सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

Temple लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

आप हमारी मदद करना चाहते हैं, तो नीचे दिए लिंक से शॉपिंग कीजिए।

गिरिजा दहार राहतगढ़, सागर - Girija Dahar Rahatgarh, Sagar

तपो सिद्ध भूमि गिरिजा दाहर,  राहतगढ़ तहसील,  सागर मध्य प्रदेश -  Tapo Siddha Bhoomi Girija Dahar, Rahatgarh Tehsil, Sagar Madhya Pradesh गिरिजा दाहर सागर जिले के राहतगढ़ तहसील का एक सिद्ध क्षेत्र है। गिरिजा धार या गिरिजा दाहर के नाम से यह क्षेत्र बहुत प्रसिद्ध है। यहां पर शिव भगवान जी का एक मंदिर है। इस मंदिर में शिवलिंग विराजमान है। यहां पर बीना नदी बहती है। बीना नदी पर एक  कुंड है। इस कुंड के बारे में कहा जाता है, कि इस कुंड में बेलपत्र डूब जाते हैं। बाकी यहां पर किसी भी पेड़ की पत्ती नहीं  डूब ती है। यहां पर लोग इस तरह के प्रयोग करते हैं और यह प्रयोग बिल्कुल सत्य है। यहां पर बेलपत्र डूब जाते हैं। इसलिए यह क्षेत्र बहुत प्रसिद्ध है। गिरिजा दाहर में आकर मन की शांति मिलती है। यहां पर चारों तरफ हरियाली है और बीना नदी का सुंदर दृश्य है। गिरिजा दाहर बहुत सुंदर जगह है। यहां पर बहुत शांति है और यहां पर महाशिवरात्रि में और सावन सोमवार के समय बहुत सारे लोग भगवान शिव के दर्शन करने के लिए आते हैं और यह चमत्कार देखने के लिए आते हैं।  हम लोग घर गिरिजा दाहर सागर से विदिशा जाते समय गए थे। गिरि

बनेनी घाट और शिव मंदिर राहतगढ़ - Baneni Ghat and Shiv Mandir Rahatgarh

बनेनी घाट और शिव मंदिर राहतगढ़,  सागर  -  Banni Ghat and Shiv Mandir Rahatgarh, Sagar राहतगढ़ का बनेनी घाट और शिव मंदिर प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह मंदिर राहतगढ़ में बीना नदी के किनारे पर बने हुए हैं। इस मंदिर के गर्भ गृह में शंकर जी का शिवलिंग विराजमान है। इस मंदिर में प्रवेश करेंगे, तो आपको शीतला माता की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। शीतला माता की प्रतिमा भी बहुत अद्भुत लगती है। यहां पर बहुत सारे भक्त शीतला माता और शंकर जी के दर्शन करने के लिए आते हैं। शिवजी के मंदिर के पीछे बीना नदी का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर घाट भी बना हुआ है, जहां पर नहाने का मजा लिया जा सकता है। यहां पर पानी को रोकने के लिए स्टॉप डैम भी बनाया गया है। जिससे यहां पर पानी हमेशा भरा रहता है। मंदिर के पीछे नदी के उस पर आपको प्राचीन इमारत देखने के लिए मिलती है। वैसे यह इमारत अब पूरी तरह खंडहर हो चुकी है और इमारत पर यहां के लोकल लोग आकर बैठे रहते हैं।  हम लोग लखेरा धाम मंदिर घूमने के बाद राहतगढ़ के प्राचीन शिव मंदिर घूमने के लिए गए। यह प्राचीन शिव मंदिर राहतगढ़ में बीना नदी के किनारे बने घाट में

श्री लखेरा धाम राहतगढ़ सागर - Shri Lakhera Dham Rahatgarh Sagar

श्री लखेरा धाम मंदिर राहतगढ़  तहसील सागर जिला मध्य प्रदेश -  Shri Lakhera Dham Temple Rahatgarh Tehsil Sagar District Madhya Pradesh श्री लखेरा धाम मंदिर राहतगढ़ की एक प्रसिद्ध धार्मिक जगह है। लखेरा धाम सागर जिले की राहतगढ़ तहसील में स्थित है। लखेरा धाम हनुमान जी का मंदिर है। यहां पर हनुमान जी की बहुत ही सुंदर प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। लखेरा धाम प्रकृति की गोद में बसा हुआ है। यह मंदिर राहतगढ़ किले की पहाड़ियों पर बना हुआ है। इस मंदिर में जाने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। इस मंदिर से बीना नदी का बहुत ही सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। चारों तरफ हरियाली देखने के लिए मिलती है। यहां पर पहाड़ियां भी देखने के लिए मिलती है। यहां पर आपको राहतगढ़ किले के बुर्ज देखने के लिए मिलते हैं। इनमें से कुछ बुर्ज का आकार चौकोर है और कुछ का आकार गोलाकार है।  हम लोग श्री लखेरा धाम में राहतगढ़ किले घूमने के बाद गए थे।  राहतगढ़ का किला घूमने के बाद, हम लोग नीचे आए। श्री लखेरा धाम जाने के लिए रास्ता सीधा जाता है। यह रास्ता पक्का बन गया है, तो यहां पर जाने

