सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

Temple लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

आप हमारी मदद करना चाहते हैं, तो नीचे दिए लिंक से शॉपिंग कीजिए।

बिरला मंदिर जयपुर की यात्रा

बिरला मंदिर जयपुर बिरला मंदिर का खूबसूरत दृश्य  बिरला मंदिर जयपुर शहर का एक दर्शनीय स्थल है। जयपुर का बिरला मंदिर सफेद संगमरमर से बना हुआ  है। यह मंदिर बहुत बड़ा है, जो देखने में बहुत ही आकर्षक लगता है। इस मंदिर को देखने के लिए बहुत सारे लोग दूर-दूर से आते हैं और यह पर आपको विदेश से आने वाले लोग भी देखने मिल जाएगें।  यह मंदिर बहुत ही भव्य है और पूरी तरह से वाइट मार्बल से बना हुआ है और काफी बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। इस मंदिर में आपको श्री लक्ष्मी नारायण जी की मूर्ति देखने मिलेगी। इस मंदिर में फोटो खींचना मना है। मंदिर के बाहर जाकर आप फोटो खींच सकते हैं। यहां का जो वातावरण है, वह शांत है। वैसे शाम को यह पर बहुत सारे पर्यटक मंदिर की खूबसूरती निहारने आते है।  गार्डन में स्थित शंकर भगवान जी की मूर्ति  बिरला मंदिर बहुत ही अच्छा है। यह पर आपको बहुत अच्छा लगेगा। इस मंदिर पर हम लोग ऑटो से आए थे। हम लोग इस मंदिर में शाम को आए थे। शाम को हम लोग 4 बजे करीब अपने होटल से इस मंदिर के लिए निकले थे और करीब आधे घंटे में इस मंदिर में पहुंच गए थे। इस मंदिर में बहुत बड़ा गार्डन ह

जैसलमेर का किला (Jaisalmer Fort) की यात्रा

जैसलमेर का किला जैसलमेर जिलें  के प्रमुख  पर्यटन स्थलों  में से एक है।  जैसलमेर का किला जैसलमेर जिले में स्थित एक बहुत ही विशाल किला है।  यह किला आपको जैसलमेर शहर के किसी भी हिस्से से देखने मिल जाता है।  यह किला एक पहाड़ी पर स्थित है और यह किला रेलवे स्टेशन से करीब 2 से 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित होगा। आप इस किलें तक पहुॅचने के लिए  ऑटो लेकर आराम से जा सकते हैं। रेल्वे स्टेशन में ही आटों वाले आ जाते है, और आपसे पूछते है, कि आप कहां जाएगें। आप आटो वालों से मोलभाव करके इस किलें तक आ सकते है।  जैसलमेर किले का रानी महल  इस किलें की स्थापना राव जैसल द्वारा सन ११५६ में की गई थी। यह किला त्रिकूट पहाड़ी पर स्थित है। रेगिस्तान में स्थित होने के कारण इसे सोनार किला या सुनहरा किला भी कहते हैं। इस किला को यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर की रूप में शामिल किया गया है।  जैसलमेर का किलें तक जाने के लिए हम लोग ने भी आटों बुक किया था।  यह किला बहुत बड़ा है और यह दुनिया का पहला लिबिंग फोर्ट है, मतलब आज भी इस किलें में लोग रहते हैं। यह किला बहुत बड़ा है, तो आप इस किलें में जाते है तो

Savitri temple pushkar || सावित्री मंदिर पुष्कर

Savitri temple pushkar सावित्री मंदिर पुष्कर पुष्कर का सावित्री मंदिर (Savitri mata temple pushkar ) बहुत ही खूबसूरत जगह है। खूबसूरत पहाड़ियों का दृश्य  पुष्कर शहर का सावित्री मंदिर एक धार्मिक जगह है। यह जो मंदिर है, वह उचीं  पहाड़ी पर स्थित है। इस पहाडी को रत्नागिरी पहाडी कहते है। इसकी ऊँचाई 750 फीट है। आपको यहां पर देसी और विदेशी दोनों प्रकार के लोगों लोग देखने मिल जाएंगे, मतलब यहां पर भारतीय लोग और विदेशी लोग लोग सभी लोग माता के दर्शन करने के लिए आते हैं।  पुष्कर का सावित्री मंदिर (Savitri mata temple pushkar ) भगवान ब्रह्मा की पहली पत्नी को समर्पित है। इस मंदिर में स्थित देवी सावित्री की मूर्ति बहुत ही प्राचीन है।  मंदिर परिसर में बैठे कुछ बंदर  मंदिर से नीचे का खूबसूरत दृश्य  हमने पुष्कर के सावित्री मंदिर  (Savitri mata temple pushkar )   का जाने का प्लान बनाया और हम लोगों तैयार हो गए। उसके बाद हम लोगों ने पुष्कर घूमने के लिए ऑटो बुक किया था। मगर हम लोगों को बहुत लेट हो गया था, तो हम लोग सबसे पहले इस मंदिर के लिए निकले। हम लोगों मंदिर पहुॅ

