सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

रोहतास (सासाराम ) जिले के पर्यटन स्थल - Rohtas (Sasaram) Tourist Places

रोहतास (सासाराम) जिले के दर्शनीय स्थल - Places to visit in Rohtas (Sasaram) / रोहतास (सासाराम) जिले के आसपास घूमने वाले प्रमुख जगह


रोहतास बिहार राज्य का एक मुख्य जिला है। रोहतास बिहार की राजधानी पटना से करीब 150 किलोमीटर दूर है। रोहतास की मुख्य नदी दुर्गावती है। दुर्गावती नदी पर एक बांध भी बना हुआ है। रोहतास में डेहरी में सोन नदी बहती है। रोहतास जिले का मुख्यालय सासाराम है। रोहतास जिला बहुत सुंदर है। यहां पर आपको पहाड़ी एरिया देखने के लिए मिलता है। यहां बरसात में बहुत सारे जलप्रपात देखे जा सकते हैं। रोहतास जिले का गठन 1972 में किया गया था। इसके पहले यह शाहाबाद जिले का हिस्सा हुआ करता था। रोहतास में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। चलिए जानते हैं - रोहतास में घूमने लायक कौन कौन सी जगह है। 


रोहतास (सासाराम) में घूमने की जगह - Rohtas (Sasaram) me ghumne ki jagah


शेरशाह सूरी का मकबरा रोहतास - Sher Shah Suri Tomb Rohtas

शेरशाह सूरी का मकबरा रोहतास का एक प्रमुख ऐतिहासिक पर्यटन स्थल है। यह रोहतास जिले के सासाराम में स्थित है। यह मकबरा बहुत सुंदर है। यह मकबरा एक तालाब के बीच में बना हुआ है। इस मकबरे तक जाने के लिए पुल बना हुआ है। यह मकबरा शेरशाह सूरी का है। शेरशाह सूरी जी का असली नाम फरीद खान था। वह भारत के महान शासकों में से एक थे। वह एक वीर, बुद्धिमान, कूटनीतिक, सेनानायक थे। यह मकबरा अफगान स्थापत्य कला का एक श्रेष्ठ उदाहरण है। 

शेरशाह सूरी के मकबरे में प्रवेश करने के लिए एंट्री चार्ज लिया जाता है। यहां पर 20 रूपए एंट्री चार्ज लिया जाता है। विदेशी व्यक्तियों के लिए एंट्री चार्ज अलग रहता है। यह मकबरा भारत में स्थित अफगान स्थापत्य कला शैली के सर्वोत्तम उदाहरणों में से एक है। यह मकबरा एक विशाल तालाब के बीच में पत्थरों से निर्मित चबूतरे पर, इमारत का निर्माण ईटों से किया गया है। 9.15 मीटर ऊंचे इस चबूतरे को चारों ओर से दीवार से घेर दिया गया है, जिसके चारों कोनों पर अष्टकोणीय भू योजना वाले गुंबद युक्त मंडपों का निर्माण किया गया है। 

इसी चबूतरे के मध्य अष्टकोणीय भू विन्यास मुख्य मकबरा निर्मित है, जिसका एक भुजा की लंबाई लगभग 17 मीटर है और इसके चारों ओर 3.10 मीटर चौड़ा बरामदा है। यहां पर गुंबद के आठों कोणों पर छोटे गुंबद युक्त छतरियां देखने के लिए मिलती है। चबूतरे सहित मकबरे की कुल ऊंचाई 37.57 मीटर है। मकबरे की दीवार के ऊपरी भाग पर बने झरोखों से मकबरे के अंदर हवा और प्रकाश आता है। मकबरे में एक शिलालेख के अनुसार शेरशाह के पुत्र सलीम शाह के द्वारा हाजरी संवतः 952 को जुमदा के सातवें दिन में शेरशाह की मृत्यु के 3 महीने बाद, इस मकबरे का निर्माण कार्य संपन्न हुआ था। 

शेरशाह सूरी का मकबरा सासाराम में घूमने वाली मुख्य जगह है। आप यहां पर अपने फैमिली और दोस्तों के साथ आ सकते हैं। यहां पर गार्डन बना हुआ है, जहां पर आप बैठकर इस मकबरे के सुंदर दृश्य को देख सकते हैं। यह सासाराम रेलवे स्टेशन से करीब 1 किलोमीटर दूर है। यहां पर आप आराम से पहुंच सकते है। 


