सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

Rivers of Madhya Pradesh लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

आप हमारी मदद करना चाहते हैं, तो नीचे दिए लिंक से शॉपिंग कीजिए।

सुनार नदी सागर - Sunar river sagar

सुनार नदी की जानकारी  और  सुनार नदी का उद्गम स्थल -  Sunar River Information and Sunar River Origin सुनार नदी मध्य प्रदेश की एक प्रमुख नदी है। सुनार नदी मध्य प्रदेश के सागर जिले से निकलती है। सुनार नदी मध्य प्रदेश के सागर और दमोह जिले में बहती हुई केन नदी से मिल जाती है। सुनार नदी केन नदी की सहायक नदी है और केन नदी से मिलने के बाद सुनार नदी का सफर खत्म हो जाता है। सुनार नदी सागर जिले के केसली तहसील से निकली है। सुनार नदी सागर और दमोह जिले के मैदानी और पहाड़ी क्षेत्रों से बहते हुए केन नदी से मिलती है। सुनार नदी केसली तहसील से बहते हुए गौरझामर तहसील में बहती है। उसके बाद यह रहली तहसील में में बहती है।  रहली तहसील में सुनार नदी की सहायक नदी देहर नदी भी देखने के लिए मिलती है। देहर नदी और सुनार नदी का संगम स्थल रहली तहसील में देखने के लिए मिलता है। यह बहुत सुंदर है। रहली तहसील में सुनार नदी के किनारे बहुत सारे प्राचीन मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर प्राचीन सूर्य देव का मंदिर देखने के लिए मिलता है और रहली का किला भी देखने के लिए मिलता है। रहली के बाद सुनार नदी गढ़ाकोटा तहसील

बीना नदी मध्य प्रदेश - Bina river Madhya Pradesh

बीना नदी की जानकारी  और  बीना नदी का उद्गम स्थल -  Bina River Information and  Bina River Origin बीना नदी मध्य प्रदेश की प्रमुख नदी है। बीना नदी बेतवा नदी की सहायक नदी है। बीना नदी मध्य प्रदेश के रायसेन जिले से निकलती है। बीना नदी मध्य प्रदेश के मैदानी भाग और पर्वतीय भाग से बहते हुए बेतवा नदी से मिल जाती है। बीना नदी रायसेन जिले से निकलकर सागर और विदिशा जिले में बहती है और विदिशा जिले में कुरवाई में बीना नदी का बेतवा नदी से संगम हो जाता है।  बीना नदी की उत्पत्ति रायसेन जिले के गैरतगंज तहसील से होती है।  गैरतगंज  तहसील से बहते हुए बीना नदी बेगमगंज तहसील में बहती है। उसके बाद बीना नदी सागर जिले में प्रवेश करती है और राहतगढ़ तहसील में बहती है।  सागर की राहतगंज तहसील में बीना नदी जीवन रेखा है, क्योंकि बीना नदी के पानी का उपयोग पीने के लिए यहां पर किया जाता है।   राहतगढ़ तहसील में बीना नदी सुंदर पहाड़ियों से बहती है। यहां पर बीना नदी का सौंदर्य देखते ही बनता है। यहां पर बीना नदी बहुत सुंदर लगती है। मगर यहां पर बीना नदी बहुत गहरी भी है।  यहां पर बहुत सारी दुर्घटनाएं हो चुकी हैं

तवा नदी मध्य प्रदेश - Tawa River Madhya Pradesh

तवा नदी की जानकारी  और  तवा नदी का उद्गम स्थल -  Tawa River Information and Tawa River Origin तवा नदी मध्य प्रदेश की प्रमुख नदी है। तवा नदी मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा जिले से निकलती है। तवा नर्मदा नदी की सहायक नदी है। तवा नदी मध्यप्रदेश के होशंगाबाद जिले में नर्मदा नदी से मिल जाती है। तवा और नर्मदा के संगम स्थल को बांद्राभान के नाम से जाना जाता है। यह जगह बहुत प्रसिद्ध है। यहां पर बहुत बड़ा मैदान देखने के लिए मिलता है। यहां पर हर साल  मकर संक्रांति के समय बहुत विशाल मेले का आयोजन किया जाता है। यह बांद्राभान होशंगाबाद से 7 किलोमीटर दूर है। तवा और नर्मदा नदी का संगम बहुत ही सुंदर लगता है। तवा नदी छिंदवाड़ा शहर से निकली है और यह छिंदवाड़ा शहर से निकलने के बाद बैतूल जिले में बहती है। बैतूल जिले की पहाड़ियों और घाटियों से बहते हुए, यह इटारसी में पहुंचती है और यह होशंगाबाद में जाकर नर्मदा नदी से मिल जाती है। तवा और नर्मदा नदी का संगम स्थान बहुत ही विशाल है। इस क्षेत्र में रेत का उत्खनन भी होता है। तवा नदी में यहां पर बहुत अधिक मात्रा में रेत निकाली जाती है। बांद्राभान जाने वाली सड़क में

धसान नदी मध्य प्रदेश - Dhasan River Madhya Pradesh

धसान नदी की जानकारी  और  धसान नदी का उद्गम स्थल -  Dhasan River Information and  D hasan river origin धसान नदी मध्य प्रदेश की महत्वपूर्ण नदी है। धसान नदी बेतवा नदी की सहायक नदी है। धसान नदी का उद्गम रायसेन जिले में होता है। धसान नदी का प्राचीन नाम दशार्ण है। धसान नदी घाटियों और मैदानी क्षेत्र से बहते हुए झांसी के पास बेतवा नदी से मिल जाती है। धसान नदी रायसेन के सुल्तानगंज से निकलती है। धसान नदी सुल्तानगंज से निकलकर सागर जिले में प्रवेश करती है और सागर जिले से यह धमोनी की सुंदर घाटियों में बहती है। यहां पर पूरा एरिया जंगल से भरा हुआ है और बहुत ही सुंदर लगता है। उसके बाद धसान नदी मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश की सीमा पर बहती है। उसके बाद धसान नदी टीकमगढ़ जिले में प्रवेश करती है।  टीकमगढ़ जिले में धसान नदी में सुजारा बांध बना हुआ है। यह बान सुजारा नामक जगह में बना हुआ है। इस बांध के बाद धसान नदी आगे बढ़ती है और मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश की सीमा पर बहती है। मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश की सीमा पर बहते हुए धसान नदी पर एक और बांध बनता है। यह बांध मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश की सी