सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

Temple की खोज से मिलान करने वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

आप हमारी मदद करना चाहते हैं, तो नीचे दिए लिंक से शॉपिंग कीजिए।

Muhas Hanuman Temple || मुहास हनुमान मंदिर

Muhas Hanuman Temple मुहास हनुमान मंदिर  हड्डी जोड़ने वाला मुहास का हनुमान मंदिर हनुमान मंदिर का मुख्य द्वार   हनुमान मंदिर मुहास ( Muhas Hanuman Temple ) बहुत प्रसिद्ध है। इस हनुमान मंदिर को हड्डी जोड़ने वाले मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। लोगों का मानना है कि यहां पर हनुमान जी स्वयं लोगों की हड्डी जोड़ने का इलाज करते हैं। यह मंदिर पूरे भारत देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर के बारे में न्यूज चैनलों में भी आ चुका है। इस मंदिर की प्रसिद्धि पूरे देश में है। यहां पर जो भी लोग आते हैं। वह अपनी समस्या लेकर आते हैं और हनुमान जी उनकी समस्या को ठीक करते हैं। मुहास हनुमान मंदिर कहा है Where is Muhas Hanuman Temple हम लोग भी इस मंदिर में घूमने गए थे। यह मंदिर मध्यप्रदेश के कटनी जिले में स्थित है। यह मंदिर कटनी जिले से लगभग 35 किमी दूर होगा। यह रीठी तहसील की मुहास नाम के गांव में स्थित है। यह एक छोटा सा मंदिर है, ज्यादा बड़ा मंदिर नहीं है। यह मंदिर बहुत ही खूबसूरती से बनाया गया है। यह मंदिर मुहास में मेन रोड में स्थित है। आप यहां पर अपनी गाड़ी से जा सकते हैं। यहां पर बसें

सूर्य मंदिर रेहली सागर - Sun Temple Rehli Sagar

सूर्य मंदिर रहली और श्री महादेव मंदिर रहली - Surya Mandir Rehli and Shri Mahadev Temple Rehli रहली का सूर्य मंदिर मध्य प्रदेश का सबसे पुराना सूर्य मंदिर है। यह मंदिर प्राचीन है। यह मंदिर सागर जिले के रहली तहसील में स्थित है। यह मंदिर रहली तहसील में सोनार और देहार नदी के संगम पर बना हुआ है। इस मंदिर में आकर आप लोगों को प्राचीन मंदिर देखने के लिए मिलता है और सुनार नदी का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। सूर्य मंदिर के बाजू में महादेव जी का बहुत बड़ा मंदिर बना हुआ है। महादेव जी की बहुत ही सुंदर शिवलिंग के दर्शन आपको यहां पर करने के लिए मिलते हैं।  रहली के सूर्य मंदिर में हम लोग अपनी गाड़ी से गए थे। हम लोग सुनार नदी पर बने हुए पुल को पार करके रहली के मंदिर में पहुचे थे। सुनार नदी पर अभी नया पुल बन रहा है। आने वाले समय में आपको यहां पर नया ब्रिज देखने के लिए मिलेगा। हम लोग अभी छोटे ब्रिज से इस मंदिर में पहुंचे थे। छोटे ब्रिज के बाजू में ही आपको यह मंदिर देखने के लिए मिलेगा। सबसे पहले आपको महादेव जी का मंदिर देखने के लिए मिलेगा। महादेव जी के मंदिर के बाहर ही नाग देवता और शिवलिंग विराजमा

