सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

गोंडा जिले के पर्यटन स्थल - Gonda tourist places

गोंडा जिले के दर्शनीय स्थल - Places to visit in Gonda district / गोंडा जिले के आसपास घूमने वाली प्रमुख जगह


गोंडा उत्तर प्रदेश का एक प्रमुख जिला है। गोंडा उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से करीब 120 किलोमीटर दूर है। गोंडा जिले में बहुत सारी नदियां बहती हैं। गोंडा जिला में सरयू नदी और घाघरा नदी बहती है। गोंडा जिला में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। चलिए जानते हैं - गोंडा जिला में कौन-कौन सी जगह घूमने लायक है। 


गोंडा जिले में घूमने वाली जगह - Gonda mein ghumne ki jagah


दुखहरण नाथ मंदिर गोंडा - Dukhharan Nath Temple Gonda

दुखहरण नाथ मंदिर गोंडा शहर का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। मंदिर में शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। यह मंदिर गोंडा शहर के बीच में मुख्य सड़क में स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। मंदिर में सोमवार के दिन बहुत सारे भक्त भगवान शिव के दर्शन करने के लिए आते हैं। यहां पर सावन सोमवार में और महाशिवरात्रि के समय भी बहुत भीड़ लगती है। यह मंदिर बहुत सुंदर है। इस मंदिर के पास में ही लक्ष्मी नारायण मंदिर के दर्शन करने के लिए मिलते हैं, जहां पर श्री विष्णु जी और माता लक्ष्मी जी के दर्शन कर सकते हैं। 


आदि शक्ति मां दुर्गा मंदिर गोंडा - Adi Shakti Maa Durga Temple Gonda

आदिशक्ति मां दुर्गा मंदिर गोंडा शहर का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर मां दुर्गा जी को समर्पित है। यहां पर मां दुर्गा जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर हनुमान जी की भी बहुत सुंदर प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। इस मंदिर को नूरा मल मंदिर के नाम से जाना जाता है, क्योंकि इस मंदिर के स्थापना बाबा नूरा मल जी के द्वारा की गई है। यहां पर आकर आपको अच्छा लगेगा। यह मंदिर गोंडा शहर के बीचो बीच मुख्य सड़क में स्थित है। 


मां खैरा भवानी मंदिर गोंडा - Maa Khaira Bhavani Temple Gonda

मां खैरा भवानी मंदिर गोंडा शहर का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर प्राचीन है। इस मंदिर में माता खैरा भवानी जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर हनुमान जी और शिव भगवान जी की भी दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह मंदिर बहुत सुंदर है और पूरे गोंडा शहर में प्रसिद्ध है। इस मंदिर के पास में ही एक तालाब देखने के लिए मिलता है। यह तालाब बहुत सुंदर है। इस तालाब में बहुत सारी मछलियां है। यहां पर चारों तरफ पेड़ पौधे लगे हुए हैं, जो बहुत अच्छे लगते हैं। यहां पर बहुत सारे लोग माता के दर्शन करने के लिए आते हैं। नवरात्रि में और छठ पूजा में यहां पर बहुत ज्यादा भीड़ लगती है। 


गांधी पार्क गोंडा - Gandhi Park Gonda

गांधी पार्क गोंडा शहर का एक मुख्य स्थल है। यहां पर आपको एक सुंदर पार्क देखने के लिए मिलता है। पार्क में बहुत सारे फूलों वाले पौधे देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बच्चों के खेलने के लिए बहुत सारे झूले भी लगाए गए हैं, जिसमें बच्चे लोग बहुत इंजॉय कर सकते हैं। पार्क के बीच में गांधीजी की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। आप इस पार्क में घूमने के लिए आ सकते हैं। यह गोंडा शहर के बीचो बीच बना हुआ है। यहां आकर आपको अच्छा लगेगा और आप यहां अपना अच्छा समय व्यतीत कर सकते हैं। 


