सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मांडव / मांडू के पर्यटन स्थल - Mandav / Mandu tourist places | Mandu Tourism

मांडव / मांडू के दर्शनीय स्थल | Mandav/Mandu tourist destination | Mandu / Mandav famous places | Mandu / Mandav attraction


मांडू नगर को जॉय सिटी के नाम से जाना जाता है। मांडू नगर एक मैजिकल शहर है। यहां पर आपको चारों तरफ ऐतिहासिक इमारतें देखने के लिए मिलती हैं। यहां पर प्राचीन तालाब, बावली भी बनाई गई हैं, जो बहुत खूबसूरत है। यह जगह प्राकृतिक सुंदरता से भरपूर है। यहां पर आकर बहुत ही अच्छा लगता है। मांडू मध्य प्रदेश का एक प्रमुख पर्यटन आकर्षण स्थल है। यहां पर आपको बहुत सारी जगह मिलती है, जहां पर आप घूम सकते हैं। मांडू शहर मध्य प्रदेश के धार जिले में स्थित है। आप यहां पर बहुत ही आसानी से सड़क माध्यम के द्वारा पहुंच सकते हैं। 


मांडव / मांडू में घूमने की जगह - Best Places to visit in Mandav / Mandu


रानी रूपमती का मंडप मांडू - Rani Roopmati Mandap Mandu

रूपमती मंडप या रानी रूपमती मंडप के नाम से यह जगह प्रसिद्ध है। यह जगह मांडू में स्थित एक सुंदर मंडप है। इस मंडप में आने का, जो रास्ता है। वह सर्पाकार है। यहां पर आपको एक सुंदर मंडप देखने के लिए मिलता है। इस मंडप से पूरी निमाड़ वैली का दृश्य देखने के लिए मिलता है और रानी रूपमती इस मंडप का उपयोग प्राचीन समय में नर्मदा जी के दर्शन करने के लिए करती थी। रानी रूपमती के नर्मदा दर्शन के लिए ही बाज बहादुर ने इस मंडप का निर्माण किया था। यह एक सैनिक छावनी भी थी। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। यहां पर आपको एक बगीचा भी देखने के लिए मिलता है और यहां पर आपको घूमने में करीब आधा घंटा लग जाएगा। 

रूपमती मंडप मांडू नगर में सबसे ऊंचे जगह पर स्थित है। इस जगह से चारों तरफ का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। इस जगह से आपको सूर्यास्त का भी अच्छा दृश्य देखने के लिए मिल जाएगा। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। आप यहां पर अपनी फैमिली और दोस्तों के साथ घूमने के लिए आ सकते हैं। 


बाज बहादुर का महल मांडू - Baz Bahadur's Palace Mandu

बाज बहादुर का महल मांडू शहर का एक मुख्य आकर्षण स्थल है। यह एक प्राचीन महल है। यह महल रेवा कुंड के पास में बना है। इस महल का निर्माण 1508 में नसरुद्दीन ने करवाया था। यह महल बहुत सुंदर है। इस महल के अंदर आपको एक कुंड देखने के लिए मिलता है। इस कुंड में बरसात के समय में पानी भर जाता है। यह कुंड बहुत सुंदर लगता है। महल के अंदर आपको और भी कुंड देखने के लिए मिल जाते हैं। बाज बहादुर का महल रेवा कुंड के पास में बना हुआ है। बाज बहादुर और रानी रूपमती रेवा कुंड में सुबह के समय घूमने के लिए जाया करते थे। बाज बहादुर महल से आप सुंदर सूर्यास्त का दृश्य देख सकते हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है और आप अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। यह मांडू शहर से करीब 5 किलोमीटर दूर होगा। 

बाज बहादुर का महल पर एंट्री के लिए शुल्क लिया जाता है। यहां पर आपको सुंदर गार्डन देखने के लिए मिलता है और जब आप महल के प्रवेश द्वार से प्रवेश करते हैं, तो आपको अरबी भाषा में लिखा हुआ एक शिलालेख देखने के लिए मिलता है। जिसमें महल के बारे में जानकारी दी है। यह महल बहुत सुंदर है। आप इस महल के ऊपर छत में चढ़कर चारों तरफ के सुंदर दृश्य को देख सकते हैं।


दाई का महल मांडू - Dai's Palace Mandu

दाई का महल मांडू शहर का एक सुंदर महल है। यह महल मांडू शहर में मुख्य सड़क से कुछ दूरी पर बना हुआ है। प्राचीन समय में राजाओं के यहां पर काम करने वाली दसियो के लिए भी महल बनाए जाते थे। यहां पर आपको एक गुंबद दार महल देखने के लिए मिलता है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। 


