सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

बेल का पौधे (Bael plant) के औषधीय गुण के बारे में जानकारी

  बेल (बिल्व) का पौधा - Bel (Bilva) plant  बेल का अंग्रेजी नाम - वुड एप्पल  बेल का वानस्पतिक नाम - एग्ले मार्मेलोस कोरेआ एक्स रौक्स  बेल एक मुख्य औषधीय पौधा है। बेल भारत में हर जगह मिलता है। बेल का पौधा धार्मिक रूप से भी महत्वपूर्ण है। बेलपत्री शिव भगवान जी की प्रिय है और लोग इसे शिव भगवान जी को चढ़ाते हैं। बेल पत्री को महाशिवरात्रि और सावन सोमवार के समय धड़ल्ले से बेचा जाता है और इसे खूब पैसा कमाया जाता है। बेल का फल औषधि रूप से महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह शरीर के रोग को ठीक करता है। बेल के औषधीय गुणों के बारे में लोगों को जानकारी नहीं है। मगर बेल के धार्मिक महत्व के बारे में सभी लोगों को पता है और सभी लोग बेल पत्री का उपयोग करते हैं। इस ब्लॉग के माध्यम से हम बेल के पौधे और उसके औषधीय गुणों के बारे में जानकारी देने वाले हैं।  बेल का पौधा 15 से 25 फीट ऊंचा होता है। बेल के पौधे में कांटे लगे होते हैं। बेल का पौधा भारत में सभी जगह पाया जाता है। बेल का पौधा घरों में और जंगलों में आराम से देखने के लिए मिल जाता है। जंगल में, जो बेल का पौधा पाया जाता है। उसके बेल छोटे-छोटे रहते हैं और घरों में

अपामार्ग/लटजीरा/चिरचिटा (Apamarga / Latjira / Chirchita) के औषधि गुण के बारे में जानकारी

अपामार्ग (चिरचिटा) का पौधा  A pamarga (Chirchita) plant अपामार्ग का वानस्पतिक नाम - एकायरेन्थिस् एस्पेरा  अपामार्ग का अंग्रेजी नाम - वाशरमैन्स प्लान्ट , दी प्रिक्ली-चाफ फ्लॉवर अपामार्ग एक मुख्य औषधीय पौधा है। अपामार्ग का पौधा छोटा सा झाड़ी नुमा होता है। अपामार्ग पौधे को लटजीरा, चिचींडा और चिरचिटा पौधे के नाम से भी जाना जाता है। लटजीरा और चिरचिटा इस पौधे के हिंदी नाम है। इसे गांव और शहरों के अधिकतर इलाकों में इसी नाम से जाना जाता है। यह पौधा बरसात के समय स्वयं उग जाता है। यह जंगली झाड़ी के समान उग जाता है। यह पौधा खाली जमीन में कहीं पर भी उग जाता है। यह पौधा आपने अपने घर के आस-पास मैदान में या रास्ते में जरूर देखा होगा। मगर आप इस पौधे के औषधीय गुण के बारे में नहीं जानते होंगे।  चिरचिटा पौधे में पत्तियां हरी और गोल आकार की होती हैं और नुकीली होती है। चिरचिटा का पौधा दो प्रकार का होता है - हरा अपामार्ग का पौधा और लाल अपामार्ग का पौधा। हरा अपामार्ग का पौधा और लाल अपामार्ग का पौधा दोनों ही उपयोगी है। यह पौधा बरसात में स्वयं उग जाता है और धीरे धीरे बढ़ता है। उसके बाद इस में शीत ऋतु में फूल ए

