क्‍वेरी Waterfall की प्रासंगिकता द्वारा क्रमित पोस्‍ट दिखाए जा रहे हैं. तारीख द्वारा क्रमित करें सभी पोस्‍ट दिखाएं
क्‍वेरी Waterfall की प्रासंगिकता द्वारा क्रमित पोस्‍ट दिखाए जा रहे हैं. तारीख द्वारा क्रमित करें सभी पोस्‍ट दिखाएं

बगदरी जलप्रपात जबलपुर - Bagdari waterfall jabalpur | Bagdari jalprapat jabalpur

बगदरी झरना जबलपुर - Bagdari Jharna | Baghdari waterfall jabalpur


बगदरी जलप्रपात जबलपुर - Bagdari waterfall jabalpur | Bagdari jalprapat jabalpur
बगदरी जलप्रपात जबलपुर

बगदरी जलप्रपात जबलपुर (bagdari waterfall jabalpur) का एक बहुत ही सुन्दर जलप्रपात है। यह जलप्रपात पहाडो के बीच से बहता है और बगदरी जलप्रपात (bagdari waterfall) का आसपास का दृश्य लुभावना है। आप बगदरी जलप्रपात (bagdari waterfall) बरसात के समय आ सकते है। बरसात के समय बगदरी जलप्रपात (bagdari waterfall) की सुंदरता देखते ही बनती है। यह झरना पहाड़ों के बीच से बहता हुआ नीचे गिरता है। बगदरी झरना (bagdari waterfall) दो श्रृखंला में नीचे गिरता है, अर्थात यहां पर दो छोटे झरने बनते हैं, जो बहुत खूबसूरत लगते हैं। यह झरना छोटा है, मगर पहाड़ के ऊपर से इस झरने को देखने का अनुभव भी अनोखा होता है। यहां का चारों तरफ का वातावरण हरियाली भर है। 


बगदरी जलप्रपात जबलपुर - Bagdari waterfall jabalpur | Bagdari jalprapat jabalpur
सड़क किनारे लगा बगदरी जलप्रपात का बोर्ड

बगदरी जलप्रपात (bagdari waterfall) में घूमने का सबसे अच्छा समय बरसात का होता है, क्योंकि बरसात के समय बगदरी जलप्रपात (bagdari waterfall) में पानी रहता है। गर्मी के मौसम में पानी की मात्रा कम होती जाती है। मई जून के महीने में यह जलप्रपात पूरी तरह से सूख जाता है। बरसात के समय इस जलप्रपात के चारों तरफ हरियाली रहती है। जबलपुर से बगदरी जलप्रपात (bagdari waterfall) करीब 35 किलोमीटर दूर होगा। आप यहां पर अपनी गाड़ी से आ सकते हैं। यहां आने का रास्ता भी खूबसूरत है। यहां पर हिरन नदी पडती है, उसके बाद एक बहुत ही मनोरम घाटी पडती है। घाटी के उपर से बहुत अच्छा दृश्य देखने मिलता है। घाटी से कुछ ही दूरी पर आपको मैन रोड पर बगदरी जलप्रपात (bagdari waterfall) का बोर्ड देखने मिलता है। आप उस दिशा में अपनी गाडी लेकर जायें। कुछ दूर तक कच्चा रास्ता है। इस रास्ते में दोपहिया और चार पहिया वाहन से आराम से चला जाएगा। आप जलप्रपात के पास पहुॅचकर गाडी खडी सकते है। यहां पर किसी भी तरह का शुल्क नहीं लिया जाता है। आप बगदरी जलप्रपात (bagdari waterfall) में आकर जलप्रपात की खूबसूरती को चटटानें के उपर से ही देख सकते हैं। यहां पर बहुत ऊंची खाई है, जिसमें से आप जलप्रपात को देख सकते हैं। मगर यहां पर आपको भी संभल कर रहने की जरूरत है। आप यहां पर संभल कर फोटोग्राफ कीजिएगा, नहीं तो यहां पर पैर फिसला तो आप खाई में जा सकते हैं।

बगदरी जलप्रपात
(bagdari waterfall) बरसाती जलप्रपात है। यह नदी जाकर हिरण नदी से मिल जाती है और आप इस नदी का दृश्य को बहुत दूर तक देख सकते है। बगदरी जलप्रपात (bagdari waterfall) में आप नदी के करीब भी जा सकते हैं। नदी के करीब जाने के लिए रास्ता नहीं है। मगर आप चट्टानों के माध्यम से नदी के करीब जा सकते हैं। यहां पर बहुत से लोग आपको नदी में पिकनिक मनाते हुए दिखाएंगे। यहां पर कुछ लोग ड्रिंक करते हुए भी दिख जाएंगे। मगर आप यहां जाएं, तो यहां की सुंदरता के मजे लें। इस जगह को गंदा न करें। यहां पर आपको ज्यादातर लड़के ही देखने मिलते है। यहां जगह कपल्स के लिए ठीक है, मगर सुरक्षित नहीं है। इसलिए यहां पर जायें, तो समूह में जाये। 

बगदरी जलप्रपात
(bagdari waterfall) में आप नदी के किनारे रहकर ही जलप्रपात का मजा ले, क्योंकि बरसात के समय कभी भी नदी में पानी बढ़ सकता है और आपकी जान खतरे में पड़ सकती है। बगदरी जलप्रपात (bagdari waterfall) में पहले भी एक्सीडेंट हो चुका है, जिसमें लोगों की जान चली गई थी। इसलिए आप यहां पर नदी के किनारे रहकर इंजॉय करें। यहां पर आप पिकनिक मना सकते हैं। यहां पर बहुत सारे लोग पिकनिक मनाने आते हैं। खाना झरनें के पास ही बनाते है। लोग नदी के करीब जाकर वहां पर बैठ सकते हैं। फोटो खींचवा सकते हैं। बगदरी जलप्रपात (bagdari waterfall) में अपनी फैमिली और दोस्तों के ग्रुप के साथ जाकर बहुत इंजॉय कर सकते हैं। यह जगह बहुत ही सुंदर है और यहां पर आपको बंदर भी देखने मिलते हैं। बगदरी जलप्रपात (bagdari waterfall) में किसी भी तरह की कोई भी सुविधा नहीं है। यहां पर किसी भी प्रकार की सुरक्षा नहीं है और न ही यहां पर कोई शाॅप मौजूद है। इसलिए आप अपनी सुरक्षा का स्वयं ध्यान रखें और खाना और पानी लेकर जायें। 

Bagdari waterfall Location


बगदरी जलप्रपात
(bagdari waterfall) मध्य प्रदेश के जबलपुर जिले (Jabalpur district) के पास स्थित है। यह जबलपुर जिले (Jabalpur district) से करीब 35 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। बगदरी जलप्रपात (bagdari waterfall) जबलपुर सागर राजमार्ग पर स्थित है। बगदरी जलप्रपात (bagdari waterfall) में अपनी गाड़ी से जा सकते हैं।


#bagdariwaterfall
#bagdariwaterfalljabalpur

Math Ghogra waterfall and Cave || Shri Paramhans Ashram Math Ghoghara Dham || Shiv Dham Math Ghoghara

श्री शिवधाम मठघोघरा लखनादौन


मठघोघरा जलप्रपात एवं गुफा (Math Ghogra Waterfall and cave) सिवनी जिलें का एक दर्शनीय स्थत है। यह झरना एवं गुफा प्रकृति की गोद में स्थित है। यहां पर आपको बरसात के सीजन में एक खूबसूरत झरना देखने मिलेगा। मठघोघरा (Math Ghogra Waterfall )  में प्राचीन शिव मंदिर है। यहां पर शिव भगवान की अनोखी प्रतिमा विराजमान है। आपको यह पर चारों तरफ प्रकृति की खूबसूरती देखने मिल जाएगी। यहां जगह आपको बहुत पसंद आयेगी। 

