सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

रानी दुर्गावती समाधि स्थल - Rani Durgavati Samadhi | रानी दुर्गावती

रानी दुर्गावती समाधि - Rani Durgavati Samadhi sthal | Rani Durgavati punyatithi | रानी दुर्गावती का बलिदान दिवस


रानी दुर्गावती समाधि स्थल - Rani Durgavati Samadhi | रानी दुर्गावती

रानी दुर्गावती समाधि स्थल


रानी दुर्गावती समाधि स्थल - Rani Durgavati Samadhi | रानी दुर्गावती

रानी दुर्गावती समाधि स्थल



रानी दुर्गावती समाधि स्थल - Rani Durgavati Samadhi | रानी दुर्गावती

26 जनवरी को लगने वाला मेला


रानी दुर्गावती समाधि स्थल - Rani Durgavati Samadhi | रानी दुर्गावती

मेले में मिलने वाला सामान


रानी दुर्गावती एक गोंड रानी थी। रानी दुर्गावती का विवाह गोंड शासक संग्राम सिंह के बड़े पुत्र दलपति शाह के साथ सन 1542 में हुआ था। सन 1545 में रानी दुर्गावती ने पुत्र को जन्म दिया, जिसका नाम उन्होंने वीरनारायण रखा। कुछ ही वर्ष पश्चात सन 1550 में उनके पति दलपति शाह की मृत्यु हो गई। रानी ने शासन को अपने अधीन कर लिया और शासन की बागडोर संभाल ली। अकबर अपने राज्य का विस्तार कर रहा था, इसलिए उसने रानी के राज को हड़पने का सोचा।


रानी दुर्गावती की मृत्यु कैसे हुई - Rani durgavati died


अकबर का मानिकपुर का सूबेदार आसिफ अब्दुल मजीद आसिफ खा ने 50000 सैनिकों के साथ नरई नाले के समीप रानी दुर्गावती पर आक्रमण किया। रानी ने अपनी सेना के साथ उसका डटकर सामना किया और उसे मुंहतोड़ जवाब दिया और उसे पीछे धकेल दिया। दूसरे दिन आसिफ खा ने तोपखाने के साथ आक्रमण किया, जिससे रानी दुर्गावती को चोट आई और उन्होंने अपने आप को असुरक्षित पाया, जिसके कारण उन्होंने अपनी कटार से अपने आप पर आत्माघात करके अपने प्राण को त्याग दिया। 24 जून 1964 को उन्होंने अपने प्राणों को त्याग दिया और अमर हो गई। उनकी वीरता, बलिदान, मातृभूमि से प्यार के कारण ही वह प्रसिद्ध है और 24 जून को हर साल उनको श्रद्धांजलि दी जाती है। 


रानी दुर्गावती समाधि मेला या समाधि मेला
Rani Durgavati Samadhi Mela or Samadhi Mela


रानी दुर्गावती की समाधि जबलपुर जिले में नरई नाला नाम की जगह पर स्थित है। इस जगह में पहुंचना बहुत ही आसान है। आप जब भी बरगी बांध जाते हैं, तो यह जगह आपको देखने के लिए मिलती है। तब आपको रानी दुर्गावती की समाधि देखने के लिए मिल जाएगी, क्योंकि यह मेन रोड में ही स्थित है। रानी दुर्गावती के समाधि के आसपास आपको चाय नाश्ते की दुकान भी देखने के लिए मिल जाती है। रानी दुर्गावती समाधि स्थल मुख्य रोड में ही स्थित है। यहां पर छोटा सा गार्डन बना हुआ है, जहां पर रानी दुर्गावती की समाधि है और यहां पर आपको रानी दुर्गावती की एक विशाल मूर्ति भी देखने के लिए मिलती है। यहां पर आपको हाथी की भी एक मूर्ति देखने के लिए मिलती है। 26 जनवरी के समय इस जगह में मेला लगता है, जिसमें दूर दूर से लोग आते हैं और यह मेला 8 दिनों तक लगता है। इस मेले में आप भी घूमने के लिए जा सकते हैं। यहां पर आसपास के गांव के लोग मेले में आते हैं। यहां पर आप आएंगे, तो रोड के एक तरफ रानी दुर्गावती की समाधि स्थित है और रोड की दूसरी तरफ आपको रानी दुर्गावती के पुत्र वीर नारायण जी की मूर्ति देखने के लिए मिलती है। मूर्ति के पास जाने के लिए एक छोटा सा पुल बना हुआ है और बरसात के समय इस पुल में पानी बहता है, जो बहुत ही खूबसूरत लगता है। बरसात के समय यहां पर चारों तरफ हरियाली रहती है और यहां पर जंगल है जो बहुत खूबसूरत लगता है और आपको भी अच्छा लगेगा। 26 जनवरी के समय रानी दुर्गावती की समाधि में सांस्कृतिक कार्यक्रम होते रहते हैं। यहां पर आप आते हैं, तो आपको यहां पर लोग रानी दुर्गावती की समाधि की पूजा करते हुए देखने के लिए मिल जाते हैं और यहां पर आकर आपको अच्छा अनुभव होगा।  मेले में भी आप घूम सकते हैं। मेले में आपको तरह-तरह के झूले देखने के लिए मिल जाते हैं और यहां पर बहुत सारी दुकानें रहती हैं, जहां पर आप शॉपिंग कर सकते हैं। यहां पर खाने पीने की भी दुकानें लगाई जाती हैं, जहां पर आपको तरह तरह का खाना मिल जाता है। मेले में आपको आटे की मिठाई और गुड़ की जलेबी खाने के लिए मिलेगी और यहां पर आपको बहुत बड़ी तादाद में आपको यह देखने के लिए मिल जाता है, तो आप यहां पर इनका लुफ्त उठा सकते हैं। इस मेले में आप घूमने के लिए आ सकते हैं और आपको यहां पर बहुत अच्छा लगेगा। आप यहां पर अपने दोस्तों और फैमिली मेंबर्स के साथ आ सकते हैं। यहां पर पार्किंग के लिए भी व्यवस्थाएं रहती है। 


