सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

खरगोन के पर्यटन स्थल - Khargone Tourist Place / Khargone tourism

खरगोन जिले के दर्शनीय स्थल - Khargone picnic spot / Khargone attraction / Khargone famous places 


खरगोन में घूमने की जगह - Best place to visit in Khargone


महेश्वर खरगोन - Maheshwar Khargone

महेश्वर खरगोन का एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है। महेश्वर खरगोन में घूमने वाली एक मुख्य जगह है। महेश्वर नगर खरगोन जिले में नर्मदा नदी के किनारे बसा है। यहां पर आपको देखने के लिए बहुत सारे जगह मिल जाती है। यहां पर महेश्वर का किला सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है। इस किले का निर्माण अहिल्याबाई होलकर के द्वारा किया गया था। यह किला बहुत सुंदर है। यह किला नर्मदा नदी के किनारे बना हुआ है। महेश्वर में आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर आकर आप नर्मदा नदी में स्नान कर सकते हैं। नर्मदा नदी का बहुत अच्छा दृश्य आपको यहां पर देखने के लिए मिलता है। महेश्वर नगर में महेश्वर का घाट, महेश्वर की साड़ियां और महेश्वर का महल बहुत प्रसिद्ध है। आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा। महेश्वर में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। 

महेश्वर में घूमने की जगह 

श्री अहिल्येश्वर मंदिर महेश्वर
महेश्वर दुर्ग 
श्री राजराजेश्वर सहस्त्रबाहु मंदिर महेश्वर 
महेश्वर के घाट 
बाणेश्वर महादेव मंदिर महेश्वर 
सहस्त्रधारा जलप्रपात महेश्वर 
श्री दत्त धाम महेश्वर 
पंढरीनाथ मंदिर महेश्वर 
चिंतामणि गणेश मंदिर महेश्वर
शालिवाहन शिव मंदिर महेश्वर
कालेश्वर मंदिर महेश्वर
जलेश्वर मंदिर महेश्वर
जगन्नाथ धामपुर मंदिर महेश्वर


पेशवा बाजीराव की समाधि रावेरखेड़ी खरगोन - Tomb of Peshwa Bajirao Raverkhedi Khargone

पेशवा बाजीराव की समाधि खरगोन शहर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह खरगोन में घूमने लायक जगह है। यह समाधि स्थल नर्मदा नदी के किनारे बना हुआ है। इस समाधि स्थल को ग्वालियर के सरदारों के द्वारा बनवाया गया था। पेशवा बाजीराव एक महान योद्धा थे, जिन्होंने बहुत सारी लड़ाइयां लड़ी थी और उन्हें जीता था । बाजीराव पेशवा का निधन मध्य.प्रदेश के खरगोन जिले के रावेरखेड़ी में हुआ था। उनका निधन लू लगने के कारण हुआ था। यहां पर आपको उनकी समाधि देखने के लिए मिलती है। यहां से आपको नर्मदा नदी का बहुत सुंदर दृश्य भी देखने के लिए मिलता है। इस समाधि स्थल में चारों तरफ से कमरे बनाए गए हैं और बीच में आंगन बना हुआ है, जिसमें समाधि है। यहां पर जो भी लोग आते हैं। वह समाधि को प्रणाम करते हैं और इसके बाद समाधि स्थल घूमते हैं। यहां पर आने के लिए आपको अच्छी सड़क मिल जाती है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


महादेव मंदिर खरगोन - Mahadev Temple Khargone

महादेव मंदिर खरगोन जिले का एक प्राचीन मंदिर है। यह मंदिर खरगोन जिले में रावेरखेड़ी में बाजीराव समाधि के कुछ ही दूरी पर स्थित है। यह मंदिर से भगवान शिव जी को समर्पित है। यह मंदिर पेशवा बाजीराव की पत्नी काशीबाई में बनवाया था। यह मंदिर पत्थर से बना हुआ है और गर्भ ग्रह में शिवजी की आकर्षक प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। आप यहां पर भी घूमने के लिए आ सकते हैं। 


अहिल्या का किला - Ahilya's Fort

अहिल्या का किला खरगोन जिले में स्थित एक प्रमुख ऐतिहासिक स्थल है। यह किला खरगोन जिले में कुंदा नदी के किनारे स्थित है। इस किले का ज्यादातर भाग नष्ट हो गया है। यह किला बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। यह किला रानी अहिल्याबाई के द्वारा बनाया गया था। आप इस किले में घूमने के लिए जा सकते हैं। यह किला सरकार के अधीन है। इस किले के आसपास आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिल जाते हैं। 


