सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

Jain Mandir लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

आप हमारी मदद करना चाहते हैं, तो नीचे दिए लिंक से शॉपिंग कीजिए।

गोमटगिरी जैन मंदिर इंदौर - Gomatgiri Jain Temple Indore

गोमटगिरी दिगंबर जैन मंदिर इंदौर -  Gomat giri Digambar Jain Temple Indore गोमटगिरी जैन मंदिर इंदौर का एक जैन तीर्थ स्थल है। यह मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। पहाड़ी पर जाने के लिए रोड बनी हुई है। यहां पर सीढ़ियों से भी पहुंचा जा सकता है। यहां पर जैन धर्म के 24 तीर्थकारों की दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर प्रत्येक तीर्थकर के लिए अलग-अलग मंदिर बना हुआ है। यह मंदिर बहुत सुंदरता से बने हुए हैं। मंदिर एक लाइन से बने हुए हैं। बीच में गार्डन बना हुआ है और यहां पर भगवान बाहुबली की बहुत बड़ी मूर्ति देखने के लिए मिलती है। यहां पर शाम के समय आकर सूर्यास्त का नजारा देखना बहुत ही सुंदर लगता है। यहां पर छोटी सी दुकान है, जहां से आप चाय, कॉफी और नाश्ता कर सकते हैं। यहां पर भोजनालय भी है और रुकने की व्यवस्था है। यह व्यवस्था सिर्फ जैन लोगों के लिए है, जो जैन धर्म के लोग हैं। वही यहां पर रुक सकते हैं और भोजन कर सकते हैं।  हमारे इंदौर के सफर में, हम लोग गोमटगिरी जैन मंदिर घूमने के लिए गए थे। हम लोग बिजासन माता मंदिर घूमने के बाद, अपने सफ़र में आगे बढ़े।  हम लोगों को गोमटगिरी जैन मंदिर देखने का

भगवान आदिनाथ मंदिर खजुराहो - Adinath Temple Khajuraho

खजुराहो का जैन मंदिर - आदिनाथ मंदिर खजुराहो, A dinath Mandir Khajuraho भगवान आदिनाथ का मंदिर खजुराहो का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर पूर्वी मंदिर समूह में स्थित है। इस मंदिर में भगवान आदिनाथ की पत्थर के काले रंग की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है, जो बहुत ही खूबसूरत लगती है। यह मंदिर जैन मंदिर समूह में स्थित है। यह मंदिर एक ऊंचे चबूतरे पर बना हुआ है। मंदिर में जाने के लिए सीढ़ियां हैं। इस मंदिर की बाहरी दीवार में आपको मूर्तियां देखने के लिए मिलती है, जो बहुत ही आकर्षक लगती है।  आदिनाथ मंदिर की मूर्ति कला -  Adinath temple sculpture आदिनाथ मंदिर की दीवार मूर्ति से सुसज्जित है। इसकी मूर्तिकला अद्भुत है। इन मूर्ति में आपको बहुत सारी मूर्तियां देखने के लिए मिलती हैं, जो अलग-अलग मुद्राओं में यहां पर बनाई गई हैं। आदिनाथ मंदिर में नीचे की तरफ आपको बेल बूटे देखने के लिए मिलते हैं और ऊपर की तरफ बड़ी मूर्तियों की आपको तीन लाइन देखने के लिए मिलती है। इनमें आपको सुरसुंदरी या गंधर्व, देवी देवताओं की प्रतिमा देखने के लिए मिलती हैं। इनमें सुर सुंदरियां अलग-अलग मुद्राओं में देखने के लिए मिलती हैं कुछ

भगवान शांतिनाथ जैन मंदिर खजुराहो - Lord Shantinath Jain Temple Khajuraho

भगवान शांतिनाथ मंदिर खजुराहो - Shantinath temple khajuraho भगवान शांतिनाथ मंदिर खजुराहो का प्रसिद्ध मंदिर है। भगवान शांतिनाथ का मंदिर खजुराहो के पूर्वी मंदिर समूह में स्थित एक मंदिर है। खजुराहो में जैन मंदिर बहुत प्रसिद्ध है। यहां पर आपको शांतिनाथ भगवान का मंदिर देखने के लिए मिलता है। शांतिनाथ भगवान के मंदिर के अलावा भी यहां पर आपको पार्श्व नाथ मंदिर  और आदिनाथ का मंदिर देखने के लिए मिलता है। हम बात शांतिनाथ मंदिर के बारे में करेंगे। हम लोग यहां पर मुख्य प्रवेश द्वार से प्रवेश किए। यहां पर मंदिर बहुत ही सुंदर और साफ सुथरा है। यहां पर आपको मंदिर के अंदर चमड़े का कोई भी सामान ले जाने की अनुमति नहीं है। चप्पल बाहर उतरने के आदेश यहां पर एक बोर्ड पर लिखे हुए हैं। यह मंदिर बहुत ही खूबसूरत है। यह मंदिर  11वीं शताब्दी में बनाया गया था।  शांतिनाथ मंदिर के बाहर आपको चंदेल वंश के राष्ट्रीय चिन्ह की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यह प्रतिमा मंदिर के प्रवेश द्वार के दोनों तरफ देखने के लिए मिलती है। यह प्रतिमा सिंह की है। आप मंदिर के अंदर जाते हैं, तो मंदिर में भगवान शांतिनाथ की खड़ी हुई मुद्र

कुंडलपुर जैन मंदिर दमोह - Kundalpur Jain Mandir Damoh

कुंडलपुर जैन मंदिर और कुंडलपुर के बड़े बाबा का मंदिर - Kundalpur Jain Temple and Bade Baba Temple of Kundalpur   कुंडलपुर मध्य प्रदेश का एक प्रसिद्ध जैन धार्मिक स्थल है। यह धार्मिक स्थल मध्य प्रदेश के दमोह जिले में स्थित है। कुंडलपुर में आपको जैन मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। कुंडलपुर के जैन मंदिर बहुत बड़े क्षेत्र में फैले हुए हैं। यह पूरी पहाड़ी में फैले हुए हैं। यहां पर करीब आपको 35 से 36 मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर मुख्य मंदिर बड़े बाबा जी का है। कुंडलपुर में बड़े बाबा का मंदिर प्रसिद्ध है। बड़े बाबा जी की मूर्ति यहां पर बैठी हुई मुद्रा में विराजमान है। बड़े बाबा का मंदिर अभी भी बन रहा है। इस मंदिर में बहुत ही खूबसूरत नक्काशी आपको देखने के लिए मिलती है। यहां पर आप आकर बड़े बाबा के दर्शन कर सकते हैं।     हम लोग कुंडलपुर अपनी गाड़ी से गए थे। हम लोग दोपहर के समय कुंडलपुर पहुंचे थे। कुंडलपुर में अगर आप सारे मंदिर देखना चाहते हैं, तो आपको सुबह के समय आना चाहिए। सुबह के समय आपको यहां पर सभी मंदिर देखने के लिए मिल जाते हैं, क्योंकि सुबह के समय यह सभी मंदिर खुले हुए रहते हैं। आ