सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

Dam की खोज से मिलान करने वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

छिंदवाड़ा पर्यटन स्थल - Chhindwara tourist place | Chhindwara picnic spot

छिंदवाड़ा दर्शनीय स्थल - Places to visit in Chhindwara | Chhindwara places to visit | Chhindwara City छिंदवाड़ा मे घुमने की जगहें बादल भोई जनजातीय संग्रहालय - Badal bhoi tribal museum श्री बादल भोई राज्य आदिवासी संग्रहालय छिंदवाड़ा का एक दर्शनीय स्थल है। यह संग्रहालय 10 एकड़ की भूमि पर फैला हुआ है। यह भवन 1923 में बना था। सन 1954 के पहले यह संग्रहालय में रिसर्च अधिकारियों का प्रशिक्षण केंद्र था। इसके बाद 26 अप्रैल 1954 को इस भवन को जनजातीय संग्रहालय में बदल दिया गया। इस संग्रहालय का संचालन आदिम जाति अनुसंधान एवं विकास संस्थान मध्यप्रदेश के द्वारा किया जाता है। 8 सितंबर 1997 को इस संग्रहालय का नाम परिवर्तित कर श्री बादल भोई राज्य आदिवासी संग्रहालय कर दिया गया। यहां पर आप को  मध्यप्रदेश व छत्तीसगढ़ राज्य में निवासरत विभिन्न जनजातियों की जीवन शैली और सांस्कृतिक धरोहर, प्रतीक, चिन्ह को दिखाया गया है। संग्रहालय में 17 कक्ष एवं 6 गैलरी है। संग्रहालय में प्रवेश शुल्क 10 रू प्रति व्यक्ति लिया जाता है। यह संग्रहालय सोमवार को बंद रहता है।  माचागोरा बांध छिंदवाड़ा - Machagora dam chhind

सतना पर्यटन स्थल - Satna tourist place | Places to visit in Satna

सतना के दर्शनीय स्थल - Satna me ghumne ki jagah |  Places to visit near Satna |  Satna tourism   मैत्री पार्क सतना - Maitri park satna मैत्री पार्क सतना शहर में बद्री पुरम में स्थित एक अच्छा बगीचा है। यह सतना जिले के बाहरी क्षेत्र में स्थित है। इस पार्क के एक तरफ आपको हवाई अड्डा देखने के लिए मिलता है और दूसरे तरफ आपको तालाब देखने के लिए मिलता है। तालाब में शंकर जी का मंदिर भी बना हुआ है। यह पार्क बहुत ही मनोरम है। यहां पर बच्चों के लिए बहुत सारे झूले भी लगे हुए हैं। इस पार्क में आकर आप अपना अच्छा समय बिता सकते हैं। यहां पर फव्वारा भी लगा हुआ है। इस पार्क में आपको हनुमान जी की बहुत बड़ी प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। इस पार्क में आपको जानवरों की बहुत सारी मूर्तियां देखने के लिए मिलती है, जो बहुत ही आकर्षक लगती हैं।  जगतदेव तालाब सतना - Jagatdev talab satna  जगतदेव तालाब सतना में स्थित एक धार्मिक जगह है। यह तालाब शहर के बीचोंबीच स्थित है और यहां पर पहुंचना बहुत ही आसान है। यहां पर आपको एक मंदिर देखने के लिए मिलता है, जो शंकर भगवान जी को समर्पित है। यहां पर शंकर जी का शिवलिंग विराजमान है।

चित्रकूट दर्शनीय स्थल - Chitrakoot tourist places | Best places to visit in chitrakoot