फूलनाथ स्वामी मंदिर, सागर जिला - Phoolnath Swami Temple, Sagar District

फूलनाथ स्वामी मंदिर भापेल  गांव,  सागर,  मध्य प्रदेश -  Phool Nath Swami Temple Bhapel Village, Sagar, Madhya Pradesh फूलनाथ स्वामी मंदिर एक प्राचीन मंदिर है। यह मंदिर सागर जिले में स्थित है। यह मंदिर शंकर भगवान जी को समर्पित है। इस मंदिर के पास ही में एक प्राचीन झील बनी हुई है, जिसमें बहुत सारे कमल के फूल लगे हुए हैं। इस मंदिर में शंकर भगवान जी की बहुत ही सुंदर शिवलिंग देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर एक पहाड़ी पर बना हुआ है। इस मंदिर में बहुत सारे लोग भगवान शिव जी के दर्शन करने के लिए आते हैं और यहां पर पिकनिक मनाते हैं। यहां पर साल में एक बार मेला भी लगता है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है।  हम लोग फूलनाथ स्वामी मंदिर में सागर से राहतगढ़ जाते समय गए थे। यह मंदिर सागर जिले से राहतगढ़ की तरफ जाने वाली सड़क पर मुख्य सड़क से करीब 1 किलोमीटर गांव में अंदर की तरफ पड़ता है। हम लोग इस मंदिर में अपनी बाइक से गए थे। यहां पर कार से भी आप इस मंदिर में जा सकते हैं। यह मंदिर पहाड़ी पर बना हुआ है। पहाड़ी तक जाने के लिए रोड बनी हुई है, जिससे आपको इस मंदिर तक पहुंचने में कोई परेशानी नहीं होगी। यहा

सागर का गढ़पहरा किला और मंदिर - Garhpahra Fort and Temple Sagar

सागर का गढ़पहरा मंदिर  और  गढ़पहरा का किला सागर  मध्य प्रदेश -  Gadpehra Fort and Gadpahra Hanuman Temple Sagar गढ़पहरा का किला सागर जिले का एक ऐतिहासिक किला है। यह किला एक ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। यहां पर एक प्राचीन मंदिर भी है। यह मंदिर हनुमान जी को समर्पित है। गढ़पहरा को प्राचीन समय में पुराना सागर के नाम से जाना जाता था। प्राचीन समय गढ़पहरा डांगी साम्राज्य की राजधानी थी। यहां पर आपको हनुमान जी का मंदिर देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर और किला पहाड़ी के ऊपर बने है। यह पहाड़ी बरसात के समय हरियाली से घिरी रहती है। यहां पर बहुत सारे बंदर भी है। आप अगर यहां पर कुछ भी सामान लेकर जाते हैं, तो संभाल कर रखें। नहीं तो बंदर आपसे सामान छीन सकते हैं। यहां पर किले में भी बहुत सारे बंदर आपको देखने के लिए मिलते हैं। यह किला हनुमान मंदिर के आगे स्थित है। आपको किले तक पैदल जाना पड़ता है। इस किले में एवं हनुमान मंदिर तक जाने के लिए सीढ़ियां है। आप सीढ़ियों से इस किले एवं मंदिर तक जा सकते हैं।  सागर का गढ़पहरा किला एवं हनुमान मंदिर घूमने के लिए हम लोग सुबह के समय सागर से गढ़पहरा के लिए अपनी गाड़ी से निक

