सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

Katni लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

आप हमारी मदद करना चाहते हैं, तो नीचे दिए लिंक से शॉपिंग कीजिए।

केन नदी का उद्गम स्थल - Ken River Origin

केन नदी कटनी जिला मध्य प्रदेश - Ken River Katni District Madhya Pradesh /  Origin point of Ken river केन नदी  की जानकारी -  Ken River information केन नदी मध्यप्रदेश की एक प्रमुख नदी है। केन नदी का प्राचीन नाम कर्णावती है। केन नदी मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश दोनों राज्यों में बहती है। केन नदी यमुना नदी की सहायक नदी है। केन नदी मध्य प्रदेश के कटनी जिले से निकलती है। केन नदी कटनी जिले से निकलकर बहती हुई पन्ना जिले में प्रवेश करती है। केन नदी के किनारे बहुत सारे धार्मिक, ऐतिहासिक और प्राकृतिक स्थल देखने के लिए मिलते हैं। केन नदी के किनारे हिंदू मंदिर पांडवन देखने के लिए मिलता है। यहां पर सुंदर जलप्रपात भी देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर प्राचीन है।  केन नदी पन्ना राष्ट्रीय उद्यान की सीमा बनाती है। पन्ना राष्ट्रीय उद्यान केन नदी के किनारे ही बसा हुआ है और फल फूल रहा है। पन्ना नेशनल पार्क में केन नदी के किनारे आपको गिद्धों का साम्राज्य देखने के लिए मिल जाएगा। केन नदी पन्ना नेशनल पार्क के किनारे से बहती है। केन नदी का यहां का दृश्य बहुत सुंदर रहता है। केन नदी का पानी हरे कलर का रहता है और साफ

घोघरा नर्सरी झरना कटनी - Ghoghra Nursery Falls Katni

  घोघरा नर्सरी जलप्रपात कटनी  Ghoghra Nursery Waterfall Katni     घोघरा नर्सरी झरना कटनी घोघरा नर्सरी जलप्रपात कटनी जिले में स्थित एक सुंदर जलप्रपात है। यह जलप्रपात घुघरा नामक गांव के पास में स्थित है। आप इस जलप्रपात में बहुत आसानी से पहुंच सकते हैं, क्योंकि इस जलप्रपात तक पहुंचने के लिए सड़क बहुत ही मस्त बनी हुई है और सड़क में आपको बहुत खूबसूरत नजारे देखने के लिए मिलते हैं। दूर-दूर तक आपको मैदान देखने के लिए मिलता है और पहाड़ियां देखने के लिए मिलती है। बहुत मस्त लगता है। आप यहां पर अपनी बाइक या कार से आराम से जा सकते हैं। वैसे यहां पर बस भी चलती है, तो आप बस का भी टाइम पता करके इस वाटरफॉल तक आ सकते हैं। यह वाटरफॉल ज्यादा बड़ा नहीं है, मगर अच्छा है और खूबसूरत है और देखने लायक है। यहां पर जो यहां के बच्चे लोग हैं और जो यहां के लोकल लोग हैं। वह यहां पर आप को नहाते हुए देखने के लिए मिल जाते हैं। जलप्रपात के ऊपर एक छोटा सा कुंड बना हुआ है, जहां पर लोग नहाने का मजा लेते हैं और यहां पर शंकर जी का मंदिर भी है, जिसमें लोग जल चढ़ाते हैं। झरने के ऊपर साइड भी मंदिर बने हुए हैं। इस झरने का नाम घोघरा नर

वसुधा जलप्रपात कटनी - Vasudha Falls Katni | waterfall near Katni

वसुधा झरना कटनी - Vasudha waterfall Katni   वसुधारा जलप्रपात के पास के घने जंगल   जंगल में बहने वाली खूबसूरत नदी     वसुधा जलप्रपात कटनी जिले के सबसे अच्छे जलप्रपात में से एक है। इस जलप्रपात के बारे में ज्यादा लोगों को जानकारी नहीं है। इसलिए बहुत कम लोग ही इस जलप्रपात तक आते हैं। मगर अब गूगल मैप में यह जलप्रपात आपको देखने के लिए मिल जाएगा, तो शायद अब यहां पर बहुत ज्यादा लोग देखने के लिए मिले। वसुधा जलप्रपात कटनी में स्थित है और कटनी के वसुधा नाम के गांव में स्थित है। जलप्रपात तक पहुंचने के लिए जो सड़क है। वह बहुत ही खराब सड़क है। कहीं-कहीं पर बहुत ज्यादा खराब है और कहीं-कहीं पर बहुत अच्छी सड़क है। इस जलप्रपात में हम लोग वसुधा गांव से आए थे, तो उस गांव से आते समय हम लोगों को एक नदी मिली थी। उस नदी को पार करके इस जलप्रपात तक आना पड़ता है और जंगल को भी पार करना पड़ता है। जंगल में आपको पैदल चलना पड़ता है, क्योंकि वहां पर आपकी गाड़ी नहीं जा सकती।    हम लोग अपनी स्कूटी इस जंगल के थोड़ा आगे तक ले कर गए थे। मगर रास्ते में नदी पड़ती है और पथरीला रास्ता पड़ता है, जिससे हम लोग को अपनी स्कूटी जंगल के बीच मे