दाई की छोटी बहन का महल मांडू - Dai ki chhoti bahan ka mahal mandu

दाई की छोटी बहन का महल मांडू शहर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह महल दाई के महल के पास ही में बना हुआ है। यह महल मुख्य सड़क से कुछ दूरी पर स्थित है। आप यहां पर भी आकर घूम सकते हैं। यहां पर आपको एक पुरानी प्राचीन इमारत देखने के लिए मिलती है, जो बहुत सुंदर है। यहां पर आपको बहुत सारी जगह मिल जाती है, जहां पर आप घूम सकते हैं। 


लालबाग मांडू - Lalbagh Mandu

लालबाग मांडू शहर का एक मुख्य स्थल है। यहां पर आपको एक प्राचीन महल देखने के लिए मिलता है। इस महल का अधिकांश भाग टूट गया है। यह महल लाल कलर का है। इसलिए इसे लालबाग कहते हैं। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। यहां पर आपको एक गुंबद दार इमारत देखने के लिए मिलेगी। 


कारवां सराय - Caravan sarai mandu

कारवां सराय मांडू शहर का एक मुख्य स्थल है। यहां पर आपको एक सराय देखने के लिए मिलती है। सराय का उपयोग प्राचीन समय में लोगों को ठहराने के लिए किया जाता था। यह सराय चैकोर आकार का बना हुआ है और इसमें आपको छोटे छोटे कमरे देखने के लिए मिल जाते हैं। आप मांडू आकर इस सराय को देख सकते हैं। यह सराय मुख्य सड़क के पास ही में स्थित है। 


मालिक मुगीस मकबरा - Malik mughis Maqbara

मालिक मुगीस का मकबरा मांडू का एक मुख्य स्थल है। मालिक मुगीस मोहम्मद खिलजी के पिता थे। यह मकबरा 1442 ईस्वी में बना था। यह मकबरा बहुत सुंदर है और आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। 


इको पॉइंट मांडू - echo point mandu

इको पॉइंट मांडू शहर के एक मुख्य जगह है। इको पॉइंट मुख्य सड़क पर स्थित है। आप यहां पर खड़े होकर चिल्लाते हैं, तो आपकी आवाज वापस लौटती है और आपकी आवाज दो या तीन बार वापस लौटती है। यह बहुत मजेदार है और यहां पर बहुत से लोग आकर चिल्लाते हैं।  


हाथी महल मांडू - Elephant palace mandu

हाथी महल मांडू शहर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यहां पर आपको एक पिलर देखने के लिए मिलता है, जो हाथी के पैर के सामान लगता है। इसलिए इस महल को हाथी महल कहा जाता है। यह महल बहुत सुंदर है। आप यहां घूमने के लिए आ सकते हैं। 


दरिया खान का मकबरा मांडू - Darya Khan's Tomb Mandu

दरिया खान का मकबरा मांडव शहर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यहां पर आपको एक सुंदर प्राचीन इमारत देखने के लिए मिलती है। इस इमारत की वास्तुकला इस्लामिक है।  दरियाखान का शासन मांडू शहर में 1510 से 1526 तक का था। उन्होंने अपने लिए इस मकबरे का निर्माण करवाया था और मरने के उपरांत उनकी मृत शरीर को इस मकबरे में रखा गया था। यह मकबरा बहुत सुंदर है और आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। 


सोमवती कुंड - Somvati Kund

सोमवती कुंड दरियाखान के मकबरे के पास ही में स्थित एक कुंड है। यह कुंड बहुत सुंदर लगता है। इस कुंड के एक तरफ आपको सीढ़ियां देखने के लिए मिलती हैं और यह कुंड साल भर पानी से भरा रहता है। इस कुंड के चारों तरफ खूबसूरत इमारतें बनी हुई है, जिनकी परछाई इस कुंड में आपको देखने के लिए मिलती है, जो बहुत सुंदर लगती है। 


छप्पन महल मांडू - Chappan Mahal Mandu

छप्पन महल मांडू शहर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यहां पर आपको एक सुंदर महल देखने के लिए मिलता है। इस महल में आपको बगीचा भी देखने के लिए मिलता है। इस महल में बहुत सारी आदिवासी वस्तुओं का संग्रह करके रखा गया है। यहां पर आपको मूर्तियां भी देखने के लिए मिलती हैं, जो प्राचीन है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। 