Math Ghogra waterfall and Cave
Math Ghogra Waterfall and Cave

Math Ghogra waterfall and Cave
Math Ghogra Waterfall and Cave


मठघोघरा झरना एवं गुफा (Math Ghogra Waterfall and cave) सिवनी जिले के लखनादौन तहसील में स्थित है। आप यहां पर असानी से पहॅुच सकते है। लखनादौन सिवनी से लगभग 60 किमी की दूरी पर होगा। लखनादौन जबलपुर नागपुर हाईवे रोड पर स्थित है। आप लखनादौन तक बस द्वारा असानी से पहुॅच सकते है। मगर आपको लखनादौन बस स्टैड से आपको आटो बुक करना होगा इस मठघोघरा जलप्रपात (Math Ghogra Waterfall ) तक जाने के लिए। आप यहां पर अपने वाहन से भी आ सकते है। मठघोघरा (Math Ghogra Waterfall ) तक पहुॅचने के लिए आपको पक्की रोड मिल जाती है। आपको इस जगह तक पहुॅचने के लिए पहले लखनादौन पहुॅचना पडता है। आपको इस जगह पर बरसात पर जाना चहिए क्योकि यहां पर बरसात में ही झरना आपको देखने मिलता है। वैसे आप यहां गर्मी में भी जा सकते है क्योकि यहां का वातावरण बहुत अच्छा  और ठंडा रहता है। यहां पर चारों तरफ जंगल का अदुभ्त नाजारा देखने मिलता है। यहां पर आपको ज्यादा भीड नहीं देखने मिलती है। यहां पर आपको बैठने के लिए बहुत अच्छा जगह मिल जाती है। अगर आप बरसात में आते है यहां पर आपको थोडा सावधानी बरतनी पडती है, क्योकि यहां जगह चारों तरफ से जंगल और उॅचे उॅचे पहाडों से घिरी हुई है, तो यहां पर बरसात के समय रोड में फिसलन हो जाती है, इसलिए गाडी संभलकर चलाने की जरूरत होती है। इस जगह तक  पहुॅचने के लिए आपको पक्की सडक मिल जाती है। लखनादौन बस स्टाॅप के पास ही में एक गाली सीधी इस जगह के लिए जाती है। आपको इस गाली में एक बोर्ड देखने मिलेगा जिसमें मठघोघरा (Math Ghogra Waterfall and cave) का नाम लिखा होगा और दूरी लिखी होगी। आप इस रोड से सीधा जाना है, इस रोड के अंत में ही मठघोघरा जलप्रपात एवं गुफा (Math Ghogra Waterfall and cave) देखने मिलेगा। आपको लखनादौन से मठघोघरा (Math Ghogra Waterfall ) के आने वाले रास्ते में बहुत ही खूबसूरत नदी या आप इन्हें बरसाती नाले भी कहे सकते है, देखने मिल जाते है। इसके अलावा आपको खुले मैदान देखने मिलेगी। बरसात के समय नदियों में पानी बहता है और इसमें आपको गांव के बच्चे मस्ती करते हुए दिख जाते है। इसके अलावा बरसात में आपको हरियाली भी दिखने मिल जाती है। इस जगह के आसपास ग्रामीण क्षेत्र है जहां पर आपको बरसात के समय मक्के की खेती देखने मिल जाएगी। आप जब इस जगह पहुॅचते है तो आपको रोड में ही साइन दिख जाता है। आप जब इस रोड से मंदिर की तरफ आते है, यहां पर आपको घाटीनुमा रोड दिखने मिलेगी जो सर्पाकार होती है। आप जब इस मंदिर की तरफ जाते है तो आपको पहाडों का सुरम्य व्यू देखने मिलेगा । बरसात में तो पहाडी में जो हरियाली होती है वहां एकदम मस्त होता है। आप जब इस मंदिर के पास पहुॅचते है तो आपको एक झरना दिखाई देगा जो चटटानों के उपर से बहुत प्यारा लगता है। यह मुख्य झरना नहीं है मुख्य झरना देखने के लिए आपको इस घाटी के ओर नीचे जाना होता है। 

Math Ghogra waterfall and Cave
Math Ghogra Waterfall and Cave


आप मंदिर पहुॅच जाते है तो आपको तीन बहुत बडे बडे त्रिशूल दिखाई देते है जो धरती पर गडे होगें। मंदिर तक आपकी गाडी आराम से चली जाती है। आपको अपनी गाडी यहीं पर पार्क करना होता है। यहां से आगे का रास्ता आपको पैदल तय करना होता है। यहां पर आपको संभल कर चलना होता है क्योकि यहां पर पहाडों से पानी रिसता है वहां पूरी रोड और सीढियों में फैला रहता है। यहां पर बहुत फिसलन होती है। इस जगह को श्री परमहंस मठघोधरा धाम (Shri Paramhans Ashram Math Ghoghara Dham) भी कहा जाता है। आप जैसे ही सीढियों से नीचे जायेगें आपको खूबसूरत व्यू दिखाई देगा। यहां पर एक झरना पहाडों के बीच से बहता है और झरने के नीचे एक गुफा है, वैसे यहां गुफा पहाडों को काटकर बनाई गई। यहां पर आपको बहुत बडी जगह जायेगी। जहां पर शिव भगवान की मूर्ति भी स्थापित है। यहां मूर्ति गुफा के अंदर स्थित है, इसके अलावा यहां पर 12 ज्योर्तिलिंग भी आपको देखने मिलेगें। गुफा में बहुत बडा स्पेस है जहां पर आप पूरा घूमकर देख सकते है। यहां पर एक छोटा सा रूम भी बना था, गुफा के अंदर जहां पर ताला लगा हुआ था। आपको यहां स्थल पर शिव भगवान की प्राचीन एवं पत्थर का एक शिवलिंग देखने मिलेगा जो यहां पर बहुत प्रसिध्द है, इस शिवलिंग की बनावट अनोखी है। इस जगह का मुख्य आकर्षण यहां का झरना है, यह झरना बरसात में देखने मिलेगा। इस झरने के नीचे ही यहां गुफा स्थित है। यहां गुफा बहुत खूबसूरत लगता है। यहां के चारों तरफ का वातावरण बहुत खूबसूरत है। यहां पर पहाडों से पानी आता है, यह पानी पीने के लिए होता है। यह पूरी तरह से शुध्द होता है क्योकि यह पानी पहाडों से रिसता है। आप यह जो झरना बहता है उसका पानी पी नहीं सकते है क्योकि यह पानी उपर का जो भी खेत है और घरों का पानी बह कर आता है। मगर जो यह पहाडों का पानी है वो बहुत शुध्द है ये जो पानी है वो बरसात के साथ साथ गर्मी में भी बहता रहता है। यहां पर आप झरने से आगे जाने का रास्ता है वहां पर छोटा सा गार्डन है। यहां पर पूरा जंगल है चारों तरफ हरियाली है। यहा पर गर्मी में यह झरना सूख जाता है। 

Math Ghogra waterfall and Cave
Shri Paramhans Ashram Math Ghoghara Dham

Math Ghogra waterfall and Cave
Math Ghogra waterfall and Cave


यह जगह बहुत अच्छी है और यहां पर बहुत शांती रहती है। यहां पर आप बरसात में जायेगें तो आपको बहुत अच्छा लगेगा। इसके अलावा गर्मी में भी यहां जाया जा सकता है। यहां पर आप अपनी फैमिली और फैडस के साथ जा सकते है। आप यहां पर जाकर कचडा न करें यहां जगह बहुत साफ एवं अच्छी है। आप यहां पर कचडा न करें। यह जगह बहुत खूबसूरत है जहां पर जाकर आप अपना अच्छा समय बिता सकते है। यह फोटोग्राफी के लिए बहुत बढिया जगह है। 

Nidan Kund and Waterfall, Damoh, Madhya Pradesh

Nidan Kund and Waterfall, Damoh


दमोह जिले का निदान कुंड एवं जलप्रपात

 

Nidan Kund and Waterfall, Damoh, Madhya Pradesh        

मै आपको दमोह जिले के खूबसूरत जलप्रपात के बारे बता रही हूॅ। यह जलप्रपात आपको दमोह के सिंग्रामपुर गांव में दिखने मिलेगा। सिंग्रामपुर जबलपुर दमोह हाईवे रोड में पडता है। इस झरने तक पहुॅचने के लिए आपको रानी दुर्गावती अभ्यारण्य से होकर जाना होता है और आगे का रास्ता भैसाघाट का होता है। भैसाघाट में आप खूबसूरत पहाड, घाटी और बंदर देखने मिल जाएगा। 
Nidan Kund and Waterfall, Damoh, Madhya Pradesh
Nidan waterfall, Damoh


रानी दुर्गावती अभ्यारण्य  की यह जगह बहुत खूबसूरत है आपको यह पर आकर मजा आ जायेगा। यह पर इतनी खूबसूरत चटटाने है कि बस चटटानों को देखते रहों। यह जगह देखने के लिए आपको भैसाघाट से उपर आना होता है। यहां पर आपको वन विभाग का कार्यालय मिल जाएगा। कार्यालय में आपको अपनी गाडी का टिकट लेने होता है हम लोगों का यह 60 रू लगा था। हम लोगों की स्कूटी थी।
इस कार्यालय से 1 किमी की दूरी पर निदान कुंड एवं जलप्रपात स्थित है। आप अपनी गाडी पार्क करके निदान जलप्रपात देख सकते है। यह पर आपको निदान जलप्रपात का खूबसूरत नजारा देखने मिलेगा साथ ही चटटान से बहता हुआ पानी ऐसा लगता है मानो चटटान के उपर दूध बह रह है। चटटान में बिल्कुल सफेद पानी दिखता है। 


Nidan Kund and Waterfall, Damoh, Madhya Pradesh

अगर आप निदान जलप्रपात एवं कुंड (Nidan Kund and Waterfall)को पास से देखने चाहते है तो आपको पहाडी रास्ते से चलाना होगा यह पर आपके आने जाने के लिए कच्ची सीढियो का निर्माण किया गया आप असानी से जा सकते है मगर छोटे बच्चे एवं बूढे लोगो को यह पर चलने मे जरूर परेशानी हो सकती है। क्योकि जो रास्ता बनाया गया है टेढा मेढा है कही उबाड खाबड है इसलिए आपको यह पर दिक्कत हो सकती है। आप इस रास्ते चलते हुए चटटानो का दृश्य देख सकते है जो बहुत खूबसूरत एवं अनोखा है। आप इस रास्ते मे झरने की आवाज भी आने लगेगी मगर आपको झरना रास्ते से नहीं दिखाई देगा। उसके लिए आपको पूरा नीचे तक आना होगा तब ही आपको झरना दिखागा। आप संभलकर इस झरने और निदान कुंड तक पहुॅच सकते है। यह पर आपको बहुत ही खूबसूरत निदान कुंड  देखने मिलगा जिसमें आप नहा भी सकते है निदान कुंड से आप आगे आएगे तो आपको निदान जलप्रपात मिलेगा। यह जलप्रपात चटटानों के बीच से बहता पानी इतना खूबसूरत लगता है कि इसकी बारे मे बताना मुश्किल हो सकता है। यह कि सुंदरता आपका मन मोह लेती है यह पर आकर आपको बहुत अच्छा लगता है। यह पर चटटानों की बनावट कुछ अलग तरह की है जो आप यह पर बैठाकर देख सकते है। 

Nidan Kund and Waterfall, Damoh, Madhya Pradesh


आप यह पर जाए तो संभलकर जाए क्योकि चटटानों मे फिसलन बहुत ज्यादा होती है आप पानी वाली जगह में खडे भी नहीं हो सकते है और जलप्रपात के पास जाते है जैसे हम लोग गए थे सेल्फी के लिए तो संभलकर जाए क्योकि यह जगह एक दुर्घाटना संभवत क्षेत्र है,  कभी भी दुर्घाटना हो सकती है। इसके अलावा बरिश के समय में यह पर आपको और ज्यादा ध्यान रखना चहिए क्योकि पानी कभी भी बढा सकता है। झरने में इसलिए सुरक्षित रहे। 

