सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

Sanctuary लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

आप हमारी मदद करना चाहते हैं, तो नीचे दिए लिंक से शॉपिंग कीजिए।

रालामंडल अभयारण्य इंदौर - Ralamandal Sanctuary Indore

रालामंडल वन्यजीव अभयारण्य इंदौर    Ralamandal Wildlife Sanctuary Indore रालामंडल वन्यजीव अभयारण्य इंदौर की एक बहुत ही बढ़िया जगह है। यहां पर, जो भी प्राकृतिक प्रेमी है, उसके लिए यह जगह बिल्कुल परफेक्ट है। रालामंडल वन्यजीव अभ्यारण में जंगल का परिदृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर हरे भरे पेड़, ऊंची पहाड़ी और प्राचीन इमारत देखने के लिए मिलती है। यहां पर बहुत सारे जंगली जानवर भी हैं। हम लोग भी यहां पर घूमने के लिए गए थे। मगर यहां पर घूमने के लिए आप लोग जाए, तो थोड़ा ज्यादा समय निकाल कर जाएं। यह वन्यजीव अभ्यारण है। यहां पर बहुत सारे जंगली जानवर देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर ट्रैकिंग के लिए बहुत अच्छा ट्रेक बनाया गया है, जहां से आप ट्रैकिंग करके पहाड़ी के सबसे ऊपरी सिरे पर पहुंचते हैं और वहां पर एक शिकारगाह देखने के लिए मिलती है, जो बहुत ही सुंदर है। यहां से चारों तरफ का दृश्य देखने के लिए मिलता है। रालामंडल अभ्यारण बहुत बड़ी क्षेत्र में फैला हुआ है। हम लोग भी अपने इंदौर के सफर में, रालामंडल अभ्यारण पर घूमने के लिए गए थे। हम लोग ओमकालेश्वर घूमने के लिए जा रहे थे और हम लोग रालामंडल भी

चिड़ीखो वन्यजीव अभयारण्य नरसिंहगढ़ - Chidikho Wildlife Sanctuary Narsinghgarh

चिड़ीखो वन्यजीव अभयारण्य  या नरसिंहगढ़ वन्यजीव अभयारण्य नरसिंहगढ़,  राजगढ़      Chidikho Wildlife Sanctuary or Narsinghgarh Wildlife Sanctuary Narsinghgarh, Rajgarh चिड़ीखो वन्यजीव अभयारण्य नरसिंहगढ़ तहसील का एक मुख्य आकर्षण स्थल है। चिड़ीखो अभयारण्य राजगढ़ जिले के अंतर्गत आता है। नरसिंहगढ़ राजगढ़ जिले की एक तहसील है। नरसिंहगढ़ को मालवा का कश्मीर भी कहा जाता है। यहां पर चारों तरफ आपको ऊंचे ऊंचे पहाड़ देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर वन्य जीवन एवं वनस्पतियों को संरक्षित रखने के लिए इस अभयारण्य को बनाया गया है। यहां पर आपको शाकाहारी और मांसाहारी बहुत सारे जंगली जानवर देखने के लिए मिल जाते हैं। इस अभयारण्य को चिड़ीखो अभयारण्य इसलिए कहा जाता है, कि यहां पर आपको विशाल झील देखने के लिए मिलती है। इस झील  का  आकार चिड़िया के आकार का है। इसलिए इस अभयारण्य को चिड़ीखो अभयारण्य के नाम से जाना जाता है।  चिड़ीखो अभयारण्य को अलग-अलग नामों से जाना जाता है। इस अभयारण्य को नरसिंहगढ़ वन्यजीव अभयारण्य,  नरसिंहगढ़ अभयारण्य, चिड़िया खोह अभ्यारण, चिड़ीखो सेंचुरी, चिड़ीखो वाइल्डलाइफ सेंचुरी जैसे नामो

केन घड़ियाल अभयारण्य खजुराहो - Ken Gharial Sanctuary Khajuraho

केन घड़ियाल अभयारण्य - K en Ghadiyal Abhyaran Khajuraho केन घड़ियाल अभयारण्य खजुराहो नगर के पास में स्थित एक प्रसिद्ध जगह है। केन घड़ियाल अभयारण्य को केन वन्यजीव अभयारण्य, केन अभयारण्य, केंद्र सेंचुरी, केन घड़ियाल सेंचुरी के नाम से भी जाना जाता है। केन घड़ियाल अभयारण्य पन्ना टाइगर रिजर्व का ही एक हिस्सा है। यहां पर आपको घड़ियाल देखने के लिए मिल जाते हैं और मगरमच्छ देखने के लिए मिल जाते हैं। घड़ियाल का मुंह लंबा होता है और यह मगरमच्छ से छोटे रहते हैं। यह दोनों ही जानवर केन नदी पर देखने के लिए मिल जाते हैं। केन वन्य जीव अभ्यारण बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। यहां पर आप मगरमच्छ और घड़ियाल को देखने के अलावा भी अन्य वन्य प्राणी को भी देख सकते हैं। यहां पर आप मोर, चीतल, सियार, नीलगाय इन सभी जानवरों को देख सकते हैं।  यहां पर और जानवर रहते हैं, जो यहां पर शाम के समय आपको देखने के लिए मिल जाते हैं। दिन के समय जानवर आराम करते हैं इसलिए वह शाम के समय घूमने निकलते हैं।  हम लोग रानेह जलप्रपात घूम कर मगरमच्छ देखने के लिए केन घड़ियाल अभयारण्य में आगे बढ़े। हम लोगों को यहां पर कैंटीन वाले भैया ने ब