सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

गुलावत लोटस वैली इंदौर - Gulawat Lotus Valley Indore

 गुलावट लोटस वैली इंदौर (लोटस वैली इंदौर
 Gulawat Lotus Valley Indore (Lotus Valley Indore)


गुलावट लोटस वैली इंदौर शहर की एक प्राकृतिक सुंदरता से भरपूर जगह है। यहां पर बहुत बड़ा जलाशय है, जिसमें कमल के फूल देखने के लिए मिलते हैं। यहां यशवंत सागर बांध का भराव क्षेत्र है, जिसमें कमल के बहुत सारे फूल लगे हुए हैं। पूरे भराव क्षेत्र में कमल के फूल देखने के लिए मिलते हैं। यह जगह प्राकृतिक सुंदरता से भरी हुई है। हम लोग अपने इंदौर के सफर में गुलावट लोटस वैली पर भी घूमने के लिए गए थे। मुझे यह जगह बहुत पसंद आई। इस जगह को छोटा कश्मीर के नाम से भी जाना जाता है। यहां पर लाल कमल और सफेद कमल के फूल  देखने के लिए मिलते हैं। बांस के पेड़ देखने के लिए मिलते हैं और यशवंत सागर बांध का भराव क्षेत्र देखने के लिए मिलता है। यहां के चारों तरफ का, जो इलाका है, वह ग्रामीण इलाका है। यहां पर आपको ग्रामीण सुंदरता भी देखने के लिए मिलती है। 

यशवंत सागर बांध के भराव क्षेत्र को गुलावट तालाब या गुलावत तलाब के नाम से जाना जाता है। इस जगह को लोटस वैली कहा जाता है, क्योंकि यहां पर पूरे भराव क्षेत्र में सफेद और लाल कमल के फूल देखने के लिए मिलते हैं। यह जगह प्राकृतिक रूप  से बहुत ही सुंदर लगती है। यहां पर बांस और यूकेलिप्टस के का जंगल देखने के लिए मिलता है। इस जंगल में पानी भी भरा हुआ है और दलदल है, कहीं कहीं पर और यहां पर पानी बहुत गहरा है। इसलिए यहां पर बांध के पास जाने पर मनाही है। यह इंदौर के पास एक छुपा हुआ नगीना है। यह जगह फोटोग्राफी के लिए आइडियल जगह है। 

हम लोग अपनी इंदौर की यात्रा में गोमटगिरी जैन मंदिर और पितृ पर्वत घूमने के बाद, गुलावट लोटस वैली घूमने के लिए गए थे। यह जगह हातोद नगर में स्थित है। हातोद नगर पंचायत है। हातोद से गुलावट लोटस वैली के लिए सड़क जाती है। यह सड़क बहुत अच्छी तो नहीं है। मगर फिर भी आप यहां पर आराम से गुलावट लोटस वैली तक पहुंच जाते हैं। इस सड़क के दोनों तरफ आपको गांव के दृश्य देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर सड़क के किनारे कहीं-कहीं पर पानी भी भरा हुआ है, जहां पर कमल के फूल लगे हुए हैं। यह सभी दृश्य देखते हुए, हम लोग गुलावट लोटस वैली पहुंचे। यहां पर दूर-दूर तक हम लोगों को यशवंत सागर बांध का भराव क्षेत्र देखने के लिए मिल रहा था और यहां पर कमल के फूल देखने के लिए मिल रहे थे। यहां पर कमल के फूल पानी की सतह में थे। इन्हे देखकर ऐसा लग रहा था, जैसे किसी ने पूरी वादी में कमल के फूलों को बिखेर दिया है। यह जगह हम लोगों को इंदौर में सबसे अच्छी लगी। 

हम गुलावट लोटस वैली में, यशवंत सागर बांध के भराव क्षेत्र को देखते हुए आगे बढ़ रहे थे। यहां पर छोटे-छोटे पुल बने हुए थे। यह एक अच्छी जगह थी, जो भी लोग यहां फोटो खींचते हैं। उनके लिए यह एक परफेक्ट जगह थी। यहां पर कुछ लोग पुल के ऊपर बैठे भी हुए थे। यहां पर जो कमल के फूलों का नजारा था। उनसे अपनी आंखों को हटाने की इच्छा नहीं हो रही थी। हम लोग आगे गए। आगे यहां पर हम लोगों को बांस का जंगल देखने के लिए मिला। सड़क के दोनों तरफ बांस और यूकेलिप्टस का जंगल था और यहां पर कुछ दुकानें भी लगी हुई थी। यह दुकान, यहां के ग्रामीण लोगों के द्वारा लगाई गई थी। यहां पर खाने पीने का बहुत सारा सामान मिल रहा था। यहां पर चाय, कॉफी, नमकीन, मैगी, भजिया, समोसे, नूडल्स यह सभी चीज बहुत ज्यादा मिल रही थी। 