Nidan Kund and Waterfall, Damoh, Madhya Pradesh

इसके अलावा हमारा एक अनुभव और यह कुछ लोग पार्टी कर कर रहे थे कुछ लडके लोग और वो आते जाते लोग गलत कमेंट पास कर रहे थे। यह पर बहुत सारे लोग आते है। यह पर शायर कोई उच्च अधिकारी भी आया था। उन लडकों ने उच्च आधिकरी को कमेंट पास किया होगा और वहां पर तुंरत पुलिस आ गई थी। उन लोगों की रिपोर्ट हो गई थी। 


Nidan Kund and Waterfall, Damoh, Madhya Pradesh
Nidan waterfall

यहां पर वैसे गार्ड भी रहता है मगर वो क्या कर सकता है। यह पर आपको खुद ही सुरक्षित रहना पडेगा और झरने के आसपास भी आप अपना ध्यान स्वयं रखे।
यह पर आपके खाने पीने की दुकाने नहीं मिलेगी इसलिए आप अपने साथ खाने पीने का सामना साथ लेकर जाए एवं जो भी कचरा हो वो अपने साथ वापस लाये। 


Nidan Kund and Waterfall, Damoh, Madhya Pradesh

कुछ टिप्स आपके लिए आप :-
1. यह पर आप शूज पहन कर आये क्योकि वहां आपको चलने में आरामदायक होगा।
2. अपने लिए खाने एवं पीने का पानी स्वयं लाये क्योकि यहां पर आपको शाॅप नहीं मिलेगी।
3. बच्चे एवं बूढे के लिए यह का पहाडी रास्ता रिस्क हो सकता है इसलिए आप इस बात का जरूर ध्यान दें।
4. चटटानों के पास पानी वाली जगह में फिसलन बहुत होती है इसलिए यह भी ध्यान रखें।
5. सेल्फी के चक्कर में खाई के करीब न जाए क्योकि यह रिस्की हो सकता है।
6. यह पर बहुत से लोग मदिरा पान एवं शराब पीते हुए हम लोगों को दिखें थे इसलिए आप टूरिस्ट पेलैस में यह सब न करें।
7. यह मेरे आपस प्रार्थना है कि इतना अच्छा दर्शनीय स्थल का गंदा न करें अगर आप पाॅलीथिन या पानी की बोतल लेकर आते है उसे डस्टबिन में डाले।
8. यह पर बहुत से लोग अपना वीकेंड मानने आते है किसी को गलत या बुरा कमेंट न करें जिससे आप लोगों को ही परेशानी हो सकती है। यह पर हमने अपना अनुभव शेयर किया
9. इस जगह का आंनद आप अपनी फैमिली , फेडस और कप्लस लोग भी आ सकते है। यह पर हाॅलीडे मेें बहुत भीड रहती है।
10. आप यहां पर जाकर बहुत मजे कर सकते है वही आप करें किसी और का मजा खराब न करें
11. बरसात के समय में यह पर अचानक झरने में पानी बढ सकता है तो आप संभल कर रहें।
यह पर आकर आपको जरूर अच्छा लगेगा आप यहां पर आये हो या आने वाले हो तो हमे जरूर कमेंट कर बताना। 






घुघरा झरना जबलपुर | Ghughra falls jabalpur | Ghughra jalprapat

Ghughra waterfall jabalpur - घुघरा जलप्रपात जबलपुर

घुघरा झरना जबलपुर | Ghughra falls jabalpur | Ghughra ghat jabalpur
घुघरा झरना जबलपुर

घुघरा झरना जबलपुर (ghughra falls jabalpur) शहर की एक शांत जगह है। इस जगह पर ज्यादा भीड़ नहीं रहती है। घुघरा जलप्रपात (ghughra waterfall) में बहुत कम लोग आपको देखने मिलते हैं। घुघरा झरना नर्मदा नदी पर बना हुआ है। घुघरा झरना (Ghughra falls) पर आप आकर पिकनिक मना सकते हैं। घुघरा जलप्रपात (ghughra waterfall) नर्मदा किनारे बना बहुत ही मनोरम झरना है। घुघरा झरना (Ghughra falls) छोटा झरना है, मगर बहुत ही अच्छा है। यहां का वातावरण बहुत शांत है। यहां पर आप अपना समय बिता सकते हैं। 


घुघरा वॉटरफॉल (ghughra waterfall) धुआंधार वॉटरफॉल के बहुत करीब है। इस वॉटरफॉल के बारे में ज्यादा लोगों को जानकारी नहीं है, इसलिए यहां पर ज्यादा लोग नहीं आते हैं, और यहां का वातावरण बहुत ही शांत होता है। घुघरा झरना पर आप आकर पिकनिक मना सकते है।

घुघरा वॉटरफॉल (ghughra waterfall) पर घाट भी बनाया गया है, जहां पर आप बैठकर इस वाटरफॉल को देख सकते हैं। घुघरा वॉटरफॉल पर आप आते हैं, तो सावधानी जरूर रखें, क्योंकि यहां पर किसी भी तरह की सुरक्षा नहीं है। यहां पर नर्मदा नदी का प्रवाह बहुत तेज है। यहां पर नर्मदा नदी बहुत तेज गति से बहती है, जिससे कभी कभार यहां पर दुर्घटनाग्रस्त होने का खतरा रहता है। बरसात में अगर आप इस वाटरफॉल में जाते हैं, तो पानी के पास नहीं जाये, क्योंकि बरसात में पानी सडक तक आ जाता है। 

घुघरा वॉटरफॉल (ghughra waterfall) के आसपास कोई भी दुकान नहीं है। यहां पर एक दुकान है, मगर यह दुकान कभी खुली रहती है और कभी बंद रहती है। अगर आप यहां पर ज्यादा समय बिताना चाहते है, तो अपने साथ खाना पानी लेकर आएं और यहां पर इंजॉय करें। घुघरा वॉटरफॉल (ghughra waterfall) पर आप पिकनिक मनाने की योजना बना सकते हैं। यहां पर आप स्पेशल गक्कड़ भरता बना कर खा सकते हैं। आप यहां पर नहाने का मजा भी ले सकते है। मगर सावधानी रखना जरूरी है और वाटरफॉल के ज्यादा करीब ना जाए।

घुघरा वॉटरफॉल कैसे जाये


घुघरा वॉटरफॉल (ghughra waterfall) मध्यप्रदेश के जबलपुर जिले में स्थित है। यहां जबलपुर रेल्वे स्टेशन से करीब 20 किलोमीटर दूर होगा। आप घुघरा वॉटरफॉल (ghughra waterfall) पर आप अपनी गाड़ी से आ सकते हैं। आप घुघरा वॉटरफॉल (ghughra waterfall) पर मेट्रो बस से भी आप यहां पर आ सकते हैं। मगर आप यहां पर मेट्रो बस से आते हैं, तो आपको थोड़ा पैदल चलना पड़ता है। 

खंदारी झरना जबलपुर - Khandari waterfall jabalpur | khandari Dam jabalpur

खंदारी जलप्रपात जबलपुर - Khandari Falls Jabalpur | Khandari  jalaprapat

खंदारी झरना जबलपुर - Khandari waterfall jabalpur | khandari Dam jabalpur

खंदारी जलप्रपात (khandari waterfall) छोटा सा मगर बहुत खूबसूरत जलप्रपात है। खंदारी जलप्रपात (khandari waterfall) डुमना नेचर पार्क में स्थित खंदारी झील (khandari lake)  में पानी के ओवरफलो के होने पर बनता है। यह जलप्रपात जबलपुर जिले में स्थित है। आपको खंदारी जलप्रपात (khandari waterfall) बरसात के समय देखने मिल जाएगा। बरसात के समय में ही खंदारी जलाशय (khandari lake) पानी से भर जाता है और डैम का पानी ओवरफ्लो होने लगता है। खंदारी जलाशय (khandari lake) का पानी जहां ओवरफ्लो होता है, उससे थोड़ा आगे एक और जलप्रपात बनता है, जो बहुत खूबसूरत होता है। यह जलप्रपात छोटा रहता है और यहां पर पहाड़ों से पानी गिरता है, जो बहुत ही अच्छा लगता है। यहां पर आप आकर अपना अच्छा समय बिता सकते हैं। यहां पर आप  पिकनिक मना सकते हैं। यह जगह हरियाली से भरी हुई है।

आप खंदारी जलप्रपात
(khandari waterfall) के नजदीक जा सकते हैं और यहां पर इंजॉय कर सकते हैं। बरसात के समय आप यहां पर आते हैं, तो खंदारी नदी की तेज धार को पार करते हुए आपको आना पड़ता है। खंदारी जलप्रपात (khandari waterfall) में पहुंचने के लिए आपको धोबी घाट से होते हुए आना पडता है। यहां रोड पक्की है। उसके बाद आप गाड़ी को रोड के किनारे खडा कर सकते है। यहां पर जाने का कोई भी शुल्क नहीं लिया जाता है। मगर यहां पर ज्यादा भीड़ होने की स्थिति में पार्किंग का चार्ज लिया जाता है, मगर यहां पर भीड़ नहीं रहती है, तो यहां पर ऐसा कोई चार्ज नहीं लिया जाता है। यहां पर आप आकर इंजॉय कर सकते हैं। रोड से झरना करीब 500 मीटर दूर होगा। आपको कच्चे रास्ते में पैदल चलना पड़ता है। आप इस झरने के नीचे नहाने का भी मजा ले सकते हैं। इस झरने की खूबसूरती को देख सकते हैं।

