सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बड़वानी के पर्यटन स्थल - Barwani tourist places / Barwani tourism

बड़वानी जिले के दर्शनीय स्थल - Barwani famous place / Barwani picnic spot / Barwani attraction



बड़वानी में घूमने की जगह - Best place to visit in Barwani


सिद्धक्षेत्र चूनागिरि बावनगजा बड़वानी - Siddhakshetra Chunagiri Bawangaja Barwani

सिद्धक्षेत्र चुनागिरि बावनगजा बड़वानी शहर का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह बड़वानी में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगह है। यह एक जैन तीर्थ स्थल है। यह क्षेत्र अति प्राचीन है। यह क्षेत्र करीब 2000 साल पुराना है। बावनगजा सिद्धक्षेत्र सतपुड़ा पर्वत मालाओं के सबसे ऊंचे पर्वत पर स्थित है। यह पर्वत समुद्र तल से 2200 फीट की ऊंचाई पर है। बावनगजा सिद्ध क्षेत्र में लंकापति रावण के पुत्र इंद्रजीत और रावण के भाई कुंभकरण ने मोक्ष की प्राप्ति की थी। यहां पर आपको इनका मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर सबसे ऊंचाई पर बना हुआ है। इंद्रजीत और कुंभकरण के मोक्ष प्राप्त करने के कारण ही इस जगह को सिद्ध क्षेत्र कहा जाता है। बावनगजा सिद्ध क्षेत्र में आपको जैन धर्म के प्रथम तीर्थकार भगवान ऋषभदेव जी की 84 फीट की खड़गासन विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। इस प्रतिमा को किसने बनाया है। इसके बारे में कोई भी जानकारी नहीं है। यह पर आप भगवान आदिनाथ जी की 52 हाथ ऊंची प्रतिमा भी देखने मिलती है , जिसे ब्रह्मदेव कहा जाता है। इसका जीर्णोद्धार 12 वीं शताब्दी में अर्ककीर्ति राजा ने प्रथम बार कराया था। यहां पर पर्वत की चोटी पर स्थित मंदिर में पहुंचने के लिए आपको सीढ़ियां मिलती हैं। यह मंदिर करीब 3 किलोमीटर दूर है। यहां पर आपको अलग-अलग मंदिर देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर बरसात के समय आप आएंगे, तो आपको चारों तरफ हरियाली देखने के लिए मिलेगी। यहां पर आपको चारों तरफ सतपुड़ा की खूबसूरत वादियां देखने के लिए मिलेगी। 


श्री पार्श्वगिरि जैन मंदिर - Shri Parshwagiri Jain Temple Barwani

श्री पार्श्वगिरि जैन मंदिर बड़वानी शहर का एक मुख्य धार्मिक स्थल है। यह एक जैन मंदिर है। यह जैन मंदिर बावनगजा जाने के रास्ते में पड़ता है। यह मंदिर ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। यह मंदिर बहुत सुंदर है। यहां पर यात्रियों के ठहरने के लिए भी सुविधा उपलब्ध है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। आपको यहां से चारों तरफ का सुंदर नजारा देखने के लिए मिलेगा। मंदिर तक आपकी गाड़ी, कार या बाइक आराम से पहुंच सकती है। 


राजघाट बड़वानी - Rajghat Barwani

राजघाट बड़वानी शहर का एक पर्यटन स्थल है। यहां पर आपको नर्मदा नदी के किनारे एक सुंदर घाट देखने के लिए मिलता है। यहां पर आपको प्राचीन मंदिर में देखने के लिए मिलता है। 


तीर गोला बड़वानी - Tir gola Barwani

तीर गोला बड़वानी शहर का एक ऐतिहासिक स्थल है। यहां पर आपको एक तीर और एक गोला का बहुत बड़ा मॉडल देखने के लिए मिल जाता है। यह मॉडल सीमेंट, ईट से बनाया गया है। यह मॉडल बड़वानी शहर के बीचोंबीच स्थित हैं। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। कहा जाता है कि यह यहां के राजा की समाधि है और इन्हें याद रखने के लिए तीर गोला बनाया गया है। 