श्री नवग्रह मंदिर खरगोन - Shree Navagraha Mandir Khargone

श्री नवग्रह मंदिर खरगोन शहर का एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर प्राचीन है। इस मंदिर में आपको नौ ग्रहों के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको शनि भगवान जी के भी दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह मंदिर खरगोन जिले में कुंदा नदी के किनारे पर बना हुआ है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है और शांति मिलती है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर मकर संक्रांति में मेला भी लगता है, जिसमें दूर दूर से लोग घूमने के लिए आते हैं। 


दामखेड़ा मंदिर खरगोन - Damkheda Temple Khargone

दामखेड़ा मंदिर खरगोन शहर का धार्मिक स्थल है। यह मंदिर नाग देवता को समर्पित है। मंदिर में आपको नाग देवता की बहुत सारी प्रतिमाएं देखने के लिए मिलती हैं, जो बहुत ही सुंदर लगती हैं। यहां पर आपको शिव भगवान जी का शिवलिंग भी देखने के लिए मिलती हैं, जिसमें आपको पंचमुखी नाग देवता देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको मंदिर के बाहर गार्डन भी देखने के लिए मिलता है, जहां पर बच्चों के लिए बहुत सारे झूले और फिसलपट्टी हैं। यहां पर बच्चे बहुत इंजॉय कर सकते हैं। 


नन्हेश्वर महादेव मंदिर खरगोन - Nanheshwar Mahadev Temple Khargone

नन्हेश्वर महादेव मंदिर खरगोन जिले का एक धार्मिक स्थल है। यह खरगोन में घूमने की सबसे अच्छी जगह है। यह मंदिर प्राचीन है। यह मंदिर भगवान शिव जी को समर्पित है। इस मंदिर में भगवान शिव जी पानी के अंदर विराजमान है। इस मंदिर में साल भर भगवान शिवजी पानी के अंदर विराजमान रहते हैं और जनवरी के माह में भगवान शिव जी पानी के बाहर आते हैं और लोगों को दर्शन देते है। यह जगह प्राकृतिक है और यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। यह मंदिर कुंदा नदी के किनारे पर है। यहां पर आपको एक कुंड देखने के लिए मिलता है, जिसमें मछलियां हैं और बहुत अच्छा लगता है। इस जगह के बारे में यह भी कहा जाता है, कि यह जगह ऋषि मार्कंडेय की तपोभूमि है और यहां पर खर और दूषण की पूजा होती है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। आप यहां पर बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। 


सिरवेल महादेव मंदिर खरगोन - Sirvel Mahadev Temple Khargone

सिरवेल महादेव मंदिर खरगोन जिले का धार्मिक स्थल है। यह मंदिर बहुत प्रसिद्ध है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। यह मंदिर खरगोन जिले से करीब 55 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहां पर आपको शिव भगवान जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह जगह सिरवेल नाम की जगह पर जंगल के बीच में स्थित है। यह जगह धार्मिक होने के साथ-साथ प्राकृतिक भी है, क्योंकि यहां पर बरसात के समय कुंदा नदी पर बहुत ही सुंदर झरना देखने के लिए मिलता है। यहां पर आपको एक साथ दो झरने देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर महाशिवरात्रि में 3 दिन का मेला लगाया जाता है, जिसमें दूर-दूर से लोग आते हैं। यह जगह महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश की बॉर्डर में स्थित है। इसलिए यहां पर महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश की बहुत सारे लोग घूमने के लिए आते हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। सिरवेल मंदिर के बारे में कहा जाता है, कि इस मंदिर में रावण ने अपने 10 सिर को अर्पण किया था। इसलिए इस जगह को सिरवेल के नाम से जाना जाता है। यह भी कहा जाता है, कि  ऋषि मार्कंडेय जी ने यहां पर शिवजी की आराधना की थी और यहां पर विराजमान शिवलिंग स्वयंभू है  यहां पर आकर आपको बहुत अच्छा लगेगा और आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