साल 2019 में खंदारी झरना
(khandari waterfall) के पास एक दुर्घटना हो गई थी। यहां पर जो पानी ओवरफ्लो होता है, झरने से थोड़ा आगे एक पूल बनता है, जो गहरा है। पूल में एक आदमी की डूबकर मृत्यु हो गई थी, जिसके कारण इस झरने पर जाने पर रोक लगा दी गई थी। इसलिए अगर आप इस झरने में जाते हैं, तो संभल कर जाएं। किसी भी तरह की असावधानी ना बरतें। अगर आप यहां पर नहाने का आनंद भी लेते हैं, तो सावधानी जरूर बरतें। क्योंकि बरसात में फिसलन बहुत होती है। आप यहां पर अपनी फैमिली और दोस्तों के साथ जाकर अच्छा समय बिता सकते है।
 

Khandari Lake jabalpur | खंदारी झील जबलपुर | khandari waterfall

खंदारी झील जबलपुर - खंदारी जलप्रपात

Khandari Jheel Jabalpur / Khandari waterfall

 

Khandari Lake jabalpur | खंदारी झील जबलपुर | khandari waterfall
खंदारी बांध
खंदारी झील जबलपुर (Khandari Lake jabalpur) शहर का एक खूबसूरत जलाशय है। खंदारी झील जबलपुर (Khandari Lake jabalpur) शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। खंदारी जलाशय (Khandari Lake) डुमना नेचर पार्क (Dumna Nature Park) के अंदर में स्थित है। खंदारी झील (Khandari Jheel) चारों तरफ से जंगल से घिरी हुई है। खंदारी झील (Khandari Jheel) में बहुत सारे मगरमच्छ है और झील में उतरना मना है। झील में आपको मगरमच्छ भी देखने मिल सकता है। खंदारी झील (Khandari Jheel) में नहाने की मनाही है। खंदारी जलाशय (Khandari lake) अंग्रेजों के समय बनाई गई थी और यह झील 19 वीं शदीं पर बनी थी। खंदारी जलाशय (Khandari lake) लोगों के पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत थी। जलाशय में जहां पर पानी ओवरफ्लो होता है, वहां पर अग्रेजों की समय की एक बिल्डिंग देखने के लिए मिल जाएगी और यहां पर लोगों को जाने की मनाही है। यहां पर तार लगे हुए हैं। ताकि कोई भी डैम पर न जायें। यहां पर लोगों की जान की भी हानि हो सकती है। खंदारी डैम (Khandari dam) में घूमने का सबसे अच्छा समय बरसात का होता है, क्योंकि बरसात के समय खंदारी डैम (Khandari dam) पूरी तरह पानी से भर जाता है। खंदारी डैम (Khandari dam) का दृश्य बहुत ही मनोरम होता है। 

खंदारी झील
(Khandari dam) डुमना पार्क (dumna park) के बीचोंबीच स्थित है। डुमना नेचर पार्क जबलपुर (Dumna Nature Park Jabalpur) का दर्शनीय स्थल (darshaniy sthal) है। डुमना नेचर पार्क (Dumna Nature Park) पर आपको तरह तरह के जंगली जानवर देखने के लिए मिल जाते हैं। आप डुमना नेचर पार्क (Dumna Nature Park) पर साइकिल की सवारी भी कर सकते हैं। साइकिल की सवारी का आपको चार्ज लगता है। आप यहां पर अलग अलग दूरी पर साइकिल की सवारी कर सकते है। आपको साइकिल की सवारी के लिए गाइड की जरूरत होती है। साइकिल की सवारी करके आप जंगली जानवरों को देख सकते हैं।

डुमना नेचर पार्क (
Dumna Nature Park) में एक व्यूप्वाइंट बनाया गया है, जहां से आप पूरे डैम का दृश्य देख सकते है। डैम के पास बैठने के लिए चेयर बनाये गए है। डैम का नजारा बहुत प्यारा रहता है। खंदारी झील (Khandari Jheel) के पास बहुत सारे विभिन्न तरह की पेड पौधों लगे है। जब खंदारी बांध (Khandari dam) पानी से पूरी तरह भर जाता है, तो बांध का पानी ओवरफलो होता है, जिससे यहां पर जलप्रपात बनता है, जिसे खंदारी वॉटरफॉल (Khandari waterfall) कहा जाता है। खंदारी जलप्रपात (Khandari jalprapat) से पानी थोडी दूर पर जाकर एक छोटा सा झरना बनता है। यहां झरने की उचाई कम है, मगर यहां झरना बहुत अच्छा लगता है। यहां पर बहुत सारे लोग पिकनिक मनाने के लिए आते हैं। 

खंदारी झील
(Khandari Jheel) पर आकर आप अपना समय बिता सकते हैं। खंदारी झील (Khandari Jheel) के पास आकर आप बैठ सकते है। झील के पास बहुत सारे पेड पौधे लगे है। खंदारी झील (Khandari Jheel) पर आपको पशु पक्षी देखने मिल जाते हैं। खंदारी झील (Khandari Jheel) के पास आपको बंदर और आपकी किस्मत हुई तो आपको हिरन देखने मिल जाएगी। यहां पर बैठकर आप पक्षियों की चहचहाहट सुन सकते है। खंदारी जलाशय बहुत खूबसूरत है। यहां पर आकर आप अपना समय गुजार सकते हैं।  यहां पर आप अपने दोस्तों और परिवार के लोगों के साथ आ सकते हैं। 

आपने अपना समय दिया उसके लिए धन्यवाद


रीवा पर्यटन स्थल - Rewa tourist place | Places to visit in Rewa | Rewa Tourism

रीवा जिले के दर्शनीय स्थल - Tourist places near Rewa | Rewa famous place | Rewa visiting place



रीवा में घूमने की जगहें


रीवा का किला - Rewa Fort

रीवा का किला एक ऐतिहासिक स्थल है। यह मध्य प्रदेश के रीवा शहर में स्थित है। यह किला बिहर और बिछिया नदी के किनारे पर बना हुआ है। किले से इन दोनों नदियों का दृश्य बहुत ही लुभावना नजर आता है। रीवा के किले में आपको एक पुरानी बिल्डिंग देखने के लिए मिलती है। इस किले के अंदर आपको म्यूजियम भी देखने के लिए मिलता है। इस म्यूजियम में रीवा राजघराने की बहुत सारी पुरानी वस्तुओं का संग्रह करके रखा गया है। किले के अंदर स्थित संग्रहालय को बघेला संग्रहालय कहा जाता है। आप इन वस्तुओं को देख सकते हैं। किले के अंदर मध्य में आपको महाराजा गुलाब सिंह की मूर्ति देखने के लिए मिलती है। रीवा किले के अंदर दो मंदिर भी हैं। दोनों मंदिर बहुत प्रसिद्ध है। एक मंदिर राधा कृष्ण जी को समर्पित है और एक मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। रीवा किले में प्रवेश के लिए आपको टिकट लगता है। 


महामृत्युंजय मंदिर  रीवा किला - Mahamrityunjaya Temple Rewa Fort

महामृत्युंजय मंदिर रीवा शहर में स्थित एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह एक धार्मिक स्थल है। महामृत्युंजय मंदिर रीवा किले के अंदर स्थित है। यह मंदिर भगवान शिव जी को समर्पित है। इस मंदिर की विशेषता यह है कि इस मंदिर में लोग शिव भगवान जी के दर्शन करते हैं और शिव भगवान जी के दर्शन करने से लोगों की अकाल मृत्यु दूर होती है। यहां पर एक अद्भुत शिवलिंग विराजमान है, जिसमें 1000 नेत्र है। इसलिए इस शिवलिंग को सहस्त्र नेत्री शिवलिंग कहा जाता है। यहां पर मकर संक्रांति के समय विशाल मेला लगता है। मेले में हजारों की संख्या में लोग शामिल होते हैं। महामृत्युंजय शिवलिंग के दर्शन करने से लोगों की इच्छाएं पूरी होती है। लोग यहां पर नारियल बांधकर जाते हैं, अपने इच्छा की पूर्ति के लिए और जब किसी की भी इच्छा पूरी होती है, तो वह यहां पर नारियल खोलने के लिए आते हैं। यह मंदिर खूबसूरत है और प्राचीन है। आप भी यहां पर आकर इस मंदिर को देख सकते हैं। 


गोविंदगढ़ पैलेस रीवा - Govindgarh Palace Rewa

गोविंदगढ़ रीवा से करीब 18 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। गोविंदगढ़ का किला बहुत प्रसिद्ध है। यहां किला प्राचीन है। आपको यहाँ पर एक पुराना किला देखने के लिए मिलता है, जो अब खंडहर अवस्था में है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। गोविंदगढ़ किला गोविंदगढ़ झील के पास है। गोविंदगढ़ किले से आपको गोविंदगढ़ झील का बहुत ही मनोरम  दृश्य देखने के लिए मिलता है। गोविंदगढ़ किला रीवा महाराज की ग्रीष्मकालीन राजधानी थी। किले में प्रवेश का शुल्क लिया जाता है। इस किले के अंदर बहुत सारी चीजें देख सकते हैं। यहां पर आपको प्राचीन मीनार देखने के लिए मिलते हैं। प्राचीन मंदिर देख सकते हैं। पुरानी पेंटिंग देख सकते हैं और गोविंदगढ़ झील का दृश्य देख सकते हैं। आप यहां पर अपने दोस्तों और परिवार के लोगों के साथ घूमने के लिए आ सकते हैं। 


गोविंदगढ़ झील रीवा - Govindgarh Lake Rewa

गोविंदगढ़ झील रीवा का एक मुख्य आकर्षण है। गोविंदगढ़ रीवा जिले से करीब 18 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहां पर एक विशाल झील स्थित है। यह झील प्राचीन भी है। आप इस झील में आ सकते हैं।  झील के चारों तरफ आपको हरियाली देखने के लिए मिलती है। यहां पर आप अपना अच्छा समय बिता सकते हैं और अपने दोस्तों और फैमिली मेंबर के साथ यहां घूमने के लिए आ सकते हैं। 