आंवला का पौधे (Amla plant) के औषधीय गुण के बारे में जानकारी

आंवला ( आमला ) का पौधा - A anwala ( Amla ) ka Paudha आंवले का अंग्रेजी नाम - इंडियन गूसबेरी, एम्बलिक मायरोबालान ट्री  आमले का वैज्ञानिक नाम  - एंब्लिका ओफ्फीचिनालिस   आंवला एक मुख्य औषधीय पौधा है।  आंवला एक खाद्य पदार्थ है। आंवले को आमला, अमला के नाम से भी जाना जाता है। आंवले का उपयोग बहुत सारे कामों में किया जाता है। आंवला का फल बहुत पौष्टिक होता है और इसमें विटामिन सी बहुत अधिक मात्रा में होता है। आंवले का फल को प्रतिदिन आप खाएंगे, तो आपको आयरन की कमी नहीं होगी, आंखों की रोशनी बरकरार रहेगी, बाल काले रहेंगे और आपके शरीर में बहुत सारे फायदे होंगे। आंवला का फल आपने बाजार में जरूर देखा होगा। घरों में आंवले का अचार रखा जाता है। आंवला बहुत महत्वपूर्ण है। आंवले का जूस, ड्राई आंवला, आंवला कैंडी, आंवला पाउडर, आंवले का मुरब्बा और भी बहुत सारी चीजें बनाकर, आंवले का उपयोग किया जाता है। आज हम आंवले के बारे में बहुत सारी बातें जानेंगे।  आंवला का पौधा -  amla plant आंवले का पौधा आपने जरूर देखा होगा। आंवले का पौधा 20 से 25 फुट ऊंचा रहता है। आंवले की जो पत्तियां रहती हैं। वह छोटी-छोटी रहती हैं। आंवला

अकरकरा पौधे (Akarkara Plant) के औषधीय गुणों के बारे में जानकारी

  अकरकरा का पौधा -  Akarkara ka Paudha अकरकरा का वानास्पतिक नाम - ऐनासाइक्लस पाइरेथम अकरकरा का अंग्रेजी में नाम - Pellitory Root अकरकरा एक मुख्य औषधीय पौधा है। अकरकरा का पौधा बरसात के समय देखने के लिए मिलता है। यह पौधा हमारे घरों के आसपास, नालों के किनारे, मैदानों में, जंगलों में पाया जाता है। मगर हमें इसकी जानकारी नहीं है और हम इस बहुमूल्य पौधे को गाजर घास समझकर ऐसे ही छोड़ देते हैं। मगर यह पौधा अमूल्य है। अकरकरा पौधा बरसात में उगता है और यह पौधा औषधीय गुणों से भरपूर रहता है। इस पौधे के फूल, पत्तियां और जड़ सभी उपयोगी होते हैं। हमारे आस पास कितने तरह  के   मूल्यवान औषधि हैं, जिनके बारे में हमें पता नहीं है और हम महंगी दवाइयों में पैसे खर्चा करते हैं।  अकर्करा पौधे की जड़ एवं पाउडर बहुत महंगे दामों में बेचा जाता है, जो आप इंटरनेट में सर्च करके देख सकते हैं।  अकरकरा पौधा छोटे आकार का रहता है और इस पौधे की पत्तियां हरे रंग की रहती हैं। पत्तियों का आकार गोल होता है। अकरकरा पौधे में पीले कलर के छोटे-छोटे फूल लगते हैं। मैंने बचपन में इस पौधे के फूल को जीभ में रखा था, तो जीभ झनझाना जाती है औ

माउंट आबू के प्रमुख पर्यटन स्थल - Mount Abu tourist places

माउंट आबू हिल स्टेशन सिरोही राजस्थान माउंट आबू के दर्शनीय स्थल - Places to visit in Mount Abu /  माउंट आबू में देखने लायक जगह  माउंट आबू हिल स्टेशन राजस्थान का एकमात्र हिल स्टेशन है।  माउंट आबू राजस्थान के सिरोही जिले में स्थित है। माउंट आबू एक हिल स्टेशन है। यहां पर घूमने के लिए बहुत सारी जगह है, जहां पर आप अपना अच्छा समय बिता सकते हैं। माउंट आबू में आपको खूबसूरत वादियां, ऊंचे ऊंचे पहाड़, व्यू प्वाइंट, झील, जंगली जानवर, देखने के लिए मिलते हैं। माउंट आबू हिंदू एवं जैन लोगों के लिए महत्वपूर्ण स्थल है। माउंट आबू समुद्र तल से 1219 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। माउंट आबू में अरावली पर्वत की सबसे ऊंची चोटी स्थित है। माउंट आबू का इतिहास बहुत रोचक है। माउंट आबू में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। चलिए जानते हैं - माउंट आबू में क्या-क्या है।  Mount Abu mein ghumne ki jagah -  माउंट आबू में घूमने की जगह  देलवाड़ा जैन मंदिर माउंट आबू - Delwara Jain Temple Mount Abu देलवाड़ा जैन मंदिर माउंट आबू का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह जैन श्वेतांबर मंदिर है। यह मंदिर बहुत सुंदर है। यह मंदिर पूरा सफ़ेद मार्बल से बन