हुरिया खाई और शिव मंदिर खरगोन - Huria Khai and Shiv Temple Khargone

हुरिया खाई और शिव मंदिर खरगोन में सिरवेल के पास में स्थित एक सुंदर जगह है। यहां पर आपको एक खाई देखने के लिए मिलती है और एक जलप्रपात देखने के लिए मिलता है। यह जलप्रपात बरसात के समय देखने के लिए मिलता है। यहां पर एक शिव मंदिर भी है। यह जगह सिरवेल से करीब 3 किलोमीटर दूर है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


रूपा कुंड जलप्रपात खरगोन - Roopa Kund Falls Khargone

रूपा कुंड जलप्रपात खरगोन जिले का एक सुंदर जलप्रपात है। यह जलप्रपात खरगोन जिले में राजमाली में स्थित है। यहां पर आपको जंगल के अंदर सुंदर जलप्रपात देखने के लिए मिलता है। यह जलप्रपात आपको बरसात के समय देखने के लिए मिल जाएगा। आप यहां पर अपनी फैमिली या ग्रुप के साथ घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर आ कर आपको अच्छा लगेगा। 


लूला बाबा की समाधि खरगोन - Lula Baba's Samadhi Khargone

लुला बाबा की समाधि खरगोन शहर में स्थित एक प्रमुख जगह है। यह जगह पहाड़ी के ऊपर स्थित है। पहाड़ी के ऊपर यहां पर एक मंदिर बना है, जहां पर जाने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। लूला बाबा की समाधि खरगोन शहर में मानेगांव में स्थित है। आप यहां घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर आकर अच्छा लगता है। 


भीलट देव मंदिर खरगोन - Bhilat Dev Temple Khargone

भीलट देव मंदिर खरगोन शहर का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह मंदिर सतपुड़ा की पहाड़ियों पर स्थित है। इस मंदिर के जाने के लिए पक्का रास्ता बना है। इस मंदिर में आप अपनी गाड़ी से और पैदल भी पहुंच सकते हैं। यह मंदिर खरगोन जिले में नागलवाड़ी में स्थित है। यह मंदिर खरगोन जिले से 50 किलोमीटर दूर है। यह मंदिर बहुत ही खूबसूरत बनाया गया है। मंदिर में आपको नाग देवता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर में आपको बहुत ही सुंदर नक्काशी देखने के लिए मिलती है। यहां पर नाग पंचमी के समय विशाल मेले का आयोजन होता है, जिसमें मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र के बहुत सारे लोग आते हैं। भिलट देव मंदिर में आप जाकर बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। यहां पर चारों तरफ आपको हरी-भरी वादियां देखने के लिए मिलती हैं। 


बाकि माता मंदिर खरगोन - Baki Mata Mandir Khargone

बाकि माता मंदिर खरगोन शहर का एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर बहुत प्राचीन है। यह मंदिर बहुत सारी देवियों को समर्पित है। यहां पर आपको बहुत सारी देवियों के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह मंदिर खरगोन शहर के बीचोंबीच स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


श्री सिद्धि विनायक गणपति मंदिर खरगोन - Shree Siddhi Vinayak Ganpati Temple Khargone

श्री सिद्धि विनायक गणपति मंदिर खरगोन शहर का धार्मिक स्थल है। यह मंदिर गणेश जी को समर्पित है। यह मंदिर खरगोन शहर में कुंदा नदी के किनारे पर बना हुआ है। यह मंदिर बहुत सुंदर है। मंदिर में गणेश जी की बहुत ही सुंदर प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यह प्रतिमा बहुत ही आकर्षक लगती है। आप इस मंदिर में गणेश चतुर्थी के समय दर्शन करने के लिए आ सकते हैं। इस दिन यहां पर बहुत भीड़ रहती है और मंदिर को बहुत सुंदर तरीके से सजाया जाता है।


जयंती माता मंदिर खरगोन - Jayanti Mata Mandir Khargone

जयंती माता मंदिर खरगोन शहर में स्थित एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर बहुत प्राचीन है। यह मंदिर खरगोन शहर में बड़वाह तहसील में स्थित है। यह मंदिर घने जंगलों के बीच में स्थित है। यहां पर आपको एक कुंड देखने के लिए मिलता है, जिसके बारे में कहा जाता है, कि हर रात में यहां पर शेर पानी पीने के लिए आता है, जो माँ जयंती माता की सवारी है। इसलिए यहां पर माता के दर्शन करने के लिए आता है। ऐसा माना जाता है, कि जयंती मां प्रातकाल में बाल अवस्था में दोपहर में युवावस्था में और शाम के समय शांत रूप में दिखाई देती हैं। यहां पर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ लगती है। बहुत सारे लोग माता के दर्शन करने के लिए आते हैं। यहां नवरात्रि में महाआरती होती है और मंदिर को लाइटों से सजाया जाता है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं और आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा। 