जवारी मंदिर खजुराहो - Javari Temple Khajuraho

खजुराहो का जवारी मंदिर -  Javari Mandir Khajuraho जवारी मंदिर खजुराहो में स्थित प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर पूर्वी मंदिर समूह में स्थित है। जवारी  मंदिर विष्णु भगवान जी को समर्पित है। यहां पर विष्णु भगवान की जो प्रतिमा स्थापित है, वह प्रतिमा खंडित अवस्था में है और उस प्रतिमा का सर आपको देखने के लिए नहीं मिलेगा। आप जब भी खजुराहो घूमने के लिए आते हैं, तो इस मंदिर में भी घूमने के लिए आ सकते हैं ,यह मंदिर ब्रह्मा मंदिर के आगे स्थित है। इस मंदिर में खूबसूरत गार्डन बना हुआ है और गार्डन के बीच में जवारी  मंदिर बना हुआ है, जो बहुत सुंदर लगता है।  खजुराहो के जवारी मंदिर की मूर्ति कला - Statue of Javari Temple of Khajuraho खजुराहो जवारी  मंदिर की मूर्ति कला बहुत ही अद्भुत है। जवारी मंदिर की बाहरी दीवार मूर्ति कला से सुसज्जित है। जब आप इस मंदिर में जाते हैं, तो आपको मंदिर के प्रवेश द्वार पर तोरण देखने के लिए मिलता है। इसे मकर तोरण कहते हैं। यह एक ही पत्थर का बना हुआ है और बहुत ही खूबसूरत लगता है। आप मंदिर के अंदर जाते हैं, तो मंदिर के अंदर आपको मंदिर के गर्भ गृह के प्रवेश द्वार में खूबसूरत मू

Kachnar City Jabalpur -- जबलपुर का कचनार सिटी शिव मंदिर

Kachnar City Jabalpur कचनार सिटी मंदिर कचनार सिटी मंदिर ( Kachnar City Temple ) जबलपुर शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यहां पर शिव भगवान की आपको बहुत ही सुंदर प्रतिमा देखने मिलती है । यह प्रतिमा बहुत ही ऊंची है, इस प्रतिमा के दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। कचनार सिटी मंदिर  ( Kachnar City Temple )  में बहुत ही खूबसूरत गार्डन बना हुआ है एवं गार्डन के बीच में इस सुंदर प्रतिमा का निर्माण किया गया है। गार्डन में शिव भगवान की प्रतिमा के आतिरिक्त और भी प्रतिमाए है जो बहुत खूबसूरत है। यहां पर 12 ज्योतिर्लिंगों की स्थापना भी की गई है। शिव भगवान की विशाल प्रतिमा के सामने नंदी भगवान की सफेद पत्थर की प्रतिमा भी स्थित है।  Kachnar City Jabalpur कचनार सिटी शिव मंदिर कचनार सिटी मंदिर ( Kachnar City Temple )  बहुत खूबसूरत है। मंदिर में खुले आसमान के नीचे शिव भगवान की बहुत ही खूबसूरत और उची प्रतिमा विराजमान है। शंकर भगवान की यह प्रतिमा 76 फीट उची है। इस मंदिर में शिव भगवान की बैठी हुई मुद्रा में प्रतिमा है। यहां मंदिर साफ सुथरा और अच्छी तरह से प्रबन्धित है। यहां पर आ

Adegaon Fort and Kalbhairav Temple || आदेगांव का प्रसिध्द कालभैरव जी का मंदिर

आदेगांव का किला एवं काल भैरव जी का मंदिर आदेगांव का किला ( Adegaon Fort ) एवं काल भैरव जी का मंदिर ( Kaal Bhairav ji ka mandir ) एक खूबसूरत पर्यटन स्थल है।  किले के अंदर कालभैरव जी का अतिप्रचीन मंदिर है।  आदेगांव  का किला  ( Adegaon Fort )   18 वी शताब्दी में बनाया गया था। इस मंदिर में काले भैरव, बटुक भैरव एवं नाग भैरव की सुंदर प्रतिमाए स्थित है। इस जगह में और भी चमत्कारी वस्तुए मौजूद है। यह पर श्यामलता का वृक्ष स्थित है जो विश्व में सिर्फ दो जगह ही पाया गया है।  Adegaon Fort and Kalbhairav Temple आदेगांव का किला  यह किला सिवनी जिले की लखनादौन तहसील से 18 किमी की दूरी पर है। आदेगांव नाम की इस जगह में आप पहुॅचते है तो यह किला आपको दूर से नजर आने लगता है। इस किले तक पहॅुचने का रास्ता आदेगांव की बाजार से होते हुए जाता है। मगर आप अगर रविवार दिन इस किलें में जाते है, इस दिन बाजार के एरिया से न जाये। आप बाजार के बजाय गांव के बाहर से ही एक रोड स्कूल की तरफ से होते हुए इस किले तक जाता है, आप वहां से जा सकते है। आपको किले के पास पहुॅचते है, आप को किला एक पहाड की चोटी पर