हसन खान सूरी का मकबरा रोहतास - Hassan Khan Suri Tomb Rohtas

हसन खान सूरी का मकबरा रोहतास का एक प्रमुख ऐतिहासिक स्थल है। यह मकबरा रोहतास जिले में सासाराम में स्थित है। यह मकबरा बहुत सुंदर है। इस मकबरे में आपको अष्टकोणीय डिजाइन देखने के लिए मिलता है और इसमें केंद्रीय भाग में एक बड़ा सा गुंबद बना हुआ है। इस गुंबद के चारों तरफ छोटे-छोटे गुंबद बने हुए हैं। 

यह मकबरा बहुत सुंदर है और आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। यह मकबरा सासाराम मकबरे से करीब 10 मिनट की दूरी पर स्थित है। आप यहां पर आराम से पहुंच सकते हैं और इस मकबरे की खूबसूरती को देख सकते हैं। मकबरे के चारों तरफ ग्राउंड बना हुआ है और बाउंड्री वॉल उठा दी गई है। यह सासाराम में घूमने लायक एक मुख्य जगह है। 


मंझार कुंड जलप्रपात रोहतास - Manjhar Kund Falls Rohtas

मंझार कुंड जलप्रपात रोहतास का एक प्राकृतिक पर्यटन स्थल है। यह जलप्रपात बहुत सुंदर है। यह जलप्रपात कैमूर की पहाड़ियों पर स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए बरसात के समय आ सकते हैं। यहां पर बहुत अच्छा लगता है। यहां पर चारों तरफ का दृश्य प्राकृतिक रहता है। यह जलप्रपात जुलाई से अक्टूबर तक घूमने के लिए एक परफेक्ट डेस्टिनेशन है। यहां पर आप अपने फैमिली और दोस्तों के साथ घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर आप स्नान भी कर सकते हैं। 


धुआ कुंड जलप्रपात रोहतास - Dhua Kund Falls Rohtas

धुआ कुंड जल प्रपात रोहतास का एक प्रमुख प्राकृतिक पर्यटन स्थल है। यह रोहतास का एक मुख्य आकर्षण स्थल है। यहां पर आपको चारों तरफ प्राकृतिक दृश्य देखने के लिए मिलता है। यह  झरना कैमूर की पहाड़ी पर स्थित है। यह झरना ऊंची चट्टानों से नीचे गिरता है। यहां पर व्यू प्वाइंट बना हुआ है, जहां से आप झरने का सुंदर दृश्य देख सकते हैं। 

यहां पर आपको एक मंदिर देखने के लिए मिलता है। इस मंदिर को धुआं कुंड मंदिर के नाम से जाना जाता है। यहां पर आकर आप अपना अच्छा समय बिता सकते हैं। यहां पर आप बरसात के समय आ सकते हैं। यहां पर आपको रेस्ट हाउस भी देखने के लिए मिलता है, जो टूरिस्ट के लिए बना हुआ है। यह जगह बहुत अच्छी है। यह जगह जंगल और पहाड़ों से घिरी हुई है। बरसात में यहां पर चारों तरफ हरियाली रहती है। 


तारा चंडी मंदिर रोहतास - Tara Chandi Temple Rohtas

तारा चंडी मंदिर रोहतास जिले का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर रोहतास जिले के मुख्यालय सासाराम से करीब 8 किलोमीटर दूर है। यह मंदिर कैमूर की पहाड़ियों के पास स्थित है। यह मंदिर 1 शक्तिपीठ के रूप में प्रसिद्ध है। पौराणिक कथाओं के अनुसार जब शंकर भगवान जी, सती माता के मृत शरीर को लेकर तांडव कर रहे थे। तब विष्णु भगवान जी ने माता के शरीर को अपने चक्र से काट दिया था और यहां पर माता की सीधी आंख गिरी थी। 

यहां पर आपको गर्भगृह में माता की बहुत सुंदर प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यह जगह बहुत सुंदर है। मंदिर के पीछे कैमूर की सुंदर पहाड़ियां देखने के लिए मिलती है। यहां पर तालाब देखने के लिए मिलता है। यहां पर नवरात्रि में बहुत ज्यादा भीड़ रहती है। बहुत सारे लोग यहां पर घूमने के लिए आते हैं। यहां पर प्रसाद की बहुत सारी दुकान है, जहां से आप माता को अर्पित करने के लिए प्रसाद ले सकते हैं। मंदिर का रखरखाव भी अच्छी तरह से किया जाता है। यहां आकर माता के दर्शन करने में बहुत शांति मिलती है। यह सासाराम के पास घूमने लायक एक मुख्य जगह है। 