वर्ल्ड अर्थ डे की जानकारी - world earth day information

वर्ल्ड अर्थ डे या विश्व पृथ्वी दिवस - पृथ्वी को बचाने का प्रयास World Earth Day or Vishva Prithvi Divas - Efforts to Save the Earth वर्ल्ड अर्थ डे या विश्व पृथ्वी दिवस भारत और अन्य देशों में मनाया जाने वाला एक मुख्य आयोजन है। यह पूरे देश और विश्व में मनाया जाता है। अर्थ डे का मुख्य उद्देश्य पर्यावरण का संरक्षण है। पर्यावरण का अर्थ होता है - हमारे चारों तरफ का वातावरण या आवरण। हमारे चारों तरफ का वातावरण, अगर संरक्षित रहेगा, तो ही हम संरक्षित रहेंगे। नहीं, तो हम भी खत्म हो जाएंगे। इसलिए इस दिवस को मनाया जाता है। यह दिवस हर साल 22 अप्रैल को मनाया जाता है। इस दिन बहुत सारे आयोजन किए जाते हैं, जिसमें पर्यावरण के बारे में बातचीत की जाती है और पर्यावरण को किस तरह संरक्षित किया जाता है। इसके बारे में बताया जाता है। चलिए जानते हैं - वर्ल्ड अर्थ डे के बारे में वर्ल्ड अर्थ डे या विश्व पृथ्वी दिवस क्या है -  What is World Earth Day अर्थ डे या पृथ्वी दिवस एक वार्षिक उत्सव है। पृथ्वी दिवस को हर साल पर्यावरण संरक्षण के लिए और लोगों को जागरूक करने के लिए मनाया जाता है। ताकि लोग पर्यावरण संरक्षण के प्र

जोधपुर जिले के पर्यटन स्थल - Jodhpur tourist places

जोधपुर जिले के दर्शनीय स्थल - P laces to visit in Jodhpur district /  जोधपुर के आसपास के दर्शनीय स्थल जोधपुर राजस्थान का एक मुख्य शहर है। जोधपुर राजस्थान की राजधानी जयपुर से करीब 340 किलोमीटर दूर है। जोधपुर प्राचीन शहर है। जोधपुर को ब्लू सिटी कहा जाता है, क्योंकि जोधपुर के अधिकतर मकान ब्लू कलर के हैं और आप जोधपुर को ऊंचाई से देखते हैं, तो पूरा शहर ब्लू नजर आता है। इसलिए इसे ब्लू सिटी कहा जाता है। जोधपुर को सन सिटी के नाम से जाना जाता है। जोधपुर में राजस्थान का हाई कोर्ट है। जोधपुर शहर में बहुत सारे प्राचीन महल, मंदिर, झील, तालाब देखने के लिए मिलते हैं। जोधपुर शहर प्राचीन समय में राजपूत शासकों की राजधानी थी। इस शहर को पहले मारवाड़ नाम से जाना जाता था। यह शहर राजस्थान का दूसरा सबसे बड़ा शहर है। इस शहर की स्थापना 1459 में राव जोधा के द्वारा की गई थी। जोधपुर शहर में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। चलिए जानते हैं - जोधपुर शहर में घूमने लायक कौन कौन सी जगह है।  जोधपुर में घूमने की जगह -  Jodhpur mein ghumne ki jagah  मेहरानगढ़ दुर्ग जोधपुर - Mehrangarh Fort Jodhpur मेहरानगढ़ दुर्ग जोधपुर का ए