर इंजॉय कर सकते हैं। यहां पर कैंटीन भी है, जहां पर आपको खाने पीने के लिए बहुत सारी चीजें मिल जाती हैं। यह पार्क रोटरी चैरिटेबल सोसायटी द्वारा संचालित होता है। यह भुज की सबसे अच्छी जगह में से एक है। 


यक्ष मंदिर भुज - Yaksha Temple Bhuj

यक्ष मंदिर भुज का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर यक्ष देवता जखादादा को समर्पित है। यह मंदिर बहुत सुंदर बना हुआ है। मंदिर में आपको नक्काशी देखने के लिए मिलती है। मंदिर के अंदर आपको 72 देवी देवताओं की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यह स्थानीय देवता का मंदिर है और आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। यहां पर ठहरने और खाने की सुविधा मिलती है। अगर आप पर्यटक है, तो आपको यहां पर रहने के लिए अच्छे रूम मिल जाते हैं और वह भी बहुत कम प्राइस पर। आप यहां पर आकर ठहर सकते हैं। यह मंदिर माधापुर रोड में स्थित है। 


गायत्री माता मंदिर भुज - Gayatri Mata Temple Bhuj

गायत्री माता मंदिर भुज का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर भुज में माधापुर जाने वाली रोड पर स्थित है। यह मंदिर बहुत सुंदर है और इस मंदिर में आपको गायत्री माता की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है, जो बहुत ही आकर्षक लगती है। यह मंदिर मुख्य सड़क पर बना हुआ है। इसलिए आप यहां पर आसानी से पहुंच सकते हैं। यहां पर आकर अच्छा लगता है। यहां पर छोटा सा गार्डन भी बना हुआ है और बच्चों के लिए प्ले एरिया भी बना हुआ है। 


स्मृति वन मेमोरियल भुज - Smriti Van Memorial Bhuj

स्मृति वन मेमोरियल भुज का एक प्रसिद्ध स्थल है। यहां पर एक पार्क बनाया जा रहा है। यह पार्क भुजियो हिल में स्थित है। यह पार्क 2001 में कच्छ में आए भूकंप की याद में बनाया जा रहा है। इस भूकंप में बहुत सारे जान माल की हानि हुई थी। यह पार्क बहुत सुंदर है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। यहां से बहुत सुंदर व्यू देखने के लिए मिल जाता है। यहां से सनराइज का भी दृश्य बहुत आकर्षक रहता है। 


भुजिया पहाड़ी भुज - Bhujia hill bhuj

भुजिया पहाड़ी भुज का एक मुख्य आकर्षण स्थल है। यह एक सुंदर पहाड़ी है और यहां पर बरसात के समय आना बहुत अच्छा लगता है। यहां पर आपके देखने के लिए बहुत सारी जगह है। यह पहाड़ी भुज शहर के बाहरी क्षेत्र में स्थित है। पहाड़ी में आपको भुजिया का किला देखने के लिए मिलता है। यह किला प्राचीन है और यह किला जडेजा शासकों के द्वारा बनवाया गया था। यह किला 1715 ईस्वी में बनवाया गया था। 

यहां पर आपको मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर भी प्राचीन है। यहां पर आपको भुजंग देव जी का मंदिर देखने के लिए मिलता है। आपको इस जगह में आने के लिए ट्रैकिंग करनी पड़ती है। यहां पर आपको बहुत सुंदर सनसेट और सनराइज का दृश्य देखने के लिए मिल जाता है। यहां पर आ कर आपको बहुत मजा आएगा। आप यहां पर अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। यह पहाड़ी भुज से माधापुर जाने वाली सड़क पर देखने के लिए मिलती है और आप यहां पर आसानी से पहुंच सकते हैं। 


आइना महल भुज - Aina Mahal Bhuj

आइना महल भुज का एक मुख्य आकर्षण स्थल है। यह एक प्राचीन महल है। यह महल बहुत ही सुंदर बना हुआ है। यह महल हमीरसर झील के पास में स्थित है। आइना महल का निर्माण 18वीं शताब्दी में किया गया था। यह महल प्राग महल के पास ही में स्थित है। इस महल को हॉल ऑफ मिरर भी कहा जाता है। इस महल का निर्माण लखपत जी ने करवाया था। इस महल की वास्तुकला बहुत ही अद्भुत है। इस महल में आप 9:00 से 11:45 तक और 3:00 बजे से 5:45 तक घूमने के लिए जा सकते हैं। यह महल गुरुवार को बंद रहता है। इस महल में प्रवेश के लिए टिकट लिया जाता है। 

आइना महल के अंदर आपको बहुत सारी वस्तुओं का संग्रह देखने के लिए मिलता है। यहां पर आपको राजा का कमरा, डायनिंग हॉल, वाद्ययंत्र, पुराने सिक्के, कपड़े देखने के लिए मिलते हैं। इस संग्रहालय में कांच का बहुत सुंदर काम किया गया है। यहां पर महल की दीवारों और छतों में कांच का सुंदर काम देखने के लिए मिलता है। यहां पर जानवरों की खाल भी देखने के लिए मिलती हैं। आप यहां पर आकर बहुत सारी जानकारी हासिल कर सकते हैं। अगर आप इतिहास में रुचि रखते हैं, तो आपको यहां पर जरूर आना चाहिए। 