हनुमान धारा जलप्रपात रोहतास - Hanuman Dhara Falls Rohtas

हनुमान धारा जलप्रपात रोहतास में ताराचंडी मंदिर के पास में स्थित एक सुंदर जलप्रपात है। यह जलप्रपात बहुत ही आकर्षक लगता है। जलप्रपात का पानी चट्टानों के ऊपर से बहता है। यह  जलप्रपात कैमूर की पहाड़ियों में स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं और एंजॉय कर सकते हैं। आप यहां पर नहाने का मजा ले सकते हैं। यह जलप्रपात बरसात के समय देखने के लिए मिलता है। 


शिव धारा जलप्रपात रोहतास - Shiv Dhara Falls Rohtas

शिव धारा जलप्रपात रोहतास जिले में कैमूर की पहाड़ियों पर स्थित है। यह जलप्रपात भी बहुत सुंदर है। यह जलप्रपात बहुत आकर्षक है और आपको बरसात के समय देखने के लिए मिलता है। इस जलप्रपात का पानी ऐसा लगता है, जैसे सीढ़ियों से गिर रहा हो। यह जलप्रपात चट्टानों के ऊपर से बहता है। 


मां तुतला भवानी इको पर्यटन स्थल रोहतास - Maa Tutla Bhavani Eco Tourist Place Rohtas

मां तुतला भवानी इको पर्यटन स्थल रोहतास का एक प्रमुख प्राकृतिक पर्यटन स्थल है। यह रोहतास में घूमने वाली एक मुख्य जगह है। मां तुतला भवानी मंदिर रोहतास जिले में तिलौथू प्रखंड में स्थित है। यह मंदिर प्राचीन है। यह मंदिर रोहतास जिले के मुख्यालय सासाराम से करीब 38 किलोमीटर दूर है। यहां मंदिर कैमूर की पहाड़ियों पर बना हुआ है। यह जगह धार्मिक होने के साथ-साथ प्रकृति भी है। यहां पर चारों तरफ आपको जंगल, घाटी, नदी, पहाड़ और झरने का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर मंदिर के पास में ही एक झरना बहता है, जो बहुत सुंदर है। यह झरना ऊंची पहाड़ी से गिरता है और यह झरना कुंड में गिरता है। यहां पर बहुत सारे लोग इंजॉय करते हैं। यहां पर आपको एक हैंगिंग पुल भी देखने के लिए मिलता है, जो बहुत ही मजेदार रहता है। 

मां तुतला भवानी मंदिर प्राचीन है। यहां पर एक शिलालेख पाया गया है, जो 1158 ईसवी का है। इस शिलालेख के अनुसार, मां दुर्गा की प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा के समय खाखर वंश के राजा धवल प्रताप देव प्रथम के द्वारा स्थापित करवाया गया है। शिलालेख में राजा धवल प्रताप देव की पत्नी सल्ही, भाई त्रिभुवन धवल, पुत्र विक्रम धवल देव, साहस धवल देव तथा पांच पुत्रियों के साथ पूजा अर्चना के साथ प्राण प्रतिष्ठा का उल्लेख है। मां भवानी की अष्टभुजी मूर्ति में गढ़वाल कालीन कला की सुंदर झलक है। प्रतिमा देखने से पता चलता है, कि महिषासुर की गर्दन से रक्त निकाल रहा है, जिस पर देवी अपने दोनों हाथों से पकड़कर त्रिशूल से मार रही है। 

यहां पर नवरात्रि में बहुत बड़ा मेला लगता है और यहां पर लोग माता के दर्शन करने के लिए आते हैं। यहां आकर बहुत अच्छा लगता है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं और इस जगह का आनंद ले सकते हैं। यह जगह प्राकृतिक सौंदर्य से भरी हुई है। यह रोहतास की सबसे अच्छी जगह है। 


गीता घाट आश्रम और जलप्रपात रोहतास - Geeta Ghat Ashram and Waterfall Rohtas

गीता घाट आश्रम और जलप्रपात रोहतास का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। गीता घाट आश्रम और जलप्रपात रोहतास में दरिगांव में स्थित है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। यह जगह प्राकृतिक सुंदरता से भरी हुई है। यहां पर बरसात के समय सुंदर जलप्रपात देखने के लिए मिलता है, जो ऊंची चट्टानों से बहता है। यहां आकर बहुत अच्छा लगता है। यहां पर आपको सुंदर पहाड़ी देखने के लिए मिलती है। यहां पर आपको गीता घाट बाबा मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। इस मंदिर में आपको आकर अच्छा लगेगा। जलप्रपात तक पहुंचने के लिए आपको ट्रैकिंग करनी पड़ती है। मगर यहां पर पहुंच कर आपको बहुत मजा आएगा। 