Katai Ghat - Katai Ghat Katni | Katai Ghat mandir | Radha Krishna mandir, Katai Ghat, Katni

कटाये घाट - राधा कृष्ण मंदिर कटनी | कटाये घाट मंदिर | Katni mandir | Katni tourism कटनी शहर में कटाये घाट नाम की जगह बहुत प्रसिद्ध है। इस जगह में कटनी नदी बहती है। यहां पर आपको मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर राधा और कृष्ण जी को समर्पित है। कटाये घाट में स्थित राधे कृष्ण जी का मंदिर बहुत पुराना है और यह मंदिर बहुत सुंदर भी है। आपको यहां आकर राधा कृष्ण जी की बहुत ही भव्य प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यहां पर और भी बहुत सारी प्रतिमा विराजमान है। यहां पर आपको पंचमुखी हनुमान जी की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। दत्तात्रेय की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है और दुर्गा जी की प्रतिमा भी आपको यहां पर देखने के लिए मिलती है। यह जगह प्राकृतिक खूबसूरती से भरी हुई है। मंदिर के बाजू में ही कटनी नदी बहती है, जिसका दृश्य बहुत ही खूबसूरत रहता है। बरसात के समय में इस नदी में बाढ़ आती है, तो आप नदी के आर-पार नहीं जा सकते हैं। मगर गर्मी के समय जब नदी में पानी कम  हो  जाता है, तो आप नदी के आर-पार जा सकते हैं। नदी के उस पार भी आपको मंदिर देखने के लिए मिलता है, जो खूबसूरत लगता है।  नदी के आर-पार जाने क

कामकंदला किला कटनी - Kamakandla fort | Katni ka kila

बिलहरी का कामकंदला किला - विष्णु वराह मंदिर बिलहरी कटनी Kamakandla kila Katni - Vishnu Varaha Temple Bilhari Katni कामकंदला किला बिलहरी कटनी कामकंदला किला (kamakandla fort) कटनी में स्थित एक प्राचीन किला है। कामकंदला किला (kamakandla fort) कटनी जिलें की बिलहरी में स्थित है। बिलहरी कटनी से 15 किलोमीटर दूर होगा। प्राचीन समय में बिलहरी को पुप्पवती नाम से जाना जाता है। बिलहरी में आपको बहुत सारे प्राचीन खंडहर अवशेष देखने मिलते है। कामकंदला किला (kamakandla fort) में आपको एक बावड़ी और प्राचीन शिव मंदिर देखने मिलता है।  कामकंदला किला (kamakandla fort) बिलहरी के बीच में ही स्थित है। किलें के आसपास बहुत सारे घर बने हुए है। आप इस किलें तक अपनी गाडी से आ सकते है। आप इस किलें तक लोगों से पूछ कर आ सकते हैं। किले में गेट लगा रहता है। आप गेट खोलकर अंदर जा सकते है। आपको इस किलें के प्रवेश द्वार पर हनुमान जी की एक भव्य प्रतिमा देखने के लिए मिलती है, जो बहुत ही भव्य लगती है। हनुमान जी की प्रतिमा किलें के प्रवेश द्वार के बाये तरफ स्थापित है। किलें के दायें तरफ आपको एक बावड़ी देखने म

