सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

Temple की खोज से मिलान करने वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

Pachmarhi Chauragarh Temple || चौरागढ़ महादेव मंदिर, पचमढ़ी

Pachmarhi Chauragarh Shiv Templeचौरागढ़  महादेव पचमढ़ी
चौरागढ़(Chauragarh  Shiv Temple) का प्रसिद्ध मंदिर शिव मंदिर मध्य प्रदेश का प्रमुख पर्यटन स्थल है और यह पचमढ़ी में स्थित है। चैरागढ़ का मंदिर एक ऊंचे पहाड़ पर स्थित है यह मंदिर भगवान शिव जी को समर्पित है। चौरागढ़ (Chauragarh  Shiv Temple) महादेव पचमढ़ी(Pachmarhi) की एक खूबसूरत जगह है। यह जगह बहुत खूबसूरत है और जंगलों से घिरी हुई है। इस मंदिर तक जाने के लिए आपको बहुत मेहनत करनी पड़ेगी क्योंकि इस मंदिर तक पहॅुचने के लिए आपको पैदल चलना पड़ेगा और यह जगह पूरी तरह से जंगल और पहाड़ों से घिरी हुई है, यहां पर आपको बहुत खूबसूरत प्राकृतिक व्यू देखने मिलता है, यहां पर वादियों का मनोरम दृश्य देखने मिलता है। चौरागढ़ (Chauragarh  Shiv Temple) मंदिर 1326 मीटर की ऊंची पहाड़ी पर स्थित है और इस मंदिर तक पहुंचने के लिए आपको 1300 चढ़ने पड़ती है।

पचमढ़ी (Pachmarhi) को सतपुड़ा की रानी कहा जाता है और यहां पर बहुत सारी धार्मिक जगह है, जिनमें से प्राचीन शिव भगवान जी का मंदिर भी एक है,जिसके दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। यहां पर साल भर लोग दर्शन करने के लिए आत…

Savitri temple pushkar || सावित्री मंदिर पुष्कर

Savitri temple pushkar
सावित्री मंदिर पुष्कर
पुष्कर का सावित्री मंदिर (Savitri mata temple pushkar) बहुत ही खूबसूरत जगह है।

पुष्कर शहर का सावित्री मंदिर एक धार्मिक जगह है। यह जो मंदिर है, वह उचीं  पहाड़ी पर स्थित है। इस पहाडी को रत्नागिरी पहाडी कहते है। इसकी ऊँचाई 750 फीट है। आपको यहां पर देसी और विदेशी दोनों प्रकार के लोगों लोग देखने मिल जाएंगे, मतलब यहां पर भारतीय लोग और विदेशी लोग लोग सभी लोग माता के दर्शन करने के लिए आते हैं। 
पुष्कर का सावित्री मंदिर (Savitri mata temple pushkar) भगवान ब्रह्मा की पहली पत्नी को समर्पित है। इस मंदिर में स्थित देवी सावित्री की मूर्ति बहुत ही प्राचीन है। 



हमने पुष्कर के सावित्री मंदिर (Savitri mata temple pushkar)का जाने का प्लान बनाया और हम लोगों तैयार हो गए। उसके बाद हम लोगों ने पुष्कर घूमने के लिए ऑटो बुक किया था। मगर हम लोगों को बहुत लेट हो गया था, तो हम लोग सबसे पहले इस मंदिर के लिए निकले। हम लोगों मंदिर पहुॅचें, तो हम लोगों को मंदिर के आसपास बहुत सारे ऊंट गाडी दिखाई दी, गाडी को ऊंट खींचकर लेकर जाते हैं। आप भी यहां पर ऊंट गाड़ी देखने मिल जाएगी। वैसे…

Paat Baba Temple, Jabalpur - पाठ बाबा मंदिर, जबलपुर

Famous Hanuman Temple of Paat Baba Temple Jabalpur.
पाठ बाबा मंदिर - जबलपुर का प्रसिद्ध हनुमान मंदिर
जबलपुर (Jabalpur) एक प्रसिद्ध शहर है। जबलपुर (Jabalpur)  मध्य प्रदेश का एक प्रसिद्ध जिला है। जबलपुर में आपको बहुत सारे दर्शनीय स्थल देखने मिलते है। हम आज एक जबलपुर(Jabalpur) में स्थित एक बहुत खूबसूरत मंदिर की बात करने वाले है। आप इस जगह पर जाकर अपना बहुत अच्छा टाइम बता सकते हैं। आज हम आपको लेकर चल रहे हैं  पाठ बाबा मंदिर (Paat Baba Temple)