रोहतासगढ़ का किला रोहतास - Rohtasgarh Fort Rohtas

रोहतास गढ़ का किला रोहतास जिले में स्थित एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह एक ऐतिहासिक किला है। यह किला प्राचीन है। माना जाता है, की रोहतासगढ़ किले की स्थापना महान राजा हरिश्चंद्र के पुत्र रोहिताश्‍व के द्वारा की गई थी। यह किला ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। यह किला सोन नदी की घाटी पर बना हुआ है। यह किला जिला मुख्यालय सासाराम से 55 किलोमीटर दूर है। यह किला ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। जिससे इस किले से चारों तरफ का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। 

इसके अलावा किले के अंदर भी बहुत सुंदर सुंदर जगह है, जो देखी जा सकती है। इस किले के अंदर आपको गणेश मंदिर, हाथी दरवाजा, हैंगिंग घर, हथिया पोल, आइना महल, जामा मस्जिद, दीवान ए खास, दीवान ए आम, रोहताश मंदिर देखने के लिए मिलता है। रोहतासगढ़ किले के आस पास बहुत सारे प्राकृतिक जलप्रपात देखने के लिए मिलते हैं। यह जलप्रपात आपको बरसात के समय देखने के लिए मिल जाते हैं। 

यह जगह बहुत सुंदर है। यहां पर आकर आप अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। किला वैसे अच्छी हालत में नहीं है। मगर किले में आप घूम सकते हैं। यह किला बहुत बड़ा है। इस किले में बहुत सारे राजाओं ने राज किया है। इस किले में  शेरशाह सूरी, राजा मान सिंह, ने राज्य किया है। आप यहां पर अपना अच्छा समय व्यतीत कर सकते हैं। 


चौरासन शिव मंदिर रोहतास - Chaurasan Shiv Temple Rohtas

चौरासन शिव मंदिर रोहतास जिले का एक मुख्य मंदिर है। यह मंदिर रोहतास जिले में, रोहतास प्रखंड में स्थित है। यह मंदिर ऊंची पहाड़ी पर, पहाड़ी के छोर पर बना हुआ है। यह मंदिर रोहतास किले के पास में स्थित है। आप जब भी रोहतास किला घूमने के लिए आते हैं, तो आप इस मंदिर में भी घूमने के लिए आ सकते हैं। 

यह मंदिर एक ऊंचे चबूतरा का बना हुआ है, जहां पर जाने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। यह मंदिर बहुत ऊंचाई पर बना हुआ है। मंदिर अब खंडित हो गया है। मगर आप मंदिर के अंदर जा सकते हैं। मंदिर के अंदर शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के बाहर नंदी भगवान जी की प्रतिमा विराजमान है। यह मंदिर बहुत ही जबरदस्त दिखता है। मंदिर के आसपास, मंदिर के बिखरे हुए अवशेष देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर सावन सोमवार में बहुत सारे लोग घूमने के लिए आते हैं। यहां पर आपको प्रकृति की अनुपम छटा देखने के लिए मिलती है। यह रोहतास में घूमने लायक एक मुख्य जगह है। 


इंद्रपुरी बैराज रोहतास - Indrapuri Barrage Rohtas

इंद्रपुरी बैराज रोहतास में घूमने वाली एक मुख्य जगह है। इंद्रपुरी बैराज सोन नदी पर बना हुआ है। इस बैराज को सोन बैराज के नाम से भी जाना जाता है। यह बहुत सुंदर है। आप यहां पर पिकनिक मनाने के लिए आ सकते हैं और यहां पर अच्छा समय बिता सकते हैं। यह मुख्य तौर पर सिंचाई के लिए बनाया गया है। यहां पर आपको सोन नदी का बहुत सुंदर दृश्य देखने के लिए मिल जाता है। यहां पर छोटा सा गार्डन भी बना हुआ है, जहां पर आप अपना समय बिता सकते हैं। 