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।

Muhas Hanuman Temple || मुहास हनुमान मंदिर

Muhas Hanuman Temple मुहास हनुमान मंदिर  हड्डी जोड़ने वाला मुहास का हनुमान मंदिर हनुमान मंदिर का मुख्य द्वार   हनुमान मंदिर मुहास ( Muhas Hanuman Temple ) बहुत प्रसिद्ध है। इस हनुमान मंदिर को हड्डी जोड़ने वाले मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। लोगों का मानना है कि यहां पर हनुमान जी स्वयं लोगों की हड्डी जोड़ने का इलाज करते हैं। यह मंदिर पूरे भारत देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर के बारे में न्यूज चैनलों में भी आ चुका है। इस मंदिर की प्रसिद्धि पूरे देश में है। यहां पर जो भी लोग आते हैं। वह अपनी समस्या लेकर आते हैं और हनुमान जी उनकी समस्या को ठीक करते हैं। मुहास हनुमान मंदिर कहा है Where is Muhas Hanuman Temple हम लोग भी इस मंदिर में घूमने गए थे। यह मंदिर मध्यप्रदेश के कटनी जिले में स्थित है। यह मंदिर कटनी जिले से लगभग 35 किमी दूर होगा। यह रीठी तहसील की मुहास नाम के गांव में स्थित है। यह एक छोटा सा मंदिर है, ज्यादा बड़ा मंदिर नहीं है। यह मंदिर बहुत ही खूबसूरती से बनाया गया है। यह मंदिर मुहास में मेन रोड में स्थित है। आप यहां पर अपनी गाड़ी से जा सकते हैं। यहां पर बसें

Jagriti Park - Katni District | जागृति पार्क

Jagriti Park - Katni District कटनी जिले का खूबसूरत - जागृति पार्क  जागृति पार्क   जागृति पार्क बहुत खूबसूरत पार्क है। कटनी जिले का यह पार्क बहुत अच्छा है। यहां पर बहुत से लोग घूमने आते हैं और मुझे लगता है कि यह पर बहुत से लोग सुबह की एक्सरसाइज और योग करने ज्यादा आते होगे। जागृति पार्क में बहुत से लोग अपना समय बिताने के लिए आते हैं। यह पार्क  बहुत अच्छी तरह से बना हुआ है। इस पार्क में हम लोग गए हैं, मगर हम लोग की किस्मत खराब थी। हम इस पार्क के अंदर नहीं जा पाए, क्योंकि इस पार्क के खुलने और बंद होने का एक नियमित समय होता है। तो अगर आप लोग इस पार्क में जाने का प्लान बना रहे हो, तो समय पर जाये। हमारी तरह ही कुछ लोग यहां पर आये थे और यहां पर इंतजार कर रहे थे। मगर क्या कर सकते है।  यह पार्क काफी सुंदर पार्क है। यहां पर आप अपना बहुत अच्छा टाइम बिता सकते हैं। मगर यहां आने से पहले समय का ध्यान रखें। यह पार्क का समय सुबह 5:30 से 8:30 बजे तक ओपन रहता है और दोपहर को 2:00 बजे से 5:00 बजे तक ओपन रहता है। तो आप अगर कभी भी इस पार्क में घूमने के लिए आते हैं, तो इस टाइम का जरूर ध्या

Bahoriband-Kankali Devi Temple Tigawa (कंकाली देवी मंदिर )

Kankali Devi Temple  कंकाली देवी मंदिर  कंकाली देवी मंदिर बहोरीबंद (Kankali Devi Temple) के पास के एक गांव में स्थित है। इस गांव में कंकाली देवी मंदिर ( Kankali Devi Temple ) के अलावा एक मंदिर और भी स्थित है। यह एक पुरातात्विक स्थल है और यहां पर आपको बहुत ढेर सारे खूबसूरत नक्काशी भरे पत्थर पर उकेरी गई कई कलाकृतियां देखने मिल जाएगी। यह एक बहुत प्राचीन स्थल है और आप इस जगह पर बहुत आसानी से आ सकते हैं। यह बहुत ही प्राचीन मंदिर है।  कंकाली देवी मंदिर  कंकाली देवी मंदिर ( Kankali Devi Temple )  कटनी जिले में स्थित है। यह कटनी जिले के बहोरीबंद तहसील ( Bahoriband Tehsil )  के पास स्थित है। आप इस मंदिर पर अपनी गाड़ी से आसानी से आ सकते हैं। इस मंदिर तक कोई भी टैक्सी या बस वगैरह नहीं चलती है। आपको अपनी गाड़ी से ही आना होगा। इस मंदिर तक आने के लिए आपको अच्छी सड़क मिल जाती है, या बहोरीबंद तहसील ( Bahoriband Tehsil ) से जो कटनी जिले की तहसील है वहां से 3 या 4 किलोमीटर दूर होगा, तो आप यहां पर अपनी गाड़ी से आसानी से आ सकते हैं। तिगवा में स्थापित पत्थर के शिवलिंग  आपको यहां