श्री सुपार्श्वनाथ जैन श्वेतांबर मंदिर मांडव -  Shri Suparshvanath Jain Shwetambar Temple Mandav

श्री सुपार्श्वनाथ जैन श्वेतांबर मंदिर मांडव शहर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यहां पर आपको एक सुंदर जैन मंदिर देखने के लिए मिलता है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यह  मंदिर बहुत सुंदर है और मंदिर में सुंदर कारीगिरी का काम आपको देखने के लिए मिलता है। यहां पर सफेद मार्बल से बना हुआ एक सुंदर मंदिर देखने के लिए मिलता है। यहां पर आपको भोजशाला भी देखने के लिए मिल जाती है, जहां पर आप खाना खा सकते हैं। यह जगह आपको अच्छी लगेगी। 


होशंग शाह का मकबरा मांडू - Hoshang Shah's Tomb Mandu

होशंग शाह का मकबरा मांडू शहर में स्थित एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह मांडू में घूमने लायक जगह है। यहां पर आपको संगमरमर से बना हुआ एक सुंदर मकबरा देखने के लिए मिलता है।  इस मकबरे का निर्माण होशंग शाह द्वारा प्रारंभ किया गया था तथा 1440 में महमूद खिलजी द्वारा इसे संपूर्ण किया गया था। यह मकबरा एक चतुष्कोण के केंद्र में स्थित है तथा इसके ऊपर एक विशाल गुंबद है तथा कोणों पर छोटे गुंबद है। इसके अंदर आपको बारीक काम देखने मिलेगा।  मकबरे के अंदर आपको कब्र देखने के लिए मिलती है। इस मकबरे में पश्चिम की तरफ आपको धर्मशाला देखने के लिए मिलती है। यहां पर छोटे छोटे कमरे बने हुए हैं। इस मकबरे के चारों तरफ सुंदर गार्डन बना हुआ है और आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। आप यहां पर आएंगे, तो आपको अच्छा लगेगा। 


जामा मस्जिद मांडू - Jama Masjid Mandu

जामा मस्जिद मांडू शहर का एक मुख्य स्थल है। इस मस्जिद में आपको अफगान और हिंदू वास्तुकला देखने के लिए मिलती है। इस मस्जिद में आपको तीन बड़े-बड़े गुंबद देखने के लिए मिलते हैं और छोटे-छोटे गुंबद भी इस मस्जिद में बने हुए हैं। यह मस्जिद बहुत सुंदर है और आप जब भी मांडू आते हैं, तो जामा मस्जिद में जरूर जाए। जामा मस्जिद मांडू नगर में मुख्य सड़क पर स्थित है। इस मस्जिद में प्रवेश के लिए 25 रूपए का शुल्क लगता है। यह मस्जिद बहुत सुंदर है और आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। 


अशर्फी महल मांडू - Asharfi Mahal Mandu

अशर्फी महल मांडू शहर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह एक प्राचीन महल है। यह महल अब खंडहर अवस्था में यहां पर स्थित है। इस महल का निर्माण परमार वंश के शासक हर्षवर्धन द्वारा करवाया गया था। इस महल के बारे में रोचक कहानी है। इस महल के बारे में कहा जाता है, कि मांडू के शासक गयासुद्दीन खिलजी ने अपनी रानियों के मोटापे को कम करने के लिए, उन्हें इस महल की सीढ़ियां चढ़ने उतरने के लिए कहा और हर सीढ़ी  के बदले एक सोने का सिक्का यानि अशर्फी देने के लिए कहा। तब से यह महल अशर्फी महल के नाम से जानी जाती है। इस महल को 1445 में महमूद खिलजी ने मदरसे में परिवर्तित कर दिया था। बाद में इसे मकबरे में बदल गया, जिसे महमूद खिलजी का मकबरा भी कहा जाता है। आप यहां घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर आपको ऊंचाई पर एक सुंदर महल देखने के लिए मिलता है। इस महल का जो प्रवेश द्वार है। वह सफेद संगमरमर से बना हुआ है और बहुत सुंदर लगता है। 


जहाज महल मांडू - Jahaz Mahal Mandu

जहाज महल मांडू शहर का एक सुंदर इमारत है। इस महल में आपको अफगानी वास्तुकला देखने के लिए मिलती है। यह महल बहुत सुंदर है और यह महल ऐसा लगता है, कि जैसे समुद्र में कोई जहाज खड़ा हो, इसलिए इस महल को जहाज महल कहते हैं। यह महल सुल्तान गयासुद्दीन ने बनवाया था। यह  महल कपूर तालाब के पास में बना हुआ है। इस महल में आपको सुंदर बगीचा भी देखने के लिए मिलता है। आप इस महल से कपूर तालाब का सुंदर दृश्य देख सकते हैं। इस महल का प्रवेश द्वार भी बहुत सुंदर है। आपको यहां पर आकर अच्छा लगेगा। 