चित्रकूट में घूमने की जगहें - Chitrakoot dham tourist place | Chitrakoot famous places रामघाट चित्रकूट - Ramghat chitrakoot चित्रकूट के घाट में भई संतन की भीर तुलसीदास चंदन घिसे तिलक देत रघुवीर  चित्रकूट में स्थित रामघाट सबसे प्रसिद्ध स्थानों में से एक है। रामघाट मंदाकिनी नदी के किनारे में स्थित है।  रामघाट चित्रकूट के प्रमुख घाटों में से एक है। आप रामघाट में मंदाकिनी नदी में स्नान करके अपने आप को बहुत ही तरोताजा महसूस करेंगे। शाम को और सुबह रामघाट में मंदाकिनी नदी की आरती की जाती है, जो बहुत ही भव्य रहती है। इस आरती में आपको जरूर शामिल होना चाहिए। आपको बहुत अच्छा लगेगा आरती में शामिल होकर। इस घाट के बारे में मान्यता है कि राम घाट पर ही तुलसीदास जी को श्री राम जी के दर्शन हुए थे। इस घाट पर आप नाव की सवारी का भी मजा ले सकते हैं। शाम के समय नाव की सवारी का मजा ही अलग होता है। रामघाट के बारे में कहा जाता है, कि रामघाट में श्री राम जी ने स्नान किया था। इसलिए इस घाट को रामघाट कहा जाता है।  मत्यगजेंद्र नाथ शिव मंदिर - Matyagendra Nath Shiva Temple मत्यगजेंद्र नाथ

दमोह जिले के पर्यटन स्थल - Damoh tourist place | Places to visit near Damoh

दमोह जिले के दर्शनीय स्थल - Tourist places near damoh | Damoh famous places |  दमोह जिला प्राचीन जटा शंकर मंदिर  दमोह - Jata shankar mandir damoh  जटाशंकर मंदिर दमोह शहर का दर्शनीय स्थल है। जटाशंकर मंदिर दमोह-जबलपुर रोड पर स्थित है। यह दमोह में घूमने के लिए सबसे अच्छे धार्मिक स्थलों में से एक है। जटाशंकर मंदिर बहुत प्राचीन है। यहां मंदिर शिव शंकर जी को समार्पित है। यह मंदिर पहाडों से घिरा हुआ है। बरिश में यह का नजारा बहुत अदुभ्त होता है। मंदिर में अन्य देवी देवता की मूर्ति भी विराजमान है। मंदिर में भगवान की गणेश की बहुत उची प्रतिमा स्थित है। मंदिर सुबह से रात के 9 बजे तक खुल रहता है। आप मंदिर में दिन के समय कभी भी आ सकते है। मंदिर के पास अग्रेजों के समय का पुराना सार्किट हाउस बना हुआ है। यहां सार्किट हाउस पहाडी के उपर बना हुआ है। आपको यहां से आसपास बहुत ही मनमोहक दृश्य देखने मिलता है। जटाशंकर का प्रवेश द्वार बहुत ही भव्य है। जटाशंकर मंदिर सावन सोमवार और महाशिवरात्रि में बहुत भीड रहती है।  रानी दमयंती संग्रहालय - Rani Damayanti Museum or Rani Damayanti Fort रानी दमयंत

मंडला जिले के दर्शनीय स्थल - Mandla tourist place || Best places to visit Mandla

मंडला जिले के पर्यटन स्थल - Places to visit in Mandla | Tourist places in Mandla Mandla district information मंडला जिले की जानकारी मंडला मध्य प्रदेश का एक जिला है। मंडला मध्य प्रदेश के पूर्व में स्थित है। मंडला में नर्मदा नदी बहती है। नर्मदा नदी मंडला को तीन ओर से घेरती है। मंडला में अदिवासी जनजाति की अधिकता है। मंडला में नर्मदा नदी, बुढनेर नदी, बंजर नदी बहती है। मंडला में 6 तहसीलें है। मंडला की 6 तहसीलें नारायणगंज, निवास, नैनपुर, मंडला, बिछिया और घुघरी तहसील है। मंडला जिला जबलपुर संभाग में आता है। मंडला जबलपुर जिलें से करीब 120 किलोमीटर दूर है। मंडला 9 विकासखण्ड में बंटा है। मंडला के नौ विकासखंड बिछिया, बीजाडांडी, घुघरी, मण्डला, मवई, मोहगांव, नैनपुर, नारायणगंज है। मंडला में बहुत सारे दर्शनीय स्थल है, जहां पर आप घूम सकते हैं। मंडला में बहुत सारी प्राकृतिक और ऐतिहासिक जगह है, जहां पर आप जाकर घूम सकते हैं। मंडला में नर्मदा नदी के बहुत सारे सुंदर घाट हैं, जहां पर आप शांति से समय बिता सकते हैं। आइए जानते हैं मंडला के दर्शनीय स्थलों के बारें में मंडला में घूम