पार्वती अरंगा पक्षी विहार गोंडा - Parvati Aranga Bird Sanctuary Gonda

पार्वती अरंगा पक्षी विहार गोंडा शहर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यहां पर बहुत बड़ी झील है। यह झील बहुत बड़े क्षेत्र में फैली हुई है। इस झील में बहुत सारे स्थानीय और विदेशी पक्षी देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर टूरिज्म विभाग के द्वारा एक उद्यान भी बनाया गया है। यहां पर आपको बहुत सारे स्थानीय पक्षी देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर आपको टिटहरी, जल टिटहरी, जल मुर्गी, जैसे बहुत सारे पक्षी देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर आकर आप बहुत अच्छा अनुभव कर सकते हैं। 

पार्वती अरंगा पक्षी विहार के प्राकृतिक माहौल में आपको बहुत सारी चिड़ियों की प्रजातियां देखने के लिए मिल जाती है। यहां पर घूमने का सबसे अच्छा टाइम नवंबर से फरवरी तक का रहता है। यह जगह टिकरी वन्य क्षेत्र के पास में स्थित है। यह गोंडा जिले में, गोंडा से नवाबगंज जाने वाली सड़क के थोड़ा अंदर स्थित है। आप यहां पर अपने वाहन से पहुंच सकते हैं। यहां पर पार्क के अंदर जाने के लिए आपको एंट्री टिकट लगता है। यहां पर आप झील का सुंदर दृश्य देख सकते हैं। यहां पर बोटिंग की सुविधा भी उपलब्ध रहती है। आप यहां पर आ कर अपना अच्छा समय व्यतीत कर सकते हैं। यह गोंडा का पिकनिक स्पॉट है। 


रुद्रापुर सम्मय शक्तिपीठ गोंडा - Rudrapur Sammay Shaktipeeth Gonda

रुद्रापुर सम्मय शक्तिपीठ गोंडा जिले में टिकरी वन क्षेत्र में स्थित है। यह मंदिर बहुत सुंदर है। यहां पर चारों तरफ जंगल का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। इस मंदिर में आदिशक्ति मां वनदेवी की मूर्ति देखने के लिए मिलती है। यहां पर आकर अच्छा लगता है और शांति मिलती है। यहां पर आपको बहुत सारे हाथियों की मूर्तियां देखने के लिए मिलती हैं और यहां पर बहुत सारे घोड़ों की मूर्तियां भी रखी गई हैं। मंदिर परिसर में बरगद का बहुत बड़ा पेड़ लगा हुआ है और इसकी शाखाएं फैली हुई है। यहां पर आकर शांति का अनुभव होता है। यहां पर लोगों का आना जाना लगा ही रहता है। आप भी यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


संतेश्वर महादेव मंदिर गोंडा - Santeshwar Mahadev Temple Gonda

संतेश्वर महादेव मंदिर गोंडा शहर के कर्नलगंज तहसील में स्थित है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। यह मंदिर सरयू नदी के किनारे बना हुआ है। यहां पर नदी का सुंदर घाट देखने के लिए मिलता है, जहां पर आप स्नान कर सकते हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। यहां पर महादेव भगवान जी का शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर सावन सोमवार और महाशिवरात्रि के समय भगवान शिव का रुद्राभिषेक होता है। आप भी यहां पर आकर भगवान शिव के दर्शन कर सकते हैं। 


मां बाराही देवी मंदिर गोंडा - Maa Barahi Devi Temple Gonda

मां बाराही देवी मंदिर गोंडा शहर का एक प्रसिद्ध मंदिर है। मां बाराही देवी मंदिर गोंडा जिले में उमरी बेगमगंज गांव में स्थित है। यह मंदिर गोंडा शहर में बहुत प्रसिद्ध है। कहा जाता है, कि यह 1 शक्तिपीठ है और इस जगह पर माता सती के दांत गिरे थे। यहां पर लोग माता के दर्शन करने के लिए आते हैं। यहां पर नवरात्रि में बहुत ज्यादा भीड़ रहती है। यहां पर मां बाराही देवी के अलावा बहुत सारे मंदिर है, जिनके दर्शन आप कर सकते हैं। यहां पर आपको श्री महावीर हनुमान जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर शिव भगवान जी के भी दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत बड़ा बाजार भरा रहता है। आप यहां पर आ कर घूम सकते हैं। 