चचाई जलप्रपात रीवा - Chachai jalprapat rewa

चचाई जलप्रपात रीवा शहर में स्थित एक मुख्य आकर्षण है। चचाई जलप्रपात में बरसात के समय आप घूमने के लिए आ सकते हैं। बरसात के समय इस जलप्रपात में बहुत ज्यादा पानी रहता है। गर्मी के समय इस जलप्रपात में पानी सूख जाता है। चचाई जलप्रपात रीवा शहर में स्थित सबसे ऊंचा जलप्रपात है। यह जलप्रपात बहुत खूबसूरत लगता है। यह जलप्रपात बीहर नदी पर बना हुआ है। आप यहां पर अपने दोस्तों और फैमिली मेंबर के साथ आ सकते हैं। चचाई जलप्रपात उची उची चट्टानों से नीचे गिरता है और घाटियों से बहता है। यहां पर आपको खूबसूरत घाटी देखने के लिए मिलती है और आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। बरसात के समय यहां पर चारों तरफ हरियाली रहती है। आप यहां पर अपने दोस्तों के साथ पिकनिक मनाने के लिए आ सकते हैं। यहां पर आप अपनी गाड़ी से पहुंच सकते हैं। यहां आने के लिए आपको अच्छी सड़क मिल जाती है। 


केवटी झरना रीवा - Keoti waterfall rewa

केवटी जलप्रपात रीवा शहर में स्थित एक बहुत ही सुंदर पर्यटन स्थल है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। आपको यहां पर झरना देखने के लिए मिलता है। यह झरना बहुत ही खूबसूरत है। बरसात के समय अगर आप यहां पर आते हैं, तो आपको यहां पर चारों तरफ हरियाली देखने के लिए मिलती है। गर्मी के समय झरने में पानी सूख जाता है। यह झरना मोहना नदी पर स्थित है। आप यहां पर आ कर झरने की खूबसूरती का आनंद ले सकते हैं। झरने के आस पास बहुत सारे मंदिर भी आपको देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर आप शिव भगवान जी का मंदिर के दर्शन कर सकते हैं। आप झरने के निचले स्तर पर भी जा सकते हैं। नीचे जाने के लिए आपको ट्रैकिंग करनी पड़ती है। नीचे से भी झरने का दृश्य बहुत ही खूबसूरत रहता है। आप यहां पर आकर  झरने की खूबसूरती का आनंद उठा सकते हैं। आप झरने में नहाने का आनंद भी ले सकते हैं। 


केवटी का किला - Keoti Fort Rewa

केवटी का किला केवटी झरने के पास स्थित है। यह किला झरने से करीब  2 किलोमीटर की दूरी पर स्थित होगा। आप यहां पर पैदल भी जा सकते हैं। यह प्राचीन किला है। केवटी का किला खंडहर अवस्था में मौजूद है। किले से आपको केवटी झरना का दृश्य भी देखने के लिए मिलता है और आपको खूबसूरत घाटी का दृश्य देखने के लिए मिलता है। 


बाहुती जलप्रपात रीवा - Bahuti waterfall Rewa

बहुति जलप्रपात रीवा शहर में स्थित एक पर्यटन स्थल है। यहां पर आपको खूबसूरत झरना देखने के लिए मिलता है। यह झरना बरसात के समय आपको देखने के लिए मिलता है, क्योंकि गर्मी के समय इस झरने में पानी नहीं रहता है। रीवा शहर को झरनों का शहर कहा जाता है। रीवा शहर में बहुत सारे झरने हैं। यह झरना बहुत खूबसूरत लगता है। झरना चट्टानों के ऊपर से बहता है। आपको यहां से खूबसूरत घाटियां देखने के लिए मिलती हैं। आप यहां पर अपने दोस्तों और परिवार के लोगों के साथ आ सकते हैं। 


पूर्वा जलप्रपात रीवा - Purwa waterfall Rewa

पुरवा जलप्रपात रीवा शहर में स्थित एक पर्यटन स्थल है। यहां पर आपको एक सुंदर जलप्रपात देखने के लिए मिलता है। यह जलप्रपात बहुत खूबसूरत है। बरसात के समय इस जलप्रपात में बहुत ज्यादा पानी रहता है, तभी यह जलप्रपात आपको आकर्षक लगता है। यहां पर पानी दूध के समान लगता है और ऐसा लगता है जैसे दूध की धाराएं बह रही हो। यहां पर आकर बहुत इंजॉय कर सकते हैं। यहां पर आप आकर प्राकृतिक व्यू को एंजॉय कर सकते हैं और यहां पर आपको बंदर भी देखने के लिए मिलते हैं। बरसात के समय यहां हरियाली से भरी रहती है। चारों तरफ आपको हरियाली देखने के लिए मिलती है। आप यहां पर अपनी गाड़ी से पहुंच सकते हैं। आप अगर इस जलप्रपात को घूमने के लिए जाते हैं, तो यहां पर आप खाने के लिए खाना और पीने के लिए पानी जरूर लेकर जाएं, क्योंकि झरने के आसपास किसी भी तरह की दुकानें नहीं है। पुरवा जलप्रपात रीवा शहर से करीब 40 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा। आप यहां पर अपनी फैमिली और दोस्तों के साथ आ सकते हैं। यह जलप्रपात तमसा नदी पर बना हुआ है। 


बसामन मामा मंदिर रीवा - Basaman Mama Temple Rewa

बासमन मामा मंदिर एक ऐतिहासिक मंदिर है। बसामन मामा का मंदिर तमसा नदी के किनारे स्थित है। यह मंदिर बहुत खूबसूरत है। यह मंदिर प्राचीन है। इस मंदिर के बारे में बहुत सारी मान्यताएं हैं। यह मंदिर रीवा से लगभग 33 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। आप यहां पर आकर तमसा नदी में स्नान कर सकते हैं। मंदिर में आप बसामन मामा के दर्शन कर सकते हैं। यहां पर एक विशाल पीपल का वृक्ष लगा हुआ है। कहते हैं कि बसामन मामा को पीपल के वृक्ष से बहुत लगाव था। आपको इस मंदिर में आकर बहुत अच्छा लगेगा और आप यहां पर अपनी फैमिली और दोस्तों के साथ आ सकते हैं। यह मंदिर पुरवा जलप्रपात के निकट स्थित है। बसमान मामा को यक्ष भगवान के रूप में भी जाना जाता है।


वेंकट भवन पैलेस रीवा - Venkat bhawan Rewa

वेंकट भवन पैलेस रीवा शहर में स्थित सबसे पुरानी इमारतों में से एक है। यह रीवा शहर में स्थित एक संग्रहालय है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। यहां पर प्रवेश का शुल्क लिया जाता है। आपको यहां पर खूबसूरत पेंटिंग देखने के लिए मिल जाती हैं और यहां पर एक टनल है। यह पैलेस राजा वेंकटरमन के द्वारा बनाया गया था। यह इमारत 1907 में बनाई गई थी। उसके बाद यह संग्रहालय में परिवर्तित कर दी गई। यहां पर आकर आपको अच्छा लगेगा। वेंकट भवन पैलेस रीवा शहर के बीचोंबीच स्थित है। आप यहां पर अपनी गाड़ी से आसानी से पहुंच सकते हैं। वेंकटरमन भवन पैलेस सुबह 10:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक खुला रहता है और प्रत्येक सोमवार को यह बंद रहता है। आप यहां पर अपने दोस्तों और परिवार के साथ घूमने के लिए आ सकते हैं और यहां पर पुरानी चीजों को देख सकते हैं। 


रानी तालाब रीवा - Rani talab Rewa

रानी तालाब रीवा शहर का एक प्रसिद्ध जगह है। रानी तालाब के आसपास बहुत सारे प्राचीन मंदिर है। आपको यहां पर गार्डन में देखने के लिए मिलता है। रानी तालाब एक प्राचीन तालाब है। रानी तालाब असल में एक कुआं है, जिसका उपयोग पीने के पानी के लिए पुराने समय में किया जाता था। इस तालाब के बीच में एक मंदिर है, जो शिव भगवान जी को समर्पित है। आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा। इस तालाब के चारों तरफ आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। तालाब के पास एक बहुत खूबसूरत पार्क भी है। यहां बोटिंग की सुविधा भी उपलब्ध है। 


शिव मंदिर रानी तालाब रीवा - Shiva Temple Rani Talab Rewa

शिव मंदिर रानी तालाब के बीच में स्थित है। कहा जाता है कि यह मंदिर लगभग 400 साल पुराना है। मंदिर का निर्माण बघेल राजा ने करवाया है। आप वोट करके इस मंदिर तक पहुंच सकते हैं। इस मंदिर में पहुंचकर आपको बहुत अच्छा लगेगा। चारों तरफ तालाब का नजारा बहुत ही शानदार होता है। 


रानी तालाब पार्क रीवा - Rani talab park Rewa

रानी तालाब पार्क रीवा में स्थित एक सुंदर पार्क है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर  जोगिंग और मॉर्निंग वॉक कर सकते है। यहां से रानी तालाब का दृश्य बहुत ही शानदार रहता है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। इस पार्क में प्रवेश का शुल्क लिया जाता है। 