टिकीटोरिया मंदिर रहली सागर - Tikitoriya Devi Temple Rehli Sagar city

टिकीटोरिया तीर्थ स्थल - मां दुर्गा मंदिर रहली /  Tikitoria pilgrimage site -  Maa Durga Temple R ehli sagar mp टिकीटोरिया मंदिर सागर जिले का एक प्रमुख तीर्थ स्थल है। यह मंदिर मां दुर्गा जी को समर्पित है। यह मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। टिकीटोरिया मंदिर सागर जिले की रहली तहसील में स्थित है। यहां पर आकर आपको बहुत अच्छा लगेगा। टिकीटोरिया मंदिर एक प्राचीन मंदिर है। यहां पर आपको बहुत सारी प्राचीन मूर्तियां देखने के लिए मिलती हैं। यह मंदिर बहुत बड़े एरिया में फैला हुआ है और यहां पर सभी प्रकार की सुविधाएं मिल जाती हैं।  रहली तहसील में स्थित टिकीटोरिया मंदिर ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। यहां पर हम लोग अपनी स्कूटी से गए थे। हम लोगों अपनी गाड़ी एंट्री गेट के सामने ही खड़ी कर दी थी, क्योंकि यहां पर सभी की गाड़ियां खड़ी थी। टिकीटोरिया मंदिर के तरफ जाने वाले रास्ते के दोनों तरफ आपको प्रसाद की दुकान देखने के लिए मिलती है और प्रसाद वाले दुकानदार जब आप मंदिर की तरफ जाते हैं, तो आपसे प्रसाद लेने के लिए कहते हैं। अगर आप प्रसाद लेना चाहते हैं, तो ले सकते हैं। हम लोगों ने प्रसाद नहीं लिया था। उसके बाद

फूलनाथ स्वामी मंदिर, सागर जिला - Phoolnath Swami Temple, Sagar District

फूलनाथ स्वामी मंदिर भापेल  गांव,  सागर,  मध्य प्रदेश -  Phool Nath Swami Temple Bhapel Village, Sagar, Madhya Pradesh फूलनाथ स्वामी मंदिर एक प्राचीन मंदिर है। यह मंदिर सागर जिले में स्थित है। यह मंदिर शंकर भगवान जी को समर्पित है। इस मंदिर के पास ही में एक प्राचीन झील बनी हुई है, जिसमें बहुत सारे कमल के फूल लगे हुए हैं। इस मंदिर में शंकर भगवान जी की बहुत ही सुंदर शिवलिंग देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर एक पहाड़ी पर बना हुआ है। इस मंदिर में बहुत सारे लोग भगवान शिव जी के दर्शन करने के लिए आते हैं और यहां पर पिकनिक मनाते हैं। यहां पर साल में एक बार मेला भी लगता है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है।  हम लोग फूलनाथ स्वामी मंदिर में सागर से राहतगढ़ जाते समय गए थे। यह मंदिर सागर जिले से राहतगढ़ की तरफ जाने वाली सड़क पर मुख्य सड़क से करीब 1 किलोमीटर गांव में अंदर की तरफ पड़ता है। हम लोग इस मंदिर में अपनी बाइक से गए थे। यहां पर कार से भी आप इस मंदिर में जा सकते हैं। यह मंदिर पहाड़ी पर बना हुआ है। पहाड़ी तक जाने के लिए रोड बनी हुई है, जिससे आपको इस मंदिर तक पहुंचने में कोई परेशानी नहीं होगी। यहा