महायोगी पायलट बाबा आश्रम रोहतास - Mahayogi Pilot Baba Ashram Rohtas

महायोगी पायलट बाबा आश्रम रोहतास का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यहां पर आपको बहुत सारे देवी देवताओं की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यहां पर आपको साईं बाबा जी, कबीर जी, गुरु नानक जी, शंकर जी, कृष्ण जी, राम दरबार, विष्णु भगवान के अवतार, मां दुर्गा जी, गांधी जी, भारत माता, भैरव बाबा, महाकाली जी, लक्ष्मी जी, गणेश जी की बहुत सुंदर सुंदर प्रतिमाएं देखने के लिए मिलती हैं। इसके अलावा भी इस जगह पर आपको और भी देवी-देवताओं की सुंदर प्रतिमाएं देखने के लिए मिलती है। 

यहां पर आपको शिव भगवान जी की बहुत बड़ी प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। इस आश्रम के प्रवेश द्वार में ही आपको विष्णु भगवान जी की वैकुंठ निवासी प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यहां आकर बहुत अच्छा लगता है। यह शांत जगह है। यह मंदिर परिसर बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। यहां पर बहुत सारे देवी देवता विराजमान है। यहां पर बुद्ध भगवान जी की 80 फुट ऊंची प्रतिमा विराजमान है। यहां पर छोटा सा चिड़ियाघर भी बना हुआ है। 

यह आश्रम रोहतास जिले में जीटी रोड में स्थित है। यह रोहतास जिले में सासाराम से करीब 5 किलोमीटर दूर है और आप यहां पर आराम से पहुंच सकते हैं। यहां पर आपको गौतम बुद्ध जी की बहुत बड़ी प्रतिमा देखने के लिए मिलती है, जो बहुत सुंदर लगती है। यहां पर गौतम बुद्ध जी की और भी बहुत सारी प्रतिमाएं हैं। यहां पर आकर आप अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। आपको यहां बहुत शांति मिलेगी। 


गुप्त धाम महादेव मंदिर रोहतास - Gupta Dham Mahadev Temple Rohtas

गुप्त धाम महादेव मंदिर रोहतास का एक धार्मिक स्थल है। इस मंदिर को गुप्तेश्वर धाम के नाम से भी जाना जाता है। यह मंदिर रोहतास में कैमूर की पहाड़ियों में स्थित है। यह मंदिर रोहतास जिले में शेरघाट के पास स्थित है। शेरघाट से इस मंदिर तक जाने के लिए पैदल चलना पड़ता है। इस मंदिर तक जाने के लिए आपको घना जंगल, पहाड़ी, घाटी, चढ़ाई, पहाड़, नदी यह सभी देखने मिलते है। इन सभी मार्गों से पैदल चलते हुए, आप इस मंदिर तक पहुंचते हैं। वैसे यहां का दृश्य देखने लायक रहता है। चारों तरफ हरियाली रहती है, जो मन को भाती है। 

गुप्त धाम महादेव मंदिर साल भर में, महाशिवरात्रि और सावन सोमवार के समय ही खुलता है। आपको यहां पर एक गुफा देखने के लिए मिलती है। इस गुफा में आपको लाइमस्टोन से बने हुए शिवलिंग देखने के लिए मिलते हैं। गुफा में आपको लाइमस्टोन की चट्टाने देखने के लिए मिलती हैं। यहां पर सावन सोमवार के समय बहुत सारे लोग आते हैं और गुफा में प्रवेश करते हैं। इस गुफा के पास में आपको एक खूबसूरत जलप्रपात भी देखने के लिए मिलता है, जो ऊंची चट्टानों से गिरता है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। आपको मजा आएगा। यह यात्रा आपकी एडवेंचरस होगी। 


धवल कुंड जलप्रपात रोहतास - Dhawal Kund Falls Rohtas

धवल कुंड जलप्रपात रोहतास का एक मुख्य झरना है। यह झरना गुप्त धाम के पास में स्थित है। आप गुप्त धाम घूमने के लिए जाते हैं, तो इस झरने में भी घूमने के लिए जा सकते हैं। यहां पर बहुत ऊंची चट्टान से पानी, कुंड पर गिरता है। आप यहां पर नहाने का मजा ले सकते हैं। अगर आपको तैरना नहीं आता है, तो आप कुंड में ना जाएं। यहां पर आपको चारों तरफ प्राकृतिक दृश्य देखने के लिए मिलता है, जो बहुत ही सुंदर रहता है। 