देउर कोठार रीवा - Deur Kothar Rewa

देउर कोठार एक प्रसिद्ध बौद्ध स्थल है। यह रीवा शहर के पास में स्थित है। यहां पर आपको बहुत सारे बौद्ध स्तूप देखने के लिए मिलते हैं। यह एक प्राचीन स्थल है और आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। यह रीवा इलाहाबाद राजमार्ग पर देउर नाम के ग्राम में स्थित है। माना जाता है कि प्राचीन काल में इस स्थल का संबंध भरहुत तथा कौशांबी से भी रहा होगा। यह स्तूप पहली और तीसरी शताब्दी के बीच बनाए गए हैं। इन स्तूप का संबंध कौशांबी और भरहुत से माना जाता है। यहां पर आपको बहुत सारे स्तूप देखने के लिए मिलते हैं। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। आप यहां पर दोस्तों और फैमिली मेंबर्स के साथ आ सकते हैं। यहां से आपको सूर्यास्त का नजारा भी देखने के लिए मिलता है। अगर आप यहां बरसात के समय आते हैं, तो बरसात में यहां चारों तरफ हरियाली रहती है और जो आपको नजारा देखने के लिए मिलता है, घाटियों का, वादियों का बहुत ज्यादा अद्भुत होता है। यहां पर आपको पत्थर पर आदिमानव के काल की पेंटिंग भी देखने के लिए मिलती है। यह जगह बहुत अच्छी है और आप अपना बहुत अच्छा समय यहां पर बिता सकते हैं। 


चिरहुला हनुमान मंदिर रीवा - Chirhula Hanuman Temple Rewa

चिरहुला हनुमान मंदिर रीवा शहर का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर हनुमान जी को समर्पित है। यहां पर शनिवार और मंगलवार को भक्तों की बहुत ज्यादा भीड़ होती है। यहां पर हनुमान जी की बहुत ही भव्य प्रतिमा विद्यमान है। यहां पर आपको शिव भगवान जी के भी दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के पास आपको गार्डन देखने के लिए मिलता है। इसके अलावा यहां पर एक तालाब भी स्थित है। आप यहां पर आ कर अपना समय शांति से बिता सकते हैं।  यह  जगह बहुत अच्छी है। यहां पर भंडारा भी होता है। आप यहां भंडारा भी ग्रहण कर सकते हैं। 


साईं बाबा मंदिर रीवा - Sai Baba Temple Rewa

साईं बाबा का मंदिर रीवा शहर का एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है।  यह मंदिर मुख्य  रीवा शहर में घंटाघर के पास स्थित है। इस मंदिर में गुरुवार के दिन बहुत भीड़ लगती है। इस दिन यहां पर भंडारा होता है और प्रसाद बांटा जाता है। यहां पर आप साईं भगवान जी के दर्शन करने के लिए आ सकते हैं और आपको यहां पर आकर बहुत शांति मिलेगी। 


स्वामी विवेकानंद पार्क रीवा - Swami Vivekananda Park Rewa

स्वामी विवेकानंद पार्क रीवा शहर में स्थित एक बगीचा है। यह बगीचा बहुत खूबसूरत है। बगीचे में आपको स्वामी विवेकानंद जी की मूर्ति देखने के लिए मिलती है। विवेकानंद पार्क कॉलेज चैराहा में स्थित है। यह पार्क मॉर्निंग वॉक और योगा के लिए एक अच्छी जगह है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। आपको यह पर आकर   अच्छा लगेगा। 


लक्ष्मण बाग मंदिर रीवा - Laxman Bagh Temple Rewa

लक्ष्मण बाग मंदिर रीवा शहर में स्थित एक धार्मिक स्थल है। यहां पर आपको एक प्राचीन मंदिर देखने के लिए मिलता है। मंदिर में आपको राधा कृष्ण जी के और जगन्नाथ भगवान जी के दर्शन करने के लिए मिल जाते हैं। यह मंदिर रीवा शहर में बिछिया नदी के किनारे स्थित है। आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा। यहां पर चारों तरफ का नजारा बहुत खूबसूरत है। नदी के किनारे नारियल के पेड़ लगे हुए हैं, जो बहुत ही खूबसूरत लगते हैं। मंदिर में प्राचीन कुंड बना हुआ है। वह आप देख सकते हैं। यहां आकर आपको बहुत अच्छा लगेगा। 


व्हाइट टाइगर सफारी मुकुंदपुर रीवा - White tiger safari mukundpur Rewa

मुकुंदपुर व्हाइट टाइगर सफारी रीवा जिले का एक मुख्य पर्यटन आकर्षण है। मुकुंदपुर रीवा जिले से करीब 17 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। आप यहां पर आकर सफेद बाघ को देख सकते हैं। सबसे पहले सफेद बाघ की खोज रीवा शहर के महाराजा मार्तंड सिंह जूदेव द्वारा की गई थी और उन्होंने सफेद बाघ को संरक्षित भी किया था। यहां पर आप चाहे तो पैदल सफारी करने का मजा ले सकते हैं। साइकिल से सफारी करने का मजा ले सकते हैं या आप चाहे तो जीप से भी सफारी करने का मजा ले सकते हैं। यहां पर सभी सफारी के प्राइस अलग-अलग है। यहां पर आपको सफेद बाघ के बारे में जानकारी भी दी जाती है। यहां का टाइमिंग सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक है। वाइट टाइगर सफारी में अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ जा सकते हैं। अगर आप यहां पर जा रहे हैं, तो हॉलीडे वाले दिन यहां पर नहीं जाएं। क्योंकि यहां पर बहुत ज्यादा भीड़ रहती है। 


पावन घिनौची धाम रीवा - Paawan ghinauchi dham Rewa

पावन घिनौची धाम रीवा शहर का एक ईकोटूरिज्म पर्यटन स्थल है। पावन घिनौची धाम को पिया वन के नाम से भी जाना जाता है। यह सिरमौर के पास स्थित है। आप यहां पर आसानी से पहुंच सकते हैं। यहां पर आने के लिए कच्ची सड़क आपको मिल जाती हैं। यह जगह बहुत खूबसूरत है और प्राकृतिक वातावरण से भरी हुई है। आपको यहां पर बरसात के समय खूबसूरत जलप्रपात देखने के लिए मिलता है, जो पहाड़ों से बहता है। यह जलप्रपात का स्त्रोत कहां से है। यह मालूम नहीं चलता है। इस जलप्रपात के नीचे शिवलिंग विराजमान है। जलप्रपात का पानी शिवलिंग पर गिरता है, जो बहुत ही खूबसूरत लगता है। यहां पर बहुत सारे लोग आते हैं और यहां पर नहाने का मजा भी लेते हैं। पावन घिनौची धाम में प्रवेश का टिकट लिया लगता है। यहां पर आपको पार्किंग की अच्छी व्यवस्था दी गई है। यहां पर बैठने के लिए भी अच्छी व्यवस्था है। आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा। खूबसूरत घटिया देखने के लिए मिलेंगी, जो आपको बहुत अच्छे लगेंगे। 


लुकेश्वर्नाथ मंदिर रीवा - Lukeshwarnath Temple Rewa

लुकेश्वर्नाथ  मंदिर रीवा शहर में सिरमौर के पास स्थित है। यह मंदिर बहुत खूबसूरत लोकेशन में स्थित है। यहां पर आपको एक पहाड़ी देखने के लिए मिलती है। जिस पर मंदिर स्थित है। यह पहाड़ी बैल के आकार की है और आपको इस पहाड़ी पर ट्रैकिंग करके जाना पड़ता है। शिवरात्रि के समय यहां पर बहुत बड़ा मेला लगता है, जिसमें लाखों की संख्या में लोग यहां पर आते हैं। आप यहां पर आकर ट्रैकिंग का मजा ले सकते हैं और भोलेनाथ जी के दर्शन कर सकते हैं। यहां पर एक झील भी है। वह देख सकते हैं। आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा। इस मंदिर के चारों तरफ का वातावरण हरियाली से भरा हुआ है। आप यहां पर अपने दोस्तों के साथ आकर बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। 


टोंस वाटरफॉल्स, सिरमौर (Tons Waterfalls, Sirmaur)

आल्हा घाट सिरमौर, रीवा (Alha Ghat Sirmaur, Rewa)

गंगा वाटिका  बाल उद्यान (Ganga Vatika Children's Park)


सिवनी जिले के पर्यटन स्थल

विदिशा के दर्शनीय स्थल

सागर पर्यटन स्थल

नरसिंहपुर पर्यटन स्थल





वसुधा जलप्रपात कटनी - Vasudha Falls Katni | waterfall near Katni

वसुधा झरना कटनी - Vasudha waterfall Katni

 


वसुधा जलप्रपात कटनी - Vasudha Falls Katni
वसुधारा जलप्रपात के पास के घने जंगल

 
वसुधा जलप्रपात कटनी - Vasudha Falls Katni
जंगल में बहने वाली खूबसूरत नदी
 
 
वसुधा जलप्रपात कटनी जिले के सबसे अच्छे जलप्रपात में से एक है। इस जलप्रपात के बारे में ज्यादा लोगों को जानकारी नहीं है। इसलिए बहुत कम लोग ही इस जलप्रपात तक आते हैं। मगर अब गूगल मैप में यह जलप्रपात आपको देखने के लिए मिल जाएगा, तो शायद अब यहां पर बहुत ज्यादा लोग देखने के लिए मिले। वसुधा जलप्रपात कटनी में स्थित है और कटनी के वसुधा नाम के गांव में स्थित है। जलप्रपात तक पहुंचने के लिए जो सड़क है। वह बहुत ही खराब सड़क है। कहीं-कहीं पर बहुत ज्यादा खराब है और कहीं-कहीं पर बहुत अच्छी सड़क है। इस जलप्रपात में हम लोग वसुधा गांव से आए थे, तो उस गांव से आते समय हम लोगों को एक नदी मिली थी। उस नदी को पार करके इस जलप्रपात तक आना पड़ता है और जंगल को भी पार करना पड़ता है। जंगल में आपको पैदल चलना पड़ता है, क्योंकि वहां पर आपकी गाड़ी नहीं जा सकती। 
 