दिलावर खां की मस्जिद मांडू - Dilawar Khan's Masjid Mandu

दिलावर खां की मस्जिद मांडू शहर की सबसे पुरानी इमारत है। यह मस्जिद हिंदू इस्लामिक शैली में बनी हुई है। इस मस्जिद का निर्माण शाही परिवार के सदस्यों के लिए करवाया गया था। यह मस्जिद आयताकार है, जिसके मध्य में एक बड़ा सा कक्ष एवं चारों और स्तंभ युक्त गलियारे हैं। इस मस्जिद का निर्माण 1405 में मांडू के प्रथम मुस्लिम शासक नूरुद्दीन दिलावर खा के द्वारा करवाया गया था। 


हिंडोला महल मांडू - Hindola mahal mandu

हिंडोला महल मांडू शहर का एक मुख्य महल है। यह मांडू में घूमने वाली जगह है । यह महल मांडू शहर में स्थित सभी महलों से सबसे सुंदर लगता है। इस महल में जो बाहरी दीवारें हैं। वह कुछ झुकी हुई है, जिसके कारण इस महल को हिंडोला महल कहा जाता है। इस महल का निर्माण गयासुद्दीन के द्वारा किया गया था। इस महल का निर्माण सभा भवन के रूप में किया गया था। यह महल 1459 से 1500  ईसवी के बीच में बना है। यह महल बहुत सुंदर लगता है। इस महल के बाहर आपको बगीचा देखने के लिए मिलता है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। आपको अच्छा लगेगा। 


चंपा बावड़ी - Champa Baori

चंपा बावड़ी मांडू शहर में स्थित एक सुंदर बावड़ी है। यह बावड़ी प्राचीन है और इस बावड़ी में आपको सीढ़ियां देखने के लिए मिलती हैं। यह बावड़ी साल भर पानी से भरी हुई रहती है। यह बावड़ी जहाज महल के उत्तर पश्चिम में स्थित है। इस बावड़ी का पानी चंपक पुष्प की तरह सुगंधित है। इसलिए इस बावड़ी को चंपा बावड़ी के नाम से जाना जाता है। इसके भूतल में कमरे हैं, जिन्हें गर्मी के महीने में ठंड एवं हवलदार रहने के लिए बनाया गया था। इस बावड़ी के नजदीकी हमाम अथवा स्नानघर स्थित है। 


स्नानगार - hammam

स्नानगार या हमाम तुर्की शैली में बना है, जिसका प्रयोग केवल शाही परिवार के द्वारा ही किया जाता था। इसकी छत में तारों के आकार में छेद किया गया है, जिससे दिन के समय यह प्रतीत होता है कि चांदनी रात में तारे टिमटिमाते हैं। इस प्रकार के तारों का अंकन रायसेन के किले में भी देखा जा सकता है। 


जल महल - Jal Mahal

जल महल जहाज महल के पीछे बना हुआ है। यहां पर आपको एक बड़ा सा तालाब देखने के लिए मिलता है, जिसके बाजू में ही महल बना हुआ है। यह महल बहुत सुंदर लगता है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर आपको एक कुंड देखने के लिए मिलता है। यह पर तालाब में सीढ़ियां भी दी गई हैं, जहां पर आप तालाब के नजदीक जा सकते हैं, जो बहुत सुंदर लगता है। आप यहां पर बैठकर इस जगह का आनंद उठा सकते हैं। 


गदा शाह की दुकान - Gada Shah's Shop

गदा शाह की दुकान एक बहुत बड़ी प्राचीन इमारत है। इस इमारत दो मंजिला है और इस इमारत में आपको कमरे देखने के लिए मिलते हैं। इस इमारत में आपको एक बड़ा सा प्रवेशद्वार देखने के लिए मिलेगा और आप प्रवेश द्वार से अंदर जाएंगे, तो आपको छोटे छोटे कमरे भी देखने के लिए मिलते हैं। गदा शाह का शाब्दिक अर्थ है गरीबों का स्वामी, जोकि स्पष्टता एक उपनाम है। मगर यह महल सुंदर है। आप यहां घूम सकते हैं। यह महल मांडू में मुख्य सड़क पर स्थित है। 