वजीरगंज बारादरी - Wazirganj Baradari

वजीरगंज बारादरी गोंडा जिले का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह एक ऐतिहासिक स्थल है। यहां पर आपको एक प्राचीन बारादरी देखने के लिए मिलती है। यह बारादरी कोडर झील के किनारे बनी हुई है। यह जगह गोंडा के वजीरगंज में स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यह गोंडा से नवाबगंज जाने वाली मुख्य सड़क पर स्थित है। मुख्य सड़क से आपको कुछ दूरी मे अंदर जाना होता है। इस बारादरी से आपको कोडर झील का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर आ कर अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। यहां पर झील में बहुत सारे चिड़िया देखने के लिए मिल जाती है। यहां के लोकल लोग नाव के द्वारा घूमते रहते हैं और मछली पकड़ते रहते हैं। 

वजीरगंज बारादरी का निर्माण अवध के नवाब आसफउददौला ने कोडर झील के किनारे करवाया था। इस बारादरी का निर्माण जमशेद बाग के रूप में करवाया गया था। उस समय इस बारादरी के अंदर एक मस्जिद, न्यायालय और अनेक भवन हुआ करते थे, जो अब नष्ट हो गए हैं। इस बारादरी को अमजद अली शाह ने अपने वजीर आमीनउददौला के मुंशी बकर अली को दिया था। इस बारादरी का निर्माण लाखोरी ईटों, चुने और सुर्खी से किया गया था। बारादरी के अंदर आपको एक अपूर्ण भवन देखने के लिए मिलता है, जिसके बारे में कहा जाता है, कि अंग्रेजों के अचानक आक्रमण के कारण यह पूरा नहीं हो सका। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। आपको बहुत अच्छा लगेगा। 


पृथ्वीनाथ महादेव मंदिर गोंडा - Prithvinath Mahadev Temple Gonda

पृथ्वीनाथ महादेव मंदिर गोंडा जिले का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर प्राचीन है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। इस मंदिर में बहुत बड़े शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। इस शिवलिंग के बारे में कहा जाता है, कि इस मंदिर की स्थापना पांडवों के द्वारा की गई थी और पांडव यहां पर पूजा किया करते थे। यह मंदिर गोंडा जिले में खरगुपुर में स्थित है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। आपको यहां पर एक बड़ा सा और सुंदर मंदिर देखने के लिए मिलता है। 

पृथ्वीनाथ महादेव मंदिर में सावन सोमवार में और महाशिवरात्रि में बहुत भीड़ लगती है। बहुत सारे भक्त भगवान शिव के दर्शन करने के लिए आते हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है और शांति मिलती है। यहां पर सोमवार के दिन भी बहुत सारे भक्त भगवान शिव के दर्शन करने के लिए आते हैं। आपको यहां पर एक कुंड देखने के लिए मिलता है। इस कुंड में बहुत सारे कछुओं को रखा गया है। यहां पर कमल के बहुत सारे फूल भी देखने के लिए मिलते हैं। आप यहां पर आकर शांति से अपना समय व्यतीत कर सकते हैं। 


झाली धाम गोंडा - Jhali Dham Gonda

झाली धाम गोंडा शहर का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यहां पर आपको सुंदर मंदिर देखने के लिए मिलता है। इस मंदिर का डिजाइन बहुत ही सुंदर है। आप यहां पर आकर बहुत शांति से अपना समय व्यतीत कर सकते हैं। यहां पर श्री झाली महाराज का समाधि स्थल है। यहां पर कामधेनु गौ माता मंदिर देखने के लिए मिलता है, जो बहुत सुंदर है। यहां पर गौशाला भी बनी हुई है। यहां का वातावरण बहुत अच्छा है और बहुत शांत है। यह मंदिर गोंडा जिले में खरगूपुर में स्थित है। यहां पर एक तालाब भी है, जिसमें आपको बहुत सारी मछलियां देखने के लिए मिलती है। तालाब के बीच में शिव शंकर की मूर्ति देखने के लिए मिलती है। आप यहां पर आकर अपना बहुत ही अच्छा समय व्यतीत कर सकते हैं। 


गौरेश्वर नाथ मंदिर वजीरगंज गोंडा


बस्ती दर्शनीय स्थल

सुल्तानपुर दर्शनीय स्थल

आजमगढ़ दर्शनीय स्थल

मऊ दर्शनीय स्थल

अयोध्या दर्शनीय स्थल


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।