इसके अलावा यहां पर झूलों को फूलों से सजा कर रखा गया था और लोग इन झूलों में झूलने का मजा ले रहे थे। यहां पर साइकिल को भी फूलों से सजा कर रखा गया था और यहां पर साइकिल में भी लोग फोटो खिंचा रहे थे और उन्हें चला भी रहे थे। यहां पर डबल सीटेड साइकिल मिलती है, जिसमें 2 लोग बैठकर साइकिल चला सकते हैं। वैसे सिंगल इंसान भी बैठकर चला सकता है। यह पर बांस का जंगल काफी दूर तक फैला हुआ था और यहां पर जो पानी था। वह कहीं कहीं पर दलदल था। इसलिए हम लोग मेन रोड में ही खड़े होकर इन सभी नजारों को देखें। जंगल के ज्यादा अंदर तक हम लोग नहीं गए। 

हम लोग रोड से थोड़ा और आगे गए, तो हम लोगों को यहां पर मेन रोड में पुल देखने के लिए मिला। जहां पर यशवंत सागर झील का बहुत दूर-दूर तक का नजारा देखने के लिए मिल रहा था और यहां से बांस का जंगल और कमल के फूल भी बहुत सुंदर दिखाई दे रहे थे। इस पुल में ही बहुत सारी फोटोग्राफ खींची जाती है, क्योंकि यहां पर फोटो बहुत मस्त आती है। यहां पर बहुत सारे प्री वेडिंग शूट भी हो रहे थे। हम लोग जब गए थे। तब यहां पर एक प्री वेडिंग शूट हो रहा था। उस शूट में इस पुल में एक जीप को लेकर जाना था और दूल्हा जीप चला रहा था और दुल्हन जीप के पीछे खड़ी हुई थी। दुल्हन ने गाउन पहना था और उसका गाउन पूरे जीप में फैला हुआ था, जो बहुत ही सुंदर दिख रहा था और यह सभी चीजों की शूटिंग ऊपर से ड्रोन से हो रही थी। तो यह नजारा बहुत ही जबरदस्त होगा। 

गुलावट लोटस वैली में बहुत सारी प्री वेडिंग शूटिंग होती है। यहां पर नाव में बैठकर एवं खड़े होकर बहुत सारे प्री वेडिंग शूटिंग होती है और नाव झील में रहती है, कमल के बीच में, जो बहुत ही मस्त दिखता है। हम लोगों को यह जगह बहुत पसंद आई। हम लोग गुलावट तालाब में बहुत सारी फोटो खींचे और उसके बाद यहां पर हमने हनुमान जी के दर्शन किए। यहां पर पुल के बाजू में ही रामेश्वरम हनुमान मंदिर देखने के लिए मिलता है, जहां पर हनुमान जी के दर्शन किए। यहां पर हम लोगों को लकड़ी की जो छोटी वाली नाव आती है। वह देखने के लिए मिली। वह नाव से, बहुत सारे लोग यहां पर झील में कमल तोड़ रहे थे। वह नाव भी बहुत जबरदस्त दिखती है और उस नाव से इस कमल की वादियों के बीच से गुजरने का बहुत ही सुंदर दृश्य रहता है। 

गुलावट लोटस वैली की खूबसूरती देखते हुए, हम लोग अपनी यात्रा में आगे बढ़े और आगे के सफर में अपने चल दिए। अब हम लोग को यशवंत सागर बांध देखना था। 


गुलावट लोटस वैली कहां पर है - Where is Gulawat Lotus Valley

गुलावट लोटस वैली इंदौर शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। गुलावट लोटस वैली इंदौर शहर में हातोद गांव में स्थित है। यह नगर इंदौर से देपालपुर जाने वाली सड़क में पड़ता है। हातोद गांव से गुलावट लोटस वैली करीब 5 किलोमीटर दूर है। गुलावट लोटस वैली तक जाने वाली सड़क पक्की है। मगर यह सड़क ज्यादा चौड़ी नहीं है। मगर गुलावट लोटस वैली तक आराम से पहुंचा जा सकता है। गुलावट लोटस वैली में पार्किंग की अच्छी जगह उपलब्ध नहीं है। आप यहां पर सड़क के किनारे अपनी गाड़ी खड़ी कर सकते हैं। यहां पर किसी भी प्रकार की एंट्री फीस नहीं लगती है। 


गुलावट लोटस वैली इंदौर की फोटो - Gulawat Lotus Valley Indore image


गुलावत लोटस वैली इंदौर - Gulawat Lotus Valley Indore
गुलावट लोटस वैली 



गुलावत लोटस वैली इंदौर - Gulawat Lotus Valley Indore
यशवंत सागर बांध का भराव क्षेत्र 


गुलावत लोटस वैली इंदौर - Gulawat Lotus Valley Indore
झील में लकड़ी की नाव 


गुलावत लोटस वैली इंदौर - Gulawat Lotus Valley Indore
झील में ढेर सारे कमल के फूल 


गुलावत लोटस वैली इंदौर - Gulawat Lotus Valley Indore
पुल से यशवंत सागर झील का व्यू


चिड़िया घर इंदौर

केंद्रीय संग्रहालय इंदौर

रीजनल पार्क इंदौर

मंगल नाथ का मंदिर उज्जैन


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।