दलदली माता मंदिर नैनपुर, मंडला,

वीरांगना दुर्गावती वन्य जीव अभ्यारण

सतधारा मेला सिहोरा जबलपुर

ग्वारीघाट का खूबसूरत घाट


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Math Ghogra waterfall and Cave || Shri Paramhans Ashram Math Ghoghara Dham || Shiv Dham Math Ghoghara

श्री शिवधाम मठघोघरा लखनादौन मठघोघरा जलप्रपात एवं गुफा (Math Ghogra Waterfall and cave) सिवनी जिलें का एक दर्शनीय स्थत है। यह झरना एवं गुफा प्रकृति की गोद में स्थित है। यहां पर आपको बरसात के सीजन में एक खूबसूरत झरना देखने मिलेगा। मठघोघरा  (Math Ghogra Waterfall )   में प्राचीन शिव मंदिर है। यहां पर शिव भगवान की अनोखी प्रतिमा विराजमान है। आपको यह पर चारों तरफ प्रकृति की खूबसूरती देखने मिल जाएगी। यहां जगह आपको बहुत पसंद आयेगी।  Math Ghogra Waterfall and Cave Math Ghogra Waterfall and Cave मठघोघरा झरना एवं गुफा  (Math Ghogra Waterfall and cave)  सिवनी जिले के लखनादौन तहसील में स्थित है। आप यहां पर असानी से पहॅुच सकते है। लखनादौन सिवनी से लगभग 60 किमी की दूरी पर होगा। लखनादौन जबलपुर नागपुर हाईवे रोड पर स्थित है। आप लखनादौन तक बस द्वारा असानी से पहुॅच सकते है। मगर आपको लखनादौन बस स्टैड से आपको आटो बुक करना होगा इस मठघोघरा जलप्रपात  (Math Ghogra Waterfall )  तक जाने के लिए। आप यहां पर अपने वाहन से भी आ सकते है। मठघोघरा  (Math Ghogra Waterfall )   तक पहुॅचने के लिए आपक

बालाघाट दर्शनीय स्थल - Balaghat tourist place | Tourist places near Balaghat

बालाघाट पर्यटन स्थल - Picnic spot near Balaghat | Balaghat famous places | Balaghat Jila बालाघाट जिला Balaghat District बालाघाट मध्य प्रदेश का एक जिला है। बालाघाट छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र की सीमा के पास स्थित है। बालाघाट में वैनगंगा नदी बहती है। बालाघाट में भारत की सबसे बड़ी कॉपर की खदान मौजूद है। बालाघाट का मलाजखंड क्षेत्र कॉपर का सबसे बड़ा उत्पादक क्षेत्र है। यहां खुली खदान मौजूद है। बालाघाट जबलपुर संभाग के अतंर्गत आता है। बालाघाट 10 तहसीलों में बटा हुआ है। यह तहसील है - बालाघाट, बैहर, बिरसा, परसवाडा ,कटंगी, वारासिवनी, लालबर्रा, खैरलांजी, लांजी, किरनापूर। बालाघाट जिलें में घूमने के लिए बहुत सारे प्राकृतिक एवं ऐतिहासिक स्थल मौजूद है, जहां पर जाकर आप आप अपना समय बिता सकते है। Places to visit in Balaghat बालाघाट में घूमने लायक जगहें बोटैनिकल गार्डन - Botanical Garden Balaghat वनस्पति उद्यान बालाघाट जिले में स्थित एक दर्शनीय जगह है। यह बालाघाट में घूमने के लिए अच्छी जगह है। यह उद्यान वैनगंगा नदी के किनारे स्थित है। यहां पर आपको विभिन्न तरह के वनस्पतियां

Beautiful ghat of Gwarighat in Jabalpur city || जबलपुर शहर के नर्मदा नदी का खूबसूरत घाट

Gwarighat ग्वारीघाट ग्वारीघाट ( Gwarighat )  एक ऐसी खूबसूरत जगह है जहां पर आपको नर्मदा नदी के अनेक  घाट एवं भाक्तिमय वातवरण देखने मिल जाएगा। ग्वारीघाट   ( Gwarighat )   एक बहुत अच्छी जगह है गौरी घाट में घाटों की एक श्रंखला है। ग्वारीघाट   ( Gwarighat )  में आके आपको बहुत शांती एवं सुकून मिलता है। आप यहां पर नर्मदा मैया के दर्शन कर सकते है, उन्हें प्रसाद चढा सकते है। ग्वारीघाट  ( Gwarighat )  में सूर्यास्त का नजारा भी बहुत मस्त होता है।  Gwaright View ग्वारीघाट  ( Gwarighat )  की स्थिाति  ग्वारीघाट  ( Gwarighat )  जबलपुर जिले में स्थित है। जबलपुर जिला मध्य प्रदेश में स्थित है जबलपुर जिले को संस्कारधानी के नाम से भी जाना जाता है। जबलपुर से नर्मदा नदी बहती है। ग्वारीघाट  ( Gwarighat )   नर्मदा नदी पर स्थित है। ग्वारीघाट एक अद्भुत जगह है, जिसके दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। ग्वारीघाट  ( Gwarighat )   पहुंचने के लिए आप मेट्रो बस और ऑटो का प्रयोग कर सकते हैं। आपको  ग्वारीघाट  ( Gwarighat )  पहुंचने के लिए जबलपुर जिले के किसी भी हिस्से से बस या ऑटो की सर्विस मि