पाठ बाबा मंदिर(Paat Baba Temple) बहुत खूबसूरत मंदिर है। यहां का वातावरण है बहुत बढ़िया वातावरण है। यहां पर चारों तरफ ऊंचे ऊंचे पहाड़ हैं। यहां पर हनुमान जी का मंदिर है, जो बहुत फेमस है। 
यह मंदिर जिस एरिया में स्थित है। वह पूरा मिलेट्री एरिया लगता है। पाठ बाबा मंदिर(Paat Baba Temple) का वातावरण शांत है। यहां पर आपको बहुत शांति मिलती है, क्योंकि यहां पर किसी भी तरह का शोर-शराबा नहीं रहता है। मंदिर जाने का रास्ता और मंदिर बहुत अच्छी तरह से साफ सुथरा है। 
पाठ बाबा मंदिर(Paat Baba Temple) पहुंचने के लिए आपको घमापुर के आगे आना पड़ता है। घमापुर के आगे सतपुला बाजा…

Bahoriband-Kankali Devi Temple Tigawa (कंकाली देवी मंदिर )

Kankali Devi Temple  कंकाली देवी मंदिर 
कंकाली देवी मंदिर बहोरीबंद (Kankali Devi Temple) के पास के एक गांव में स्थित है। इस गांव में कंकाली देवी मंदिर (Kankali Devi Temple) के अलावा एक मंदिर और भी स्थित है। यह एक पुरातात्विक स्थल है और यहां पर आपको बहुत ढेर सारे खूबसूरत नक्काशी भरे पत्थर पर उकेरी गई कई कलाकृतियां देखने मिल जाएगी। यह एक बहुत प्राचीन स्थल है और आप इस जगह पर बहुत आसानी से आ सकते हैं। यह बहुत ही प्राचीन मंदिर है। 

कंकाली देवी मंदिर (Kankali Devi Templeकटनी जिले में स्थित है। यह कटनी जिले के बहोरीबंद तहसील (Bahoriband Tehsilके पास स्थित है। आप इस मंदिर पर अपनी गाड़ी से आसानी से आ सकते हैं। इस मंदिर तक कोई भी टैक्सी या बस वगैरह नहीं चलती है। आपको अपनी गाड़ी से ही आना होगा। इस मंदिर तक आने के लिए आपको अच्छी सड़क मिल जाती है, या बहोरीबंद तहसील (Bahoriband Tehsil) से जो कटनी जिले की तहसील है वहां से 3 या 4 किलोमीटर दूर होगा, तो आप यहां पर अपनी गाड़ी से आसानी से आ सकते हैं।

आपको यहां पर आकर बहुत ही सुंदर कंकाली देवी का मंदिर (Kankali Devi Temple) देखने को मिलता है, जो करीब 1000 स…

Chausath Yogini Temple, Jabalpur -- चौंसठ योगिनी मंदिर, जबलपुर

चौंसठ योगिनी मंदिर, जबलपुर Chausath Yogini Temple, Jabalpur दोस्तों हम लोगों ने धुंआधार जलप्रपात पूरा घूम लिया उसके बाद हम लोग जा रहे चौंसठ  योगिनी मंदिर दोस्तों अगर आप लोग धुंआधार जलप्रपात घूमने जाते है तो आपको चौंसठ  योगिनी मंदिर भी जरूर घूमना चहिए। चौंसठ योगिनी मंदिर धुंआधार जलप्रपात से लगभग 1 से 1.5 कि.मी. की दूरी पर स्थित है। अगर आप रविवार को जाते है तो आपको बाजार भी देखने मिल जाती है । जी हाॅ रास्ते में छोटा सा साब्जियों का बाजार भरता है । साब्जियों के अलावा भी बहुत सारा सामान मिलता है। हम लोगो ने भी कुछ सामान वहां से खरीदा था। तो दोस्तो बात करते है चौंसठ योगिनी मंदिर की आपको यहां तक पहुॅचने के लिए ज्यादा मेहनत नहीं करनी होगी। बहुत आसान रास्ता है आपको धुंआधार जलप्रपात से सीधा आना है । मुख्य मार्ग में ही चौंसठ योगिनी मंदिर स्थित है। हम लोगों को मंदिर तक पहुॅचने तक शाम हो गई थी शायद 6 बजा गए थे। यहां मंदिर सूर्यास्त होते ही बंद हो जाता है हम लोग गर्मी में गये थे तो हम लोग मंदिर जा पाये। क्योकि गर्मी में सूर्यास्त देर से होता है।  मंदिर में पहुॅचते ही हमें एक प्रसाद की दुकान दिख व…

