सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

Ashram लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

आप हमारी मदद करना चाहते हैं, तो नीचे दिए लिंक से शॉपिंग कीजिए।

सती अनुसुइया चित्रकूट - Sati Anusuiya Chitrakoot

सती अनसूया चित्रकूट /  सती अनुसुइया / सती अनसूया मंदिर / परमहंस आश्रम चित्रकूट सती अनसूया मंदिर चित्रकूट की एक अद्भुत जगह है। यहां पर आपको प्रकृति का अनोखा दृश्य और एक भव्य मंदिर देखने के लिए मिलता है, जो माता सती अनुसुइया को समर्पित है। यहां पर परमहंसी आश्रम आपको देखने के लिए मिलता है। परमहंसी आश्रम में माता सती अनुसुइया जी का मंदिर है। मंदिर के अंदर आपको संतों की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। मंदिर की दीवारों पर आपको रामायण के बहुत सारे दृश्यों को चित्रों के माध्यम से और मूर्तियों के माध्यम से दर्शाया गया है।      सती अनुसुइया का महत्व - Importance of Sati Anusuiya मान्यताओं के अनुसार त्रिदेव पूज्य महर्षि अत्रि एवं माता अनसूया की तपोस्थली है। इसी स्थान पर माता अनुसुइया ने अपने तप के बल से ब्रह्मा जी विष्णु जी और शंकर जी को बालक के रूप में परिवर्तित कर दिया था और यहीं पर माता अनुसुइया ने माता सीता को पति धर्म के गूढ उपदेश दिए थे। यहीं पर माता अनुसुइया के तपोबल से मंदाकिनी गंगा का उद्गम हुआ था।     सती अनसूया मंदिर हम लोग ऑटो से गए थे। ऑटो वाले ने हम लोगों को सती अनसूया मंदि

भारद्वाज आश्रम इलाहाबाद - Bharadwaj Ashram Allahabad

भारद्वाज आश्रम इलाहाबाद  Bharadwaj Ashram Allahabad भारद्वाज आश्रम  प्रयागराज शहर की एक धार्मिक स्थल है। यहां पर आपको मंदिर देखने के लिए मिलता है। यहां मुख्य मंदिर  भारद्वाज  मुनि का है। यहां पर और भी मंदिर बने हुए हैं। मंदिर परिसर बहुत बड़ा है। यहां पर आपको श्री भरत कुंड देखने के लिए मिलता है, जहां पर भगवान राम ने यज्ञ किया था। मंदिर परिसर में आपको सीता कुंड और पार्वती कुंड भी देखने के लिए मिलता है। मंदिर परिसर में आपको माता संतोषी का प्राचीन मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। यहां पर  भारद्वाज  ऋषि के गुरु का भी मंदिर आपको देखने के लिए भी मिलता है। यहां पर एक प्राचीन  कुआं भी देख सकते हैं।  भारद्वाज  आश्रम के बारे में कहा जाता है, कि यहां पर श्री राम जी ने अपने वनवास काल के दौरान कुछ समय यहां पर बिताया था। जब श्री राम जी ने गंगा नदी पार किया था, तो उसके बाद भरद्वाज ऋषि ने उन्हें आश्रय दिया था और यहां पर वह कुछ समय तक रहे थे। यहां पर आपको श्री राम जी का मंदिर भी देखने के लिए मिलता है।  भारद्वाज ऋषि का परिचय महर्षि भारद्वाज आश्रम वैदिक काल में सबसे प्राचीन और पूज्यतम ऋषियों में से