Lamheta Ghat Jabalpur

Lamheta Ghat Jabalpur लम्हेटाघाट जबलपुर  लम्हेटाघाट नर्मदा नदी का शांत और खूबसूरत घाट लम्हेटाघाट   लम्हेटाघाट जबलपुर ( Lamheta ghat Jabalpur ) में स्थित एक खूबसूरत घाट है। लम्हेटाघाट जबलपुर  ( Lamheta ghat Jabalpur )  शहर का खूबसूरत पर्यटन स्थल है। यह घाट नर्मदा नदी पर बना हुआ है। यह घाट ज्यादा बड़ा नहीं है, मगर आप यहां पर आकर बहुत सारी जगहों के दर्शन कर सकते है। यह पर आपको नर्मदा नदी के घाट के अलावा ऐतिहासिक जगह भी देखने मिल जाती है। लम्हेटाघाट के आसपास में बहुत सारी ऐतिहासिक जगह है, जहां पर जाकर आपको अपने इतिहास के बारे में जानकारी मिल सकती है। मगर मेरे हिसाब से यहां के कुछ ऐतिहासिक स्थलों की हालात बहुत ही बेकार है।  लम्हेटाघाट  ( Lamheta ghat )  में आप आकर अपना अच्छा टाइम बिता सकते हैं और यहां पर ज्यादा लोग नहीं रहते हैं, जो लोग यहां पर रहते है। वहां यह के स्थानीय लोग ही रहते है। यहां पर बहुत से लोग इस घाट पर घूमने के लिए आते है। वहां भी आपको देखने मिलेगें, मगर यहा पर पर्यटक की संख्या कम रहती है।   लम्हेटाघाट जबलपुर  ( Lamheta ghat Jabalpur )  में स्थित है और यह

Muhas Hanuman Temple || मुहास हनुमान मंदिर

Muhas Hanuman Temple मुहास हनुमान मंदिर  हड्डी जोड़ने वाला मुहास का हनुमान मंदिर हनुमान मंदिर का मुख्य द्वार   हनुमान मंदिर मुहास ( Muhas Hanuman Temple ) बहुत प्रसिद्ध है। इस हनुमान मंदिर को हड्डी जोड़ने वाले मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। लोगों का मानना है कि यहां पर हनुमान जी स्वयं लोगों की हड्डी जोड़ने का इलाज करते हैं। यह मंदिर पूरे भारत देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर के बारे में न्यूज चैनलों में भी आ चुका है। इस मंदिर की प्रसिद्धि पूरे देश में है। यहां पर जो भी लोग आते हैं। वह अपनी समस्या लेकर आते हैं और हनुमान जी उनकी समस्या को ठीक करते हैं। मुहास हनुमान मंदिर कहा है Where is Muhas Hanuman Temple हम लोग भी इस मंदिर में घूमने गए थे। यह मंदिर मध्यप्रदेश के कटनी जिले में स्थित है। यह मंदिर कटनी जिले से लगभग 35 किमी दूर होगा। यह रीठी तहसील की मुहास नाम के गांव में स्थित है। यह एक छोटा सा मंदिर है, ज्यादा बड़ा मंदिर नहीं है। यह मंदिर बहुत ही खूबसूरती से बनाया गया है। यह मंदिर मुहास में मेन रोड में स्थित है। आप यहां पर अपनी गाड़ी से जा सकते हैं। यहां पर बसें

Bahoriband-Kankali Devi Temple Tigawa (कंकाली देवी मंदिर )