शिव शक्ति धाम सागर - Shiv Shakti Dham Sagar

शिव शक्ति धाम मंदिर, सागर जिला, मध्य प्रदेश - Shiv Shakti Dham Temple, Sagar District, Madhya Pradesh शिव शक्ति धाम सागर जिले का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है।  यह एक बहुत ही सुंदर मंदिर है। यह मंदिर भगवान शिव जी को समर्पित है। इस मंदिर में शिव भगवान जी की बहुत विशाल प्रतिमा विराजमान है। यह प्रतिमा करीब 50 फीट की होगी। यह प्रतिमा खुले आसमान के नीचे विराजमान है। यह प्रतिमा बहुत ही सुंदर लगती है। इस प्रतिमा के अंदर गुफा बनाई गई है, जिसमें 12 ज्योतिर्लिंग विराजमान किया गया है। आप यहां पर आकर इस प्रतिमा के दर्शन कर सकते हैं। यहां का जो वातावरण है। वह पॉजिटिव रहता है। यहां पर आकर शांति महसूस होती है। यहां पर चिड़ियों का चहचहाना और गार्डन के रंग बिरंगे फूल बहुत अच्छे लगते हैं। यह सागर में घूमने के लिए बहुत अच्छी जगह है और यहां पर आकर बहुत अच्छा समय बिताया जा सकता है।  हम लोग शिव शक्ति धाम मंदिर में सागर जाते समय गए थे। इस मंदिर के बाहर हम लोगों ने अपनी गाड़ी खड़ी करी और यहां पर, जो सिक्योरिटी गार्ड था। उससे हम लोगों ने पूछा, कि मंदिर में जा सकते हैं। उन्होंने बोला, कि जा सकते हो। 5 बजे के बाद

महाकालेश्वर मंदिर का इतिहास - History of Mahakaleshwar Temple

उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर का रहस्य -  Mystery of Ujjain's Mahakaleshwar Temple उज्जैन का महाकालेश्वर मंदिर पूरे भारत देश में प्रसिद्ध है। उज्जैन में 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक विराजमान है और इस ज्योतिर्लिंग के दर्शन करने के लिए पूरी दुनिया से लोग आते हैं। उज्जैन शहर को प्राचीन समय में अवंतिका के नाम से जाना जाता था। यहां पर राजा विक्रमादित्य का शासन था। उज्जैन में महाकालेश्वर मंदिर प्रसिद्ध है और यह मंदिर बहुत बड़े एरिया में फैला हुआ है। आज हम उज्जैन शहर में विराजमान महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग के बारे में जानेंगे, कि उज्जैन का महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग  स्थापना कैसे हुई ।  महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग की यह विशेषता है, कि यह एकमात्र दक्षिणमुखी ज्योतिर्लिंग है। यहां प्रतिदिन सुबह के समय की जाने वाली भस्म आरती बहुत प्रसिद्ध है। यह आरती सुबह की जाती है। इस आरती के लिए आप ऑनलाइन बुकिंग कर सकते हैं। यह आरती शमशान की राख से की जाती है। महाकालेश्वर की पूजा विशेष रूप से आयु वृद्धि और आयु पर आए हुए संकट को टालने के लिए की जाती है। आप यहां पर आकर पूजा करवा सकते हैं।  महाकालेश्वर शिवलिंग क

सूर्य मंदिर रेहली सागर - Sun Temple Rehli Sagar

सूर्य मंदिर रहली और श्री महादेव मंदिर रहली - Surya Mandir Rehli and Shri Mahadev Temple Rehli रहली का सूर्य मंदिर मध्य प्रदेश का सबसे पुराना सूर्य मंदिर है। यह मंदिर प्राचीन है। यह मंदिर सागर जिले के रहली तहसील में स्थित है। यह मंदिर रहली तहसील में सोनार और देहार नदी के संगम पर बना हुआ है। इस मंदिर में आकर आप लोगों को प्राचीन मंदिर देखने के लिए मिलता है और सुनार नदी का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। सूर्य मंदिर के बाजू में महादेव जी का बहुत बड़ा मंदिर बना हुआ है। महादेव जी की बहुत ही सुंदर शिवलिंग के दर्शन आपको यहां पर करने के लिए मिलते हैं।  रहली के सूर्य मंदिर में हम लोग अपनी गाड़ी से गए थे। हम लोग सुनार नदी पर बने हुए पुल को पार करके रहली के मंदिर में पहुचे थे। सुनार नदी पर अभी नया पुल बन रहा है। आने वाले समय में आपको यहां पर नया ब्रिज देखने के लिए मिलेगा। हम लोग अभी छोटे ब्रिज से इस मंदिर में पहुंचे थे। छोटे ब्रिज के बाजू में ही आपको यह मंदिर देखने के लिए मिलेगा। सबसे पहले आपको महादेव जी का मंदिर देखने के लिए मिलेगा। महादेव जी के मंदिर के बाहर ही नाग देवता और शिवलिंग विराजमा