भगवान आदिनाथ मंदिर खजुराहो - Adinath Temple Khajuraho

खजुराहो का जैन मंदिर - आदिनाथ मंदिर खजुराहो, A dinath Mandir Khajuraho भगवान आदिनाथ का मंदिर खजुराहो का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर पूर्वी मंदिर समूह में स्थित है। इस मंदिर में भगवान आदिनाथ की पत्थर के काले रंग की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है, जो बहुत ही खूबसूरत लगती है। यह मंदिर जैन मंदिर समूह में स्थित है। यह मंदिर एक ऊंचे चबूतरे पर बना हुआ है। मंदिर में जाने के लिए सीढ़ियां हैं। इस मंदिर की बाहरी दीवार में आपको मूर्तियां देखने के लिए मिलती है, जो बहुत ही आकर्षक लगती है।  आदिनाथ मंदिर की मूर्ति कला -  Adinath temple sculpture आदिनाथ मंदिर की दीवार मूर्ति से सुसज्जित है। इसकी मूर्तिकला अद्भुत है। इन मूर्ति में आपको बहुत सारी मूर्तियां देखने के लिए मिलती हैं, जो अलग-अलग मुद्राओं में यहां पर बनाई गई हैं। आदिनाथ मंदिर में नीचे की तरफ आपको बेल बूटे देखने के लिए मिलते हैं और ऊपर की तरफ बड़ी मूर्तियों की आपको तीन लाइन देखने के लिए मिलती है। इनमें आपको सुरसुंदरी या गंधर्व, देवी देवताओं की प्रतिमा देखने के लिए मिलती हैं। इनमें सुर सुंदरियां अलग-अलग मुद्राओं में देखने के लिए मिलती हैं कुछ

भगवान पार्श्वनाथ मंदिर खजुराहो - Parshwanath Temple Khajuraho

खजुराहो जैन मंदिर -  पार्श्वनाथ मंदिर खजुराहो / P arshwanath Mandir Khajuraho भगवान पार्श्वनाथ का मंदिर खजुराहो का प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर खजुराहो के पूर्वी मंदिर समूह में स्थित है। यह मंदिर जैन मंदिर समूह में बना हुआ है। यहां पर आपको और भी मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। खजुराहो के इस मंदिर की विशेषता यह है, कि इस मंदिर के गर्भ ग्रह के पीछे एक और लघु मंदिर बना हुआ है, जो आपको खजुराहो के अन्य मंदिर में देखने के लिए नहीं मिलता है। इस मंदिर की दीवार भी मूर्तियों से सुसज्जित है।  यह मंदिर भी बहुत सुंदर है। यह मंदिर 10 वीं शताब्दी में बना हुआ है।  खजुराहो का पार्श्व नाथ मंदिर का निर्माण -  Construction of Parshwanath temple Khajuraho पार्श्व नाथ मंदिर 10 वीं शताब्दी में बना था। इस मंदिर का निर्माण चंदेल राजा धंग के द्वारा करवाया गया था। यह मंदिर बहुत सुंदर है। इसकी मूर्तिकला बहुत ही अद्भुत लगती है।  पार्श्वनाथ मंदिर की मूर्ति कला -  Parshwanath temple sculpture पार्श्वनाथ मंदिर की मूर्ति कला बहुत ही अद्भुत है। इस मंदिर की दीवारों में, जो मूर्ति बनाई गई हैं। उनमें आप मूर्तियों के भाव द

बीजामंडल मंदिर खजुराहो - Bijamandal temple Khajuraho

बीजामंडल उत्खनन मंदिर खजुराहो - Bijamandal excavation temple Khajuraho   बीजामंडल खजुराहो का एक प्रसिद्ध मंदिर हुआ करता था, अर्थात यह मंदिर प्राचीन समय में अच्छे अवस्था में हुआ करता था। अभी आप इस मंदिर जाएंगे, तो अभी आपको इस मंदिर के खंडहर ही देखने के लिए मिलेंगे, क्योंकि यह मंदिर अब पूरी तरह से नष्ट हो गया है। इस मंदिर की दीवारें ही देखने के लिए मिलेंगी।  बीजामंडल मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित था और इस मंदिर में अभी भी आपको शिव भगवान जी का शिवलिंग देखने के लिए मिलता है। इस मंदिर की जो दीवारें थी, उनके टुकड़ों को संभाल कर यहां पर रखा गया है। आप उनकी बारीक नक्काशी को यहां देख सकते हैं।     खजुराहो के बीजामंडल मंदिर के दर्शन -  Visit to Bijamandal Temple Khajuraho खजुराहो का बीजामंडल मंदिर मुख्य खजुराहो के बाहरी क्षेत्र में स्थित है। यह मंदिर चतुर्भुज मंदिर से करीब है। आप जब भी चतुर्भुज मंदिर जाते हैं, तो इस मंदिर को देखने के लिए जा सकते हैं। मगर यहां पर देखने के लिए मंदिर नहीं है। उसके खंडहर है और मंदिर की दीवारों के बहुत सारी नक्काशी हैं, जो आपको यहां पर बिखरी हुई देखने के लिए मि