हम लोग अपनी स्कूटी इस जंगल के थोड़ा आगे तक ले कर गए थे। मगर रास्ते में नदी पड़ती है और पथरीला रास्ता पड़ता है, जिससे हम लोग को अपनी स्कूटी जंगल के बीच में ही खड़ी करनी पड़ी और आगे का रास्ता पैदल चलना पड़ा। मगर हम लोग झरने तक नहीं पहुंच पाए, क्योंकि हम लोगों को अपनी गाड़ी की चिंता थी और हम उस जंगल में अकेले थे। इसलिए अगर आप यहां पर जाते हैं, तो ग्रुप के साथ आएंगे, तो बहुत अच्छा रहेगा, क्योंकि यहां पर पूरा जंगल है। जो लोग यहां पर गांव वाले थे। वह खेतों में काम कर रहे थे और जंगल में हम दो लोग ही थे, जिससे हमें डर लग रहा था और हम लोग झरने तक नहीं गए। अगर आप ग्रुप के साथ आएंगे, तो आप झरने तक जाएंगे और बहुत इंजॉय कर सकते हैं। यहां का जो वातावरण था। वह बहुत अच्छा था।  चारों तरफ हरियाली थी और नदी की बहने की आवाज बहुत अच्छी लग रही थी। चिड़ियों की की आवाज बहुत अच्छी लग रही थी और यहां का बहुत अच्छा माहौल था। आप आएंगे तो आपको बहुत अच्छा लगेगा। 
 
वसुधा गांव के लोग बहुत अच्छे हैं और आपको वह रास्ता बता देते हैं, झरने तक जाने के लिए। आप यहां पर आते हैं, तो यहां पर पूरा 1 दिन का प्लान बनाकर आइएगा, क्योंकि यहां पर आपको पूरा 1 दिन लग जाएगा। यहां पर आप पिकनिक मनाने आ सकते हैं, फैमिली वालों के साथ। मगर ग्रुप में आए, तो वह वेस्ट होगा। आप यहां पर बरसात के समय आए, क्योंकि बरसात के समय झरने में पानी रहता है। गर्मी के समय झरना सूख जाता है। मगर यहां जंगल का जो तापमान रहता है। वह बहुत ही ठंडा रहता है। गर्मी के समय भी यहां पर आपको अच्छा लगेगा। 
 
वसुधा जलप्रपात में झरने का पानी पहाड़ों से एक कुंड में गिरता है। इस कुंड में आप नहाने का मजा भी ले सकते हैं। मगर अगर कुंड ज्यादा गहरा हो, तो आप संभल कर नहाए। यहां पर आप पिकनिक मना सकते हैं और बरसात के समय यहां पर बहुत सारे लोग आते हैं, तो आप बरसात के समय आएंगे, तो वह आपके लिए अच्छा रहेगा। यहां पर आप अपनी फैमिली, दोस्तों के साथ आकर बहुत ज्यादा मजे कर सकते हैं। यह कटनी के पास एक अच्छा दर्शनीय स्थल है और आप यहां पर आ सकते हैं। 
 


रजत प्रपात पचमढ़ी - Silver falls pachmarhi | Rajat prapat pachmarhi

सिल्वर फॉल पचमढ़ी - Silver waterfall Pachmarhi | Rajat waterfall Pachmarhi


रजत प्रपात पचमढ़ी - Silver falls pachmarhi | Rajat prapat pachmarhi


रजत जलप्रपात पचमढ़ी का सबसे ऊंचा जलप्रपात है। यह जलप्रपात बहुत सुंदर है। इस जलप्रपात को सिल्वर जलप्रपात या रजत जलप्रपात भी कहते है। रजत जलप्रपात पचमढ़ी में घूमने वाला एक दर्शनीय स्थल है। रजत का मतलब होता है - चांदी। चांदी एक धातु है और इसके गहनें बनाये जाते है। यह धातु चमकदार होती है। रजत जलप्रपात भी दूर से देखने में चांदी के सामान चमकता है। यह जलप्रपात घने जंगलों के बीच में स्थित है।

रजत जलप्रपात में पहुंचने के लिए आपको घने जंगलों के बीच में से पैदल चलना पड़ता है। यह जलप्रपात अप्सरा जलप्रपात के आगे है। इस जलप्रपात में बरसात में ज्यादा पानी रहता है। बरसात के समय रजत जलप्रपात घूमने का सबसे अच्छा समय है। इस समय आपको जंगल में हर जगह छोटे छोटे झरनें देखने मिल जाते है। गर्मी में पानी इस झरनें में रहता है, मगर कम रहता है। 

रजत जलप्रपात की ऊंचाई 130 फीट है। इस जलप्रपात को आप उपरी हिस्सा देख सकते है। इसका निचला हिस्सा आपको दिखाई नहीं देगा। यह झरना हरियाली से घिरा हुआ है। आपको इस झरनें तक पहुॅचने के लिए आपको पैदल चलना पडता है, क्योंकि यह झरना बीच जंगल में स्थित है। रजत जलप्रपात पचमढ़ी से 2 या 3 किलोमीटर दूर होगा। आप इस झरनें तक पैदल ही आना होगा, मगर आप इस झरनें में जिप्सी और बाइक या साइकिल से आ सकते है। जिप्सी पचमढ़ी में असानी से मिल जायेगी। बाइक या साइकिल आपको पचमढ़ी में किराये पर मिल जाती है। इस झरनें के प्रवेश द्वार पर पहुॅचकर आपको पैदल चलना पडता है। यह करीब आपको 1 या 1.5 किलोमीटर दूर आपको पैदल चलना पडेगा। उसके बाद आपको रजत जलप्रपात देखने मिलता है। आपको यहां पर पचमढ़ी की खूबसूरत वदियां देखने मिलती है। 

बी फॉल पचमढ़ी - Bee waterfall pachmarhi | B fall pachmarhi

जमुना जलप्रपात - Bee fall pachmarhi madhya pradesh | Jamuna Falls Pachmarhi



बी फॉल पचमढ़ी - Bee waterfall pachmarhi | B fall pachmarhi


बी फॉल पचमढ़ी (bee fall Pachmarhi) में स्थित एक खूबसूरत जलप्रपात है। आप जब भी पचमढ़ी की सैर करने जाते है, तो इस जलप्रपात में घूमने के लिए आ सकते हैं। यह जलप्रपात घने जंगलों के बीच में स्थित है। इस झरने को जमुना जलप्रपात के नाम से भी जाना जाता है। इस जलप्रपात में आप जिप्सी के द्वारा पहुंच सकते हैं। पचमढ़ी के दर्शनीय स्थलों की सैर करनें का सबसे अच्छा साधन जिप्सी है। आप इस जलप्रपात में साइकिल और बाइक के द्वारा भी पहुंच सकते हैं। यह साइकिल और बाइक भी पचमढ़ी में आपको किराए पर उपलब्ध हो जाते हैं।

बी फॉल (
bee fall) का नाम बी फॉल (bee fall) इसलिए रखा गया है, क्योंकि कहा जाता है कि यह पूरा क्षेत्र जंगल से घिरा हुआ है। इस एरिया में बहुत सारी मधुमक्खियों के छत्ते पाए जाते हैं। यहां पर आपको बोर्ड भी देखने के लिए मिलता है, जिसमें सरकार के द्वारा चेतावनी दी गई है, कि मधुमक्खियों से सावधान रहे और किसी भी तरह की छेड़खानी ना करें। इसके अलावा बी फॉल (bee fall) काफी ऊंचाई से गिरता है, जिससे जलप्रपात की जो आवाज रहती है वह मधुमक्खियों के भुनभुनाने की तरह आती है। इसलिए भी इस जलप्रपात को बी फॉल (bee fall) कहा जाता है।

बी फॉल
(bee fall) में पहुंचने के लिए आपको नीचे की तरह आना पडता है। यहां पर जलप्रपात तक पहुॅचने के लिए सीढियां बनाई गई है। यह करीब 100 या 150 सीढ़ियां होगें, जिसको उतरते हुए आप थक जाते है। मगर नीचे अगर आप थकान मिट जाती है। पहाडों के उपर से गिरता झरना बहुत ही मनोरम लगता है। आप इस झरने में नहाने का मजा ले सकते हैं। झरने के पास ही में आपको कुछ शॉप देखने के लिए मिल जाते हैं, जहां पर आप को नहाने के लिए कपड़े किराया पर मिल जाते हैं। आप अगर अपने साथ एकस्ट्रा कपड़े नहीं लाते है, तो यहां से कपड़े किराए पर लेकर नहा सकते हैं। आपको यहां पर मैंगी की कुछ अन्य शाॅप भी देखने मिलती है। आप यहां पर खाने का मजा भी ले सकते है। यहां पर चेंजिंग रूम भी बना हुआ है। इस झरने के नजदीक आकर आप को लगेगा कि आप प्रकृति की करीब आ गए है। यह जगह बहुत शांत और बहुत अच्छी है। बी फाॅल (bee fall) के जाने वाले रास्ते में आपको एक आर्टिफिशियल झरना देखने मिलता है,  जिससे पानी बहता है। इस झरने में आप बहुत सारी मछलियां देख सकते हैं। आप यहां पर अपने पैर डालकर बैठ सकते हैं और मछलियां आपके पैरों को गुदगुदी करेगी जो एक अच्छा अनुभव रहता है। पचमढ़ी एक बहुत ही मनोरम जगह है और यहां पर जाकर एक अलग अनुभव मिलता है। 