Muhas Hanuman Temple || मुहास हनुमान मंदिर

Muhas Hanuman Temple
मुहास हनुमान मंदिर  हड्डी जोड़ने वाला मुहास का हनुमान मंदिर


हनुमान मंदिर मुहास (Muhas Hanuman Temple) बहुत प्रसिद्ध है। इस हनुमान मंदिर को हड्डी जोड़ने वाले मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। लोगों का मानना है कि यहां पर हनुमान जी स्वयं लोगों की हड्डी जोड़ने का इलाज करते हैं। यह मंदिर पूरे भारत देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर के बारे में न्यूज चैनलों में भी आ चुका है। इस मंदिर की प्रसिद्धि पूरे देश में है। यहां पर जो भी लोग आते हैं। वह अपनी समस्या लेकर आते हैं और हनुमान जी उनकी समस्या को ठीक करते हैं।
मुहास हनुमान मंदिर कहा है
Where is Muhas Hanuman Temple
हम लोग भी इस मंदिर में घूमने गए थे। यह मंदिर मध्यप्रदेश के कटनी जिले में स्थित है। यह मंदिर कटनी जिले से लगभग 35 किमी दूर होगा। यह रीठी तहसील की मुहास नाम के गांव में स्थित है। यह एक छोटा सा मंदिर है, ज्यादा बड़ा मंदिर नहीं है। यह मंदिर बहुत ही खूबसूरती से बनाया गया है। यह मंदिर मुहास में मेन रोड में स्थित है। आप यहां पर अपनी गाड़ी से जा सकते हैं। यहां पर बसें भी चलती होंगी, मगर वो टाइम टेबल से चलती होंगी, तो अगर आप बस से य…

Kachnar City Jabalpur -- जबलपुर का कचनार सिटी शिव मंदिर

Kachnar City Jabalpurकचनार सिटी मंदिर
कचनार सिटी मंदिर (Kachnar City Temple) जबलपुर शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यहां पर शिव भगवान की आपको बहुत ही सुंदर प्रतिमा देखने मिलती है । यह प्रतिमा बहुत ही ऊंची है, इस प्रतिमा के दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। कचनार सिटी मंदिर (Kachnar City Temple) में बहुत ही खूबसूरत गार्डन बना हुआ है एवं गार्डन के बीच में इस सुंदर प्रतिमा का निर्माण किया गया है। गार्डन में शिव भगवान की प्रतिमा के आतिरिक्त और भी प्रतिमाए है जो बहुत खूबसूरत है। यहां पर 12 ज्योतिर्लिंगों की स्थापना भी की गई है। शिव भगवान की विशाल प्रतिमा के सामने नंदी भगवान की सफेद पत्थर की प्रतिमा भी स्थित है। 

कचनार सिटी शिव मंदिर
कचनार सिटी मंदिर (Kachnar City Temple) बहुत खूबसूरत है। मंदिर में खुले आसमान के नीचे शिव भगवान की बहुत ही खूबसूरत और उची प्रतिमा विराजमान है। शंकर भगवान की यह प्रतिमा 76 फीट उची है। इस मंदिर में शिव भगवान की बैठी हुई मुद्रा में प्रतिमा है। यहां मंदिर साफ सुथरा और अच्छी तरह से प्रबन्धित है। यहां पर आकर आपको बहुत शांती मिलती है। शंकर भगवान की प्रतिमा के अंद…

Adegaon Fort and Kalbhairav Temple || आदेगांव का प्रसिध्द कालभैरव जी का मंदिर

आदेगांव का किला एवं काल भैरव जी का मंदिर
आदेगांव का किला (Adegaon Fort) एवं काल भैरव जी का मंदिर (Kaal Bhairav ji ka mandir) एक खूबसूरत पर्यटन स्थल है।  किले के अंदर कालभैरव जी का अतिप्रचीन मंदिर है। आदेगांव का किला (Adegaon Fort)18 वी शताब्दी में बनाया गया था। इस मंदिर में काले भैरव, बटुक भैरव एवं नाग भैरव की सुंदर प्रतिमाए स्थित है। इस जगह में और भी चमत्कारी वस्तुए मौजूद है। यह पर श्यामलता का वृक्ष स्थित है जो विश्व में सिर्फ दो जगह ही पाया गया है। 


आदेगांव का किला 
यह किला सिवनी जिले की लखनादौन तहसील से 18 किमी की दूरी पर है। आदेगांव नाम की इस जगह में आप पहुॅचते है तो यह किला आपको दूर से नजर आने लगता है। इस किले तक पहॅुचने का रास्ता आदेगांव की बाजार से होते हुए जाता है। मगर आप अगर रविवार दिन इस किलें में जाते है, इस दिन बाजार के एरिया से न जाये। आप बाजार के बजाय गांव के बाहर से ही एक रोड स्कूल की तरफ से होते हुए इस किले तक जाता है, आप वहां से जा सकते है। आपको किले के पास पहुॅचते है, आप को किला एक पहाड की चोटी पर दिखता है जिस तक पहॅुचने के लिए आपको सीढियों से चढकर जाना होगा। इस किले के…