टिकीटोरिया मंदिर रहली सागर - Tikitoriya Devi Temple Rehli Sagar city

टिकीटोरिया तीर्थ स्थल - मां दुर्गा मंदिर रहली /  Tikitoria pilgrimage site -  Maa Durga Temple R ehli sagar mp टिकीटोरिया मंदिर सागर जिले का एक प्रमुख तीर्थ स्थल है। यह मंदिर मां दुर्गा जी को समर्पित है। यह मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। टिकीटोरिया मंदिर सागर जिले की रहली तहसील में स्थित है। यहां पर आकर आपको बहुत अच्छा लगेगा। टिकीटोरिया मंदिर एक प्राचीन मंदिर है। यहां पर आपको बहुत सारी प्राचीन मूर्तियां देखने के लिए मिलती हैं। यह मंदिर बहुत बड़े एरिया में फैला हुआ है और यहां पर सभी प्रकार की सुविधाएं मिल जाती हैं।  रहली तहसील में स्थित टिकीटोरिया मंदिर ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। यहां पर हम लोग अपनी स्कूटी से गए थे। हम लोगों अपनी गाड़ी एंट्री गेट के सामने ही खड़ी कर दी थी, क्योंकि यहां पर सभी की गाड़ियां खड़ी थी। टिकीटोरिया मंदिर के तरफ जाने वाले रास्ते के दोनों तरफ आपको प्रसाद की दुकान देखने के लिए मिलती है और प्रसाद वाले दुकानदार जब आप मंदिर की तरफ जाते हैं, तो आपसे प्रसाद लेने के लिए कहते हैं। अगर आप प्रसाद लेना चाहते हैं, तो ले सकते हैं। हम लोगों ने प्रसाद नहीं लिया था। उसके बाद

शनि मंदिर मऊ सहानिया छतरपुर - Shani Temple Mau Sahania Chhatarpur

श्री शनि धाम मऊ सहानिया छतरपुर -  Shani Dham Mau Sahania Chhatarpur शनि मंदिर मऊ सहानिया में स्थित छतरपुर का एक प्रसिद्ध मंदिर है। शनिधाम मंदिर छतरपुर में बहुत प्रसिद्ध है। शनि मंदिर जगत सागर तालाब में स्थित है। गर्मी के समय जगत सागर तालाब का पानी नीचे चला जाता है, तो आप शनि मंदिर में आराम से जा सकते हैं। मगर बरसात के समय जगत सागर तालाब का पानी शनि मंदिर तक आ जाता है और मंदिर भी डूब जाता है। तब आप इस मंदिर में नहीं आ सकते हैं। वैसे पानी कम रहता है, तो यहां पर आया जा सकता है। यहां पर आपको शनि भगवान जी की सुंदर प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर 9 देवताओं की भी दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको 9 तरह की जड़ी बूटियों के पौधे भी देखने के लिए मिल जाएंगे। यह जगह बहुत अच्छी है।  हम लोग शनि मंदिर में अपनी गाड़ी से गए थे। शनि मंदिर मऊ  सहानिया  में बहुत प्रसिद्ध है। आप मुख्य हाईवे सड़क से ही गुजरते हैं, तो आपको इस मंदिर का बोर्ड देखने के लिए मिल जाता है। आप बोर्ड से मंदिर की तरफ मुड़ जाइए और मंदिर में पहुंच जाएंगे। इस मंदिर का रास्ता जो है। वह तालाब के बीच से बना हुआ है। यह ब

बलदेव जी मंदिर पन्ना - Baldeoji Temple Panna

बलदेव जी मंदिर पन्ना मध्य प्रदेश -  Baldev Ji Mandir Panna Madhya Pradesh बलदेव जी मंदिर पन्ना शहर का प्रसिद्ध मंदिर है। बलदेव जी श्री कृष्ण जी के बड़े भाई थे और यह मंदिर श्री कृष्ण जी के बड़े भाई बलदेव जी को समर्पित है। यह मंदिर एक अलग ही तरह के मंदिर है। यह मंदिर हिंदू धर्म में बनाए जाने वाले मंदिरों से अलग है। यह मंदिर जो है, वह रोमन कैथोलिक स्टाइल में बना हुआ है और देखने में यह किसी चर्च के समान लगता है। यह मंदिर बहुत सुंदर है। यह मंदिर एक ऊंचे मंडप पर बना हुआ है। मंदिर में शालिग्राम के बने हुए बलदेव जी की प्रतिमा विराजमान है। मंदिर के अंदर जाएंगे, तो आपको बलदेव जी की भव्य प्रतिमा देखने के लिए मिलेगी। यहां पर ऊंचे ऊंचे पिलर देखने के लिए मिलते हैं, जो सुंदर लगते हैं। यहां पर आपको झूमर देखने के लिए मिलते हैं। झूमर से मंदिर को सजाया गया है। यह मंदिर बहुत सुंदर है और एक अलग ही प्रकार का मंदिर है।  पन्ना के बलदेव मंदिर के दर्शन -  Visit of Baldev Temple Panna हम लोग बलदेव मंदिर घूमने के लिए अपनी स्कूटी से गए थे।  बलदेव मंदिर पन्ना जिले में छत्रसाल पार्क के पास ही में स्थित है। छत्