नागेश्वर मंदिर खरगोन - Nageshwar Temple Khargone

नागेश्वर मंदिर खरगोन शहर का एक धार्मिक स्थल है। यह  मंदिर शिव जी को समर्पित है। यह मंदिर खरगोन जिले में बड़वाह तहसील में स्थित है। इस मंदिर में आपको शंकर भगवान जी का शिवलिंग देखने के लिए मिलता है और यहां पर एक प्राचीन कुंड भी बना हुआ है। इस कुंड में आपको मछली और कछुए देखने के लिए मिलते हैं। आप इस मंदिर में घूमने के लिए आ सकते हैं। 


चिड़िया बदक जलप्रपात खरगोन - Chidiya Badak Falls Khargone

चिड़िया बदक जलप्रपात खरगोन शहर में स्थित एक प्राकृतिक पर्यटन स्थल है। यह एक सुंदर जलप्रपात है। यह जलप्रपात चोरल नदी पर बना हुआ है। इस जलप्रपात में आप इंदौर शहर से भी घूमने के लिए आ सकते हैं। यह जलप्रपात खरगोन जिले के बड़वाह तहसील में स्थित है। यह जलप्रपात बहुत खूबसूरत लगता है और यहां पर चोरल नदी चट्टानों के बीच से बहती है, जिस का दृश्य बहुत ही आकर्षक लगता है। यहां पर अलग-अलग तरह की चट्टाने आपको देखने के लिए मिलती हैं। यह जलप्रपात बड़वाह से करीब 16 किलोमीटर दूर है। आपको यहां पर आकर अच्छा लगेगा। 


खरगोन शहर के अन्य प्रसिद्ध पर्यटन आकर्षण स्थल - Other Famous Tourist Attractions in Khargone City

सतक जलाशय खरगोन
चारूकेश्वर आश्रम बड़वाह खरगोन 
नर्मदा चोरल नदी संगम बड़वाह खरगोन
सिद्धनाथ महादेव मंदिर खरगोन
सेगवाल बांध खरगोन
महेश्वर बांध
गायत्री मंदिर खरगोन
दजला देवड़ा बांध
टैगोर गार्डन खरगोन
स्नेह वाटिका पार्क खरगोन


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।

बैतूल पर्यटन स्थल - Betul tourist place | Betul famous places

बैतूल दर्शनीय स्थल - Places to visit near Betul | Betul tourist spot | Betul city बैतूल जिले की जानकारी - Betul district information बैतूल मध्यप्रदेश राज्य में स्थित एक जिला है। बैतूल जिला सतपुडा की पहाडियों से घिरा हुआ है। बैतूल जिला के मुलताई में ताप्ती नदी का उदगम हुआ है। ताप्ती मध्यप्रदेश की मुख्य नदी है। बैतूल जिले की सीमा छिंदवाड़ा, नागपुर, अमरावती, बुरहानपुर, खंडवा, हरदा, और होशंगाबाद की सीमाओं को छूती है। बैतूल जिला 10 विकास खंडों में बटा हुआ है। यह विकासखंड है - बैतूल, मुलताई, भैंसदेही, शाहपुर, अमला, प्रभातपट्टन, घोड़ाडोंगरी, चिचोली, भीमपुर, आठनेर, । बैतूल नर्मदापुरम संभाग के अंर्तगत आता है। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल से बैतूल की दूरी करीब 178 किलोमीटर है। बैतूल जिलें में घूमने के लिए बहुत सारी दर्शनीय जगह मौजूद है, जहां पर जाकर आप बहुत अच्छा समय बिता सकते है।  बैतूल में घूमने की जगहें Places to visit in Betul बालाजीपुरम - Balajipuram betul | Betul ka Balajipuram | Balajipuram temple betul बालाजीपुरम बैतूल जिले में स्थित दर्शनीय स्थल है।