#beefalls
#bwaterfalls

टेमर जलप्रपात जबलपुर - Temar fall jabalpur | Temar waterfall jabalpur

 टेमर झरना जबलपुर - Temar jharna jabalpur


टेमर जलप्रपात जबलपुर - Temar fall jabalpur | Temar waterfall jabalpur


टेमर जलप्रपात जबलपुर (Temer waterfalls Jabalpur) शहर का खूबसूरत झरना है। टेमर जलप्रपात जबलपुर (Temer waterfalls Jabalpur) के बरगी क्षेत्र में स्थित है। टेमर झरना जबलपुर (temar jharna jabalpur) से करीब 33 किलोमीटर दूर होगा। इस झरनें तक आप अपनी गाडी से पहुॅच सकते है। टेमर जलप्रपात में जाने का सबसे अच्छा समय बरसात का है, क्योंकि बरसात के समय झरने में बहुत सारा पानी रहता है। गर्मी के समय पर झरनें में पानी नहीं रहता है। 

टेमर जलप्रपात (
Temer waterfalls) पर जाने का रास्ता बहुत आसान है। आप यहां पर जबलपुर नागपुर हाईवे रोड से आ सकते हैं। बरगी के पास से बरगी बांध जाने वाले रास्ते के तरफ जाना होता है। बरगी बांध जाने वाले रास्ते में आपको काली माता की विशाल मूर्ति देखने के लिए मिलती है। इस मूर्ति की उचाई करीब 108 फीट है। यह जबलपुर की सबसे उची मूर्ति है। यह मूर्ति आपको दूर से ही देखने मिल जाता है। काली जी की मूर्ति को देखकर आप थोडा ही आगे जायेगें, तो आपको एक बोर्ड देखने मिलेगा। बोर्ड में टेमर जलप्रपात (Temer waterfalls) की ओर जाने का डायरेक्शन दिखेगा। आप बोर्ड की दिशा की तरफ आगे बढ़ जाये। यहां से आपको कच्चा रास्ता मिलता है। थोड़ी दूर कच्चे रास्ते में आप को चलना पड़ता है और आपको आगे जलप्रपात देखने के लिए मिलता है। टेमर जलप्रपात (Temer waterfalls) बरसात में बहुत खूबसूरत रहता है। मगर जलप्रपात जाने का रास्ता बरसात के समय बहुत ज्यादा खराब रहता है, क्योंकि यह रास्ता मिट्टी वाला है, जो पूरा रास्ता कीचड़ से सन रहता है। आप इस रास्ते में गाडी नहीं ले जा सकते है। टेमर झरना (temar jharna) ज्यादा बडा नही है, मगर खूबसूरत है।

टेमर जलप्रपात
(Temer waterfalls) में 2020 में एक दुर्घटना घट गई थी। यहां पर एक व्यक्ति की मौत हो गई थी, इसलिए आप यहां पर जाते हैं, तो संभल कर रहें। झरने में किसी भी तरह की लापरवाही ना करें। यहां पर किसी भी तरह की कोई सुरक्षा नहीं है और ना ही यहां पर कोई गार्ड है। आप यहां पर सावधानीपूर्वक रहे और झरने में एंजॉय करें। आप यहां पर अपने दोस्तों और परिवार के लोगों के साथ आकर इंजॉय कर सकते हैं।


परियट बांध जबलपुर - Pariyat dam | Pariyat waterfall

 परियट जलाशय - Pariyat Reservoir


परियट बांध जबलपुर - Pariyat dam | Pariyat waterfall


परियट बांध जबलपुर (pariyat bandh jabalapur) का एक प्रसिद्ध पिकनिक स्थलों में से एक है। परियट बांध जबलपुर (pariyat bandh jabalapur) जिलें की एक दर्शनीय जगह है। आप यहां पर अपने परिवार के साथ पिकनिक मनाने के लिए आ सकते हैं। परियट बांध (pariyat bandh ) चारों तरफ से खूबसूरत पहाड़ों से घिरा हुआ है। यह बांध जंगल के बीच में स्थित है। परियट बांध (pariyat bandh) में मगरमच्छ भी मौजूद है, जो आपको जमीन में आराम करते हुए दिख सकते है।

परियट बांध (
pariyat bandh) जाने वाले रास्तें में आपको बहुत सारे मुर्गी फर्म देखने मिलते है। यहां पर बहुत शांती है। जलाशय में बहुत कम लोग आते हैं, जिससे यहां ज्यादा भीड़ भाड़ नहीं रहती है। कपल्स के लिए यह जगह अच्छी है, मगर कपल्स अगर यहां आते हैं, तो  जंगल के अंदर ना जाए। परियट जलाशय (pariyat jalashay) के पास ही बैठने के लिए चेयर बने हुए है, जहां पर बैठकर आप जलाशय का सुंदर दृश्य देख सकते हैं। 

परियट जलाशय (pariyat jalashay) में घूमने का सबसे अच्छा समय बरसात का होता है। बरसात के समय यह जलाशय पूरी तरह पानी से भर जाता है, जिससे चारों तरफ पानी ही पानी दिखाई देता है और खूबसूरत पहाड़ दिखाई देते हैं, जो हरे भरे पेड़ पौधों से ढके हुए रहते हैं। यहां पर जलाशय के किनारे चलने के लिए एक कच्चा रास्ता बना हुआ है। इस रास्ते से आगे जाते हैं, तो आपको परियट जलाशय (pariyat jalashay) पर बनाने वाला झरना देखने के लिए मिलता है। जब परियट बांध पानी से पूरी तरह भर जाता है, तो यह झरना बहने लगता है। जिससे यह मनोरम जलप्रपात बनाता है, जिसे परियट जलप्रपात (pariyat jalaprapat) कहते है। जलाशय पर नहाने में मनाही है, क्योंकि यहां पर मगरमच्छ है, जो आपको नुकसान पहुंचा सकते हैं। यहां पर पार्किंग उपलब्ध है। पर्किग के पास एक छोटा सा होटल भी बना हुआ है, जहां पर आप चाय पी सकते हैं। कॉफी पी सकते हैं। खाने के लिए बिस्किट, चिप्स, स्नैक्स आपको मिल जाते हैं। इस जलाशय में के पास में हनुमान जी का मंदिर है।
  

परियट बांध कैसे जाये - Pariyat bandh kaise jaaye


परियट जलाशय जबलपुर
(pariyat bandh jabalapur) शहर में स्थित है। परियट जलाशय ((pariyat jalashay)) जबलपुर से करीब 20 किलोमीटर दूर है। आप यहां पर अपनी गाड़ी से जा सकते हैं। यहां पर दोपहिया और चार पहिया वाहन से पहुंचा जा सकता है। इस जलाशय तक पहुॅचने के लिए रोड अच्छी है। 1 या आधा किलोमीटर की रोड खराब होगी। 




Bhadbhada waterfall jabalpur - भदभदा जलप्रपात

 भदभदा झरना - Bhadbhada waterfall



भदभदा जलप्रपात जबलपुर जिले का एक छोटा मगर बहुत ही शानदार झरना है। भदभदा जलप्रपात गौर नदी पर बना है। गौर नदी जबलपुर में बहने वाली नदी है। गौर नदी नर्मदा नदी में मिल जाती है। भदभदा जलप्रपात जमतरा ब्रिज जाने वाली रोड पर बना हुआ है। आप जब भी जमतरा ब्रिज घूमने जाते हैं, तो इस झरने में भी घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां जाने के लिए सड़क अच्छी नहीं है। पूरा कच्चा रास्ता है और बारिश के समय रास्ता और ज्यादा खराब हो जाता है, जिससे गाड़ी चलाने में बहुत दिक्कत होती है। आप भदभदा जलप्रपात जाएं, तो खुले मौसम में जाएं। आप भदभदा जलप्रपात पर कार और बाइक से जा सकते है। झरने से कुछ दूरी पर आपको अपनी गाड़ी खड़ी करनी पड़ेगी, क्योंकि झरने तक आपको पैदल जाना पड़ेगा।

भदभदा जलप्रपात बहुत खूबसूरत है, और बरसात में इसकी खूबसूरती और अधिक बढ़ जाती है। चारों तरफ हरियाली रहती है और यह झरना आइटीबी पुलिस बिल्डिंग के बाजू में है। भदभदा झरना में बरसात के समय पानी रहता है। गर्मी में झरने का पानी सूख जाता है। आप जब भी झरने में घूमने आए, तो बरसात के समय आए। यहां पर आप अपने दोस्तों और परिवार के लोगों के साथ आ सकते हैं। कपल्स भी इस जगह पर आ सकते हैं, मगर सावधानी रखनी जरूरी है। ग्रुप में आए, तो बेहतर होगा, क्योंकि यहां पर ज्यादा लोग नहीं रहते है। इसलिए आपको अपनी सुरक्षा स्वयं करनी पड़ेगी। भदभदा जलप्रपात के बारे में ज्यादा लोगों को जानकारी नहीं है, इसलिए यहां पर ज्यादा लोग नहीं आते हैं। मगर आप यहां पर आते हैं, तो आपको आस-पास के गांव वाले देखने के लिए मिलते हैं, जो यहां पर मछली पकड़ते हुए रहते हैं। यहां पर आप जाकर पिकनिक मना सकते हैं, खाना पीना बना सकते हैं। झरने के ज्यादा नजदीक मत जाइएगा, क्योंकि कभी कभार पानी बहुत तेजी से बढ़ सकता है, और आपकी जान खतरे में पड़ सकती है। झरने के पास किसी भी प्रकार की कोई सुरक्षा भी नहीं है। झरनें के पास जो चट्टाने है, वह काले कलर की है, जो थोडी अजीब प्रकार की हैं। देखने में बहुत ही अलग दिखती हैं। आप इस झरने में गूगल मैप की सहायता से नहीं पहुंच सकते हैं, क्योंकि गूगल मैप में जो डायरेक्शन दिया है। वह गलत है और आप आईटीबी बिल्डिंग पहुंच जाते हैं। यह झरना आईटीबी बिल्डिंग के  दूसरी छोर पर स्थित है, तो आप यहां पर जाते हैं, तो गांव वालों से झरनें का रास्ता पूछ सकते हैं।


 
#bhadbhadawaterfall