शहीद भीमानायक बांध बड़वानी - Shaheed Bhimanayak Dam Barwani

शहीद भीमानायक बांध बड़वानी शहर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह एक सुंदर जलाशय है। यह जलाशय बहुत बड़े एरिया में फैला हुआ है। बरसात के समय यह बांध बहुत ही सुंदर दिखाई देता है, क्योंकि बरसात के समय बांध पानी से पूरी तरह भर जाता है और इसका पानी ओवरफ्लो होता है, तो गेट के खोले जाते है, जिसका दृश्य बहुत सुंदर दिखाई देता है। 


पत्थरी दरगाह शरीफ बड़वानी - Pathri Dargah Sharif Barwani

पत्थरी दरगाह शरीफ बड़वानी शहर का एक मुख्य आकर्षण स्थल है। यहां पर आपको दरगाह देखने के लिए मिलती है। यह दरगाह बहुत ही सुंदर है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। यह बड़वानी जिले के पलसूद में स्थित है। 


श्री मां बड़ी बिजासन माता मंदिर बड़वानी - Shri Maa Badi Bijasan Mata Mandir Barwani

मां बड़ी बिजासन माता मंदिर बड़वानी शहर का एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र बॉर्डर एरिया पर स्थित है। यहां पर आपको एक बहुत सुंदर और बड़ा मंदिर देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर बिजासन माता को समर्पित है। मंदिर में बिजासन माता की बहुत ही सुंदर प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यह प्रतिमा बहुत ही आकर्षक है। माता के दर्शन करके मन को शांति मिलती है। यहां पर आपको सुंदर घाटियों का दृश्य देखने के लिए मिलता है। बिजासन माता के दर्शन करके बहुत अच्छा लगता है। यहां पर आप अपनी फैमिली वालों के साथ और दोस्तों के साथ घूमने के लिए आ सकते हैं। बिजासन माता का मंदिर बड़वानी के सेंधवा में स्थित है। आप यहां पर गाड़ी से या टैक्सी से घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर आपको अच्छी सड़क मिल जाती है। यहां पर आने के लिए आपको हाईवे सड़क मिल जाती है, जिससे आपको यहां पर आने के लिए किसी भी प्रकार की दिक्कत नहीं होगी। 


शिव मंदिर बड़वानी - Shiv Mandir Barwani

शिव मंदिर बड़वानी शहर का एक मुख्य धार्मिक स्थल है। यह मंदिर बड़वानी के सेंधवा में बिजासन माता मंदिर के पास ही में स्थित है। यह मंदिर ऊंची चोटी पर स्थित है। यहां पर आप अपनी कार या गाड़ी से आराम से पहुंच सकते हैं। इस मंदिर में आपको शिव भगवान जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह मंदिर बहुत ही सुंदर है और यहां से आपको चारों तरफ की खूबसूरत वादियां देखने के लिए मिल जाती हैं। 


भंवरगढ़ का किला सेंधवा बड़वानी - Bhanwargarh Fort Sendhwa Barwani

भंवरगढ़ का किला बड़वानी शहर का एक ऐतिहासिक जगह है। यह किला भंवरगढ़ घाट में स्थित है। यह किला बहुत सुंदर लगता है। यह किला ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। इस किले तक पहुंचने के लिए आपको पैदल चलना पड़ता है। यहां पर बरसात के समय बहुत अच्छा लगता है, क्योंकि चारों तरफ आपको हरियाली देखने के लिए मिलती है। आप यहां पर आसानी से पहुंच सकते हैं। यह किला यहां पर खंडहर अवस्था में मौजूद है। आपको यहां पर आकर अच्छा लगेगा।  


बंधान जलप्रपात एवं शिव मंदिर बड़वानी - Bandhan Falls and Shiv Mandir Barwani

बंधान जलप्रपात एवं शिव मंदिर बड़वानी शहर का एक दर्शनीय स्थल है। यहां पर आपको एक सुंदर जलप्रपात देखने के लिए मिलता है और शिव भगवान जी की बड़ी सी मूर्ति देखने के लिए मिलती है, जो बहुत सुंदर लगती है। आप यहां बरसात के समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर चट्टानों का दृश्य बहुत सुंदर लगता है। चट्टानों से बहता हुआ पानी बहुत ही अच्छा लगता है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