लोहानी गुफा - Lohani Cave

लोहानी गुफा मांडव नगर का एक मुख्य आकर्षण स्थल है। यहां पर आपको प्राकृतिक गुफाएं देखने के लिए मिलती है। बरसात के समय आपको यहां पर झरना भी देखने के लिए मिलता है। यहां पर शाम के समय सूर्यास्त का दृश्य बहुत सुंदर लगता है। आप यहां पर जहाज महल में घूमने के लिए आते हैं। तब यहां पर आ सकते हैं। आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा। यहां के दृश्य लाजवाब रहते हैं। 


नीलकंठ महल एवं शिव मंदिर - Neelkanth Mahal and Shiva Temple

नीलकंठ महल मांडव शहर का एक सुंदर महल है। यह मांडू शहर की सबसे अच्छी जगह है। यहां पर आपको शिव मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। यहां पर शिव भगवान जी का शिवलिंग विराजमान है। यहां पर बहुत सारे शिवलिंग देखने के लिए मिलते हैं। महल के अंदर एक जलकुंड बना हुआ है, जो बहुत सुंदर लगता है। यह शिव मंदिर बहुत प्राचीन है। यहां पर आपको अरबी में शिलालेख देखने के लिए मिलेगा। यहां पर जो कुंड बना हुआ है.उसमे से 24 घंटे पानी बहता है। यहां पर आपको खूबसूरत घाटियों का व्यू भी देखने के लिए मिलेगा। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


काकड़ा खो झरना - Kakda Kho Waterfall

काकड़ा खो झरना मांडू शहर का एक सुंदर झरना है। यह झरना मांडू शहर में जाते समय देखने के लिए मिलता है। यहां पर ऊंची चट्टानों से पानी नीचे गिरता है। यहां पर व्यूप्वाइंट बना हुआ हैए जहां से आप झरने का सुंदर दृश्य देख सकते हैं। यह झरना आपको बरसात के समय देखने के लिए मिल जाता है। यहां पर बरसात के समय चारों तरफ हरियाली रहती है और झरने का बहता हुआ पानी बहुत अच्छा लगता है। यहां पर आप कैमल सफारी का भी मजा ले सकते हैं। 


मांडू / मांडव शहर के अन्य प्रसिद्ध  पर्यटन आकर्षण स्थल - Other famous tourist attractions of Mandu / Mandav city

सोनगढ़ का किला मांडू 
महादेव मंदिर मांडू 
शिव मंदिर मांडू 
उजाला बावड़ी मांडू 
अंधेरी बावड़ी मांडू 
गड़ी दरवाजा 
भंगी दरवाजा
चोर कोट
जाली महल मांडू 
रेवा कुंड मांडू


बड़वानी के पर्यटन स्थल

खरगोन के पर्यटन स्थल

खंडवा के पर्यटन स्थल

हरदा जिले के पर्यटन स्थल



टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

Please do not enter any spam link in comment box

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।

बैतूल पर्यटन स्थल - Betul tourist place | Betul famous places

बैतूल दर्शनीय स्थल - Places to visit near Betul | Betul tourist spot | Betul city बैतूल जिले की जानकारी - Betul district information बैतूल मध्यप्रदेश राज्य में स्थित एक जिला है। बैतूल जिला सतपुडा की पहाडियों से घिरा हुआ है। बैतूल जिला के मुलताई में ताप्ती नदी का उदगम हुआ है। ताप्ती मध्यप्रदेश की मुख्य नदी है। बैतूल जिले की सीमा छिंदवाड़ा, नागपुर, अमरावती, बुरहानपुर, खंडवा, हरदा, और होशंगाबाद की सीमाओं को छूती है। बैतूल जिला 10 विकास खंडों में बटा हुआ है। यह विकासखंड है - बैतूल, मुलताई, भैंसदेही, शाहपुर, अमला, प्रभातपट्टन, घोड़ाडोंगरी, चिचोली, भीमपुर, आठनेर, । बैतूल नर्मदापुरम संभाग के अंर्तगत आता है। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल से बैतूल की दूरी करीब 178 किलोमीटर है। बैतूल जिलें में घूमने के लिए बहुत सारी दर्शनीय जगह मौजूद है, जहां पर जाकर आप बहुत अच्छा समय बिता सकते है।  बैतूल में घूमने की जगहें Places to visit in Betul बालाजीपुरम - Balajipuram betul | Betul ka Balajipuram | Balajipuram temple betul बालाजीपुरम बैतूल जिले में स्थित दर्शनीय स्थल है।