Kankali Devi Temple  कंकाली देवी मंदिर  कंकाली देवी मंदिर बहोरीबंद (Kankali Devi Temple) के पास के एक गांव में स्थित है। इस गांव में कंकाली देवी मंदिर ( Kankali Devi Temple ) के अलावा एक मंदिर और भी स्थित है। यह एक पुरातात्विक स्थल है और यहां पर आपको बहुत ढेर सारे खूबसूरत नक्काशी भरे पत्थर पर उकेरी गई कई कलाकृतियां देखने मिल जाएगी। यह एक बहुत प्राचीन स्थल है और आप इस जगह पर बहुत आसानी से आ सकते हैं। यह बहुत ही प्राचीन मंदिर है।  कंकाली देवी मंदिर  कंकाली देवी मंदिर ( Kankali Devi Temple )  कटनी जिले में स्थित है। यह कटनी जिले के बहोरीबंद तहसील ( Bahoriband Tehsil )  के पास स्थित है। आप इस मंदिर पर अपनी गाड़ी से आसानी से आ सकते हैं। इस मंदिर तक कोई भी टैक्सी या बस वगैरह नहीं चलती है। आपको अपनी गाड़ी से ही आना होगा। इस मंदिर तक आने के लिए आपको अच्छी सड़क मिल जाती है, या बहोरीबंद तहसील ( Bahoriband Tehsil ) से जो कटनी जिले की तहसील है वहां से 3 या 4 किलोमीटर दूर होगा, तो आप यहां पर अपनी गाड़ी से आसानी से आ सकते हैं। तिगवा में स्थापित पत्थर के शिवलिंग  आपको यहां

Tilwara Ghat - The beautiful ghat of the Narmada River.

तिलवारा घाट - जबलपुर का दर्शनीय स्थल जबलपुर जिले की नर्मदा नदी पर बहुत सारे घाट बने हुए हैं और सारे ही घाट बहुत खूबसूरत और दर्शनीय है। आज हम उन्हें घाटों में से एक घाट की बात करने वाले हैं। आज हम तिलवारा घाट (Tilwara Ghat) की बात करेगें।  तिलवारा घाट (Tilwara Ghat)  जबलपुर में स्थित नर्मदा नदी पर बना हुआ एक और खूबसूरत घाट है। यह घाट खूबसूरत है और इस घाट में बहुत सारे मंदिर है। जिसको देखकर आपको बहुत अच्छा लगेगा। यह घाट बहुत खूबसूरती से बनाया गया है। यहां पर आपको मंदिर भी देखना मिलते हैं, जो अलग-अलग मंदिर हैं।  बड़े पुल का खूबसूरत नजारा  तिलवाराघाट  (Tilwara Ghat)   में नर्मदा नदी के ऊपर से पुल बना हुआ हैं। यहां पर दो पुल बने हुए है। एक पुल पुराना है जो शायद अग्रेजों के समय में बना हुआ है। एक पुल अभी नया बना हुआ, जो सिवनी होते हुए नागपुर को जोड़ता है। यह हाईवे रोड है। यह रोड अच्छी है, हम इस रोड पर जा चुके है। यहां पर रोज शाम को मां नर्मदा जी की आरती की जाती हैं। नर्मदा जी मे दीप दान करना एवं शाम को घाट किनारे बैठना बहुत अच्छा लगता है। Shani Devta Temple of Tilw

Paat Baba Temple, Jabalpur - पाठ बाबा मंदिर, जबलपुर

Famous Hanuman Temple of Paat Baba Temple Jabalpur. पाठ बाबा मंदिर - जबलपुर का प्रसिद्ध हनुमान मंदिर जबलपुर (Jabalpur) एक प्रसिद्ध शहर है। जबलपुर (Jabalpur)   मध्य प्रदेश का एक प्रसिद्ध जिला है। जबलपुर में आपको बहुत सारे दर्शनीय स्थल देखने मिलते है। हम आज एक जबलपुर   (Jabalpur)  में स्थित एक बहुत खूबसूरत मंदिर की बात करने वाले है। आप इस जगह पर जाकर अपना बहुत अच्छा टाइम बता सकते हैं। आज हम आपको लेकर चल रहे हैं  पाठ बाबा मंदिर (Paat Baba Temple) हनुमान जी का मंदिर  पाठ बाबा मंदिर   (Paat Baba Temple)  बहुत खूबसूरत मंदिर है। यहां का वातावरण है बहुत बढ़िया वातावरण है। यहां पर चारों तरफ ऊंचे ऊंचे पहाड़ हैं। यहां पर हनुमान जी का मंदिर है, जो बहुत फेमस है।  यह मंदिर जिस एरिया में स्थित है। वह पूरा मिलेट्री एरिया लगता है। पाठ बाबा मंदिर   (Paat Baba Temple)  का वातावरण शांत है। यहां पर आपको बहुत शांति मिलती है, क्योंकि यहां पर किसी भी तरह का शोर-शराबा नहीं रहता है। मंदिर जाने का रास्ता और मंदिर बहुत अच्छी तरह से साफ सुथरा है।  पाठ बाबा मंदिर   (Paat Baba Temple)  पहुं