रामगढ़ का किला बड़वानी - Ramgarh Fort Barwani

रामगढ़ का किला बड़वानी शहर का एक ऐतिहासिक स्थल है। यह एक प्राचीन किला है। यह किला बड़वानी शहर से करीब 65 किलोमीटर दूर है। यह किला पाटी ब्लॉक की रामगढ़ पंचायत के अंतर्गत आता है। इस किले में जाने के लिए आपको पैदल चलना पड़ता है। इस किले में जाने का रास्ता जंगलों और पहाड़ों से होकर जाता है। यह किला एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। आप जब इस किले में पहुंचते हैं, तो आपको नीचे का जगह में बादलों और हरियाली से ढकी हुई मिलती है। आप यहां पर बरसात के समय घूमने जाइएगा। यहां पर आपको बहुत मजा आएगा। यह किला खंडहर अवस्था में यहां पर मौजूद है। यह किला करीब 1000 साल पुराना है। इस किले का निर्माण सिसोदिया राजवंश के द्वारा किया गया था। यहां पर आकर आपको बहुत अच्छा लगेगा और बरसात के समय आपको एक अलग ही अनुभव यहां पर आकर प्राप्त होगा। आप अपना बहुत अच्छा समय यहां पर आ कर बिता सकते हैं। 


शिव मंदिर रामगढ़ बड़वानी - Shiv Mandir Ramgarh Barwani

शिव मंदिर बड़वानी शहर का एक ऐतिहासिक मंदिर है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। यह मंदिर बहुत पुराना है। यह मंदिर बड़वानी शहर के रामगढ़ में स्थित है। जब आप रामगढ़ किला घूमने के लिए जाते हैं, तो इस मंदिर में भी घूम सकते हैं। यह मंदिर पूरी तरह पत्थरों से बना हुआ है और गर्भ गृह में आपको शिवलिंग देखने के लिए मिलता है। बाहर आपको नंदी भगवान की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। आपको यहां पर आकर अच्छा लगेगा। 


भीलट देव मंदिर बड़वानी - Bhilat Dev Mandir Barwani

भिलट देव मंदिर बड़वानी शहर का एक मुख्य धार्मिक स्थल है। यह मंदिर नागलवाड़ी में स्थित है। यह मंदिर बड़वानी शहर से करीब 50 किलोमीटर दूर है। आप इस मंदिर में घूमने के लिए आ सकते हैं। यह मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। यह मंदिर बहुत ही सुंदर है। मंदिर में आपको बहुत सारी नक्काशी देखने के लिए मिलती है। यह  मंदिर खरगोन जिले से भी बहुत करीब में पड़ता है। इसलिए बहुत सारे लोग यहां पर खरगोन से भी घूमने के लिए आते हैं। आपको यहां पर आकर अच्छा लगेगा। 


बड़वानी शहर में घूमने के अन्य प्रमुख पर्यटन आकर्षण स्थल - Other Major Tourist Attractions To Visit In Barwani City

साईं और शनि मंदिर बड़वानी 

योग माया मंदिर बड़वानी 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।

बैतूल पर्यटन स्थल - Betul tourist place | Betul famous places

बैतूल दर्शनीय स्थल - Places to visit near Betul | Betul tourist spot | Betul city बैतूल जिले की जानकारी - Betul district information बैतूल मध्यप्रदेश राज्य में स्थित एक जिला है। बैतूल जिला सतपुडा की पहाडियों से घिरा हुआ है। बैतूल जिला के मुलताई में ताप्ती नदी का उदगम हुआ है। ताप्ती मध्यप्रदेश की मुख्य नदी है। बैतूल जिले की सीमा छिंदवाड़ा, नागपुर, अमरावती, बुरहानपुर, खंडवा, हरदा, और होशंगाबाद की सीमाओं को छूती है। बैतूल जिला 10 विकास खंडों में बटा हुआ है। यह विकासखंड है - बैतूल, मुलताई, भैंसदेही, शाहपुर, अमला, प्रभातपट्टन, घोड़ाडोंगरी, चिचोली, भीमपुर, आठनेर, । बैतूल नर्मदापुरम संभाग के अंर्तगत आता है। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल से बैतूल की दूरी करीब 178 किलोमीटर है। बैतूल जिलें में घूमने के लिए बहुत सारी दर्शनीय जगह मौजूद है, जहां पर जाकर आप बहुत अच्छा समय बिता सकते है।  बैतूल में घूमने की जगहें Places to visit in Betul बालाजीपुरम - Balajipuram betul | Betul ka Balajipuram | Balajipuram temple betul बालाजीपुरम बैतूल जिले में स्थित दर्शनीय स्थल है।