दुर्गावती जलाशय परियोजना रोहतास - Durgavati Reservoir Project Rohtas

दुर्गावती जलाशय परियोजना रोहतास जिले का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह रोहतास में घूमने लायक एक मुख्य स्थल है। इस बांध को करमचट बांध के नाम से भी जाना जाता है। यह बांध बहुत खूबसूरत है। यह बांध दुर्गावती नदी में बना हुआ है। यहां पर आपको पहाड़ी का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है, जो बहुत ही अद्भुत लगता है। यह जगह बरसात में स्वर्ग से भी सुंदर लगती है। 

यह बांध चारों तरफ से पहाड़ी से घिरा हुआ है। आप यहां पर पिकनिक मनाने के लिए आ सकते हैं। यह रोहतास का पिकनिक स्पॉट है। यह जगह बहुत सुंदर है। आप यहां पर अपनी गाड़ी और बाइक से आ सकते हैं। यह बांध बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। शाम के समय यहां पर आपको सूर्यास्त का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। 


शेरगढ़ का किला रोहतास - Shergarh Fort Rohtas

शेरगढ़ का किला रोहतास का एक मुख्य किला है। यह किला अफगान के शासक शेरशाह सूरी का था। इसलिए इसे शेरगढ़ का किला के नाम से जाना जाता है। यह एक ऐतिहासिक किला है। अब आपको यहां पर खंडहर ही देखने के लिए मिल जाते हैं। 

यह किला दुर्गावती जलाशय परियोजना के पास में स्थित है। इस किले तक पहुंचने के लिए आपको ट्रैकिंग करके जाना पड़ता है। आपको यहां ट्रैकिंग में बहुत मजा आएगा। इस किले से सूर्यास्त का बहुत ही मनोरम दृश्य देखने के लिए मिलता है। यह  किला जंगल के अंदर स्थित है। आपको यहां पर जंगली जानवर भी देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर पहुंचकर आप अपना अच्छा समय बिता सकते हैं। 


प्राचीन धूप घड़ी रोहतास - Ancient Sun Clock Rohtas

प्राचीन धूप घड़ी रोहतास में स्थित एक ऐतिहासिक स्थल है। यह धूप घड़ी 1871 में बनाई गई थी। यह धूप घड़ी रोहतास में डिहरी में स्थित है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं और इस धूप घड़ी को देख सकते हैं। यह धूप घड़ी पत्थर के एक प्लेटफार्म में बनाई गई है। यहां पर सूरज की परछाई के अनुसार, समय का पता लगाया जाता था। इस धूप घड़ी को आप देख सकते हैं। यह धूप घड़ी ब्रिटिश लोगों के द्वारा बनाई गई थी। इस धूप घड़ी को डिहरी धूप घड़ी के नाम से भी जाना जाता है। 


गुरुद्वारा चाचा फग्गूमल साहिब जी रोहतास - Gurdwara Chacha Faggumal Sahib Ji Rohtas

गुरुद्वारा चाचा फग्गूमल साहिब जी रोहतास शहर का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह एक सिख धार्मिक स्थल है। यह गुरुद्वारा रोहतास में सासाराम में जानी बाजार में स्थित है। यह एक ऐतिहासिक गुरुद्वारा है। यहां पर गुरु तेग बहादुर जी ने अपनी यात्रा में रोहतास में 21 दिन तक रुके थे। यहां पर उनके चाचा फग्गूमल जी भी थे। यह गुरुद्वारा बहुत सुंदर है और आप यहां पर आ कर इस गुरुद्वारे को देख सकते हैं। यहां पर आकर आप गुरुवानी सुन सकते हैं और दर्शनीय खड़ाऊ साहिब देख सकते हैं। 


रोहतास (सासाराम) के अन्य प्रसिद्ध पर्यटन स्थल - Famous Tourist Places in Rohtas (Sasaram)

कशिस झरना रोहतास 
हजरत शाह जलाल पीर की दरगाह सासाराम रोहतास
हदहदवा डैम ब्रिज डेहरी रोहतास
पनारी जलप्रपात गुप्त धाम कुसुंभा रोहतास
अमारा तालाब और मंदिर रोहतास
इको पार्क डेहरी रोहतास
झारखंडी मंदिर डेहरी रोहतास 
माँ लखपति मंदिर डेहरी रोहतास
शिवगंगा मंदिर डेहरी रोहतास
त्रिनेत्र शिव गुफा मंदिर सासाराम रोहतास 
चंदन शहीद मस्जिद सासाराम रोहतास



पूर्वी चंपारण में घूमने की जगह
पश्चिमी चंपारण में घूमने की जगह
बांका में घूमने की जगह
मधुबनी में घूमने की जगह
लखीसराय में घूमने की जगह


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।