प्राग पैलेस भुज - Prag Palace Bhuj

प्राग पैलेस भुज का एक मुख्य आकर्षण स्थल है। प्राग पैलेस भुज में हमीरसर झील के पास में स्थित है। यह पैलेस बहुत सुंदर है। यह पैलेस गोथिक स्टाइल में बना हुआ है। यहां पर प्रवेश के लिए प्रवेश शुल्क लिया जाता है। यह पैलेस बहुत ही सुंदर लगता है। पूरा पैलेस ईटों से बना हुआ है। इस पैलेस के अंदर आपको बहुत सारी वस्तुओं का संग्रह देखने के लिए मिल जाता है। यहां पर आपको डायनिंग हॉल, घोड़ा गाड़ी, जानवरों की खाले, झूमर, तोप और भी बहुत सारी चीजें यहां पर देखने के लिए मिल जाती है। यहां पर आपको बिग बेन टावर भी देखने के लिए मिलता है। इस टावर में घड़ी भी लगी हुई है। यह टावर बहुत सुंदर है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं और बहुत सारी चीजों के बारे में जान सकते हैं। 


आशापुरा माता मंदिर भुज - Ashapura Mata Temple Bhuj

आशापुरा माता का मंदिर भुज का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर आशापुरा माता को समर्पित है। आशापुरा माता की यहां पर बहुत सुंदर प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर का गर्भगृह बहुत सुंदर है। पूरा गर्भगृह चांदी का बना हुआ है। यह मंदिर भुज का प्रसिद्ध मंदिर है और यहां पर बहुत सारे लोग माता के दर्शन करने के लिए आते हैं। कहा जाता है कि माता लोगों की इच्छाओं को पूरा करती है। इसलिए यहां पर लोगों की भीड़ लगी रहती है। मंदिर के बाहर बहुत सारी दुकानें हैं, जहां से आप माता को अर्पित करने के लिए प्रसाद ले सकते हैं। यह मंदिर भुज शहर में स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यह मंदिर प्राचीन है। 

आशापुरा मंदिर का मंदिर परिसर बहुत सुंदर है। यह मंदिर भी बहुत अच्छी तरीके से बना हुआ है। मंदिर परिसर में आपको बहुत सारे देवी देवताओं के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको दुर्गा जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। वैष्णो माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। श्री कृष्ण जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। विष्णु भगवान जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। शंकर जी और मां पार्वती जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर आप घूमने के लिए आ सकते हैं। आपको बहुत अच्छा अनुभव होगा। 


गंगेश्वर महादेव मंदिर भुज - Gangeshwar Mahadev Temple Bhuj

गंगेश्वर महादेव मंदिर भुज के पास घूमने वाली एक मुख्य जगह है। यह भुज का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर पहाड़ियों के पास स्थित है। यह मंदिर भुज के बाहरी क्षेत्र में स्थित है। यहां पर आपको शिव शंकर जी का मंदिर देखने के लिए मिलता है और हनुमान जी का मंदिर देखने के लिए मिलता है। यहां पर आपको शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर चारों तरफ का दृश्य प्राकृतिक है। 

गंगेश्वर मंदिर भी बहुत सुंदर लगता है। यहां पर आकर आप अपना अच्छा समय बिता सकते हैं। यहां पर एक छोटा सा जलाशय भी है, जो बहुत आकर्षक लगता है। यहां पर बड़ी-बड़ी चट्टानें है, जिसमें ओम नमः शिवाय लिखा गया है। यह जगह बरसात में और भी ज्यादा खूबसूरत हो जाती है। यहां से आप सूर्योदय और सूर्यास्त का सुंदर दृश्य भी देख सकते हैं। आप अगर अपना अच्छा समय बिताना चाहते हैं, तो आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यह भुज में घूमने लायक एक मुख्य जगह है। 


जादूरा पहाड़ी भुज - Jadura Hill Bhuj

जादूरा पहाड़ी भुज के पास घूमने के लिए एक मुख्य जगह है। यहां पर आपको सुंदर पहाड़ी देखने के लिए मिलती है। यहां पर पहाड़ी की श्रंखला देखने के लिए मिलती है, जो बहुत सुंदर लगती है। यहां पर सूर्यास्त का आप दृश्य देख सकते हैं। यहां पर एक जलाशय भी बना हुआ है, जिसे जादूरा बांध कहा जाता है। आप यहां पर आकर अपना अच्छा समय बिता सकते हैं। 


भुज के अन्य प्रसिद्ध पर्यटन स्थल - Famous Tourist Places in Bhuj

भुज हट
रामकुंड भुज 
कालो डूंगरी 
गायत्री मंदिर हमीरसर झील भुज
स्वामीनारायण स्मृति मंदिर हमीरसर झील भुज
खेंगार पार्क भुज
प्राचीन टपकेश्वरी माता मंदिर भुज 
तंबू हिल भुज 


अरावली में घूमने की जगह
गिर सोमनाथ में घूमने की जगह
अमरेली में घूमने की जगह
पंचमहल में घूमने की जगह


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।